संदीप भंसाली - डिजिटल आज़ादी

Digital Learning – 2024 में Success की ओर पहला कदम

Digital Learning kya hai

Digital Learning!

जी हां, आपने सही पढ़ा।

आज, 2024 में दुनिया के किसी भी कोने में बैठकर कहीं से भी Education ले सकते हैं। 

सोचने वाली बात है, मगर हैरानी वाली नहीं।

बचपन में आप सब ने एक कहावत सुनी होगी “प्यासे को कुए के पास जाना पड़ता है, कुआ प्यासे के पास नहीं आता। बचपन में माँ ने कई बार यह बात कही थी और उसके जवाब में हम अक्सर कहते थे कि ऐसा एक दिन ज़रूर आएगा जब कुआ भी प्यासे के पास आएगा और Digital Learning ने इस कहावत को सच कर दिखाया। 

Digital Education ने आज घर बैठे हर चीज़ को सीखना संभव कर दिया हैं। 

Udemy, जो India का सबसे बड़ा Digital Learning Destination माना जाता है उसमे 40 Million Students Enrolled हैं और लगभग 5000 Tutors. 

YouTube पर तो हर रोज़ लाखों लोग Online कुछ नया सीख रहे  हैं।

अगर आकड़ो की बात करें तो  2021 में E-Learning का Market Size 315 Billion डॉलर को भी पार कर गया था।

अनुमान तो यह भी है कि यह Industry 2022 से 2028 तक 20% तक बढ़ेगी। 

इतनी बड़ी Industry है तो सोचा आज इसी पर बात करते हैं। 

इस Article में Digital Education Kya Hai, Digital Education Meaning In Hindi, इसके फ़ायदे क्या क्या हैं और क्या कोई नुकसान हैं? साथ ही Digital Learning से जुड़ी और भी कई चीज़ो पर बात करेंगे।  

अगर आप भी Digital Learning In Hindi के बारे में जानना चाहते हैं तो इस Blog को अंत तक ज़रूर पढ़ें। 

Article के अंत में आपके लिए एक Free Gift भी है।

अगर इस Free Gift का लाभ उठाना चाहते हैं तो अंत तक बने रहें। 

Table of Contents

Digital Learning Kya Hai?

Digital Learning Kya Hai

“Technology Will Never Replace Great Teachers,
But Technology In The Hands Of Great Teachers Is Transformational.”

George Couros का यह Quote Digital Education की ज़रूरत को बखूबी दर्शाता है। 

Online Learning की शुरुआत 1982 में हुई थी जब  Western Behavioral Sciences Institute, La Jolla, California ने Business Executives के लिए School Of Management And Strategic Studies की शुरुआत की थी जहां पहली बार Computer की मदद से एक Distance Education Program Conduct करवाया गया था।  

वहीं अगर भारत की बात की जाए तो ऐसा माना जाता है कि भारत में Digital Learning या E- Learning की शुरुआत 1994 में हुई। 

अब अपने मूल प्रश्न पर लौटते हैं कि Digital Learning Kya Hai या Digital Education Kya Hai ?

Digital Learning का मतलब होता है Digital Tools और Techniques के माध्यम से कुछ नया सीखना या Existing Knowledge को Enhance करना। 

इसका सबसे बड़ा Advantage यह है कि आप कभी भी कुछ भी नया जान सकते हैं या सीख सकते हैं। 

इसमें आम तौर पर समय की पाबंदी नहीं होती जब तक की आप Live Classes या Workshop के माध्यम से कुछ सीखना चाहते हो। 

Digital Education या Digital Learning एक Broad Term है, अपने कम्प्यूटर्स या मोबाइल पर यू ही कुछ देखकर सीख लेने को सिर्फ़ Digital Education नहीं कहते! 

Digital Learning के कई अलग अलग Methods या Types होते हैं। आइए एक नज़र उनपर भी डालते हैं ताकि Digital World को बेहतर समझ सकें।

अगर आप Digital Marketing को गहराई से समझना चाहते हैं तो मेरा Blog ज़रूर पढ़ें। 

Types Of Digital Learning

1. Virtual Classroom Learning

Types Of Digital Learning - Virtual Classroom Learning

किसी भी Traditional Classroom Learning की तरह ही Digital Learning की दुनिया में भी Classroom का Option होता है, बस फर्क इतना होता है कि इस Digital Classroom Learning में Teacher और Student यानि Learner और Trainer का एक ही जगह होना ज़रूरी नहीं होता।  

Learner और Trainer किसी Software या Application के माध्यम से कहीं से भी एक दूसरे से Connect कर सकते हैं।

यहाँ Traditional Classroom की तरह ही One On One Interaction होता है, Learners Real Time में अपने Doubts Clear कर सकते हैं और साथ ही, Real Time Internet Availability से अपने Learning Experience को और भी बेहतर बना सकते हैं और साथ ही अपना काफी वक़्त भी बचा सकते हैं।

एक Survey के मुताबिक Conventional Learning के Comparison में E-Learning 40% – 60% तक कम समय लेती है।

बड़े बड़े Colleges के द्वारा चलाए जा रहे Distance Learning Programs; Virtual Classroom Learning का एक बेहतरीन उदहारण है।

2. Game Based Learning

Types Of Digital Learning - Game Based Learning

Digital Game Based Learning Method का Main Motive Applicants में Problem Solving या Analytical Skills को Develop करना होता है। 

इस दौरान Learner को अपने Tablet, Mobile Phones या किसी भी Digital Device से कुछ Tasks पूरे करने होते हैं या फिर कुछ सवालों के जवाब देने होते हैं। 

आप सब ने एक Cartoon Show, Dora The Explorer के बारे में सुना होगा। 

इस Show में Dora को जब भी कुछ Count करना होता है या फिर कुछ ढूंढना होता है, वो पहले Viewers से सवाल करती है कि क्या Viewers को वो चीज़ दिख रही है?

या क्या आप, As A Viewer, Counting में मदद करेंगे?, Etc.

इस Cartoon को देखने वाले बच्चे, जाने अनजाने, Digital Learning में Involve हो जाते हैं। 

वो Television Screen पर चीज़े ढूढ़ने लगते है, Counting करते हैं और कई नए शब्द भी सीखते हैं। 

अगर आप सोच रहे हैं कि Game Based Digital Learning सिर्फ़ बच्चों के लिए Practice किया जाता है तो यहाँ आप गलत हैं। 

Game Based Learning Digital Education का एक Important Part है। इसका इस्तेमाल बड़े बड़े Corporate Leaders को Train करने के लिए भी किया जाता है। 

2022 की एक Report के हिसाब से Global Game Based Learning Market ने 2021 ने $16.2 Billion Generate किया है और 2031 तक ये Market Expectedly $79. 9 Billion तक पहुंच जाएगा।

Research.com में Published एक Article में बताया गया है कि 74% Teachers अपने Lessons को Enhance करने के लिए Digital Game Based Learning का इस्तेमाल करते हैं। 

3. E Textbook Learning

Types Of Digital Learning - E Textbook Learning

E Textbook Learning एक Advanced Textbook Learning Option है। 

यहाँ पर आप अपने Digital Device के ज़रिए कभी भी किसी भी Textbook को Access कर सकते हैं, उसमें Important Points Mark कर सकते हैं, Notes बना सकते हैं और इसकी सबसे Convenient बात यह है कि इन Books को Physically Store करने की भी कोई आवश्यकता नहीं है। 

Market में Amazon Kindle जैसे कई Platforms हैं जो Digital Learning के लिए Readers को कई सारे Free And Paid Books And Textbooks Provide करवाते हैं। 

इसके अलावा Alison भी Text Book Learning का एक अच्छा Example है। 

4. Adaptive Learning

Types Of Digital Learning - Adaptive Learning

Adaptive Learning Method में, एक Individual को उसके चॉइस के Basis पर Learning Modules Offer किए जाते हैं।

इसमें Artificial Intelligence का Use किया जाता है एक Individual के Interests, Weakness, Strengths Etc. को जानने के लिए।

Mock Tests होते हैं और उसके Answer किए गए Questions के Basis पर Judge किया जाता है। 

फिर Student के Understanding Level के हिसाब से उसे Course और Content Suggest किया जाता हैं। 

आप उदाहरण के तौर पर BEC Certificate Program को देख सकते हैं।  

आपको सबसे पहले एक Exam देना होता है जो आप की English Proficiency Measure करता है फिर आपके दिए जवाब पर यह Depend करता है कि आप किस Level में Enroll करने के लिए Eligible हैं। 

5. Mooc Learning

Types Of Digital Learning - MOOC Learning

Mooc Free Online Courses होते हैं जिन्हें Affordable Learning के Purpose से Design किया जाता है। 

Udemy, Swayam, Alison जैसे कई Platforms Free Courses Provide करते हैं जिनमें हर दिन लाखों लोग Enroll करते हैं। 

Digital Education के साथ Affordable Education भी बहुत ज़रूरी है और Mooc Learning इसी Objective को Fulfill करता है। 

Mooc Courses में भी Different Categories होती हैं, जैसे कुछ Courses में Learning Free होगी लेकिन Certification का Cost होगा जैसे Harvard Courses.

कुछ Courses में Certification और Learning दोनों Free होंगे जैसे Alison Courses.

वहीं कुछ Courses में एक Fixed Percentage Score करने पर Fees Refund हो जाती है, जैसे Swayam Courses. 

वैसे तो Digital Education कई पतरीकों से लिया जा सकता है, लेकिन ये 5 Types Of Digital Learning सबसे Common और Popular हैं।

इस Point पर, हमनें Digital Education Meaning को समझा, Digital Learning के 5 सबसे Common Types जाने और अब समय है ये जानने का कि आज हर कोई Digital Education या फिर Digital Learning को क्यों इतना महत्व दे रहा है। 

क्या इसके कुछ ऐसे Benefits हैं, क्या ये Offline Training को हमेशा के लिए हमारे लिए बदल देगा या फिर अभी भी ऑफलाइन Training में Scope है? 

इन सवालों के जवाब अगले Section में हैं जहां हम बात कर रहे हैं Pros and Cons of Digital Learning की या यूं कहें, Advantages and Disadvantages Of Digital Education.

Advantages & Disadvantages Of Digital Learning - Digital Learning Pros

1. Skill Development

Advantages & Disadvantages Of Digital Learning - Digital Learning Pros - Skills Development

Skill Development Digital Learning का Core Idea है। 

Digital Education की मदद से Communication Skills, Art & Craft, Digital Marketing, Graphic Designing जैसी कई Skills को सीखा जा सकता है और साथ ही इनमें करियर भी बनाया जा सकता है। 

उदाहरण के लिए, Non-Business Graduates अक्सर Management के Concept को समझने के लिए और अपनी Managerial Skills को Develop करने के लिए Distance Courses को Opt करते हैं जिन्हें वो अपनी Job के साथ भी आसानी से Continue कर सकते हैं।

2. Anytime & Anywhere Learning

यह Digital Education का एक सबसे बड़ा Advantage है Especially उन लोगों के लिए तो Time- Bound Learning से परेशान हैं। 

24*7 Access To Education एक Important Reason है Digital Learning की Success के पीछे। 

Online Learning की मदद से आप कभी भी, कहीं भी कुछ भी सीख सकते है ना कोई Time का Barrier है और ना ही Physical Class में जाने की कोई Requirement. 

घर से डिजिटल मार्केटिंग कैसे करे जानने के लिए यह ब्लॉग पढ़ें। 

3. Better Learning Option

Advantages & Disadvantages Of Digital Learning - Digital Learning Pros - Better Learning Option

Learners के अलावा काफी Institutes भी यह मानने लगे हैं कि Digital Learning एक बेहतर और Advanced Learning Option है। 

कम से कम Statistics यही बताते हैं।

NDTV के Article में Published Statistic में यह बताया गया है कि

पिछले सालों की भेंट, इस साल Online Courses Provide करने वाले Institutes में 38% बढ़ोतरी हुई है। 

Online Learning के ज़रिए आप Multiple Tutors से सीख सकते हैं, Traditional Classroom की तरह एक Teacher या Tutor पर Dependency नहीं होती और Recorded Videos की मदद से आप कभी भी Content को Access कर सकते हैं।

Elearningindustry.com द्वारा एक Study में पाया गया है कि एक Learner Read किया हुआ सिर्फ़ 10% याद रहता है वहीं Visual Content यानि देखी हुई चीज़े उसे 65% तक याद रह जाती हैं और Audio Content 95% तक याद रहता है। 

Digital Learning आपको इन सभी Forms में Content Provide करती है ताकि आप सीखा हुआ Maximum Content याद रख सकें।

4. Affordable & Available For All

Mooc Courses और YouTube जैसे Platforms की वजह से, आज Digital Learning Almost No Cost पर Available है जो इसे Affordable For All बनाता है।

अगर Paid Courses की भी बात की जाए तो इनकी Fees Physically Conduct किए जाने वाले Courses से काफी कम होती है जो इसे Comparatively  Affordable बनाते हैं। 

हर चीज़ के दो पहलु होते हैं। Digital Learning के भी कुछ Negatives हैं, आइये उनपर एक नज़र मारते हैं। 

Advantages & Disadvantages Of Digital Learning - Digital Learning Cons

Advantages & Disadvantages Of Digital Learning - Digital Learning Cons - Lack Of Consistency

1. Lack Of Consistency

Digital Learning ने कभी भी और कही भी पढ़ने की सुविधा तो दे दी पर Consistent Learning के लिए जो Motivation चाहिए उसका जुगाड़ अभी नहीं हो पाया है खासकर जब यह Mooc Courses हो। 

ऐसा हम नहीं बल्कि आंकड़ें तो यही बता रहे हैं। 

Columbia University के Teachers के द्वारा Edx और Coursera पर की गई एक Study में पाया गया है कि इन Platforms पर Offer हो रहे Mooc Courses का Completion Rate 15% से भी कम है। 

2. Increased Screen Timing

Times Of India में Publish एक Report में बताया गया है कि App Annie जो कि Mobile And Data Analyst Company है, उसके द्वारा की गई एक Study में पाया गया है कि On An  Average एक User Mobile पर 4.7 Hours बिताता है।

ऐसे में Digital Learning Screen Time को काफी हद तक और बढ़ा सकता है जो Learners या Students की Eyesight पर Extra Pressure डालेगा जो चश्में का इस्तेमाल और आंखों में कम नज़र का एक कारण हो सकता हैं।  

Advantages & Disadvantages Of Digital Learning - Digital Learning Cons - Increased Screen Time

3. Problem Of Too Many Resources And Too Much Information

Thanks To Google And Other Informative Websites And Apps हमारे पास हर तरह की Information Available है ऐसे में कौनसी Information या Statement Authentic और Relevant है यह जानना बहुत ही मुश्किल है।

एक ही Topic से Related कई सारे Courses Available हैं पर उनमें से कुछ ही ऐसे Courses हैं जो आपको Employable बनाते हैं, बाकि सब आपको Certificate दे सकते हैं पर Industry Related Knowledge नहीं। 

Digital Education और Learning ने Skill Development Process को जितना Ease किया है उतना ही Critical Employable Skills को सीखना हो गया है।

इसके अलावा काफ़ी Informative Websites अपने Articles को Frequently Update नहीं करती हैं जिस वजह से Updated और Relevant Content आसानी से Available नहीं होता। 

4. Everything Cannot Be Taught Digitally

भले ही पूरी दुनिया Online Learning की तरफ भाग रही हो पर कुछ Technical Skills और Professions के लिए Offline Learning ज़रूरी है। 

आप एक Doctor को Online Surgery करना नहीं सिखा सकते। 

इसी तरह अगर अगर Lawyers के Profession की बात की जाए तो Bar Council Distance Degree को Acknowledge नहीं करता। 

इसलिए ऐसे Professions जिसमे Technical और Scientific Skills के साथ Physical Practicing की Requirement है वो अब भी काफी हद तक Digital Learning के Scope से बाहर हैं।  

Why Is Digital Learning Important In This Era?

Why Is Digital Learning Important In This Era

Digital Education या Digital Learning 21st Century का सत्य है। यह Skill Development और Concept Understanding के लिए काफी ज़रूरी है। 

यह आपको घर बैठे उन Mentors से Connect करती है जिन्हें Approach करना शायद आपके लिए Possible ना हों। 

Digital Learning के Through आप घर बैठे Industry Experts से Connect करके उनके Experiences और Knowledge से खुद को Enrich कर सकते हैं और अपने Career में Excel कर सकते हैं। 

पीछे कुछ सालों में Online Learning में काफी इज़ाफ़ा भी हुआ है। 

National Center For Education Statistics ने एक Article में यह बताया है कि 2020 में जब Coronavirus के कारण Traditional Education Institutes Operate नहीं कर रहे थे तब U.S. के Total Undergraduates में से 75% यानि 11.8 Million Students ने कम से कम एक Digital Course में खुद को Enroll किया था। 

इसी Article में बताया गया कि 2020 में Digital Courses में Involve होने वाले Undergraduates की संख्या 2019 के Comparison में 186% ज़्यादा थी। 

Digital Learning Industry India में भी काफी Grow कर रही है।  

इस वक़्त Digital Learning Industry India के GDP में 3 To 3.5% Contribute करती है। 

India में इस Industry की Expected Growth 2025 तक $10 Billion है।

Pandemic के वक़्त जब बाकि सारे Businesses बंद पड़े थे और उनके Returns Negative थे तब Digital Education Industry ना सिर्फ़ Survive कर रही थी बल्कि Consistently Grow भी कर रही थी। 

2021 से 2022 के बीच Online Education Program में Students का Enrolment 170% तक बढ़ा है। 

अगर Revenue की बात करें, तो Statista ने 2022 में India में Online Learning Platform का Revenue $3.86 Billion US Dollars तक Project किया था।  

Overall Distance Learning या Digital Learning Is The New Age Requirement And New Normal. 

Conclusion

इन दिनों एक Movie खासा चर्चा में थी, Brahmastra, जिसमें बहुत शक्तियां हैं। 

Digital Learning भी 21st Century के Brahmastra की तरह है। 

यह Brahmastra अपनी Power से आपके Career को एक नया और Succesful Direction Provide कर सकता है और आपकी Earnings को भी कई गुना बढ़ा सकता है। 

उम्मीद है अब तक आप Digital Education Meaning In Hindi, Digital Learning के फायदे और नुकसान, Digital Learning क्यों ज़रूरी है, Digital Learning या Digital Education के जुड़े कुछ महत्वपूर्ण Statistics देखे। 

उम्मीद है आपको डिजिटल लर्निंग के बारे में काफ़ी कुछ समझ आया होगा।

मेरी मानें, तो डिजिटल लर्निंग या Digital Education का Experience आज हर व्यक्ति को लेना चाहिए, क्योंकि Future Digital है। 

डिजिटल मार्केटिंग एक ऐसा स्किल है, जो आज हर किसीको सीखना ज़रूरी है।

Digital Learning के ज़रिए आप आप घर बैठे, डिजिटल मार्केटिंग सीख सकते हैं और इसे Practically Implement करके अपने लिए पैसे कमाने के एक से ज़्यादा ज़रिए बना सकते हैं।

अगर आप डिजिटल मार्केटिंग सीखने इच्छुक हैं तो मैं आपको मेरे Digital Marketing Masterclass में आमंत्रित करता हूं जहां मैं डिजिटल मार्केटिंग सिखाता हूं हिंदी में और समझाता हूं कि कैसे आप इसे इस्तेमाल कर सकते हैं अपनी रोज़ मर्रा की ज़िंदगी को बेहतर बनाने के लिए। 

मिलता हूं आपसे Masterclass में। 

शुरू में मैंने आपसे Free Gift की बात की थी। 

ये Free Gift मेरा Rs. 4999 वाला Course हैं, SuNeeti

आप निचे दिए गए Button से इसे ले कर सकते हैं। 

Share this post with your friends

3 Responses

    1. Thank You So Much,
      Keep Learning, Keep Implementing!
      Subscribe To My Blog In Order To Keep Yourself Updated About Digital Marketing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

निशुल्क हिंदी Webinar के लिए रेजिस्टर कीजिए

Register For Free Webinar

10 of 10 Number(s) left
जल्दी कीजिये, Limited Seats
We will not spam, rent, or sell your information…