संदीप भंसाली - डिजिटल आज़ादी

SEO vs SEM in Hindi – सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन और सर्च इंजन मार्केटिंग के बीच का बड़ा अंतर!

SEO vs SEM in Hindi - सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन और सर्च इंजन मार्केटिंग के बीच का बड़ा अंतर!
Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest

Search Engine Optimization (SEO) और Search Engine Marketing दोनो ही वेबसाइट पर Search Engine से Quality Audience प्राप्त करने के लिए बेहतरीन तरीके हैं। लेकिन कई लोग इन दोनों को एक समझ बैठते हैं जबकि इनके बीच में काफी अंतर होता है। तो चलिए आज `SEO और SEM के बीच मे अंतर’ (SEO vs SEM in Hindi) को समझते हैं।

Table of Contents

SEO (Search Engine Optimization) क्या है और क्यों जरूरी है ?

अगर आप अपने व्यवसाय की वेबसाइट या फिर अपने Blog पर Quality Audience लाना चाहते हैं जो बेहतरीन Conversion दे सके तो Search Engine Optimization इसके लिए एक बेहतर तरीका है। Search Engine Optimization का नाम ही इसका मतलब समझा देता है। अपने वेबसाइट और उसमें मौजूद Content को इस तरह Optimize और तैयार करना कि वह Search Engine में Rank कर सके, यही Search Engine Optimization कहलाता है।

Search Engine Optimization में कई चीज़ें जैसे कि Content, Pagespeed, Backlinks, Website Design, Page Structure, Keyword Placement आदि शामिल होते हैं। इसके अलावा आपकी Website की Brand Value और उसे Search Engines से मिल रहे Clicks भी Search Engine में Website की Ranking को Effect करते हैं। 

दरअसल Search Engine पर लोग जिस तरह के Content या Product में रुचि रखते हैं, उसे Search करते हैं और उसी के बाद Result में बताई जा रही Websites पर Visit करते हैं। यानी कि अगर कोई व्यक्ति Search Engine से आपकी Website पर आ रहा है तो उसका मतलब उसे आपके Content में रुचि है और यही कारण है कि Search Engine से आने वाली ऑडियंस को Quality Audience के रूप में देखा जाता है।

Search Engine Optimization के द्वारा Website और उस पर मौजूद Content को बिना कोई खास पैसा लगाए इस तरह से Optimize किया जाता है कि उस पर Organic तरीके से Audience आती है। एक तरह से यह एक Free तरीका है अपनी Website पर Quality Audience लाने का, लेकिन बेहतरीन Conversion के लिए आपके Content में भी दम होना चाहिए।

SEO के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहाँ Click करें। 

SEM (Search Engine Marketing) क्या है ?

Search Engine Optimization में आप Search Engine से ट्रैफिक लाने के लिए अपनी वेबसाइट को Optimize करते हो और कोई पैसा खर्च नहीं करते लेकिन Search Engine Marketing में मार्केटर्स और वेबसाइट Owners के द्वारा Search Engine से वेबसाइट पर ट्रैफिक लाने के लिए पैसे खर्च किए जाते हैं। Search Engine Marketing अर्थात SEM के द्वारा वेबसाइट पर जो Traffic का आता है उसमें Organic और Paid दोनों तर्क का Traffic शामिल होता है।

Search Engine Marketing को भी इसके नाम से ही आसानी से समझा जाता है। अपने व्यवसाय या फिर कहा जाए तो Website को Search Engine के द्वारा बेनिफिट दिलवाने के लिए जो मार्केटिंग की जाती है, उसे सर्च इंजन मार्केटिंग कहा जाता है। Search Engine Marketing में Search Engine Optimization को भी शामिल किया जाता है जिससे Organic Traffic आता है लेकिन साथ में Search Engines पर ऊपर की तरफ दिखने वाले Paid Ads भी शामिल होते हैं।  

SEM के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहाँ Click करें। 

SEO vs SEM in Hindi : सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन और सर्च इंजन मार्केटिंग में अंतर

SEO vs SEM : सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन और सर्च इंजन मार्केटिंग में अंतर

Search Engine Optimization और Search Engine Marketing दोनों ही Search Engines से वेबसाइट पर Traffic लाने के लिए उपयोग किये जाते है, ऐसे में लोग कई बार इन दोनों को एक मान लेते हैं लेकिन इनमें काफी अंतर है।

 Search Engine Optimization और Search Engine Marketing (SEO vs SEM in Hindi) में मुख्य अंतर यही है कि Search Engine Optimization का उपयोग Search Engine से Organic Search Result लाने के लिए किया जाता है तो वही Search Engine Marketing का उपयोग Search Engine से Organic और Paid दोनों तरीकों से Traffic लाने के लिये किया जाता है।

इसे सरल भाषा में समझने के लिए पहले आपको Search Engines में आने वाले Result को समझना होगा।

जब भी आप किसी Search Engine जैसे कि Google में कोई Keyword Search करते हो तो आपके सामने जो Result आता है उसमें ऊपर की तरफ कुछ Ads आते हैं, जहा ‘Ads’ टैग लगा हुआ भी होता है। वह Ads पैसे देकर उन Websites के द्वारा चलाये जाते हैं जो वहां Show कर रही है। वहीं नीचे की तरफ सामान्य Result आता है, यह Website सर्च इंजन पर अपने आप को रैंक करने के लिए Search Engines को कोई पैसा नहीं दे रही अर्थात Organic Traffic प्राप्त कर रही होती है।

इनमे से Search Engine Optimization का तात्पर्य मात्र उन Websites से होता है जो बिना Ads रन किये Search Engine में रैंक कर रही है और Organic तरीके से Audience प्राप्त कर रही है। वहीं दूसरी तरफ जो Websites सर्च इंजन में पैसे देकर Rank कर रही हैं या फिर कहा जाए तो Ads चला रही हैं, उनका तात्पर्य Search Engine Marketing से भी होता है।

सरल भाषा में, Search Engine Optimization का उद्देश्य Organic रूप से Search Engine से Traffic प्राप्त करना होता है जबकि Search Engine Marketing में Search Engine के Paid Area में अपनी Website का Ad Show करके Website पर Visitors प्राप्त करना होता है। इसके अलावा Search Engine Marketing में SEO भी शामिल होता है जिसमें Website पैसे लगाकर Organic तरीकों से Website पर Traffic लाने का प्रयास करती है।

इसे सरल भाषा मे समझने के लिए नीचे दी गयी SEO vs SEM in Hindi Comparison Table को देखे:

Search Engine Optimization Search Engine Marketing
यह एक Method होता हैं Search Engine पर Website की Position को ऊपर लाने के लिये
यह एक Online Marketing Technique हैं Advertising और SEO के द्वारा वेबसाइट के प्रोमोशन के लिए
SEO को SEM का एक ही भाग माना जाता है
SEM एक तरह की मार्केटिंग है जिसमे Search Engines से बेनिफिट प्राप्त करने के लिए
इसमें Benefit मिलने में समय लग सकता है
इसमें Instant Result प्राप्त किये जा सकते हैं
इसमें Organic तरीके से Website प्रमोट की जाती है
इसमें Organic और Paid दोनों Method शामिल होते हैं
इसमें कोई खर्चा नहीं होता
इसमें पैसा खर्च करना पड़ता है

Search Engine Optimization में निम्न चीज़ों को शामिल किया जाता है :

  1. On Page SEO : इसमें आपको अपनी वेबसाइट को इस तरह से Optimize करना होता है कि वह Search Engines के द्वारा Index की जा सके। इसके अलावा आपको अपने Content को भी इसी तरह से तैयार करना होता है। जिन Keywords पर आप Website को Rank करवाना चाहते हो उनकी Placement भी On-Page SEO में ही शामिल है।

     

  2. Off Page SEO : Off Page SEO में मुख्य रूप से Backlinks को शामिल किया जाता है। इसमें आपको Website की Authority बढ़ाने के लिए Related Sites से या फिर High Authority वाली Sites से Quality Links प्राप्त करनी होती है, जिससे आपकी Website सर्च इंजन्स और Audience दोनों की नजरों में आती है।

     

  3.  Technical SEO : कई बार Website में इस तरह की टेक्निकल समस्याएँ आ जाती है जिसके चलते Website सर्च इंजन्स के द्वारा Crawl और Index नहीं की जाती। ऐसे में Technical SEO के द्वारा यह Confirm किया जाता है कि Search Engine आपकी Website को Index और Crawl कर सके।

     

  4. User Interaction Signals : वेबसाइट को सर्च इंजन में अच्छी Rank पर लाने के लिए इस बात का भी ध्यान रखना होता है कि आपकी Website पर आने के बाद व्यक्ति उस पर रुके भी सही, अगर तुरन्त आपकी Website छोड़ दी जाएगी तो इससे Bounce Rate बढ़ेगा और Google समझेगा की आपकी Website पर Valuable Content नहीं है, जिससे आपकी Ranking नीचे जाएगी।

Search Engine Marketing में निम्न चीज़ों को शामिल किया जाता है:

  1. SEO : कई लोग केवल यह सोचते हैं कि Ads के द्वारा Google से Traffic लाना ही SEM है लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। Search Engine Marketing में SEO को भी शामिल किया जाता है जिससे की Website पर Organic Traffic प्राप्त किया जा सके। SEO सर्च इंजन मार्केटिंग में कम कीमत में बेहतरीन मुनाफा कमाने के लिए एक अच्छा विकल्प है।

  2. Bidding : चाहे आप किसी भी Search Engine का उपयोग करो, लेकिन कहीं पर भी Ads Section में अपनी Website को लाना इतना आसान नहीं होता है। क्योंकि आपकी तरह और भी लोग होते हैं जो अपनी Website पर Ads चलाने के लिए Search Engines को पैसा दे रहे होते हैं। ऐसे में आपको इसके लिए Bidding करनी पड़ती है, जो किसी कीवर्ड सबसे बेहतर Bidding करता है, उसे Paid Area में उसकी Bidding के अनुसार अपनी जगह मिल जाती है।

  3. Quality Score : केवल अपनी Website को पैसे देकर Paid Section में लाने से ही काम नहीं चलता, आपको बेहतर Quality Score भी चाहिए होते हैं जिससे कि लोग आपकी वेबसाइट पर आ सकें। Quality Score Google Ad Matric के लिए एक महत्वपूर्ण चीज़ है जिसमें Google CTR, Landing Page आदि का आकलन करते हुए जांच करता है कि आपकी वेबसाइट जिस Keyword पर आप Rank करवाना चाह रहे हो उसके लायक है या नहीं। अगर आपके पास High Quality Score होते हैं तो आपको हर Click पर Discount भी मिलता है।

  4. Ad Copy : CTR को बढ़ाने के लिए ज़रूरी होता है कि आपकी Ad Copy बेहतर हो। Ad Copy वह होती है जो लोगों को आपके Ad में दिखाई देती है। इसमें Title और Description आदि को शामिल किया जाता है। अगर आप बेहतर Ad Copy डिजाइन करेंगे तो आपको अच्छी CTR और Quality Score मिलेंगे जिससे कि आपको Same Click के लिए कम पैसे देने होंगे।

SEO vs SEM Comparison in Hindi : सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन और सर्च इंजन मार्केटिंग में से क्या है बेहतर?

Search Engine से आने वाला Traffic Quality Audience माना जाता है जिनसे बेहतर Conversion प्राप्त की जा सकती है। इसका एक मुख्य कारण यह है कि Search Engine से जो व्यक्ति आपकी Website पर आता है उसे आपकी Website पर मौजूद Content या आपकी Service और Product में रुचि है।

ऐसे में ऑनलाइन मार्केटिंग में SEO व SEM दोनों ही बेहतर विकल्प हैं। लेकिन अगर आपका Budget कम है और आप अधिक पैसा खर्च नहीं करना चाहते तो SEO आपके लिए एक बेहतर विकल्प है जो बिना किसी खास खर्चे के आपको Search Engine से Benefit दिला सकता है।

इसके अलावा आज के समय की Audience काफी Smart है जो जानती है कि कौनसा result एक Ad है और क्या Organic Result तो SEO द्वारा Rank Content को ज्यादा Clicks मिलते हैं। लेकिन SEO के द्वारा वेबसाइट रैंक करवाना आसान नहीं है। इसमें आपको कई दिन या फिर कई महीने भी लग सकते हैं, वहीं दूसरी तरफ SEM के द्वारा पैसे देकर आप Instant Website को Search Engine Results में ला सकते हो।

तो यह पूरी तरह से आपकी वेबसाइट, आपके बिजनेस मॉडल और आपके Budget पर निर्भर करता है कि आपको SEO या SEM में से किसको चुनना चाहिए।

निष्कर्ष

आज के समय में हर व्यक्ति के पास Internet का Access है और वह इसे बखूबी उपयोग भी करता है तो ऐसे में Online Marketing व्यवसाय को Profit दिलवाने के लिए सबसे बेहतर विकल्पों में से एक है। Quality Audience प्राप्त करने के लिए SEO व SEM दोनों ही बेहतर विकल्प हैं। ‘SEO और SEM के बीच के अंतर’ (SEO vs SEM in Hindi) को हम इस लेख में समझा चुके है तो ऐसे में अब आप चुन सकते हैं कि आपको किसकी तरफ अधिक ध्यान देना है।

SEO vs SEM के बारे में English में पढ़ने के लिए यहाँ Click करें।

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on telegram
Share on linkedin

8 Responses

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *