संदीप भंसाली - डिजिटल आज़ादी

Digital Marketing For Teachers – 5 Step Strategy To Create Your Online Presence

Digital Marketing For Teachers - 5 Step Strategy To Create Your Online Presence

क्या आपके साथ कभी ऐसा हुआ है कि आप पूरी शिद्दत से काम कर रहे हैं पर आपकी सैलरी में कटौती की जा रही है?

Covid 19 के दौरान ऐसा हुआ था जब कई Salaried Employees को पूरी सैलरी नहीं दी जा रही थी लेकिन उन्हें काम पूरा करना पड़ रहा था। 

Teachers Or Trainers भी इसी केटेगरी में शामिल हैं जहां वो बच्चों को पढ़ा तो रहे थे लेकिन सैलरी देने के नाम पर 50%, 60% तक की कटौती की जा रही थी। इससे उनके घर के खर्चे निकलने मुश्किल हो गए थे।  

लेकिन, इस Pandemic के दौरान ऐसे भी कई Teachers थे जो इन सभी मुसीबतों से बचे हुए थे। 

ये वो Teachers थे जिन्होंने अपनी एक ऑनलाइन पहचान बनाई हुई थी और Digital Mediums के ज़रिये बच्चों को पढ़ा रहे थे या Train कर रहे थे। 

ऐसे में सबसे बड़ा सवाल आता है कि डिजिटल पहचान बनाई कैसे जाती है?

डिजिटल पहचान बनाई जाती है डिजिटल मार्केटिंग के उपयोग से।  

Digital Marketing For Teachers के Concept को सरल भाषा में समझाने के लिए ही आज का ब्लॉग लिखा गया है। 

इस ब्लॉग में हम बात करेंगे कि What Is Digital Marketing, How To Implement Digital Marketing For Teachers Or Trainers, Digital Marketing Benefits For Teachers और अन्य ज़रूरी Facts.  

तो चलिये शुरू करते हैं यह ब्लॉग और सबसे पहले समझते हैं डिजिटल मार्केटिंग क्या होता है। 

इसे भी पढ़िए – Digital Marketing कैसे करते हैं – Learn In 6 Steps 

Table of Contents

What Is Digital Marketing ?

What Is Digital Marketing For Lawyers

Digital Marketing एक ऐसी तकनीक है जिसके तहत Digital Devices के ज़रिये एक व्यक्ति कई हज़ारों या लाखों लोगों तक पहुँच सकता है। 

इसके लिए अक्सर वेबसाइट, सोशल मीडिया, ईमेल, सर्च इंजन, इत्यादि Tools & Platforms का Use होता है। 

आज एक आम व्यक्ति से लेकर बड़े-बड़े Organizations इस Technique की मदद से अपनी डिजिटल पहचान बना रहे हैं और संभावित ग्राहकों तक पहुँच रहे हैं। 

डिजिटल मार्केटिंग Geographic Restrictions को ख़त्म कर देती है, अर्थात, आप दिल्ली में बैठकर अमेरिका के न्यूयार्क में बैठे शख्श को अपने प्रोडक्ट या सर्विस बेच सकते हैं।  

Education Industry (Digital Marketing In Education Sector) की बात करें तो आज हमें Byjus, Unacademy, Vedantu, Whitehat Education जैसे बड़े-बड़े नाम सुनने को मिलते हैं। ये सभी Brands, डिजिटल मार्केटिंग का भरपूर उपयोग करके आज इस स्टेज तक पहुंचे हैं और आज इन्हें हर Student जानता है।

शिक्षा के क्षेत्र में वेब और डिजिटल मीडिया के बढ़ते उपयोग के कारण शिक्षा के लिए डिजिटल मार्केटिंग एक महत्वपूर्ण मंच बनता जा रहा है। 

लेकिन, अभी भी कई ऐसे शिक्षण संस्थान (Educational Platforms) हैं जिन्हें छात्रों और अभिभावकों तक पहुंचने के लिए अपनी डिजिटल Presence बढ़ाने की आवश्यकता है। 

आज के समय में डिजिटल पहचान ही एकमात्र Solution है जो गारंटी देता है कि आप Covid जैसे Pandemic में भी Safe रहेंगे और अपना घर चलाते रहेंगे।

अब सवाल है कि Digital Marketing For Trainers Or Teachers को Implement कैसे किया जाए?

