संदीप भंसाली - डिजिटल आज़ादी

क्यों SEO आपके लिए ज़रूरी है?

SEO - क्यों SEO आपके लिए ज़रूरी है
Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
क्यों SEO आपके लिए ज़रूरी है

आज के समय में हर कोई चाहता है की उनकी वेबसाइट, उनका ब्लॉग Google पर सबसे पहले नंबर आए।
सवाल है कैसे? SEO अहम भूमिका निभाता है आपके ब्लॉग को Search Engine Result Page (SERP) पर Rank करने के लिए। 

आज के इस ब्लॉग में हम बात करेंगे SEO की Hindi में। जानेंगे SEO के बारे में सब कुछ जो ज़रूरी होता है अपने website को optimize करने के लिए।

Table of Contents

SEO क्या है?

वेबसाइट को Google पर सबसे ऊपर रैंक करने में SEO को काफी महत्वपूर्ण माना जाता है जिसे हम Search Engine Optimization कहते है। यह वास्तव में Google सर्च इंजन पर आपकी वेबसाइट रैंकिंग से संबंधित है। जब भी आप Google पर वेबसाइट सर्च करते हैं तो आपके रिजल्ट की रैंकिंग वेबसाइट के SEO से तय होती है। 

यदि आप अपनी वेबसाइट की ओर अधिक ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं, तो एक अच्छी SEO वेबसाइट एक आवश्यक कारक है। विज्ञापन और समर्थन पर भारी खर्च किए बिना, SEO आपकी वेबसाइट के ट्रैफिक को बढ़ाने का एक शानदार तरीका प्रदान करता है। SEO एक dynamic और लगातार बदलता शास्त्र है जहां एक चीज लंबे समय तक नहीं रहती है। इससे इसे समझना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

एसईओ (SEO) में Expertise प्राप्त करने के लिए पूरी तरह से सूचित होने के साथ-साथ मूल बातें समझना बहुत महत्वपूर्ण है। Trends से लेकर Algorithms तक, SEO का सर्वोत्तम तरीके से उपयोग करने के लिए सब कुछ अच्छी तरह से रखा जाना चाहिए।

जब इंटरनेट अस्तित्व में आया, तो SEO वास्तव में एक मार्केटिंग टूल नहीं था। इसका उपयोग केवल Search Results  को समझने और इंटरनेट के आसपास काम करने के लिए किया गया था। लेकिन अब काफी कुछ बदल गया है। SEO केवल सर्च की एक तकनीक नहीं है बल्कि यह आपके ब्रैंड के लिए marketing का एक उम्दा तरीका बन गया है।

अगर आपने अभी-अभी अपनी वेबसाइट शुरू की है या अपने बिजनेस को डिजिटल मोड पर ले जाना चाहते हैं तो इसमें SEO अहम भूमिका निभाएगा। हालांकि, आपको परेशान  होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि इसे समझने के लिए आपको SEO पर गहराई से जाने की आवश्यकता नहीं होगी। कुछ बुनियादी बातों को जानने और अपने आस-पास के बदलावों से अवगत होने से भी काम कुशलता से हो जाएगा।

तो आज, इस ब्लॉग में आप अपनी वेबसाइट का SEO बढ़ाने के लिए युक्तियों और युक्तियों के साथ-साथ SEO की मूल बातें समझेंगे।

सर्च इंजन (Search Engine) क्या है?

सर्च इंजन (Search Engine) क्या है?

आप सर्च इंजन को एक इंटरनेट टूल के रूप में समझ सकते हैं जो विशाल डेटाबेस के माध्यम से Search करने में मदद करता है और हमें वे परिणाम प्रदान करता है जिनकी हमें आवश्यकता होती है। उदाहरण के लिए, Google, Yahoo, Bing आदि। लेकिन आजकल, Google सबसे प्रमुख Search इंजन है जिसका उपयोग लगभग हर कोई करता है।

सर्च इंजन का कार्य

सर्च इंजन के बेसिक्स को समझने से पहले आप SEO के साथ काम करना शुरू कर सकते हैं। जब हम उस मैकेनिज्म के बारे में बात करते हैं जिस पर सर्च इंजन या हम कह सकते हैं कि मुख्य रूप से Google काम करता है, तो तीन मुख्य स्तर होते हैं;

  1. क्रॉलिंग (Crawling):
    इस स्तर या प्रक्रिया का अर्थ है डेटा की सारी सर्च और स्कैनिंग। सर्च इंजन सभी उपलब्ध डेटा के माध्यम से जाता है और हमें हमारी Search से संबंधित डेटा प्रदान करता है। क्रॉलर का उपयोग हाइपरलिंक को निर्धारित करने और ट्रेस करने और वेब पेजों के रूप में नया डेटा तलाशने के लिए किया जाता है।
  2. इंडेक्सिंग (Indexing):
    Indexing क्या है? एक पारंपरिक Index का उपयोग किसी पुस्तक या नोटबुक के डेटा को दर्शाने और व्यवस्थित करने के लिए किया जाता है। इसी तरह, सर्च इंजन अनेक वेब पेजों के डेटा को व्यवस्थित करते हैं। वे इसे समझने और प्रोसेस करने के लिए इसे अनेक रूपों में categorize करते हैं। इस प्रक्रिया में दिए गए परिणाम प्रदान करने के लिए डेटा ko analyze  करना शामिल है।

  3. परिणाम चुनना:
    अंतिम चरण उन Results को चुनना है जो Users की Search के लिए सबसे अधिक योग्यता दिखाते हैं। 

ये तीन बुनियादी प्रक्रियाएं सर्च इंजन के पूरे कार्य तंत्र का निर्माण करती हैं। अब आपको सर्च इंजन की प्रक्रिया के बारे में कुछ जानकारी हो गई है। यह आपकी वेबसाइट को Search इंजन सिद्धांतों के साथ और अधिक संरेखित करने में आपकी सहायता करेगा।

गूगल एल्गोरिथ्म (Google Algorithm)

सरल भाषा में Algorithm का मतलब होता है कुछ ऐसे नियम जो एक प्रॉब्लम को सुलझाने में हमारी मदद करते है।

इसको ध्यान में हुए, Google ने अपनी डेटा को organize करने के लिए Algorithms बनाए हैं। Google द्वारा उपयोग किए जाने वाले सभी प्रकार के Algorithms एक यूजर के Search का result और रैंकिंग तय करते हैं। यह निर्धारित करता है कि किसी दी गई Search के लिए वेबसाइट को कैसे रैंक किया जाएगा। Google Algorithm के तहत वेबसाइट की रैंकिंग निर्धारित करने के लिए अनेक पहलुओं को देखा जाता है जैसे;

  1. Search के लिए User जिस कीवर्ड को टाइप करता है उसका सही परिणाम तलाशने के लिए Google Algorithm द्वारा डेटा Analyze किया जाता है।

     

  2. Results Search के अर्थ के साथ संरेखित है। इसका मतलब यह है कि Search के लिए इस्तेमाल किए गए कीवर्ड के साथ उनकी योग्यता या योग्यता के अनुसार Search परिणाम तय किया जाएगा।

     

  3. बेहतर पठनीयता (readability) तेज़ लोडिंग समय और बेहतर पहुंच वाले वेबपेज को Google पसंद करता है

  4. Users का परिवेश भी Search result को निर्धारित करता है। यह योग्यता के अनुसार विशिष्टता को भी दर्शाता है। Users के स्थान, रुचि, पिछली खोजों आदि जैसे अनेक कारक Search परिणामों को तय करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

Google Algorithm एक निश्चित तंत्र नहीं है। यह धीरे-धीरे बदल रहा है और संरचना विकसित कर रहा है। हालांकि, परिवर्तन बहुत कठोर नहीं हैं। Google अपने Algorithm में प्रतिदिन छोटे-छोटे परिवर्तन करता है जबकि बड़े पैमाने पर परिवर्तन और अपडेट आने में वर्षों लग जाते हैं।

परिणाम निर्धारित करने के लिए अनेक Search इंजन किस सटीक तंत्र का उपयोग करते हैं, यह कोई नहीं जानता, लेकिन हमारे पास उनके कार्य तंत्र की बहुत सारी झलकियाँ हैं। ये झलकियाँ आपको Search results में अपनी वेबसाइट को ऊपर उठाने के संबंध में आवश्यक जानकारी प्रदान करने के लिए पर्याप्त हैं।

आपके SEO को बढ़ाने के Factors

आपके SEO को बढ़ाने के Factors

अब हम कुछ बुनियादी factors पर चर्चा करेंगे जो आपकी वेबसाइट रैंकिंग को उच्च रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इन्हें समझना बहुत मुश्किल नहीं है लेकिन निश्चित रूप से लागू करने के लिए हर factor महत्वपूर्ण है।

 

  1. आपके लक्षित दर्शकों (Target audience) के लिए कंटेंट 

अपना कंटेंट पोस्ट करने से पहले सोचें कि यह आपके user के लिए उपयोगी है या नहीं। Quality Content SEO और डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में बहुत प्रसिद्ध शब्द है। इसका मतलब वह कंटेंट है जो आपके दर्शकों के लिए सूचनात्मक और उपयोगी है। उदाहरण के लिए, एक खाद्य ब्लॉग मुख्य रूप से खाद्य पदार्थों और पर्यटकों को लक्षित करता है। लेकिन अगर आप उस पर स्पोर्ट्स कारों या बाइक्स के बारे में पोस्ट करना शुरू करेंगे, तो आपके users को वह कंटेंट व्यर्थ लगेगा। Search इंजन भी इस बात को ध्यान में रखेगा और आपकी वेबसाइट रैंकिंग अंततः नीचे चली जाएगी।

2. वेबसाइट की योग्यता

आप चाहते हैं कि आपकी वेबसाइट Google की टॉप रैंकिंग में आए। लेकिन आपकी वेबसाइट अगर crawl करने योग्य नहीं है, तो अंततः यह रैंकिंग के मामले में नीचे चली जाएगी। लोडिंग का समय, accessibility, कंटेंट आदि तय करते हैं कि आपकी वेबसाइट रैंक होगी या नहीं। Crawl करने योग्य वेबसाइट भी सर्च इंजन द्वारा आसानी से मिल जाती है।

3. हाइपरलिंक (Hyperlink)

Hyperlinks और Backlinks आपकी वेबसाइट की रैंकिंग को ऊपर उठाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जब आपकी वेबसाइट से कई प्रासंगिक हाइपरलिंक जुड़े होते हैं, तो Google आपकी वेबसाइट को उच्च रैंक देता है। लेकिन योग्यता यहां बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

4. Unique Content

यदि आप ऐसी content पोस्ट कर रहे हैं जो लोगों के लिए विश्वसनीय है, लेकिन अन्य प्रतिस्पर्धियों के समान है, तो इस बात की संभावना कम है कि Google आपकी वेबसाइट को उच्च रैंकिंग के लिए चुनेगा। क्योंकि आपके कंटेंट को डुप्लीकेट माना जाएगा जो कि आपकी वेबसाइट के लिए खतरनाक हो सकता है।

5. क्लिक काउंट या इंप्रेशन

बेहतर क्लिक संख्या आपकी वेबसाइट पर High इंप्रेशन या संभावित विज़िटर को represent करती है। अधिक क्लिक संख्या प्राप्त करने के लिए, आप मेटा description के साथ अपने title टैग को customize करने का प्रयास कर सकते हैं। मेटा टैग वाले वेबपेज की पहुंच बेहतर होती है और Google searches में उनकी उच्च रैंकिंग होती है।

6. लोड स्पीड (Load speed)

तेज़ लोडिंग स्पीड वाली वेबसाइटों को SEO में बेहतर रैंकिंग मिलती है। क्योंकि ऐसी वेबसाइटों को users का बेहतर रिस्पॉन्स मिलता है। वे वेबसाइट पर अधिक समय बिताते हैं जो अंततः Google results से अच्छी प्रतिक्रिया प्रदान करती है।

SEO के प्रकार

SEO 3 प्रकार का होता है:

  1. ऑन पेज SEO 
  2. ऑफ पेज SEO 
  3. लोकल SEO

ऑन-पेज और ऑफ-पेज SEO

ऑन-पेज एसईओ का अर्थ है वेब पेजों के कंटेंट और अन्य वेब लिंक जो Google Search Results के साथ संरेखित हैं। जबकि ऑफ-पेज एसईओ का मतलब कोई अन्य activities हैं जो सीधे आपकी वेबसाइट से संबंधित नहीं है लेकिन फिर भी इसकी एसईओ रैंकिंग को बदलने में मदद करता है।

यदि आप चाहते हैं कि आपकी वेबसाइट SEO रैंकिंग में उच्च रैंक करे तो दोनों SEO संचालन को सावधानी से संचालित करने की आवश्यकता है। एक वेबपेज रैंकिंग को सीधे प्रभावित करता है जबकि दूसरा इसे परोक्ष रूप से प्रभावित करता है।

ऑन-पेज SEO को मैनेज करने के लिए आपको वेबसाइट कंटेंट पर काम करना होगा। अपने ऑन-पेज एसईओ को बढ़ाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण पहलू कंटेंट में अधिक कीवर्ड जोड़ते हुए अपने लक्षित ग्राहकों के लिए अपने कंटेंट को बनाना है।

ऑन पेज SEO को सुधारने के लिए कुछ टिप्स:

  1. योग्य कंटेंट
    अपने Niche को Analyze करें, Explore करें और यह समझने की कोशिश करें कि आपकी वेबसाइट के लिए सबसे अच्छा स्थान कौन सा है। उदाहरण के लिए, यदि आपकी वेबसाइट कपड़ों के ट्रेंडी आइटम बेचती है, तो फैशन Niche आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण है।

2. पेज लोडिंग स्पीड
अपने Page के लोडिंग समय को कम करने का प्रयास करें। अपनी वेबसाइट पर मौजूद Images के size को छोटा करें। यह डाउनलोडिंग के समय को कम करेगा और page loading speed को बढ़ाएगा।

3. मेटा डाटा
कीवर्ड्स, मेटा हेड्स, मेटा डिस्क्रिप्शन आदि टूल्स का उपयोग करके अपने कंटेंट को एसईओ फ्रेंडली बनाएं, जिस पर हम आगे चर्चा करेंगे।

4. कंसिस्टेंसी
लगातार पोस्ट करें। एक उचित शेड्यूल बनाएं और नियमित रूप से कंटेंट को अपडेट करें। 

अपने ऑफ-पेज एसईओ को बढ़ाने के लिए कुछ बुनियादी टिप्स

अपने SEO को बढ़ाने के लिए ऊपर बताए गए तरीकों के अलावा कुछ और तरीके भी हैं। आइए अपने ऑफ-पेज एसईओ को बढ़ाने के लिए कुछ युक्तियों पर एक नजर डालते हैं।

  1. हाइपरलिंक
    जितने हो सके उतने हाइपरलिंक जोड़ें और देखें कि आपकी वेबसाइट SEO रैंकिंग में कितनी तेजी से ऊपर चढ़ती है। लेकिन ध्यान रखें कि आपके हाइपरलिंक आपकी वेबसाइट के कंटेंट और Users के लिए योग्य हैं।

  2. ब्लॉग टिप्पणी
    यह न केवल आपके Users से संबंध बढ़ाने का एक शानदार तरीका है, बल्कि यह आपकी वेबसाइट के लिए बेहतर प्रतिक्रिया प्रदान करने के लिए भी बहुत अच्छा है। Users सीधे अपने विचार रख सकते हैं और आप उन्हें रचनात्मक प्रतिक्रिया के रूप में उपयोग कर सकते हैं।

  3. अधिक चित्र और वीडियो जोड़ें
    अधिक Photos और Videos न केवल कंटेंट को अधिक आकर्षक बनाते हैं बल्कि इसे और अधिक आसानी से पढ़ने योग्य बनाते हैं जो कि Users के साथ-साथ Google द्वारा भी पसंद किया जाता है।

  4. Guest Content
    यह अन्य कंटेंट क्रिएटर्स के दर्शकों को भी आकर्षित करते हुए नियमित रूप से आपकी कंटेंट को अपडेट करने का एक शानदार तरीका प्रदान करता है। आपकी वेबसाइट के लिए आपका कंटेंट नियमित रूप से अपडेट हो रहा है, जबकि combined ऑडियंस व्यूज बड़ा रही है। 

लोकल SEO

लोकल SEO के नाम में ही सब कुछ है। लोकल SEO सबसे अहम् भूमिका निभाता है आपके बिज़नेस को Local Level पर बढ़ाने में। 

लोकल SEO से आप अपने नज़दीकी customers को टारगेट करके अपना बिज़नेस बढ़ा सकते हैं।

Local SEO को बढ़ने के लिए कुछ टिप्स

  1. गूगल माय बिज़नेस (Google My Business):
    आप अपना Google My Business का अकाउंट सेट उप करके, उसे ऑप्टिमाइज़ कीजिये हुए अपने बिज़नेस को ऑनलाइन लिस्ट कीजिये।

  2. गूगल मॅप्स (Google Maps):
    अपने बिज़नेस की लिस्टिंग Google Maps पर करें और उसे Optimize कीजिये, जिससे आपका Local SEO स्ट्रॉंग होगा।

  3. सर्च डायरेक्टरी लिस्टिंग (Search Directory Listing):
    Sulekha, Yellow Pages, JustDial, India Mart जैसे search directories पर अपने बिज़नेस की लिस्टिंग भी आपके बिज़नेस के लिए काफ़ी फ़ायदेमंद साबित हो सकती है।
Keyword रिसर्च

Keyword रिसर्च

किसी भी वेबपेज के SEO को बढ़ाने में कीवर्ड प्रमुख भूमिका निभाते हैं। आप इसे मुख्य factor भी मान सकते हैं जो SEO रैंकिंग तय करता है। यदि आपने अभी शुरुआत की है तो कीवर्ड ढूंढना एक मुश्किल काम हो सकता है। यहां आपके लिए हमारी छोटी गाइड है जो आपकी वेबसाइट के लिए सही कीवर्ड निर्धारित करने में मदद करेगी।

  1. अपने लक्षित दर्शकों के लिए शोध करें
    यह उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि रिटेल स्टोर के लिए ग्राहक ढूंढने की कोशिश करना। आप किस ऑडियंस के लिए काम कर रहे हैं, यह निर्धारित किए बिना आप यह निर्धारित नहीं कर सकते कि कौन सा कीवर्ड उपयुक्त है। दर्शकों को समझे बिना, आप कंटेंट पोस्ट करना भी शुरू नहीं कर सकते क्योंकि इसका कोई मतलब नहीं होगा। Google Suggest का उपयोग करके, अपने प्रतिस्पर्धियों के बारे में शोध करके आप अपनी वेबसाइट के लिए सर्वोत्तम लक्षित दर्शकों को खोजने का प्रयास कर सकते हैं।

  2. योग्यता की जाँच करें
    आप अपनी वेबसाइट के लिए जो भी कीवर्ड चुनते हैं, यह सुनिश्चित करें कि यह आपके शोध किए गए लक्षित दर्शकों के साथ मेल खाती है। लक्षित दर्शकों द्वारा कीवर्ड का अक्सर उपयोग किया जाना चाहिए। आप इसे ऐसे समझ सकते हैं जैसे कोई user अपने search बॉक्स में कंटेंट से संबंधित कुछ कीवर्ड टाइप करता है। आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले इन कीवर्ड के आधार पर Google results दिखाता है। यदि आप ऐसे कीवर्ड का उपयोग कर रहे हैं जो आपकी वेबसाइट से संबंधित लोगों द्वारा या आपके ग्राहकों द्वारा सामान्य रूप से उपयोग नहीं किए जाते हैं, तो वे कीवर्ड शून्य परिणाम देंगे।

  3. Keyword तलाशने के लिए साइटें
    ऐसे कई टूल और साइट हैं जिनका उपयोग आप योग्य कीवर्ड तलाशने के लिए कर सकते हैं। सबसे अच्छा Google Suggest है। जब हम किसी विशेष डोमेन में विशेष कंटेंट की खोज करते हैं तो Google द्वारा अनेक keywords के सुझाव दिए जाते हैं। अपना मुख्य कीवर्ड लिखकर प्रारंभ करें फिर आपको अनेक कीवर्ड्स Google Suggest दिखाएगा। ये कीवर्ड आपको अनेक साइड कीवर्ड या सेकेंडरी कीवर्ड प्रदान करेंगे जिनका उपयोग आपके users कर सकते हैं।

    इसके बाद, आप कीवर्ड टूल भी आज़मा सकते हैं। कई सारे फ्री और पेड टूल्स हैं जिनकी सहायता से आप Keywords का रिसर्च कर सकते हैं।

    Google Adwords और Google Trends के इस्तेमाल से भी आप कीवर्ड रिसर्च कर सकते हैं।

    Ubersuggest, Ahrefs, SEMRush कुछ नामांकित टूल्स हैं जिसका आप इस्तेमाल सकते हैं Keywords रिसर्च करने के लिए। ये सभी टूल्स फ्री और पेड दोनों ही प्लान्स ऑफर करते हैं।

    आप पेड कीवर्ड भी आज़मा सकते हैं क्योंकि वे शुरुआत में बहुत अधिक वेबसाइट ट्रैफिक लाने का वादा करते हैं। सर्वोत्तम कीवर्ड खोजने की कोशिश करने के लिए हमेशा दो चरणों पर ध्यान केंद्रित करें। पहला सीड कीवर्ड है और दूसरा प्रतियोगी का डोमेन URL है।

    यह उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि रिटेल स्टोर के लिए ग्राहक तलाशने की कोशिश करना। आप किस ऑडियंस के लिए काम कर रहे हैं, यह निर्धारित किए बिना आप यह निर्धारित नहीं कर सकते कि कौन सा कीवर्ड उपयुक्त है। दर्शकों को समझे बिना, आप कंटेंट पोस्ट करना भी शुरू नहीं कर सकते क्योंकि इसका कोई मतलब नहीं होगा। Google Analytics का उपयोग करके, आप अपने प्रतिस्पर्धियों के बारे में शोध कर सकते हैं और अपनी वेबसाइट के लिए सर्वोत्तम लक्षित दर्शकों को तलाशने का प्रयास कर सकते हैं।

  4. योग्यता की जाँच करें
    आप अपनी वेबसाइट के लिए जो भी कीवर्ड चुनते हैं, यह सुनिश्चित करें कि यह आपके शोध किए गए लक्षित दर्शकों के साथ समझ में आता है। लक्षित दर्शकों द्वारा कीवर्ड का अक्सर उपयोग किया जाना चाहिए। आप इसे ऐसे समझ सकते हैं जैसे कोई Users अपने Search बॉक्स में कंटेंट से संबंधित कुछ कीवर्ड टाइप करता है। आम तौर पर उपयोग किए जाने वाले इन कीवर्ड के आधार पर Google results दिखाता है। यदि आप ऐसे कीवर्ड का उपयोग कर रहे हैं जो आपकी वेबसाइट से संबंधित लोगों द्वारा या आपके ग्राहकों द्वारा सामान्य रूप से उपयोग नहीं किए जाते हैं, तो वे कीवर्ड शून्य परिणाम देंगे।

  5. कीवर्ड Metrics और Search Volume को समझें
    आप अपने लिए सबसे अच्छा और योग्य कीवर्ड खोजना चाहते हैं जो उच्च शोध मात्रा के साथ आता है। उसके लिए, आपको तीन factors पर विचार करना होगा जो है – लोकप्रियता, योग्यता और रैंक।

    Search मात्रा बताती है कि लोग कीवर्ड का कितना उपयोग कर रहे हैं। कीवर्ड सर्च वॉल्यूम जितना अधिक होगा कीवर्ड उतना ही बेहतर होगा। कीवर्ड कठिनाई को analyze करके भी बेहतर कीवर्ड तय किये जा सकते हैं जिनसे वेबसाइट के एसईओ को बढ़ाया जा सकता है।

सारांश

  1. SEO किसी भी वेबसाइट के लिए बहुत जरूरी है। अगर आप चाहते हैं कि आपकी पहुंच बढ़े और आपकी वेबसाइट आसानी से सुलभ हो तो अपनी वेबसाइट को SEO फ्रेंडली बनाएं।

  2. अपनी वेबसाइट को और अधिक आकर्षक बनाने के लिए अधिक photos और videos शामिल करें। लेकिन सुनिश्चित करें कि आपका लोडिंग समय इससे प्रभावित नहीं होता है।

  3. जहाँ भी आवश्यक हो, मेटा वर्णन, मेटा शीर्षक, उपशीर्षक आदि जोड़ने का प्रयास करें। ये आपकी रैंकिंग को बढ़ाते हुए आपकी कंटेंट को आसानी से पढ़ने योग्य बनाने में मदद करते हैं। इसके साथ ही अपने कंटेंट को नियमित रूप से अपडेट करना भी बहुत जरूरी है।

  4. कंटेंट आपके लक्षित दर्शकों के अनुसार होनी चाहिए। वेब पेज पर नई कंटेंट पोस्ट करना SEO रैंकिंग को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका हो सकता है। लेकिन ध्यान रखें कि कंटेंट योग्य, असाधारण, और  उपयोगी है। अनेक तकनीकों का उपयोग करके कंटेंट को एसईओ के लिए भी ऑप्टिमाइज़ करना चाहिए।

  5. आप कीवर्ड का उपयोग करके, उपशीर्षक बनाकर, बुलेट पॉइंट जोड़कर आदि से अपने वेब कंटेंट को एसईओ के लिए ऑप्टिमाइज़ कर सकते हैं। आसानी से पढ़ने योग्य कंटेंट को Users के साथ-साथ Search इंजन द्वारा अत्यधिक पसंद किया जाता है। Google हाल ही में सबसे महत्वपूर्ण SEO सर्च इंजन है। SEO से संबंधित सभी एक्टिविटीज़ मुख्य रूप से google से संबंधित हैं। आपकी कंटेंट को SEO संरेखित करने के लिए Algorithm भी महत्वपूर्ण है।

  6. जब आप एल्गोरिथ्म को समझने की कोशिश करते हैं, तो यह मत भूलिए कि SEO Optimization करने का कोई निश्चित तरीका नहीं है। 


SEO को और गहराई से समझने के लिए, जुड़िए मेरे साथ डिजिटल आज़ादी के ज़रिए जहाँ हम Search Engine Optimization को सीखते हैं, समझने की कोशिश करते हैं और उसे इम्प्लीमेंट करते हैं।

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on telegram
Share on linkedin

8 Responses

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *