संदीप भंसाली - डिजिटल आज़ादी

Website SEO Audit कैसे करें – 10 Steps Guide

Website SEO Audit कैसे करें - 10 Steps Guide

क्या आप अपना Regular Health Checkup करवाते रहते हैं और अपने स्वास्थ्य की देखभाल करते हैं?

जिस तरह एक अच्छे खान-पान और कसरत की मदद से आप अपनी Community में एक स्वस्थ व्यक्ति की Identity बनाते हैं, उसी तरह Website भी आपके Business की एक Digital Identity होती है। 

लेकिन क्या आप अपनी Website को कभी Analyze करते हैं और देखते हैं कि Monthly कितने Visitors आ रहे हैं, कितने Customers में Convert हो रहे हैं, Website के कितने Backlinks बन रहे हैं और किन कारणों की वजह से आज आपकी Website Rank कर रही है?

अन्य लोगों की तरह शायद आप भी नहीं करते होंगे।  

लेकिन क्या आप जानते हैं कि कई बार हमें पता भी नहीं होता और हमारी Website के कुछ Pages Index तक नहीं हो रहे होते, Rank की बात तो बहुत दूर है। 

ऐसा Website के कुछ Internal & External Factors की वजह से होता है जिन्हें Study, Analyze & Optimize करना ही Website SEO Audit कहलाता है।  

Website का SEO Audit करने से आपके SERP में Rank करने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है।  

SEO Audit को विस्तार से समझने के लिए हम आज का यह Blog लेकर आएं हैं जहां हम देखेंगे कि SEO Audit क्या होता है, SEO Audit कैसे करते हैं, SEO Audit Checklist क्या होती है और भी बहुत कुछ। 

तो आइये बिना देरी किये आज के इस Blog को SEO Audit Meaning से शुरू करते हैं।     

Related Post : How To Grow Your Business Using This SEO Fundamental Guide

What Is SEO Audit - SEO Audit क्या होता?

What Is SEO Audit - SEO Audit क्या होता?

अगर हम SEO Audit Meaning को समझें तो हम कह सकते हैं कि यह एक ऐसा Process होता है जिसके तहत आप अपनी Website के उन Errors or Problems को Analyze करते हैं जिनकी वजह से आपकी Website Google के First Page पर Rank नहीं कर रही होती है। 

इसमें सभी छोटे और बड़े Technical & Fundamental Errors शामिल होते हैं। 

इन Errors को Find & Correct करने के लिए कुछ Free & Paid SEO Audit Tools का इस्तेमाल किया जाता है। 

इन Tools के इस्तेमाल से हमें बहुत सी नई Information का पता लगता है, जो Website Ranking सुधारने में Helpful होती है। 

Website के SEO Ranking Factors को जानने के लिए यह Blog अवश्य पढ़ें। 

Also Read : Top 6 Types of SEO To Rank Your Website In Google Within Few Days

Importance of SEO Audit - Why Is It Required?

Importance of SEO Audit - Why Is It Required?

आप जानते हैं कि Website आपके Business का एक Digital Asset है जिसकी माध्यम से आप अपने Target Customers को अपने Business पर Attract करते हैं और अपनी Awareness Create करते हैं। 

लेकिन, आज इतने High Competitive ज़माने में जब एक ही तरह के Business को कई लोग कर रहे हैं, अपने बिज़नेस को अपनी Target Audience तक लेकर जाना मुश्किल होता जा रहा है। 

Inorganic Method (Search Engine Marketing) की मदद से आप कुछ ही समय में अपनी Website को लोगों के सामने लेकर जा सकते हैं, लेकिन जब बात Organic Method (Search Engine Optimization) की आती है, तब थोड़ा समय लगता है। 

और तो और, कुछ छोटी-बड़ी Mistakes भी होती हैं जिनका हमें पता भी नहीं चलता। 

ऐसे में आपको Website SEO Audit की ज़रूरत पड़ती है, जिसमे एक Complete SEO Audit Checklist बनानी पड़ती है, जो आपको निम्न प्रकार के फायदे (SEO Audit Benefits) Provide करती है।    

  1. आप अपनी Website को Search Engine & Users के लिए Optimize कर पाते हैं, उसका Technical Framework, Structure, Mobile Friendliness, Loading Speed को Analyze कर पाते हैं। 

Loading में एक-एक सेकंड का Delay भी आपकी Website का Bounce Rate बढ़ा सकता है जिससे आप Convertible Traffic को Lose कर सकते हैं। 

2. आपको पता चलने लगता है कि ऐसे कौन से SEO Factors हैं जिन्हें Optimize करना रह गया है या Over Optimize कर दिया है, जिससे वह अब Blackhat SEO Technique में Consider किया जाने लगा है। 

इससे आप अपनी Already Implemented SEO Strategies पर Rework कर सकते हैं और अपनी Mistakes को सुधार सकते हैं ताकि Search Engine आपके Website Pages को समझ सके और Crawling & Indexing कर सके। 

क्योंकि यदि Search Engine ने Access नहीं किया तो आपकी Website उन 91% Websites की List में शामिल हो जाएगी जिन पर ना के बराबर Organic Traffic आता है।   

3. इस Process की मदद से आप पता कर सकते हैं कि आपकी Website Lead Generation & Conversion में कहाँ Stand कर रही है। 

SEO Audit Checklist के आधार पर इस Strategy को Implement करने से आप जान सकते हैं कि किन Pages में Proper CTA है, किन में नहीं है, और किन Pages को Redesign करने की ज़रूरत है और उनका Layout Modify करने की ज़रूरत है, ताकि Conversion Rate बढ़ सके। 

4. यह Audit Process आपके Website Errors को Find करने में मदद करता है जो आपके User Experience को खराब कर रहे होते हैं। 

इन Errors में शामिल हैं – Broken Links, Error 404 Redirect, Hidden Content, Speed, Mobile Friendliness, Schema Error, Sitemap Errors, Content Structure (Heading, Subheadings, and Body), etc. 

5. इसके साथ ही आपको Website Structure Issues के बारे में जानकारी मिल जाती है जिन्हें Improve करके आप अपना User Experience बेहतर बना सकते हैं।  


तो हम समझते हैं कि आपको आपके Importance of SEO Audit वाले सवाल का जवाब मिल गया होगा।

यहां तक हमने SEO Audit क्या है और SEO Audit Benefits के बारे में तो समझ लिया, लेकिन हमें यह कैसे पता चलेगा कि इस Process को कब Implement करना चाहिए?

तो चलिए इस सवाल का जवाब जानने के लिए अपने अगले Section को देखते हैं When To Do Website SEO Audit. 

Related Post : Importance of SEO For Business Growth

Website SEO Audit कब Perform करना चाहिए?

Website SEO Audit कब Perform करना चाहिए

जिस तरह अपनी सेहत का ध्यान रखना ज़रूरी है उसी तरह अपनी Website की Health का ध्यान रखना भी ज़रूरी है। 

इससे आप Current Website Errors तो Eliminate कर ही सकते हैं, साथ में Future में पड़ने वाले Impact को भी आज ही Control कर सकते हैं। 

ऐसे में जब भी आपको लगे कि आपके द्वारा Posted Information आपकी Target Audience तक नहीं पहुँच पा रही है, या आपकी Website का Bounce Rate बहुत अधिक बढ़ रहा है, आपको SEO Audit Process Perform करना चाहिए। 

लेकिन यहां सवाल आता है कि आखिर इस Process को कितनी बार Perform करना चाहिए जिससे Best Result मिल सके?

कई Experts का मानना है कि साल में 2-3 बार इस Complete Process को Implement करने से आप काफी हद तक अपने Results को Predictable बना सकते हैं। 

Complete Audit Process को अंजाम देने से आप अपनी Site को Latest Development के हिसाब से Up To Date रख पाते हैं जो आपको एक Competitive Advantage भी देता है। 

लेकिन, क्योंकि Search Engine Algorithms में आये दिन कुछ न कुछ Changes होते रहते हैं, आप महीने या दो महीने में Website के Minor Audits भी कर सकते हैं।  

Minor Audit में आप सभी Factors को Analyze करने की बजाय केवल कुछ ही Factors को Analyze करते हैं और देखते हैं कि उन पर Algorithms Change का कितना Impact पड़ रहा है और आपके Newly Posted Content की Crawling & Indexing में कोई दिक्कत तो नहीं आ रही। 

आइये अब बात करते हैं कि SEO Audit कैसे करते हैं और इस Complete Audit Process में कौन-कौन से Steps शामिल होते हैं। 

SEO Audit करने के लिए आपको कुछ Tools की ज़रूरत पड़ती है जिन्हें SEO Audit Tools कहा जाता है। 

इन Tools की मदद से आप अपने Web Pages की Errors Find कर सकते हैं और उन्हें Resolve कर सकते हैं।  

तो आइये, SEO Audit कैसे करते हैं को जानने से पहले कुछ Important SEO Audit Tools को समझ लेते हैं।  

Also Read : Why Website Is Important in Year 2022

SEO Audit Tools

SEO Audit Tools

एक Website के Errors & उसमे Improvements को Manually जाँचना काफी मुश्किल भरा काम होता है। 

ऐसे में कुछ SEO Audit Tools होते हैं जो Specifically Site Audit के लिए ही बनाए गए हैं। 

Google Search Console : यह Free Tool है जो आपको आपकी Website के Crawling & Indexing Issues को Find & Resolve करने में मदद करता है। 

इस Tool की मदद से आप Security Issues, Crawlable Issues, Sitemap Related Issues, Click Through Rate, Any Technical Error, इत्यादि Check & Analyze करने में मदद करता है।  

Google Analytics : इस टूल की मदद से आप अपनी Website Performance को Search Engine में Analyze कर सकते हैं। 

इसके माध्यम से आप अपना Website Traffic, Clicks, Impressions, इत्यादि को देख सकते हैं और इस डाटा के आधार पर अपनी SEO Strategies को Tweak कर सकते हैं।   

Page Speed Tools : Page Speed Tools की मदद से आप अपनी Website की Page Loading Speed को Analyze कर सकते हैं और उन Factors को Find Out कर सकते हैं जो Loading Speed को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं।  

इसके लिए आप Google Page Speed Insights and GTMetrix जैसे Free Tools का Use कर सकते हैं।  

Schema Markup Testing Tool : अगर आप अपनी Website का Schema Create कर रहे हैं तो  आप चाहेंगे कि Backend पर Code ठीक तरह से Create हो रखा हो और कुछ Errors न आएं। 

इस तरह एक सही Schema की मदद से आप अपने Users तक अपनी Business Detail को पहुंचा पाएंगे। 

इस Free Tool की मदद से आप अपने Schema को Test & Validate कर सकते हैं।   

SEO Tools : SEO Tools आपकी Site की Health को Analyze करने की सुविधा देते हैं और बताते हैं कि वो कौन-से Factors हैं जो आपकी Site Performance को Down कर रहे हैं। 

इन Tools में शामिल हैं Ahrefs, Moz, Semrush, Screaming Frog, BuzzSumo, Copyscape, etc. 

यह Tools आपको On-Page SEO Factors, Off-Page SEO Factors, Competitor Analysis, Broken Links, Blocked Robots.txt Files, Keywords, Content Structure, Low Quality & Plagiarized Content इत्यादि को Analyze करने की सुविधा प्रदान करते हैं। 

Check My Links : यह Tool एक Chrome Extension के रूप में उपलब्ध है जो आपकी Website के लगभग सभी Links की Profile को Analyze करने की सुविधा प्रदान करता है। 

इसके माध्यम से आप Broken Links, Structure of Internal & External Links, Backlinks Profile, etc. को Find & Analyze कर सकते हैं।

SEO Audit Meaning and SEO Audit Tools के बारे में Detail से समझने के बाद आइये अब बात करते हैं SEO Audit Checklist के बारे में और देखते हैं कि वो कौन-कौन से Steps हैं जो Website SEO Audit के लिए ज़रूरी हैं।

Website का SEO Audit कैसे करें?

Website का SEO Audit कैसे करें

अगर आप अपने Website Errors को Fix करना चाहते हैं और चाहते हैं कि आपकी यह डिजिटल दुकान लोगों की नज़रों में आ सके, तो आपको Website SEO Perform करने की ज़रूरत पड़ेगी।  

इस Process को Perform करते वक्त आपको इन 10 Steps को Follow करना होगा जिससे आप ज़्यादा से ज़्यादा Errors को Fix कर पाएंगे और Dead Pages को Live करके SERP में Rank कर पाएंगे। 

आइये इस 10 Step SEO Audit Checklist को समझते हैं। 

SEO Tool की मदद से अपनी Website को Crawl करें

SEO Tool की मदद से अपनी Website को Crawl करें

Website के Errors Find करने और उन्हें ठीक करने के लिए सबसे पहले आपको एक SEO Tool की मदद से अपने Website को Crawl करना होगा। 

इसके लिए आप Ahrefs, Ubersuggest, Semrush जैसे किसी भी टूल का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

आपको अपने URL को Copy करना है और Selected Tool में जाकर Site Audit पर क्लिक करके Website को Crawl होने देना है।  

कुछ Seconds बाद आपको Results मिलेंगे जिसमे विभिन्न Factors देखने को मिलेंगे जो आपकी Site की Health Condition के बारे में बताते हैं।

अपनी Site के Duplicate Version की Browsability को Google पर Check करें

Duplicate Version किसी भी Website के अलग-अलग Web Addresses को दर्शाता है जिससे यह पता चलता है कि कौन-सा Address Index हो रहा है। 

उदाहरण के लिए, किसी भी website के अलग-अलग Web Addresses हो सकते हैं, जैसे कि,

  1. http://yourdomain.com
  2. http://www.yourdomain.com
  3. https://yourdomain.com
  4. https://www.yourdomain.com

एक User को यहां ज़्यादा फर्क नज़र नहीं आता लेकिन Search Engine की नज़र में ये सभी URLs अलग-अलग होते हैं। 

आपकी Site का सिर्फ एक ही Web Address Index होना चाहिए, अन्य Addresses पर आपको 301 Redirect लगाना होता है ताकि यदि User आपके किसी अन्य Address पर क्लिक करे तो वह सीधे आपके Main Address पर Land हो जाए।  

अपनी Site के Indexed URLs को Check करें

Indexed URLs से मतलब है ऐसे URLs जो Already Search Engine द्वारा Crawl & Index किये जा चुके हैं और SERP में किसी Page पर Rank कर रहे हैं। 

ऐसे Pages का पता लगाने के लिए आप “site:yourdomain” Directory का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

आपको करना ये है कि Google पर जाइए और वहां सर्च कीजिए site:digitalazadi.com 

आपके सामने जो भी Results Show होंगे उसमे ऊपर की तरफ Indexed URLs की संख्या लिखी होती है। 

इसे Cross Check करने के लिए आप अपने Google Search Console में जा सकते हैं और वहां Mentioned Indexed URLs की संख्या से Match कर सकते हैं। 

इससे आपको पता लग जाएगा कि कितने URL Index नहीं हैं, जिसका सीधा मतलब होगा कि वह Page Crawl नहीं हुआ है और Search Result में कहीं पर भी Exist नहीं करता। 

इसके साथ ही आप Index & Non Index Pages को जानने के लिए Screaming rog टूल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं जो Google की तरह ही आपकी Site को Crawl करता है। 

इससे आपको पता लग जाता है कि क्या यह Page अपने Duplicate/Thin Content की वजह से Block हुआ है या आपने गलती से इसे robots.txt File से Block कर रखा है।   

इस तरह आप अपनी robots.txt File को भी Analyze कर लेते हैं, जो एक ऐसी File होती है जो Search Engine Crawlers को बताती है कि किस Page को Read करना है और किसे नहीं। 

इस तरह आप इन गलतियों को Resolve कर सकते हैं और Page को Indexing के लिए Allow कर सकते हैं। 

Site पर Google की तरफ से आए Manual Actions को देख लें

कई बार जब कोई Website Google Webmaster की Quality Guidelines को Follow नहीं करती तो उन पर Google की तरफ से कुछ Penalties or Manual Actions आ जाते हैं। 

ये Penalties, Website के किसी Specific Page या Entire Website पर होती है, जो कि एक Website को Derank करने के लिए ज़िम्मेदार होती हैं। 

जब तक Google इन Actions को नहीं हटाता तब तक आपका वो Specific Web Page SERP में ऊपर Rank नहीं कर पाता।  

इसलिए आपको Auditing के समय इन Manual Actions को Check करते रहना होगा और यदि ऐसे कुछ Actions आते भी हैं तो आप इस Guide की Help से उन्हें काफी हद तक Resolve कर सकते हैं। 

On-Page SEO Factors को Analyze करें

On-Page SEO Factors को Analyze करें

SEO Audit Process में On-Page SEO Factors को Analyze करना बेहद ज़रूरी है। 

On-Page SEO Factors में Heading, Subheadings, Title Tag, Meta Description, Alt Tags, Keyword Placement इत्यादि को Analyze करना और इन्हें Correct करना शामिल होता है। 

On-Page SEO Factors को Detail से समझने के लिए हमारे इस Blog को ज़रूर पढ़ें। 

इन सभी Factors को SEO Tool की Help से Analyze करके आप एक Report Generate कर सकते हैं जहां आपको पता लग जाता है कि किन Factors को Optimize & Correct करना है और कौन-से Factors पहले से ही Optimized हैं। 

Internal & External Links को Manage करें और अपने Broken Links को Fix करें

Internal & External Links को Manage करें और अपने Broken Links को Fix करें

Internal & External Linking को एक बेहतरीन SEO Ranking Factor माना जाता है। 

यह Strategy आपको अपने एक Content को अन्य Relevant Content के साथ लिंक करने में मदद करती है। 

आप अपनी Website के Content को भी Link कर सकते हैं (Internal) और साथ ही अन्य किसी High Domain Authority Website के किसी Relevant Web Page को भी Link कर सकते हैं। (External) 

यहां आपको यही देखना होता है कि क्या Proper Linking की गई है और Relevant Information को ही लिंक किया गया है, जिससे Reader को कुछ Additional Information मिल सके जिससे उसे कुछ फायदा पहुंचे।  

लेकिन, कई बार हमें यह पता नहीं होता कि जिस भी Webpage को हमने Link किया हुआ होता है उनमे से कुछ Pages अब Exist नहीं कर रहे होते। 

ऐसे में Broken Links बन जाते हैं जो Users को कहीं भी नहीं ले जाते और User Experience पर Negative Impact डालते हैं। 

ऐसे में Broken Links का Audit करना ज़रूरी होता है जिसे आप Google Webmaster जैसे Free Tool and Ahrefs, Semrush, Screaming Frog जैसे Paid Tools की मदद से Analyze & Fix कर सकते हैं।   

Also Read : Off-Page SEO Guide To Rank Your Website on Search Engine

Duplicate & Thin Content Issues को Find करें और तुरंत Fix करें

Duplicate & Thin Content Issues को Find करें और तुरंत Fix करें

Duplicate Content का मतलब होता है एक ऐसा Content जिसे एक ही Website के अलग-अलग Pages पर Repeatedly Post किया गया होता है या वो एक दूसरे से काफी हद तक Similar होता है। 

Duplicate Content होने से Search Engine को Right Content समझने में परेशानी होती है जिससे Ranking पर Effect पड़ता है। 

इसी प्रकार Thin Content कुछ इस प्रकार का Content होता है जिसे Original Context & Relevancy को ध्यान में रखे बिना Create किया गया होता है। 

Duplicate & Thin Content को एक Black Hat SEO Tactic के रूप में भी देखा जाता है जहां Website Owners इनकी मदद से अपनी Ranking को Manipulate करने की कोशिश करते हैं। 

लेकिन, आपको हर हाल में इस तरह की गतिविधियों से दूर रहना है और Ahrefs & Semrush जैसे SEO Tools की मदद से इन्हें Find & Remove करते रहना है।  

Related Post : Learn Content Creation In Hindi

Mobile Friendliness & Web Page Loading Speed को Analyze करें

Mobile Users की संख्या बढ़ने से आजकल Websites को Mobile Friendly बनाना बहुत ज़रूरी हो गया है। 

लेकिन, कई बार ऐसा देखा गया है कि लोग अपनी Website को Mobile Users के लिए Test ही नहीं करते और Ultimately अपने कई सारे Customers से हाथ धो बैठते हैं। 

Mobile Friendliness Test करने के लिए आप Google के Mobile Friendly Test Tool का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

इसके साथ ही Website Page Loading Speed पर ध्यान देना भी बहुत ज़रूरी है अन्यथा इससे Website का Bounce Rate बढ़ सकता है जो Google को एक Negative Signal देता है और आपकी Website Rank नहीं होती।  

Mobile Friendliness & Loading Speed को Improve करने के लिए आपको अपने Navigation, Font Size, Content Layout, Heavy Media Files इत्यादि को Optimize करना पड़ता है। 

**अगर आप Detail में जानना चाहते हैं कि Website को Mobile के लिए कैसे Optimize करते हैं तो हमारी यह Detailed Mobile SEO Guide पढ़ना न भूलें।  

Backlink Audit Perform करें

Backlink Audit Perform करें

Useful & Relevant Backlinks आपकी Website के SEO को Next Level पर ले जाते हैं। ऐसे में आप इसे अपनी SEO Audit Checklist में शामिल करना न भूलें।  

Backlinko द्वारा 11.8 Million Google Search Results पर की गई एक Study के मुताबिक Backlinks आज भी अन्य Ranking Factors से ज़्यादा महत्व रखते हैं। 

एक High Domain Authority की Website से जब आपको कोई Backlink मिलता है तो उसकी Value बहुत अधिक होती है जिससे आपकी भी Site Authority बढ़ती है।  

Backlink Audit Perform करने के लिए आप Ahrefs & Ubersuggest जैसे Tools का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

इनकी मदद से अपनी Current Backlink Profile को Analyze कर सकते हैं और देख सकते हैं कि कैसे और अधिक High Value Links लेकर आया जाए। 

इसके साथ ही आप अपने Competitors के Backlinks को Find कर सकते हैं और उन्हें Outperform करने की दिशा में काम कर सकते हैं। 

Website Content को Audit करें

अंत में अपने Content को Audit करना भी ज़रूरी है। आप अन्य SEO Factors & Errors को तो Optimize कर लेंगे लेकिन, Content Quality & Relevancy का पता करने के लिए आपको Content Audit Perform करना पड़ेगा। 

कई बार कुछ ऐसे Low Quality Pages होते हैं जिन पर बहुत ही कम Traffic आ रहा होता है। ऐसे में आप उन Pages के Content को Update & Search Engine के हिसाब से Optimize करके दोबारा Indexing के लिए भेज सकते हैं। 

हालाँकि, यदि वह Page बिलकुल ही Dead हो गया है और आपको लगता है कि इसमें बहुत अधिक Optimization की ज़रूरत है, आप उस Page को Delete भी कर सकते हैं। 

लेकिन Delete करते वक्त 301 Redirect लगाकर उस Page का Link Juice अपने किसी Relevant Page पर Direct करना न भूलें। 

Conclusion

किसी भी Business के लिए उसकी Website, Traffic Generation & Brand Awareness से लेकर Lead Generation & Lead Conversion के लिए उत्तरदायी होती है। 

लेकिन, कई बार Website में कुछ ऐसे Errors आ जाते हैं जो एक Website Owner को पता नहीं होती, लेकिन उन Errors की वजह से कई सारी Information लोगों तक नहीं पहुँच पाती। 

ऐसे में Website SEO Audit Process को Implement करने की ज़रूरत पड़ती है जिसके बारे में हमने आज इस Blog में पढ़ा। 

इस Blog के माध्यम से हमने SEO Audit क्या होता है, SEO Audit Benefits क्या हैं, SEO Audit कैसे करते हैं, Website SEO Audit Checklist जैसे सवालों का विस्तार से जवाब दिया है।  

यदि आपको लगता है कि आपको इन सभी Steps को Practical सीखने की ज़रूरत है और उसके लिए आप एक Mentor या Teacher की तलाश कर रहे हैं तो आपकी यह तलाश यहीं ख़त्म होती है। 

क्योंकि, मैं संदीप भंसाली, Digital Mentor, Search Engine Optimization जैसी कई Digital Skills सिखाता हूँ और Practically Guide भी करता हूँ। 

इन Skills को मैं अभी तक 3812 से भी ज़्यादा लोगों को सीखा चुका हूँ, जिसमे Students, Homemakers (गृहणी), Business Owners, Shopkeepers, Employed Individuals, Service Providers इत्यादि शामिल हैं। 

अगर आप भी इनमे से किसी Category में शामिल हैं और अपनी Life में कमाई के नए रास्ते खोलना चाहते हैं तो आज ही जुड़िये मेरी Digital Azadi Community के साथ, जहां आपको Step By Step New & Trending Skills सिखाए जाएंगे और Guide किया जाएगा।

Share this post with your friends

One Response

Leave a Reply

Your email address will not be published.