इसका जवाब जानने से पहले थोड़ा समझ लेते हैं कि एक Teacher, Trainer या Coach को अपने Profession में किन-किन Problems का सामना करना पड़ता है। 

डिजिटल मार्केटिंग से जुड़े सवालों का जवाब जानिए इस Detailed Blog में। 

Problems Faced By Teachers

एक Teacher जो Offline Schools या Colleges में पढ़ाता है अक्सर कई तरह के Problems Face करता है। 

In Fact, अपना घर चलाने और Job को Secure रखने के लिए वो Problems को जानते हुए भी इनसे पार नहीं पाता। 

Teachers के कुछ Common Problems की बात करें तो उनमे शामिल हैं :

Low Salary With Long Working Hours : एक टीचर को अक्सर अपनी ड्यूटी पर ज़्यादा समय देने के लिए कहा जाता है लेकिन उसके बदले में उन्हें उतनी Salary नहीं दी जाती। 

अक्सर उन्हें कम ब्रेक दिया जाता है और छुट्टी के दिन भी कुछ न कुछ काम के लिए बुला लिया जाता है। 

Added Clerical Job : Teachers के पास केवल पढ़ाने का ही कार्य नहीं होता, बल्कि उन्हें अन्य कई तरह के Clerical काम भी सौंप दिए जाते हैं। 

इनसे Distraction तो होता ही है साथ ही इन कार्यों को कार्य नहीं समझा जाता और अंत में सुनने को मिलता है कि आप पढ़ाने पर उतना ध्यान नहीं दे रहे। 

Problems Faced By Teachers

High Dependency On School, College & Institutions : Teachers पूरी तरह से अपने Schools, Colleges या Institutions पर Dependent हो जाते हैं। 

उन्हें अपनी Job को भी Secure रखना होता है, इसलिए उन्हें School Management की हर बात सुननी पड़ती है। 

वो स्कूल में तो स्कूल का काम कर ही रहे होते हैं साथ ही अपने घर जाकर भी स्कूल का कुछ न कुछ अधूरा कार्य करते हैं।  

Exploitation & No Flexibility To Innovate : कई Private Schools & Institutions अपने Teachers का Exploitation (शोषण) करते हैं। 

Teachers को School के Rules & Regulations के अनुसार चलना पड़ता है और खुद कुछ Innovate करने की Permission नहीं दी जाती। 

इस वजह से Teachers बंध कर रह जाते हैं और चाह कर भी ज़्यादा कुछ नहीं कर पाते। 

No Retirement Benefits : अपने 30 – 35 साल के Teaching Career के बाद उनके पास किसी भी तरह के Retirement Benefits नहीं होते। 

उनके पास कोई Back Up Plan नहीं होता और जिंदगी मानो ठहरी सी लगती है। 

किसी इमरजेंसी के वक्त कई Teachers के पास उतने पैसे भी नहीं होते कि वो उस इमरजेंसी से पार पा सकें। 

ये सभी Problems अक्सर कई Teachers & Trainers को Face करनी पड़ती है और वो चाहते हुए भी इनसे पार नहीं पा सकते। 

लेकिन, आखिर वो कौन-से कारण हैं जिनकी वजह से टीचर की Life में ये Problems आते हैं?

गहराई से सोचने से हमें पता चलता है कि ये Problems आते हैं क्योंकि,

  • उन्हें अपनी Job Security का खतरा रहता है। उन्हें डर लगा रहता है कि उनकी जॉब चली जाएगी Monthly Income आनी बंद हो जाएगी।

    वो उस Monthly Salary के जाने के डर से इन सभी परेशानियों का सामना करते रहते हैं। 

  • Teachers अपने School, College या Institution पर पूरी तरह से Dependent हो जाते हैं। उन्हें लगता है कि यही उनकी जिंदगी है और उन्हें हमेशा यही काम करना है।

    इस वजह से वो अपने लिए कुछ बढ़कर नहीं सोच पाते, Future Plan नहीं कर पाते और अपने  Management, Student & Family में ही बंध कर रह जाते हैं। 

  • Teachers समय के साथ अपनी Learning बंद कर देते हैं। हालांकि ऐसा अक्सर कहा जाता है कि Teacher हमेशा एक Student होता है और सीखता रहता है, लेकिन जीवन में आने वाली कुछ परिस्थितियों की वजह से वो खुद को Upgrade नहीं कर पाते। अंततः Problems के साथ जीना उनके लिए एक मज़बूरी हो जाता है। 


पर, आज के डिजिटल युग में लगभग हर Problem का Solution मौजूद है और उस Solution तक पहुँचने का साधन है इंटरनेट। 

आज इंटरनेट का विस्तार इतना ज़्यादा बढ़ गया है कि आधे से ज़्यादा दुनिया इंटरनेट का उपयोग कर रही है। 

इंटरनेट के उपयोग से आप भी अपने Problems का निवारण कर सकते हैं, अपनी डिजिटल पहचान बना सकते हैं और Digitally, Students की Life में Value Addition कर सकते हैं। 

इसके लिए आपको चाहिए Digital Marketing का साथ जो इंटरनेट के बिना मुमकिन नहीं। 

तो आइये समझते हैं एक टीचर, डिजिटल मार्केटिंग को अपने Career में Growth के लिए कैसे Utilize (Implementation Of Digital Marketing For Teachers In Hindi) कर सकता है और इससे उसे क्या फायदे मिलते हैं।

Digital Marketing For Teachers - The Ultimate Solution To Your Problems

इंटरनेट आज जानकारी हासिल करने वाले लोगों के लिए एक आवश्यक स्रोत बन गया है। आज Students, इंटरनेट और वेब का उपयोग करने वालों की सूची में पहला स्थान रखते हैं। 

वे इसका उपयोग College, Curriculum, Admission Process, Fee Structure, Campus Infrastructure, Quality Of Education, College Ranking, Placement Record, Assignments, इत्यादि की जानकारी हासिल करने के लिए करते हैं। 

आज Students ही नहीं बल्कि उनके माता-पिता भी Technological Advance हो रहे हैं और अपने बच्चों के लिए बेहतर से बेहतर स्कूल, कॉलेज या इंस्टिट्यूट ढूंढने के लिए Digital Mediums का सहारा लेते हैं। 

ये तो रही बात Educational Institutes की, पर अगर Teachers की बात करें तो वो भी बढ़-चढ़ कर Online Platforms जैसे YouTube, Instagram, LinkedIn, Twitter पर अपनी पहचान बना रहे हैं। 

इससे उनकी एक अपनी डिजिटल पहचान बनती है और वो एक-दो नहीं बल्कि हज़ारों Students का ध्यान अपनी ओर खींच पाते हैं। 

तो सवाल आता है कि आप भी उन Popular Online Teachers की तरह अपनी Unique Identity कैसे बना सकते हैं और अधिक से अधिक Students तक कैसे अपनी Knowledge पहुंचा सकते हैं?

आइये इस प्रोसेस को Step By Step समझते हैं। 

Step #1 अपनी Core Strength Analyze कीजिए

Digital Marketing For Teachers - The Ultimate Solution To Your Problems - Step #1 अपनी Core Strength Analyze कीजिए

Teaching Profession में सफल होने के लिए सबसे पहला स्टेप है कि आप आप अपनी Core Strength Analyze करें। 

हो सकता है कि आप Research में अच्छे हों, Analysis में अच्छे हों, Communication में अच्छे हों या कोई अन्य स्किल में Mastery हो आपकी।

Core Strength जानने से आप तय कर सकेंगे कि उसमें Monetization के कौन कौन से Options हैं।

यही नहीं, आपके लिए अगले स्टेप्स लेने आसान हो जाएंगे और आपका How To Become A Digital Trainer बनने का रास्ता साफ हो जाएगा।

Step #2 अपना Niche & Target Audience Decide कीजिए

Niche का मतलब होता है Subject, अर्थात आपको अपना Subject Select करना होगा। 

आज वो दिन गए जब Teachers अपने मन से कोई भी Subjects पढ़ा दिया करते थे। 

आज आप ऐसा नहीं कर सकते कि छह महीने History पढ़ाया और छह महीने Science.

क्योंकि, आज के समय Students केवल Subject Matter Experts से ही पढ़ना पसंद करते हैं, आपको किसी एक Subject या Niche को पकडना पड़ेगा और उसमे Expertise हासिल करनी पड़ेगी। 

Niche Select करने के साथ ही आपको यह भी पता करना ज़रूरी है कि आपकी Target Audience में कौन से Students शामिल हैं। 

Suppose आप YouTube के ज़रिये Mathematics सीखा रहे हैं तो आप सभी Streams के Students को Attract करने की बजाय किसी एक या दो Streams के Students को ही Attract करें। 

इससे आप उनके Problems को समझकर उन्हें बेहतर Solution दे पाते हैं और आपकी Authority भी बनने लगती है।

Niche Meaning & Selection Criteria को जानने के लिए यह ब्लग अवश्य पढ़ें।  

Digital Marketing For Teachers - The Ultimate Solution To Your Problems - Step #2 अपना Niche & Target Audience Decide कीजिए

Step #3 अपने Niche या Subject में Expertise हासिल कीजिए

Digital Marketing For Trainers Or Teachers के इस 3rd स्टेप में आपको Subject Matter Expert बनना है। 

अगर आप चाहते हैं कि आप अपने घर से किसी दूसरे देश में बैठे Students को सीखा सकें तो आपको अपने Niche या Subject में Expertise हासिल करना ज़रूरी है। 

आज केवल भारत ही नहीं बल्कि सभी देशों में रह रहे लोग भी अपने बच्चो को बेहतर से बेहतर शिक्षा देना चाहते हैं और इसके लिए वो Experts को ढूंढते हैं। 

तो अगर आपने अपने Subjects में और मेहनत करके अच्छी Knowledge हासिल कर ली तो आप Unstoppable हो जायेंगे। 

आप Digital Platforms के ज़रिये Live & Recorded Lectures के ज़रिये हज़ारों Students से एक साथ Connect कर पाएंगे और उन्हें शिक्षित कर पाएंगे। 

Step #4 अपने Earning Funnels बनाइये

Digital Marketing For Teachers - The Ultimate Solution To Your Problems - Step #4 अपने Earning Funnels बनाइये

Funnels से तात्पर्य ऐसी Marketing Strategies से होता है जिनके ज़रिये एक Interested Buyer आपका कस्टमर बनने तक का रास्ता खुद ब खुद तय कर लेता है। 

हालांकि, इसमें आपको कई तरह की Digital Strategies का उपयोग करना पड़ता है, Offers देने पड़ते हैं, Interested Students से बात करनी पड़ती है। 

लेकिन Earning Funnel बनाने से आपके Goals, चाहे वो Consulting का गोल हो, Coaching का गोल हो या Courses Sell करने का गोल, पूरे होने की संभावना काफी बढ़ जाती है।  

Funnel बनाने से आप अपने Potential Customer की Journey को खुद Decide कर पाते हैं और Step By Step उन्हें अपने कस्टमर में कन्वर्ट कर पाते हैं। 

Step #5 अपना Digital Ecosystem Create कीजिए

Digital Ecosystem Blueprint

How To Become A Digital Trainer का यह सबसे महत्वपूर्ण स्टेप है। 

Digital Ecosystem अर्थात आपकी Digital Presence, जिसके ज़रिये आप दुनिया के किसी भी कोने में बैठे Student को शिक्षा दे सकते हैं। 

Digital Ecosystem बनाने की शुरुआत होती है अपनी एक Professional Website बनाने से। 

Website बनाते समय ज़रूरी Factors को जानिए इस ब्लॉग में। 

Website बनाने के बाद उस पर अपने Subjects से सम्बंधित Content डालना होता है, Social Media Platforms पर Profile बनाकर Active होना पड़ता है और Interested Students से Interact करके उन्हें अपने साथ जोड़ना होता है। 

Digital Ecosystem एक ऐसी चीज़ है जिसके बिना Implementation Of Digital Marketing For Teachers In Hindi की कल्पना भी मुश्किल है। 

बिना डिजिटल ईकोसिस्टम के आप Students & उनके Parents तक नहीं पहुँच पाएंगे। 

आपकी Social Media Presence & Professional Website न होने से लोग आप पर जल्दी से विश्वास नहीं करेंगे और आपको नाकामी हाथ लगेगी। 

उम्मीद है कि आपको समझ आया होगा एक सफल डिजिटल ट्रेनर कैसे बन सकते हैं (How To Become A Digital Trainer) और भारत में रहकर भी एक टीचर डिजिटल मार्केटिंग Implementation (Digital Marketing For Teachers In India) से कैसे अपने साथ नए Students जोड़ सकता है। 

चलिए अब यह भी समझ लेते हैं कि Digital Marketing In Education Sector & For Teachers किस तरह से फायदेमंद है।  

Also Read : 2022 में Digital Ecosystem से कमाई के 5 बेहतरीन तरीके 

Benefits Of Digital Marketing For Teachers Or Trainers

Digital Marketing आज के Students और उनके माता-पिता तक पहुंचने का एक प्रभावी तरीका है। इसके कुछ प्रमुख कारण हैं: 

  • Students Television, Radio या Newspaper जैसे Traditional Media के अन्य रूपों की तुलना में वेब पर अधिक समय व्यतीत करते हैं।

  • Students आज Online Education & Training Centres को ज़्यादा प्राथमिकता दे रहे हैं।
     
  • Traditional या Offline Advertisement की तुलना में Online Advertisement कहीं अधिक प्रभावी है।

  • आज, अधिकांश Students & Parents किसी स्कूल या इंस्टिट्यूट को प्राथमिक रूप से उसकी वेबसाइट और ऑनलाइन उपस्थिति के साथ-साथ Reviews & Ratings के आधार पर आंकते हैं।

यही नहीं, आज एक Student किसी टीचर की Expertise देखने के लिए उसके Online Videos, Website, Influence इत्यादि देखता है।  

लेकिन, हमें यह भी जान लेना ज़रूरी है कि डिजिटल मार्केटिंग Implement करने से टीचर को क्या फायदा मिलता है। 

आप Content Create & Market करना सीख जाते हैं

Benefits Of Digital Marketing For Teachers Or Trainers - आप Content Create & Market करना सीख जाते हैं

एक टीचर के तौर पर आपके लिए अपना Content Create करना बहुत ज़रूरी है। 

आज Digitalization का दौर है जिसके अंतर्गत Videos & Textual Content के माध्यम से Students को पढ़ाया जा रहा है।

दरअसल, अगर आप बिना Offline Classes के किसी Student को कुछ सिखाना या पढ़ाना चाहते हैं तो Videos से बढ़कर कोई दूसरा ऑप्शन नहीं है। 

लेकिन क्या सिर्फ Videos बना देने से काम चल जाएगा?

नहीं, उसे सही से Promote भी करना पड़ेगा और अपनी Target Audience के Interest के हिसाब से Optimize भी करना पड़ेगा। 

आप एक Long Video बनाकर उसे अलग-अलग छोटी Videos में Break कर सकते हैं और उनका इस्तेमाल Shorts, Reels इत्यादि के रूप में कर सकते हैं। 

इस तरह आपकी Presence केवल YouTube पर ही नहीं बल्कि Instagram, Facebook, LinkedIn जैसे Platforms पर भी होने लगती है और Students आपकी Videos को देखने लगते हैं। इस प्रोसेस को Content Marketing कहते हैं। 

इसे भी जानिए – 9 Best Practices For Effective Content Creation

अपना Learning Management System (LMS) बना पाते हैं

Benefits Of Digital Marketing For Teachers Or Trainers - अपना Learning Management System (LMS) बना पाते हैं

डिजिटल मार्केटिंग आपको Learning Management System बनाना सिखाती है। 

Learning Management System से तात्पर्य ऐसे System से होता है जिस पर आपका Content Structured तरीके से मौजूद होता है। 

इस System में आप अपने Courses, Test Series, Consultation इत्यादि को लिस्ट कर सकते हैं जिससे Interested Students इन्हें Easily Access कर पाएंगे। 

इन Learning Management Systems की मदद से एक स्टूडेंट अपनी Progress खुद चेक कर पाता है।    

आपको Personal Branding & Influence Build करना आ जाता है

Benefits Of Digital Marketing For Teachers Or Trainers - आपको Personal Branding & Influence Build करना आ जाता है

Digital Marketing For Teachers का एक बेहतरीन फायदा है कि इसके ज़रिये आप अपनी Branding करना सीखते हैं और Influence Build कर पाते हैं। 

Self Branding & Influence Build करने से आप अन्य Teachers & Trainers से अलग अपनी पहचान बना पाते हैं जो नए Students को आकर्षित करने का एक बेहतरीन ज़रिया है। 

अपनी Website & Social Media Platforms पर उपस्थिति दर्ज़ करके आप अपने Potential Customers तक पहुँचते हैं। ये लोगों में विश्वास पैदा करने के लिए भी ज़रूरी है जो एक अजनबी टीचर को Expert या Popular Teacher की ख्याति दिलाने में मदद करता है।  

डिजिटल मार्केटिंग Fast & Affordable होती है

Benefits Of Digital Marketing For Teachers Or Trainers - आपकी Tribe बनने लगती है

डिजिटल मार्केटिंग का उपयोग करके Fast Result प्राप्त करना संभव है। डिजिटल मार्केटिंग चैनल जैसे कि फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से Active Students (जो अक्सर बेहतर मार्गदर्शक ढूंढते रहते हैं) को अपना संदेश देने का सबसे तेज़ तरीका है। 

इसके साथ ही उन Studentsों के Reviews & Doubts को ध्यान में रखकर अपनी Marketing & Education Style में सुधार के लिए बदलाव लाना भी आसान है। 

Traditional Marketing (Viz. Door To Door, Marketing Via Posters, Banners, Hoardings, Newspaper Ads) की तुलना में डिजिटल मार्केटिंग काफी Affordable भी है। इसके ज़रिये कम खर्च में बड़ी संख्या में लोगों तक पहुंचा जा सकता है। 

सही योजना और रणनीति के साथ सोशल मीडिया मार्केटिंग, ईमेल मार्केटिंग और सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन जैसी Marketing Technique Studentsों को आकर्षित करने में लाभदायक होती है। 

साथ ही Academic Courses में दाखिला लेने से पहले Students और अभिभावकों को जो भी जानकारी चाहिए होती है, उसे बहुत कम समय में डिजिटल मीडिया के माध्यम से पहुँचाया जा सकता है।

आपकी Tribe बनने लगती है

डिजिटल मार्केटिंग आपको Interested Students तक पहुँचने या उन्हें आकर्षित करने, Leads Generate करने और उन्हें अपने Content के ज़रिये High Value Provide करके एक Permanent Customer बनाने में मदद करती है। 

लेकिन, अगर आप खुद की एक Brand बनाना चाहते हैं और चाहते हैं कि लोग आपको जाने और खुद ब खुद आपके साथ जुड़ते चले जाएं तो आपको अपनी एक Tribe या समूह बनाना पड़ेगा। 

Tribe में वो सभी लोग शामिल होते हैं जिनका कोई गोल होता है और अपने गोल तक पहुँचने के लिए उन्हें आपका मार्गदर्शन चाहिए होता है। 

यदि आपकी Tribe होगी तो यह अन्य Students को Attract करने का कार्य भी करेगी। कई बार तो केवल Word Of Mouth के ज़रिये भी नए लोग आपके साथ जुड़ते चले जाते हैं।  

Tribe बनाना आज इसलिए भी आसान है क्योंकि Students और शिक्षक दोनों ही इंटरनेट पर अत्यधिक व्यस्त हैं। 

ऑनलाइन मार्केटिंग विभिन्न प्लेटफॉर्म्स पर शिक्षकों और Students को एक साथ जोड़कर कई महत्वपूर्ण उद्देश्य की पूर्ति करती है जो Students की कठिनाइयों को दूर करने में मददगार होती है।

आप Multiple Sources Of Income Generate करना सीख जाते हैं

Benefits Of Digital Marketing For Teachers Or Trainers - आप Multiple Sources Of Income Generate करना सीख जाते हैं

डिजिटल मार्केटिंग सीखकर आपके पास पढ़ाने के अलावा भी अन्य कई Skills आ जाती हैं।  

आप One On One Consultation कर पाएंगे, अपने Courses Launch कर पाएंगे, Test Series के लिए Students को आकर्षित कर पाएंगे, अपनी Book लिखकर उसे Sell कर पाएंगे और अन्य कई तरीकों से पैसा कमा पाएंगे। 

यही नहीं, डिजिटल मार्केटिंग सीखने के पश्चात् आप Teaching के साथ अन्य Digital Marketing Services देकर भी पैसा कमा पाएंगे। 

इस तरह आपके पास Multiple Incomes Sources की अनेकों Opportunities खुल जाएँगी। 

उम्मीद है आपको Digital Marketing For Teachers In Hindi अच्छे से समझ आया होगा, इससे मिलने वाले Benefits Clear हुए होंगे और एक Unknown Trainer की बजाय पॉपुलर ट्रेनर (How To Become A Digital Trainer Or Coach) बनने के लिए ज़रूरी स्टेप्स पता चले होंगे।   

इसे भी जान लीजिये – Top 9 Ways To Create Multiple Sources Of Income Through Digital Marketing With A Full-Time Job

Conclusion

India एक Developing Economy है जहां कई तरह के Ed -Tech, Finance, Health, Food Startups जन्म ले रहे हैं। 

अगर केवल Education Industry की बात करे तो इंटरनेट के आने से इसमें कई गुना की Growth देखी गई है। 

आज पढाई केवल Offline Classes तक ही सीमित नहीं है, ऐसे कई Digital Platforms बन गए हैं जिनके ज़रिये कभी भी कहीं से भी किसी भी कोने में बैठे हुए Student को पढ़ाया जा सकता है। 

ऐसे में Teachers या Trainers, जो अभी तक केवल Private Schools, Colleges या Institutes में पढ़ा रहे थे, अब Online अपनी अलग पहचान बना सकते हैं और खुद को एक Expert के रूप में स्थापित कर सकते हैं। 

ऐसा करने के लिए ज़रूरत होती है Digital Platforms को समझने की जिनका इस्तेमाल करके आज Byjus, Unacademy, Adda 247, Vedantu जैसे Platforms एक जाने-माने Brand बन गए हैं और Students के दिल और दिमाग में अपनी जगह बना ली है।    

इन Platforms को समझने के लिए Digital Marketing For Teachers & Trainers को समझना जरूरी है जिसका ज़िक्र हमने आज के इस ब्लॉग में किया। 

डिजिटल मार्केटिंग Implement करने से आप अपना एक Digital Ecosystem बना पाते हैं जिससे आपके लिए Interested Students & Parents को टारगेट करना काफी आसान हो जाता है। 

यदि आप चाहते हैं कि आप भी अन्य Popular Teachers Or Trainers की तरह अपना Digital Ecosystem बना पाएं तो हम आपको आमंत्रित करते हैं अपनी एक Digital Marketing Masterclass में। 

ये Masterclass Live है और केवल 90 Minutes ही चलेगी। इसमें Education Field में Grow करने के लिए ज़रूरी उन सभी Techniques को समझाया जाएगा जो आज Expert & Known Teachers & Trainers द्वारा Use की जा रही हैं। 

इसलिए इस Masterclass को Miss मत कीजियेगा के लिए। मिलते हैं आपसे Live.  

Share this post with your friends

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *