How To Grow Business Online 10x Using The Powerful Diamond Formula

How To Grow Business Online 10x Using The Powerful Diamond Formula

क्या आप एक Business Owner हैं और अपना Manufacturing, Wholesale, Retail इत्यादि का Business Run करते हैं?

यदि हाँ, तो आपको हर जगह यही सुनने को मिल रहा होगा कि :

  • क्यों अपने Traditional या Offline Business को Digital ले जाना ज़रूरी है। 
  • कैसे आपका Digital Business आपकी Overall Growth में मदद करता है। 
  • अपना Online Business Grow करने के लिए किन Digital Marketing Strategies को Implement करना होता है। 

लेकिन, आप में से कई लोगों के हमारे पास सवाल आते रहते हैं जिनमे वो अपनी Confusion के बारे में हमें बताते हैं। 

वो कहते हैं कि सर, जब भी हम Online Business Growth Ways के बारे में जानने का प्रयास करते हैं तो देखते हैं कि कोई कह रहा है कि अपनी एक Website Create कर लो, कोई कह रहा है कि अपना एक YouTube Channel बना लो, और तो और कोई कहता है कि अपनी Social Media पर Profile बना लो। 

लेकिन हमें नहीं समझ आ रहा है कि हम शुरुआत कहाँ से करें। हम अब दुविधा में फंस गए हैं और हमें नहीं समझ आ रहा कि हम अपने बिज़नेस को ऑनलाइन कैसे लेकर जाएं और उसे आगे कैसे बढ़ाएं। (How To Grow Business Online)

तो यदि आप भी Confused हैं और आपको नहीं समझ आ रहा कि अपने बिज़नेस को कैसे बढ़ाया जाए और आप कुछ बिज़नेस बढ़ाने की टिप्स (Tips To Grow Business Online) खोज़ रहे हैं तो आज आपकी यह Confusion दूर होने वाली है। 

आज के इस Blog में हम आपको अपने एक Digital Azadi Diamond Formula के बारे में बताएंगे, जिसे समझ कर आप जान पाएंगे कि How To Grow Business Online. 

तो आइये शुरुआत करते हैं और आपकी Online Business Kaise badhaye वाली Confusion को दूर करते हैं। 

इसे भी पढ़िए : अपने Traditional Business को Digital Business में कैसे Transform करें – 6 Important Steps 

Table of Contents

अपने बिज़नेस को Online कैसे बढ़ाए - Diamond Formula

जैसा कि हम सभी को पता है कि किसी भी व्यक्ति का Ultimate Goal, चाहे वो एक Wholesale Business करता हो, Distributor हो, Retail Business करता हो, Manufacturing Business करता हो या अपनी Service Provide करता हो, Profit Earn करना होता है। 

क्योंकि Profit Earn नहीं करेंगे और उसमे भी कुछ Savings नहीं करेंगे तो Business करने का क्या फायदा। 

अब Profit Earn कैसे किया जाए? 

साधारण शब्दों में इसका जवाब होगा – अपने Products & Services को Sell करके। 

लेकिन, अगर हम कहें कि Profit को कई गुना तक कैसे बढ़ाया जाए, तो आपका जवाब क्या होगा?

इसके लिए हमें ज़्यादा से ज़्यादा Sale करनी पड़ेगी और अपने Customers की संख्या बढ़ानी पड़ेगी।  

लेकिन, अगर हम आपके Offline Business की बात करें तो उसमे आप अपने Customers की संख्या को कैसे बढ़ायेंगे?

इसके लिए आपको अपना Offline Promotion करना होगा जिसके तहत आप Banners, Pamphlets, Posters, Stickers, Visiting Cards इत्यादि को Distribute करेंगे और अलग-अलग जगह पर लगाएंगे। 

इसमें आपका पैसा बहुत खर्च होगा और एक बार Print होने के बाद आप उनमे कुछ Changes भी नहीं कर पाएंगे। 

लेकिन, यदि आप अपने Offline Business को Online Shift कर लेते हैं तो बहुत कम Investment में भी आपका काम चल जाएगा। 

अपने Offline Business को Digital रूप देने से आप,

  1. अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच पाएंगे जिससे उन्हें आपके बिज़नेस के बारे में पता लगेगा। 
  2. अपने Products को Store करने के लिए कोई जगह Rent पर लेने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि यह काम आप अपनी Website से कर पाएंगे। 
  3. आपका Digital Business, Boundary Restricted नहीं होगा। कहने का मतलब है कि आप केवल 500m या 1 Km दूर बैठे व्यक्ति को ही नहीं बल्कि हज़ारों किलोमीटर दूर बैठे व्यक्ति को भी अपना सामान बेच पाएंगे। 
  4. यही नहीं, आपका Digital Business 24 x 7 Open रहेगा जहां लोग किसी भी समय Visit कर सकेंगे और आपके साथ Transact कर सकेंगे।   

 लेकिन, अपने Offline Business को Online ले जाने के लिए और उसकी Growth को मुमकिन बनाने के लिये आपको सबसे पहले ज़रूरत होगी एक ऐसे Platform की जहां आप अपने Products & Services को लिस्ट कर सकें। 

जी हाँ, आपको ज़रूरत पड़ेगी अपनी एक Business Website की। 

तो आइये अपने Diamond Formula के इस First Step को अध्ययन करते हैं और समझते हैं How To Grow Your Business With Website. 

Related Post : Top 10 Digital Marketing Strategies For Small Business Owners

Step 1 : Create Your Digital Dukaan (Website)

Step 1 Create Your Digital Dukaan (Website)

एक Traditional Business में जहां आपके पास अपने Products को रखने का या खुद बैठकर अपनी Services Provide करने का एक Specific Area होता है, Digital Business में आपको इसी तरह के एक Platform की ज़रूरत होती है। 

यह Platform है Website जिसे आप Digital Dukaan, Digital Office या Digital Space भी कह सकते हैं। 

**Website के महत्व को जानने के लिए आपको हमारा यह Blog ज़रूर पढ़ना चाहिए। 

एक Website आपके Products & Services को List करने का एक ऐसा Platform है जिस पर कोई भी व्यक्ति किसी भी जगह से आकर आपके Business के बारे में समझ सकता है।  

जी हाँ, Website होने से आप अपनी Digital Boundaries को खत्म कर देते हैं और इसलिए इसे एक Digital Asset भी कहा जाता है। 

आपके Potential Buyers or Customers अपनी ज़रूरत की चीज़ें ढूंढते-ढूंढते आपकी Website पर आते हैं और यदि उन्हें आपकी Website के माध्यम से उनका Solution मिल जाता है, तो वो आपके साथ Transact भी करते हैं। 

लेकिन, शायद आप सोच रहे होंगे कि “मैंने सुना है कि Website Design करने के लिए Coding की ज़रूरत पड़ती है।”  

“मैं तो अपना एक Small Business रन करता हूँ, तो क्या मुझे अब Coding भी सीखनी पड़ेगी?”

जी नहीं, आजकल Technology में इतनी Advancements आ गई हैं कि आपको Website Design करने के लिए Coding की कोई आवश्यकता नहीं होती। 

तो आइये 5 Steps में देखते हैं कि बिना Coding के आप कैसे अपनी एक Website Design कर सकते हैं। इससे आपको आपके सवाल “बिज़नेस को Online कैसे बढ़ाएं” का ज़वाब भी मिल जाएगा।  

How To Design Your Website Without Coding – 5 Easy Steps

  1. Buy Domain and Hosting : Domain आपकी Digital Dukaan (Website) का एक नाम होता है जिसे सर्च करके लोग आपके बिज़नेस तक पहुँच सकते हैं। यह आपकी एक Unique Identity को दर्शाता है जो आपके Business को अन्य Businesses से अलग करता है। 

For E.g. Amazon.com, Facebook.com, Myntra.com, Digitalazadi.com, etc.  

इसी तरह आपको अपने Domain को Host करने के लिए एक Hosting की ज़रूरत पड़ती है और अपने Domain & Hosting को एक साथ Connect करना होता है।   

Domain & Hosting खरीदने के लिए आप Godaddy, Namecheap, Bluehost, Hostinger जैसे Platforms का Use कर सकते हैं और अपने बिज़नेस को Transform & Grow (Grow Business Online) करने की दिशा में अपने कदम आगे बढ़ा सकते हैं। 

2. Select Content Management System (CMS) : Domain & Hosting को Connect करने के बाद नंबर आता है Suitable Content Management System (CMS) Select करने का।  

CMS की मदद से आप अपनी Website Create, Manage and Edit कर सकते हैं। 

वैसे तो ऑनलाइन मार्केट में आज कई Content Management Systems (WordPress, Joomla, Drupal, Squarespace, etc.) उपलब्ध हैं जिनमे Coding की आवश्यकता नहीं होती। 

लेकिन WordPress.org सबसे बेहतर और Easy To Use CMS है और यही कारण है कि दुनिया की 1.3 Billion Websites में से 455 Million Websites WordPress पर बनी हैं। 

WordPress.org को Install करके आप अपने Website Creation Process को शुरू कर सकते हैं।    

3. Select Theme : WordPress Install करने के बाद आपको इसका Dashboard मिलता है जहां आपको इसकी सभी Settings देखने को मिल जाती है, जिन्हें आपको Complete करना होता है और उसके लिए Coding की ज़रूरत बिलकुल भी नहीं होती। 

अब आपको अपनी Website के लिए एक Suitable Theme का चयन करना होता है जिसमे आप Free & Paid में से कोई भी Theme ले सकते हैं और उसे Install करके Activate कर सकते हैं।  

Select Content Management System (CMS)

4. Create Your Website Pages and Install Plugins : अब आपको अपने Business से Related कुछ Pages Create करने होते हैं ताकि लोग यदि आपकी Website पर आएं तो आपके विभिन्न Pages के माध्यम से आपके बिज़नेस को समझ सकें।

इन Pages में आप अपना Home Page, About Us Page, Contact Us Page और ऐसे अन्य कई Pages बना सकते हैं जिस पर आप अपने Products & Services को लिस्ट कर सकते हैं।  

इसके साथ ही आपको कुछ Plugins Install करने होते हैं जिनकी मदद से आप अपनी Website को बेहतर तरीके से Create, Manage, and Secure कर पाते हैं।  

5. Start Creating & Publishing Content To Attract Your Potential Clients : इन चारों Steps को Complete करने के बाद अब आपको अपनी Target Audience को ध्यान में रखते हुए Content Planning करनी होती है और फिर Content Creation Process को शुरू करना होता है।  

आप अपने Products & Services का Description लिखते हैं जिससे Visitors उन्हें पढ़ कर अपना Decision ले पाते हैं।  

इसके साथ ही आप अपनी Industry या अपने Business से जुडी जानकारी Blogs के माध्यम से लोगों तक पहुंचाते हैं।  

तो इस तरह आप बिना Coding के अपनी Website Design कर पाते हैं और अपने बिज़नेस को ऑनलाइन 

(Grow Your Business Online) ले जाने की दिशा में कदम बढ़ा पाते हैं।  

इन सभी Steps को Detail में समझने और Practically Implement करने के लिए आपको हमारे DhanNeeti Course के साथ जुड़ना होगा, जहां हमने इन सभी Steps को बड़ी ही बारीकी से समझाया है और बताया है कि कैसे आप अपने बिज़नेस को Organically Grow कर सकते हैं। 

आइये अब अगले स्टेप पर चलते हैं जिससे आपको और भी Clear हो जाएगा कि अपने Online बिज़नेस को कैसे बढ़ाया जाए। 

Step 2 : अपने बिज़नेस को Google My Business (GMB) पर List करें

Step 2 अपने बिज़नेस को Google My Business (GMB) पर List करें

अब आपने अपनी Website तो बना ली, लेकिन लोग कैसे जानेंगे कि आपका बिज़नेस Online शिफ्ट हो गया है? उन्हें अगर आपके बिज़नेस को Online ढूंढना होगा तो वो कैसे ढूंढेगे, कहाँ ढूंढेंगे?

इसके लिए आपको अपने Business Details (Name, Address, Contact No., Opening Hours, etc.) को Google My Business (GMB) पर Submit करना होगा। 

यह Google द्वारा Offered Free Tool है जिसका उपयोग आप अपने बिज़नेस को Local Search में लाने के लिए कर सकते हैं। 

ये सारी Information GMB पर Submit करने के बाद आप उन लोगों की नज़रों में आ पाएंगे जो आपको ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं। 

लेकिन, इसमें ऐसा बिलकुल भी नहीं होता कि आपने बस अपने बिज़नेस को GMB पर डाला और अगले दिन से ही वो Local Search में आने लगा। 

अपने Business को Local Search में ऊपर लाने का एक Method होता है जिसे Local SEO कहा जाता है। 

इस Method की मदद से आप होने Business Details में कुछ Improvements करते हैं और कुछ Business Relevant Keywords का इस्तेमाल करके Local Search में Top पर Rank करते हैं।  

For E.g. यदि आपका Electronic Appliances का Store है तो सबसे पहले आपको अपने बिज़नेस से जुड़े Keywords ढूंढने होंगे और अपने Business Details, Photos, and Videos को सही से Optimize करना होगा। 

अब अगर कोई भी User आपके Area में अपनी कोई Query सर्च करता है (E.g. Best AC Shops Near Me) तो आपका Business उस Local Search Result में सबसे ऊपर Show होना चाहिए। 

इससे वह User आपके Business Details के माध्यम से आपकी Website पर पहुँच सकता है जहां से आप उसे Customer में Convert कर सकते हैं।  

ThinkWithGoogle की Study भी यही कहती है कि “Near Me” Searches ने 2015 से 2017 में लगभग 500% की Growth Show की है। 

इससे आप अंदाज़ा लगा ही सकते हैं कि Local SEO को Implement करना कितना ज़रूरी है।  

इस तरह Local SEO आपके Business को Online Grow करने में (Grow Your Business Online) बहुत मददगार साबित होता है। 

ये तो हो गया कि आप अपने Business को Locally कैसे Grow कर सकते हैं। आइये अब बात करते हैं कि अगर आपको अपना Business Globally Expand (Grow Business Online Globally) करना है तो उसके लिए क्या Steps लेने होंगे।  

इसे भी पढ़ें : 10 Secret Ways How Digital Marketing is Adding Value To Your Business

Step 3 : अपनी Digital Dukaan को Promote करें

Step 3 अपनी Digital Dukaan को Promote करें

GMB पर अपना Business List करने से आप ऐसे लोगों तक पहुंच जाते हैं जो आपको ढूंढ रहे हैं और आपके Local Area में रहने वाले ही हैं।  

परन्तु, यदि आप नए लोगों को आकर्षित करना चाहते हैं और अपना Customer Base बढ़ाना चाहते हैं तो आपको अपने Products & Services को या यूँ कहें कि अपने Business को Promote करना होता है, जिसके लिए आपको Ads Run करने पड़ते हैं। 

Ads Run करने से आप बहुत ही कम समय में हज़ारों लोगों तक पहुँच पाते हैं। 

इसके अलावा आपको Ads का सहारा तब भी लेना चाहिए जब आपके पास अपने कोई Offers हों या कोई बेहतरीन Deal हो। 

ऐसे में आप Ad Run करके उन Offers & Deals को Promote कर सकते हैं और अपने New Customers बना  सकते हैं।   

अब Ads Run करने के भी दो तरीके होते हैं – Ads on Search Engine (SEM) and Ads on Social Media (SMM)

आइये इन दोनों Methods पर थोड़ा प्रकाश डालते हैं। 

Paid Techniques To Grow Your Online Business

Search Engine Marketing (SEM) : SEM उस Process को कहा जाता है जिसके तहत आप Search Engines (Google, Bing) पर अपने Advertisements Run करते हैं। 

अब क्योंकि Search Engines भी बहुत Smart हो गए  हैं, आपके Ads केवल उन ही लोगों को दिखाए जाते हैं जो Business से Related Information को पढ़ना, सुनना और देखना पसंद करते हैं। 

ऐसे में उन लोगों द्वारा आपके Ad पर क्लिक करने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है और वो आपकी Website पर पहुंचकर आपके Business के बारे में पढ़ पाते हैं और समझ पाते हैं।   

** आपको SEM के बारे में विस्तार से समझना ज़रूरी है जिसके लिए यह Blog ज़रूर पढ़िए – सर्च इंजन मार्केटिंग – Business बढ़ाने की नयी रणनीती!

Social Media Marketing & Search Engine Marketing

Social Media Marketing (SMM) : SMM Technique की मदद से आप Facebook, Instagram, LinkedIn, YouTube जैसे Powerful Platforms पर अपने Business के Ads Run करते हैं और अपनी Target Audience तक पहुँचते हैं। 

इन Platforms को Use करने वाले Users की संख्या Billions में होती है, ऐसे में आपके लिए अपनी Target Audience का Behavior समझना और उस आधार पर उन्हें Target करना आसान हो जाता है। 

** Social Media Marketing की Power को जानने के लिए यह Blog पढ़ना अत्यंत आवश्यक है –  Social Media Marketing – 2022 के लिए Best Marketing Strategy  

तो इस तरह आप इन दोनों Paid Strategies को Implement करके अपने Business को Online Grow (Grow Business Online) कर सकेंगे। 

अगर आपको हमारी यह बिज़नेस बढ़ाने की टिप्स (Tips To Grow Business Online) पसंद आ रही हैं तो आप हमें नीचे Comment Section में ज़रुर बताइयेगा।  

आइये अब कुछ ऐसे Methods को भी जान लेते हैं जहां आपको Ads Run करने की भी ज़रूरत नहीं होती या यूँ कहें कि आप बिना पैसा खर्च किये भी अपने नए Customers को Attract कर सकते हैं। 

इन Free Digital Marketing Methods को भी दो भागों में Categorize किया गया है : Search Engine Optimization (SEO) and Social Media Optimization (SMO)

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO) : Search Engine Optimization एक ऐसा शास्त्र होता है जिसकी मदद से आप अपनी Website को Google के Search Engine Results Page (SERP) में सबसे ऊपर लेकर जाते हैं। 

अब भला SERP में ऊपर लेकर जाने या Rank कराने से आपको क्या फायदा मिलने वाला है।  

देखिये, जब भी कोई व्यक्ति आपके Business से Related अपनी Queries Google पर सर्च करता है तो उसके सामने एक Page खुलता है (SERP) जिसमें कई सारी Websites Listed होती हैं जो उस व्यक्ति की Query का Answer कर रही होती है। 

ऐसे में यह Observe किया गया है कि लगभग 67% Clicks उस Page पर Rank कर रहे पहले पांच Websites पर आते हैं और बाकी Websites पर केवल गिनती के लोग ही पहुंचते हैं।  

इस बात को मद्देनज़र रखते हुए हर कोई Business Owner चाहता है कि उसकी Website भी First Five Results में Show हो और लोग उस पर क्लिक करके वहां Listed Products & Services को Checkout कर सकें। 

Website जितनी अधिक ऊपर Rank करेगी, आपके Business पर उतने ही ज़्यादा लोग Visit करेंगे और संभावना बढ़ जाएगी कि उनमे से काफी लोग आपके साथ Transact कर लें।

अपनी Website को First Page पर Rank कराने की Technique ही SEO कहलाती है। 

**अगर आप SEO के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं तो हमारी यह SEO Fundamental Guide पढ़ना ना भूलें। 

इसके अलावा हमने अपनी Website पर एक Complete SEO Series चलाई है जिसमें SEO Types से लेकर Mobile SEO के लिए Website को Optimize करना, Search Engine Optimized Content लिखना, SEO Importance इत्यादि शामिल है।  

यह आपके बिज़नेस का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है जो आपके Help करेगा To Grow Your Business Online. 

Search Engine Optimization & Social Media Optimization

सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन (SMO) : SMO उस Technique को कहा जाता है जिसकी मदद से आप अपने विभिन्न Social Media Platforms (Facebook, Instagram, LinkedIn, Pinterest, etc.) को Optimize करते हैं। 

Social Media Optimization के अंतर्गत Profile Creation & Profile Optimization से लेकर Content Creation & Content Optimization शामिल है। 

** Content Creation की कला को समझने के लिए पढ़िए हमारा Blog – Learn Content Creation In Hindi : A Better Career Opportunity 

जब भी आप SMO Technique को Implement करते हैं तो आप अपने Social Media Platforms पर Photos, Videos इत्यादि Post करते हैं और लोगों में एक उत्सुकता जगाते हैं कि वो आपके बिज़नेस के बारे में और आपके Products & Services के बारे में अधिक जानकारी हासिल करना चाहें।  

ऐसे में यदि उन लोगों को आपका Post या Content पसंद आता है तो वो आपकी Website पर Visit करते हैं और आपके Business के बारे में और अधिक जानकारी लेते हैं। 

इस तरह आपके पास कुछ ऐसे लोग आ जाते हैं जिन्हें आप अपना Customer बना सकते हैं और अपने Online Business को बिना पैसा खर्च किये Grow (Grow Your Business Online For Free) कर सकते हैं। 

SMO के बारे में हमने अपने इस Blog में बड़ी ही Detail से चर्चा की है। आप इसे ज़रूर पढ़ें। 

Conclusion

एक Digital Business के Grow होने का सिलसिला शुरू होता है उसकी एक Website बनने से। Website आपके Business की एक Digital Dukaan होती है जहां आप अपने हज़ारों-लाखों Products List कर सकते हैं। 

इसके साथ ही आपको अपने बिज़नेस को Google My Business (GMB) पर लिस्ट करना होता है ताकि लोग आपके बिज़नेस को ऑनलाइन ढूढ़ सकें। 

लेकिन, अगर आपको अपने बिज़नेस को Global लेकर जाना है और पूरी दुनिया में Expand करना है तो आपको Digital Ecosystem की Free & Paid Techniques का सहारा लेना पड़ता है। 

इन दोनों Techniques के माध्यम से जैसे-जैसे आपकी Website पर लोग आते रहते हैं और Traffic बढ़ता रहता है, आपकी Website पर Transaction के Chances भी उतने ही बढ़ते रहते हैं और धीरे-धीरे आपका बिज़नेस एक Profitable Business का रूप लेने लगता है।  

आज के इस Blog में हमने अपने Diamond Formula के माध्यम से आपको अपने Business को Profitable बनाने के लिए तीन बहुत ही महत्वपूर्ण Steps के बारे में बताया। 

हम आशा करते हैं कि यह Blog पढ़ने के बाद आपको अपने सवाल “बिज़नेस को Online कैसे बढ़ाए” का जवाब मिल गया होगा। 

इसके साथ ही यदि आप उन सभी महत्वपूर्ण Processes को Step By Step जानना चाहते हैं जिससे आपका Business कई गुना तक बढ़ सकता है तो आज ही जुड़िये हमारे साथ और Attend कीजिये हमारा Free Webinar जहां हम आपको बताएंगे कि कैसे आप Digital Marketing की Powerful Strategies की मदद से केवल कुछ ही दिनों में अपने बिज़नेस को रफ़्तार दे सकते हैं।   

A 6 Steps Guide For Business Owners To Transform Their Traditional Business Into Digital Business

A 6 Steps Guide For Business Owners To Transform Their Traditional Business Into Digital Business

क्या आपको लगता है कि Amazon, Flipkart, Meesho, Zomato, PharmEasy जैसे Online Businesses ने कहीं न कहीं आपके Traditional Business को Impact किया है?

ये बात तो सच है कि इन Digital Platforms के आने से लोगों के Behavior में काफी Changes देखने को मिले हैं। 

आज लोग Market जाकर सामान खरीदने की बजाय अपने घर पर रहकर ही Order करना ज़्यादा पसंद कर रहे हैं। 

बल्कि Nasdaq की 2017 की UK की रिपोर्ट में तो ये डाटा सामने आया है कि वर्ष 2040 तक UK में 95% खरीदारी eCommerce Platforms के माध्यम से होगी। 

धीरे-धीरे भारत में भी यही Trend देखने को मिलने वाला है। 

इसी स्थिति का सामना करने के लिए अब Traditional Businesses ने भी खुद को Shape करना शुरू कर दिया है। लोग अपने Offline Business को अब डिजिटल रूप देने लगे हैं। 

अब Offline Business Owners Market Demand के हिसाब से खुद को Update करने लगे हैं।  

तो यदि आप भी उन लोगों में से हैं जिन्होंने अपने Business को Digitally Transform नहीं किया है या जिन्हें Transform करने में कुछ दिक्कतें आ रही हैं, तो आज का यह Blog आपके लिए ही है। 

आज की इस Step By Step Guide की मदद से आप अपने Traditional या Offline Business को Digital Business में Convert कर सकते हैं और Digital Marketing Techniques के Implementation से अपने Business को Grow कर सकते हैं।   

तो आइये Blog की शुरुआत करते हैं और जानते हैं कि आखिर यह Traditional Business & Digital Business क्या होता है (Traditional Business Vs. Digital Business) और क्यों आजकल लोग Digital Business Model को खासा महत्व दे रहें है?

Also Read : Digital Marketing In India 2022 – Future & Growth

Table of Contents

Traditional Business क्या होता है - Traditional Business In Hindi

Traditional Business क्या होता है - Traditional Business In Hindi

Traditional Business एक ऐसा Business Model होता है जिसमे आपकी एक Physical Presence होती है और जहां आप अपने Business (E.g. Shop, Warehouse, Manufacturing Unit, etc.) को  चलाने के लिए किसी Commercial Space का Use करते हैं। 

इस बिज़नेस में आप केवल Local Audience को ही Target कर पाते हैं जिससे आपकी Reach का एक दायरा बन जाता है या यूँ कहें कि Reach Restrict हो जाती है। 

एक Offline Business को Start करने के लिए शुरुआत में बहुत से Factors को ध्यान में रखना पड़ता है जिसमे मुख्यतः शामिल हैं – Commercial Space, Furniture, Light & Water Facility, Rent, Staff, etc.

इन Factors के बारे में सोचे बिना एक Traditional Business Model की कल्पना भी मुश्किल होती है। 

एक Offline Business अक्सर अपने Products & Services ऑफर करने के लिए एक Physical Store का Use करता है जहां से वो Direct Customers के साथ Contact में रहता है। 

हालाँकि, यह बिज़नेस कई प्रकार का हो सकता है जैसे Manufacturing, Wholesaler, Distributer, Retailer, etc.

लेकिन इन सभी Types में आपको एक Space तो चाहिए ही होता है जहां आप अपने Products को List कर सकें और उन्हें लोगों (Visitors) को Show कर सकें। 

इस प्रकार अपने Visitors के साथ Direct Deal करने से वो लोग (Visitors) आपके Product को सही तरीके से समझ पाते हैं जिससे उन्हें अपना Final Decision बनाने में परेशानी नहीं होती।   

Products को खरीदने से पहले Feel करने और उसे बेहतर तरीके से समझ पाने वाली चीज़ अभी भी कहीं न कहीं Digital Business Model Lack करता है। 

इसके लिए व्यक्ति को Reviews & Ratings पर निर्भर रहना पड़ता है। 

लेकिन, फिर भी Digital Business Build करने का Trend इतना ज़्यादा क्यों बढ़ रहा है और क्यों इसे इतना प्यार मिल रहा है, जानेंगे अगले सेक्शन में। 

तो आइये Traditional Business In Hindi को समझने के बाद जानते हैं कि आखिर एक Digital Business क्या होता है और कैसे काम करता है। 

Digital Business क्या होता है - Digital Business Ideas In Hindi

Digital Business क्या होता है - Digital Business Ideas In Hindi

Digital Business एक ऐसा Business Model होता है जिसे आप कहीं भी बैठे Commercial Space की चिंता किये बिना शुरू कर सकते हैं।  

यदि इसे दूसरे शब्दों में समझना चाहें तो हम कह सकते हैं कि Digital Business = Traditional Business + Digital Technology.

अर्थात, Traditional Business को जब Digital Technology की मदद से Online लेकर जाया जाता है, वो वह Digital Business कहलाता है।  

Business को Digital लेकर जाने के लिए कई Digital Marketing Strategies का Use करना पड़ता है और अपना एक Digital Ecosystem Create करना पड़ता है जिससे यह Shifting Process काफी आसान बन जाता है।  

एक बार डिजिटल शिफ्ट करने के बाद आप धीरे-धीरे इसे एक Computer & Internet Connection की मदद से भी Grow कर सकते हैं। 

जैसे-जैसे आपका Business Grow करता जाता है वैसे-वैसे आपको Different Sources की ज़रूरत पड़ने लगती है और तब आप अपना एक Office Space लेकर वहां अपनी Team Build कर सकते हैं और Business को और अधिक Profitable बना सकते हैं। 

लेकिन, Digital Business की सबसे ख़ास बात ये है कि इसमें आपको अपने Products & Services को लिस्ट करने के लिए कोई Store या Warehouse खरीदने की ज़रूरत नहीं होती। 

आप एक Website Design करते हैं और उसी पर अपने सभी Products & Services को List कर देते हैं। 

आपकी Website पर लोग आते हैं, आपके Products को देखते हैं, आप से Contact करते हैं और आपके साथ Transaction करते हैं। 

इसलिए इस Digital Business Idea को एक Low Cost Business Idea भी कहा जाता है जिसमे Traditional Business की तुलना में आपकी Investment काफी कम हो जाती है। 

आइये अब कुछ ऐसे Facts को देखते हैं जो हमे बताते हैं कि क्यों डिजिटल बिज़नेस एक ट्रेडिशनल बिज़नेस (Digital Business Vs. Traditional Business) की तुलना में अधिक फायदेमंद होता है। 

Related Post : 10 Secret Ways How Digital Marketing is Adding Value To Your Business

Digital Business एक Traditional Business की तुलना में अधिक फायदेमंद क्यों है?

आजकल कई Traditional Businesses Online Shift हो रहे हैं जिन्होंने Customers के Experience को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है। इसके पीछे के कुछ मुख्य कारण इस प्रकार हैं :

Business Reach

Business Reach

Digital Business Model के सबसे बड़े फायदों में से एक ये है कि इसे आप कहीं भी बैठकर शुरू कर सकते हैं और दुनिया के किसी भी देश में अपने Products & Services बेच सकते हैं। 

दुनिया के किसी भी कोने में बैठा व्यक्ति आपके Products को खरीद सकता है और आपके साथ Interact कर सकता है और यही इसकी सबसे बड़ी खूबी है। 

इसके लिए आपको बस अपनी एक Website Create करनी होती है, उस पर Products & Services लिस्ट करके उसे Organically या Inorganically Search Engine Result Pages (SERPs) में Rank कराना होता है। 

जैसे-जैसे आप Grow करते हैं, आपका Business एक Brand का रूप लेने लगता है और आप लोगों की नज़रों में आ जाते हैं। 

वहीं Traditional Business में आप केवल अपने आस-पास के Area तक ही सीमित रहते हैं और केवल उसी Area में आपका नाम होता है। 

No. of Products & Services

No. of Products & Services

क्या आप अपने Physical Store या Warehouse में लाखों Products को एक साथ रख सकते हैं?

शायद नहीं। 

क्योंकि आपके पास Space की Limitation होती है और उन्हें Manage करना, आर्डर आने पर निकालना और पैक करना, हर चीज़ की एक Limitation होती है। 

लेकिन क्या आपको पता है कि Amazon के Catalog में 12 Million से भी ज़्यादा Products Listed हैं?

जी हाँ, ऐसे में क्या एक Traditional Business इतने सारे Products को Store कर सकता है?

बिलकुल नहीं। 

इतने सारे Products को लिस्ट करने और बेचने के लिए आपको एक Website या Application की ज़रूरत पड़ती है। 

इसलिए एक Digital Business की मदद से आप अपने लाखों Products को कहीं भी और कभी भी पहुंचा सकते हैं। 

Website के अलावा आप Facebook, Instagram, Meesho जैसे Marketplaces पर भी अपने Products List कर सकते हैं और Online Sell कर सकते हैं। 

Marketing & Promotion

Marketing & Promotion

क्या आप अपने Physical Store को 24 घंटे 7 दिन Operate कर सकते हैं?

इसकी बहुत ही कम Possibility है कि आप अपने Business को हर रोज़ रात और दिन Operate कर पाएं। 

In fact, रात के समय तो Business पर इतने Customers भी नहीं आने वाले। 

लेकिन, Digital Business ही एक ऐसा Business Model है जिसे आप 24 x 7 Open रख सकते हैं और Operate कर सकते हैं। 

आपके Business की Website आपके बिज़नेस को 24 x 7 x 365 Days Promote करती रहती है और आपके Business के लिए एक Digital Asset का काम करती है। 

इसके होने से आप Geographical & Time Boundation से बच जाते हैं जिससे हज़ारों किलोमीटर दूर बैठा व्यक्ति भी आपकी Site पर किसी भी समय Visit कर सकता है और आपके साथ Transact कर सकता है।    

Capital Requirement

Capital Requirement

Capital Requirement से मतलब है वो सभी Investment जो एक Business को शुरू करने में लगती है।  

जहाँ एक Traditional Business को शुरू करने के लिए Space, Staff Members, Electricity, Water जैसी Basic चीज़ों की ज़रूरत होती है, Digital Business में शुरू में तो आपको एक Computer & एक अच्छे Internet Connection के अलावा किसी दूसरी चीज़ की ज़रूरत नहीं होती। 

ऐसे में Traditional Business को Set Up करना काफी खर्चीला साबित होता है और अगर Team Members सही नहीं मिले तो नए लोगों को Recruit करने का Process भी आपको बार-बार Repeat करना पड़ता है। 

Digital Business में शुरुआत में आपको ज़्यादा Investment नहीं लगने वाली, लेकिन हाँ, जैसे-जैसे आप Grow करते जायेंगे, आपको अन्य लोगों की ज़रूरत महसूस होने लगेगी। 

तब आपको एक Space लेने की ज़रूरत होगी जहां आपको थोड़ी बहुत Investment करनी पड़ेगी और नए Tools, Softwares, इत्यादि को भी खरीदना पड़ेगा जो आपके काम को और आसान बना देंगे।    

Time & Reliability

Time & Reliability

जहां बात Time Saving & Reliability की आती है आपको Digital Business के अलावा कोई भी Business इतनी Value नहीं दे सकता। 

लोग अपने घर या किसी भी जगह रहकर आसानी से अपने Cards की मदद से या Cash On Delivery Option Select करके Transaction कर सकते हैं। 

ये सब तभी Possible होता है जब आपका Business 24 घंटे Open रहता है, उसके कोई Opening & Closing Hours नहीं होते और कोई Geographical Restriction नहीं होती। 

इसके अलावा Customers को Return & Exchange की भी सुविधा मिल जाती है जिसका Use वो कभी भी एक Certain Time Period के अंदर कर सकते हैं। 

इतनी Reliability मिलने के कारण ही लोग अब Digital Businesses का रुख करने लगे हैं। 


अब आप शायद सोच रहे होंगे कि Digital Business Model की Importance तो हमें समझ आ गई, लेकिन हम अपने Traditional Business को Online कैसे लेकर जाएं, ये भी तो बताइए। 

तो चलिए आपके इसी सवाल का जवाब जानने के लिए अगले सेक्शन का रुख करते हैं और समझते हैं – 

How To Transform Traditional Business Into Digital Business In Hindi.

Traditional Business से Digital Business पर कैसे Shift करते हैं - 6 Important Steps

अपने Traditional Business को Digital Shift करने के लिए आपको इन Important Steps को ध्यान में रखना होगा।

Create Your Digital Ecosystem

Digital Ecosystem का मतलब एक Process से होता है जिसके तहत आप अपने Offline Business को Online लेकर जाते हैं और अपनी Online Presence बढ़ाते हैं। 

लोगों द्वारा Digital Ecosystem Create करने के अलग-अलग Goals होते हैं। For E.g. किसी का गोल होता है Brand Awareness Create करना, किसी का होता है Lead Generate करना, साथ ही किसी का गोल अपने Products & Services Sell करना भी होता है। 

Digital Ecosystem Blueprint

अपने गोल को ध्यान में रख कर आपको अपना Digital Ecosystem Create करना होता है और अपनी Target Audience के सामने खुद को Present करना होता है। 

इसे यदि हम Offline Business के लिए की जाने वाली Marketing से Compare करें तो हम कह सकते हैं कि,

“जिस तरह आप अपने Offline Business की जानकारी Hoardings, Banners, Pamphlets, Sign Board इत्यादि के माध्यम से लोगों तक पहुंचाते हैं, ठीक उसी तरह Digital Ecosystem में आप Digital Components के माध्यम से अपने Online Business को अपनी Target Audience तक लेकर जाते हैं।”

अब Digital Ecosystem में आपके पास दो तरह की Strategies होती हैं : Organic & Inorganic. 

इन दोनों ही Strategies के अंदर कई सारे Components होते हैं, जैसे कि SEM, SMM, SMO, SEO, CM, etc.

इन Components की मदद से आपको अलग-अलग Social Media Platforms पर अपना Account Create करना होता है और उन्हें Optimize करना होता है। 

इन सभी Components को डिटेल से सीखने और Step-By-Step समझने के लिए आपको ज़रूरत होती है एक अच्छे डिजिटल मार्केटिंग कोर्स (Digital Marketing Course In Hindi) की।   

Digital Marketing Course करने से आपको कई Important Skills सीखने को मिल जाती हैं जैसे कि, 

  1. Website Creation
  2. Social Media Optimization
  3. Search Engine Optimization
  4. Search Engine Marketing
  5. Content Marketing 
  6. Influencer Marketing

इन सभी Skills & Techniques को सीखने से आपको आज के समय के सबसे Powerful Weapon (हथियार) – Social Media को सीखने का मौका मिल जाता है।  

तो यदि आप आप भी इस 305 Billion USD से भी अधिक वाली Digital Marketing Industry का हिस्सा बनना चाहते हैं तो इन सभी Digital Techniques को अपने बिज़नेस में Implement कीजिये।

यदि आप इन Digital Ecosystem Components को विस्तार से जानना चाहते हैं तो उसके लिए हमारी इस Detailed Guide को ज़रूर पढ़िए।   

इससे आपको पता लग जाएगा कि कैसे आप भिन्न-भीं तरह के डिजिटल बिज़नेस Ideas (Digital Business Ideas In Hindi) के लिए अपना Ecosystem तैयार कर सकते हैं। 

इसके साथ ही आप अपने Budget को भी नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते। अक्सर यह ऐसा देखा गया है कि लोग शुरुआत में जोश-जोश में आकर अपनी Limit से ज़्यादा Investment कर देते हैं और फिर बाद में बाकि Process को Start करने के लिए उनके पास पैसा ही नहीं रहता।

Related Post : Digital Ecosystem बनाकर कैसे कमाई करें – 5 Powerful Ways 

Design Your Website

Design Your Website

Digital Ecosystem बनाते वक्त ही आपको अपनी एक Website Create करने की ज़रूरत होती है। 

अपने Products & Services को लिस्ट करके उन्हें अपने Potential Customers को दिखाने के लिए Website से बढ़िया कोई दूसरा माध्यम नहीं होता। 

Website & App की मदद से आप जितनी चाहें उतनी चीज़ों को List कर सकते हैं और जितने चाहें उतने लोगों को वो चीज़ें दिखा सकते हैं। 

ये ही एक ऐसा Platform है जहां आपके Visitors आपके Long-Time Customers में Convert होते हैं। 

अपने Business के लिए Website बनाना आजकल काफी आसान हो गया है, जिसके लिए आपको एक Domain & Hosting की ज़रूरत पड़ती है। 

Website Creation की कला को सीखने के लिए आप हमारे DhanNeeti Course को Join कर सकते हैं जहां हम Step-By-Step आपको आपकी Business Website से लेकर एक E-Commerce Website तक बनाना सिखाते हैं। 

इसे भी पढ़ें : 10 Important Reasons Why You Need Website In 2022!

Distribute Your Digital Business Cards To Your Offline Customers

Distribute Your Digital Business Cards To Your Offline Customers

एक बार आपका Digital Ecosystem Create हो जाता है और आपकी एक Digital Dukaan (Website) Set Up हो जाती है तो आपको अपने Offline Customers को अपने इस New Digital Business Idea के बारे में बताना होता है। 

उसके लिए बेहतर यही होता है कि आप अपने Online Business की जानकारी देने के लिए Digital Business Cards Distribute करें। 

यह एक ऐसा Method होता है जिसकी मदद से आप अपने Local Customers को जागरूक करते हो और उन्हें अपने ट्रेडिशनल से डिजिटल बिज़नेस (Traditional Business Vs. Digital Business) के शिफ्ट के बारे में बताते हो। 

Digital Card Distribution Technique के इस्तेमाल से आपके Existing Customers आपकी Website पर Visit करने लगेंगे और कोई भी Doubt होने पर आपके Contact Us Page पर जाकर आपके बात कर सकेंगे। 

इससे उनका Experience और बेहतर हो जाएगा क्योंकि उन्हें वो सभी चीज़ें घर बैठे मिल जाएंगी जिसके लिए उन्हें पहले घर से बाहर जाना पड़ता था।  

Register Your Business On GMB and List On Other Directories

Register Your Business On GMB and List On Other Directories

Offline Business To Online Business Shift करने से आप अपने Business की Global Reach बढ़ा पाएंगे। 

लेकिन, इसी बीच आप नहीं चाहेंगे कि आपके Local Visitors आपके Business को सर्च करें तो उसका कुछ आता-पता ही ना हो। 

इसी चीज़ को मद्देनज़र रखते हुए आपको अपने Business को Google My Business पर List करना होगा। 

इससे आपको ये फायदा होगा कि यदि कोई व्यक्ति आपके Business से Related कुछ Products & Services के बारे में Google में सर्च करेगा तो उसे आपका Business Page SERP में दिखाई दे सकता है, जहां से वो आपकी Website पर जाकर अपने Desired Product या Service के बारे में जानकारी ले पायेगा। 

लेकिन, आप शायद सोच रहे होंगे कि मेरे जैसे तो अन्य कई Business Pages होंगे, तो केवल मेरा ही Business Page SERP में सबसे ऊपर कैसे दिखेगा, उनका Business Page भी तो ऊपर आ सकता है? 

जी हाँ, उनका Business बिलकुल ऊपर आ सकता है और आपको Outrank कर सकता है। 

ऐसे में आपको अपने Business को उनसे ऊपर लाने के लिए Local SEO Strategies को Follow करना पड़ेगा। 

इसके अलावा अपने Business पर Footfall बढ़ाने के लिए और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को अपने Business Page के माध्यम से अपनी Website पर ले जाने के लिए आपको अपने Business को अन्य Local Directories (E.g. Just Dial, Sulekha, India Mart, Yellow Pages, etc.) पर भी लिस्ट करना होगा। 

Start Creating Content and Do Content Marketing

Start Creating Content and Do Content Marketing

एक Study के अनुसार 75% Marketers का यह मानना है कि एक Well-Written Content आपकी Website का सबसे Important Factor होता है। 

Effective Content Creation की इतनी Power होती है कि इसकी मदद से आप अपने Visitors को Customers में Convert कर सकते हो। 

*Effective Content Creation के लिए आपको इस Blog को ज़रूर पढ़ना चाहिए। 

लेकिन सिर्फ अच्छा Content Create देने से ही काम नहीं चलने वाला, आपको उस Content को Distribute and Promote भी करना होता है, जिसे Content Marketing कहते हैं। 

Content Marketing के माध्यम से आप अपनी Brand को अपनी Target Audience के सामने लेकर जाते हैं जिससे लोग आपको जानने और पहचानने लगते हैं और आपकी एक Authority बनने लगती है। 

यदि इसके कुछ आंकड़ों की बात करें तो Global Newswire ने अपनी एक Report में बताया कि Content Marketing Market वर्ष 2021 से 2025 तक $417.85 Billion तक Grow करेगी। 

इससे आप अंदाज़ा लगा ही सकते हैं कि इसका कितना ज़्यादा Potential है क्यों अपने Online Business को Grow करने के लिए इसे Implement करना ज़रूरी है।  

इसे भी पढ़ें : Top 10 Content Marketing Trends For Year 2022

Implement CRM Software

Implement CRM Software

एक Digital Business में Customer Relation Management (CRM) को बेहतर बनाए बिना आप अपने कई नए Customers खो सकते हैं। 

इसके लिए आपको Customer Relationship Management Software का Use करना होता है जिसकी मदद से आप अपने Customers का Data Organize & Manage कर पाते हैं।  

इस Data को Study करके आप उन्हें एक अच्छा Customer Experience दे पाते हैं और धीरे-धीरे अपने Customer Base को बढ़ा पाते हैं। 

एक CRM का गोल ही यही होता है – Business Relationship को Improve करना। 

CRM Tool की मदद से आप अपने Customers के साथ बेहतर तरीके से Connected रहते हैं और सभी Processes को आसान बनाकर अपनी Profitability Improve कर पाते हैं। 

इसके साथ ही आपको अपने Existing Customers को Retain करने तथा New Leads को Customer में Convert करने के लिए समय-समय पर उनके साथ Interact करते रहना होता है जिसके लिए Email Marketing & Social Media Platforms का इस्तेमाल किया जा सकता है। 

आप उनके लिए नए-नए Offers या Deals लेकर आ सकते हो जिससे वो भी आपके साथ Connected रहें और आप उनकी Help कर सकें।

Conclusion

आज के इस बदलते युग में लोगों की ज़रूरतें भी बदल गई हैं जिन्हें पूरा करने के लिए नए – नए Startups Launch हो रहे हैं। 

लोग Physically बाहर जाने के बजाय अपने घर पर बैठकर ही सभी चीज़ों का लुत्फ़ उठाना चाहते हैं, जिससे Local Businesses की Profitability पर फर्क पड़ना शुरू हो गया है। 

इसी चीज़ को मद्देनज़र रखते हुए अब Traditional Business Owners अपने Business को Online Shift करने की दिशा में कदम आगे बढ़ा रहे हैं। 

लेकिन, एक Offline Business को Online ले जाने के लिए कई चीज़ों की ज़रूरत होती है जिनमे सबसे प्रमुख है Implementation of Digital Marketing Strategies. 

इसके साथ ही आपको Digital Marketing Trends को भी Follow करना पड़ता है ताकि आप इस Industry में हो रहे बदलावों से Up To Date रहें। 

इसलिए आज का यह Blog हमने आप जैसे उन सभी Business Owners के लिए लिखा है जो अपने Business को Digitally Shift करना चाहते हैं। 

यहां हमने Traditional Business Vs. Digital Business से जुडी कुछ अहम जानकारियों का ज़िक्र किया है और बताया है कि आप अपने Offline Business को Digital कैसे ले जा सकते हैं और Grow कर सकते हैं। 

यदि आप इस विषय पर और अधिक जानकारी चाहते हैं और अपने Business Transformation को लेकर Serious हैं तो जुड़िये मेरे साथ मेरी Digital Azadi Community में। 

जहां आप जैसे कई Business Owners, Working Professionals, Students, Service Providers, इत्यादि मुझसे डिजिटल मार्केटिंग सीख रहे हैं (Learn Digital Marketing In Hindi) और इस Digital Gyan को अपने Business में Implement करके तरक्की पा रहे हैं। 

अगर आप भी तैयार हैं तो आज ही जुड़िये मेरे साथ। 

The 24 Most Powerful Free SEO Tools For Managing & Optimizing Your Website

The 24 Most Powerful Free SEO Tools For Managing & Optimizing Your Website

इसमें आपका क्या मानना है कि अगर दुनिया में Developed सभी Tools ख़त्म हो जाएं तो क्या होगा?

शायद कार्यों को Finish करने में काफी समय लगने लगेगा और उनमे वो Finishing, वो Touch और वो बारीकी भी देखने को नहीं मिलेगी।  

जिस तरह Relevant Tools की Help से विभिन्न कार्यों को आसान बनाया जा सकता है, उसी तरह Digital Marketing Industry में SEO Tools की मदद से आप अपने Website Optimization के कार्य को आसान बना सकते हैं। 

Website को Optimize करने से आप अपनी Target Audience को बेहतर तरीके से समझ पाते हैं और Target कर पाते हैं, जिससे आपके Business की Online Visibility बढ़ती है और आप लोगों की नज़रों में आने लगते हैं। 

इसलिए आज के इस डिजिटल युग में इन Online Tools को समझना बहुत ज़रूरी है। 

आपकी इसी ज़रूरत को देखते हुए हमने आपके लिए एक Free & Paid SEO Tools List तैयार की है जिसमे शामिल टूल्स Fast हैं, Easy To Use हैं, और आपको बेहतर Result लाकर देते हैं। 

तो आइये शुरू करते हैं आज के इस Blog को और समझते हैं इन Tools के बारे में (SEO Tools In Hindi). 

Related Post : SEO Audit Tools की मदद से Website SEO Audit को कैसे Perform करें?

Table of Contents

What Are SEO Tools (SEO Tools क्या होते हैं?)

SEO Tools से मतलब (SEO Tools Meaning) ऐसे टूल्स से है जो एक Website को Search Engine के लिए Optimize करने में अहम भूमिका निभाते हैं। 

बिना इन टूल्स के Website को Optimize & Manage करने में Problems आ सकती हैं।  

इसलिए आपकी Website के लिए यह टूल्स एक Supporting Hand की तरह कार्य करते हैं जो Website की Overall Performance को Detect करने और उसे Users & Search Engine के लिए Optimize करने में Help करते हैं। 

Content Creation Tools & Keyword Research Tools से लेकर Analytics Checking Tools and Link Building Tools जैसे ऐसे कई उदाहरण हैं जो एक Business के लिए बहुत ज़रूरी हैं। 

SEO Tools In Hindi को जान लेने के पश्चात् आइये अपने अगले सेक्शन में जानते हैं कि इन टूल्स की Importance क्या है और इनके इस्तेमाल से एक Business को क्या-क्या फायदे मिल सकते हैं?

Also Read : Importance of SEO For Business Growth

Importance of Paid & Free SEO Tools For Website

Importance of Paid & Free SEO Tools For Website

Paid & Free SEO Tools Use करने से आप कई प्रकार के Benefits Expect कर सकते हैं:

  1. Website पर Traffic Analyze कर सकते हैं और देख सकते हैं कि किस समय कितनी संख्या में Live Audience आपकी Website पर आ रही है और कितना ज़्यादा Engage कर रही है। 

ऐसे में आप अपनी Website पर Monetization के Options को On कर सकते हैं या अपने Products & Services को List करके उन्हें भी Sell कर सकते हैं।  

**Content Monetization के 7 तरीकों को जानने के लिए यह Blog पूरा पढ़ें। 

2. इन टूल्स की मदद से आप अपने Competitors को Analyze कर सकते हैं और पता कर सकते हैं कि वो किन Strategies का Use कर रहे हैं और आप से कितना ऊपर Rank कर रहे हैं। 

उनके Backlinks, Keywords, Content Structure & Type, इत्यादि को Analyze करके अपनी Strategies में Tweak कर सकते हैं। 

3. SEO Tools Free का Use करके आप Website Errors को काफी हद तक कम कर देते हैं जिससे User Experience में सुधार होता है और लोग आपकी Website और आपके Content को पसंद करने लगते हैं। 

4. SEO Tools List में आपको ऐसे कई टूल्स देखने को मिल जाते हैं जो आपकी Website को Mobile Users के लिए Optimize करने में आपकी Help करते हैं। 

Mobile Users को Target करना ज़रूरी इसलिए भी है क्योंकि इनकी संख्या Computer Users की तुलना में कई गुना तेज़ी से बढ़ रही है। 

5. इन टूल्स की मदद से आप अपने Content को एक Structure & Layout दे सकते हैं और अपने Page का Navigation सुधार कर सकते हैं जो Ranking का एक Positive Signal होता है। 

**अन्य Website Ranking Factors को जानने के लिए हमारा यह Blog ज़रुर पढ़ें और इन Factors को अपनी Website में Implement करें।  

6. इसके साथ ही आप इन Free SEO Tools के उपयोग से Infinite Content Ideas Generate कर सकते हैं और अपनी Audience के लिए Different Types of Content Create कर सकते हैं। 

इस Content को आप Lead Magnet के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं, Content Marketing में Use कर सकते हैं और लोगों को अपनी Website पर लाकर Customer में Convert कर सकते हैं।  

**Content Marketing Tools को हमने Detail में अपने इस Blog में समझाया है। इसे अंत तक पढ़ें, आपको निश्चित ही कुछ नई चीज़ों के बारे में जानने को मिलेगा।  

Related Post : How Search Engine Optimization (SEO) is Different From Search Engine Marketing (SEM)

SEO Tools Meaning and SEO Tools Benefits को जानने के बाद अब समय है अपनी Paid & Free SEO Tools List को जानने का। 

Free and Paid SEO Tools List - SEO Tools For Website

आइये अब देखते हैं कि अपनी Ultimate Free & Paid SEO List में कौन-कौन से Tools शामिल हैं और उनका क्या Use है (SEO Tools & Their Uses).  

इस लिस्ट में हमने सभी Tools को अलग-अलग Category के हिसाब से Divide किया हुआ है ताकि आपको समझने में आसानी हो। 

Content Research and Ideation Tools

Google Trends Topic Generator

Google के इस Free SEO Tool की मदद से आप अपनी Industry के Current Trends को जान सकते हैं जिससे आपको पता लग जाता है कि देश-दुनिया में क्या हो रहा है और लोग क्या सर्च कर रहे हैं। 

इस टूल के Search Box में अपना Specific Keyword डालकर आप पिछले कई सालों का डाटा इकठ्ठा कर सकते हैं। साथ ही किस Country, City या Region में ज़्यादा Searches हो रहे हैं और अन्य Relevant Keywords को भी आप इस टूल की मदद से Find कर सकते हैं। 

एक Study में तो बल्कि यह बात निकल कर भी आई है कि 36% Marketers को जब भी कोई नया Idea Find करना होता है वो सबसे पहले Keyword Analysis की तरफ ही देखते हैं। 

इस Tool के Free Version की मदद से आप आसानी से Find कर सकते हैं कि आपकी Industry में लोग किस तरह की चीज़ों का Solution ढूढ़ रहे हैं और क्या सर्च कर रहे हैं। 

इस Information के आधार पर आप अपनी Content Marketing Strategy में Changes कर सकते हैं और अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच सकते हैं। 

हालाँकि, इनका Paid Version भी उपलब्ध है, लेकिन Free Version से भी आपका काम चल जाएगा। 

BuzzSumo

यह एक SEO Free Tool है जो अपनी Paid Service भी Provide करता है। 

इसके माध्यम से आप Variety of Content को Plan & Create कर सकते हैं और आपके Selected Keywords पर Ranked Top Websites को Analyze कर सकते हैं, जिससे आपको अपनी Strategy को Tweak करने का मौका मिल जाता है।  

Related Post : Content Planning क्या होती है और क्यों ज़रूरी है?

Keyword Research Tools

Ubersuggest, Digital Marketing Industry का एक Best Keyword Research Tool है जो Keyword Research के अलावा भी अपने कई Best Features के लिए प्रख्यात है। 

Ubersuggest के Free Version में ही आप कई Features का लुत्फ़ उठा सकते हैं, लेकिन और अधिक Advanced Features के लिए आपको इसका Paid Version खरीदना पड़ेगा।  

इसकी मदद से Long Tail Keywords and Different Content Ideas को Generate किया जाता है जहां आप Monthly Volume, SEO Difficulty, Paid Difficulty, CPC इत्यादि को Analyze करके अपने Business के लिए Low Competition With High Volume Keywords को Select कर सकते हैं।  

**Ubersuggest को कैसे Keyword Research करने के लिए Use करते हैं, इसे हमने अपने इस Blog में Explain किया हुआ है। इसे ज़रुर पढ़िएगा। 

यह टूल Ahrefs के Full Tool का ही एक Lite Version है और Top Keyword Research Tools की लिस्ट में शामिल है। 

इसके Free Version की मदद से आप Top 100 Related Keyword Ideas Find कर सकते हैं। 

इसमें आप Keyword Search Volume, Keyword Difficulty, CPC, इत्यादि के आधार पर अपने लिए Relevant Keywords को Opt कर सकते हैं।  

Google Keyword Planner

Google Keyword Planner एक ऐसा Free Keyword Research Tool है जो खुद Google द्वारा Develop किया गया है। 

यह आपको आपके 10 Seed Keywords या URL के Basis पर Unlimited Keyword Ideas Generate करने की सुविधा देता है। 

इसकी मदद से आप Keywords की CPC को देखते हुए अपने Ad Campaign Run करने के लिए भी Keywords Research कर सकते हैं और Best Keywords को Select कर सकते हैं। 

Google Trends (Free)

जैसा कि हम ऊपर भी देख चुके हैं, Google Trends एक Top Content Research Tool होने के साथ-साथ One of The Best Free Keyword Research Tool भी है। 

यह आपको बताता है कि लोग आपके Specific Niche में क्या सर्च कर रहे हैं, कौन-सा Topic अभी Popular है, किसके बारे में अधिक चर्चा हो रही है, Related Topics & Related Queries क्या-क्या हैं।

इसमें आप अलग-अलग Keywords or Phrases को एक साथ Search Box में डालकर उनकी अलग-अलग Countries में Popularity देख सकते हैं, जो इसका सबसे Best Feature भी है।     

On-Page SEO Tools

Rank Math and Yoast SEO Plugin (Free)

Rank Math एक Free WordPress Plugin है जो आपके Internal SEO Factors को Optimize करने में Help करता है। 

इसे आप Download करके अपने WordPress में Install कर सकते हैं और फिर इसकी मदद से Page के Content को Target Keyword के लिए Optimize कर सकते हैं।  

Yoast SEO भी एक Free SEO Plugin है जो आपके Website Page & Content को Optimize करने की सुविधा प्रदान करता है। 

इसकी मदद से आप अपने Content को तीन तरीकों से Modify & Improve कर सकते हैं जिसमें शामिल हैं Content का SEO, Content की Readability, and Content की Social Profile. 

Yoast SEO की Help से आप अपने Title, Subtitles, Meta Description, Images, Paragraphs, Keyword Placement, इत्यादि को Search Engine & User के लिए Optimize कर सकते हैं।   

Ahrefs SEO Toolbar

यह एक Google Chrome Extension है जिसकी मदद से आप अपनी Website के On-Page SEO Elements (Title, Meta Description, Headers, Alt Tags, etc.), No Follow Links, Broken Links इत्यादि Check कर सकते हैं। 

इन सभी Factors की Details होने से आप अपने Web Page & Content को आसानी से Optimize कर पाएंगे। 

हालाँकि, यह सब इसके Free Version में ही उपलब्ध है। यदि आपको अन्य SEO Metrics (Search Volume, CPC, Keyword Difficulty, etc.) को Check करना है तो इसक Paid Version के लिए Sign Up करना पड़ेगा। 

SEOquake

यह एक Free Extension है जो आपकी Website के विभिन्न Web Pages को Analyze करता है। 

SEOquake आपके Web Page के सभी Internal & External SEO Factors, Links, Alexa Rank, इत्यादि को Analyze करने की और SEO Audit करने तक की सुविधा प्रदान करता है। 

Link Building Tools

Semrush Backlink Analytics and Link Building Tool (Free + Paid)

Semrush Backlink Analytics and Link Building Tool

Link Building आपकी Off-Page SEO Strategy का एक अहम Component होता है। 

इसके तहत Website की Authority बढ़ाने और Google की नज़रों में आने के लिए अन्य Websites, Directories, and Social Media Platforms से Links लेने पड़ते हैं। 

Semrush Backlinks Analytics Tool की मदद से आप किसी भी वेबसाइट की Backlink Profile को Check & Analyze कर सकते हैं। 

इससे आप पता कर सकते हैं कि कोई Website किन Sources से Backlinks Create कर रही है और कैसे आप उन तरीकों को अपनी Website पर Implement कर सकते हैं। 

इसके Free Version में आप एक दिन में 10 Results को Analyze कर सकते हैं। इससे ज़्यादा के लिए आपको इसके Pro, Guru, and Business Version के लिए Sign Up करना पड़ेगा।  

वहीं दूसरी तरफ, Semrush Link Building Tool की Help से आप Link Building के अपने तरीकों को Organize कर सकते हैं और ऐसे Business Owners तक पहुँच सकते हैं जिनकी Website Domain Authority High हो। 

इसके Free Account से आप 100 Domains तक Reach कर सकते हैं जबकि Premium Account 10,000 Domains तक Reach करने की सुविधा देता है।  

यह टूल एक Domain के Link Analysis के लिए इस्तेमाल किया जाता है। 

यदि आपको किसी Domain के Backlinks, Referring Domains की संख्या (किसी अन्य Website द्वारा आपकी Website के किसी Webpage को लिंक करना), Domain Rating, URL Rating इत्यादि को Check & Analyze करना है तो Ahrefs Backlink Checker Tool की मदद से आप यह कर सकते हैं। 

इसमें आप अपनी Website के अलावा अपने Competitor की Website का Backlink Data भी Analyze कर सकते हैं।  

इसका Free Version 100 Links तक ही सीमित है, इससे अधिक के लिए आपको Paid Version की तरफ जाना होगा। 

Hunter.io

Hunter.io एक बेहतरीन Link Building Tool है जिसकी मदद से आप अपने Link Building Process को काफी आसान बना सकते हैं और अलग-अलग टूल इस्तेमाल करने की बजाय एक ही टूल में सारा काम कर सकते हैं।  

इसमें आप अपने Business से Related Professional Email Addresses Find कर सकते हैं और उन्हें Backlinks के लिए Approach कर सकते हैं। 

इसका Free Version 25 Searches & 50 Verifications Per Month की सुविधा देता है जिसका Use करके आप अपनी Link Building Strategy को और भी अधिक Powerful बना सकते हैं। 

MozBar

Mozbar एक All In One SEO Tool है जो आपको Backlink Analysis & Keyword Research से लेकर Website Audit & On-Page SEO Elements को Analyze करने की सुविधा प्रदान करता है। 

इस टूल की मदद से आप किसी भी Domain की Instant SEO Report Generate कर सकते हैं जहाँ से आपको उस Page के On-Page Elements (Title, Heading, Subheading, Meta Description, etc.), Page Attributes (robots.txt, load time, etc.), and Link Profile की Information मिल जाती है। 

Technical SEO Tools

GT Metrix

GT Matrix आपकी Website की Loading Speed के बारे में बताता है। 

इसके साथ ही आपको यह कुछ Recommendations भी देता है जिसमे यह बताता है कि किन Factors को Optimize & Fix करने की ज़रूरत है ताकि आपके सभी Web Pages Quickly Open हो सके और User Experience पर गलत प्रभाव न पड़े।

Google Mobile Friendly Test

Google का यह Free Tool आपको अपनी Website के Mobile Friendliness के बारे में बताता है। 

इसके लिए आपको अपनी Site का URL इस टूल में Paste करना होता है और कुछ देर इंतज़ार करने के बाद Result आपके सामने आ जाता है। 

यह टूल आपको बताता है कि आपकी Site में क्या Issues हैं जिन्हें सही करने की ज़रूरत है ताकि आप भी अपने Mobile Users को एक बेहतर User Experience प्रदान कर सकें।  

Related Blog : 7 Steps में अपनी Website को Mobile Users के लिए कैसे Optimize करें?

Screamingfrog

Screaming Frog Tool की गिनती आज Top SEO Tools की लिस्ट (SEO Tools Free) में होती है। 

इस टूल का उपयोग Site Audit & Duplicate Content से लेकर Web Page Crawling & Technical & On-Page SEO Issues को ढूंढने के लिए किया जाता है।  

In fact, कई Marketers का तो यह कहना है कि Screaming Frog अन्य Online Free SEO Tools की तुलना में किसी Website की Insights बताने में सबसे कम समय लेता है।   

Free Version में आपको कुछ ही Features मिलते हैं, इसलिए Additional Features के लिए आपको इसका License खरीदना पड़ता है। 

Tools For Analyzing Web Page Analytics

Google Analytics

यह Google द्वारा Offered Free Analytics Tool है जिसे लगभग हर Digital Marketer Use करता है। 

यह आपको आपकी Website पर होने वाली Activities जैसे कि Traffic, Impression, Traffic Source, Page Per Session, Bounce Rate, Device Type इत्यादि की जानकारी उपलब्ध कराता है। 

इस Data को Analyze करके आप अपनी Marketing Strategies में Tweaks कर सकते हैं और Different Types of SEO की मदद से अपनी Website को Optimize कर सकते हैं।  

Google Search Console (Free)

Google Search Console

Search Console One of The Most Powerful Tool है जो Google द्वारा Free Offer किया जा रहा है। 

इस टूल की मदद से आप अपनी Website के Insights का पता लगा सकते हैं और देख सकते हैं कि Google Crawlers आपकी Website को किस तरह से Crawl कर रहे हैं, कितने Clicks आ रहे हैं, CTR क्या मिल रहा है, कितने लोग Live हैं, इत्यादि। 

इसके साथ ही आप इस टूल की मदद से Website के Technical Errors को Analyze कर सकते हैं और उन्हें Fix कर सकते हैं। 

यह एक Free Google Extension है जिसकी मदद से आप अपने Website Traffic को Analyze कर सकते हैं। 

इसकी मदद से आप देख सकते हैं कि Google Algorithms का आपके Traffic पर क्या असर पड़ रहा है और कैसे Global Holidays की वजह से आपकी Website पर कम Traffic आ रहा है। 

इन Factors का पता होने से आप अपने Ad Campaigns को और अधिक बेहतर बना पाएंगे और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को Target कर पाएंगे। 

Content Creation Tools

Google Docs

Google Docs से तो आप सब लोग वाकिफ़ ही होंगे। Google का यह Free Writing Tool अपने कई Basic To Advanced Features के लिए प्रख्यात है।

इसमें आपको इंग्लिश, हिंदी, मराठी, पंजाबी और अन्य अलग-अलग देशों में बोले जाने वाली भाषाओं में लिखने की सुविधा मिलती है।  

इसमें आप Editing से लेकर Formatting & Drawing तक कर सकते हैं, Images Insert कर सकते हैं और Links लगाकर अपने साधारण से Content को एक High-Quality Content में Convert कर सकते हैं।   

इसलिए इसे एक Best SEO Tool for Content Marketing भी कहा जा सकता है। 

High-Quality Content होना इसलिए भी ज़रूरी है क्योंकि लगभग 75% Marketers मानते हैं कि एक Best Written Content किसी भी SEO Friendly Website का सबसे महत्वपूर्ण Factor होता है। 

Grammarly

Grammarly Tool आपकी Content Writing Skill को बेहतर बनाने में मदद करता है। 

इसकी मदद से आप अपनी सभी छोटी-बड़ी Grammatical Mistakes, Punctuation Mistakes, Sentence Formation Errors इत्यादि को Correct कर सकते हैं। 

यह Free & Paid Version में Available है और अभी फ़िलहाल English Content के लिए ही अपनी Services Provide करता है।  

Copyscape

Copyscape किसी Web Content की Duplicate Copy या उसमे Plagiarism Check (SEO Tool Plagiarism) करने का एक बेहतरीन Premium Tool है। 

आपको इसमें अपने URL को Enter करने की ज़रूरत होती है और यह टूल बता देता है कि आपका Content और कहाँ-कहाँ Exist कर रहा है, किसने बिना आपकी Permission के आपका Content Use किया है, और आपके Content में कितना Content Part Duplicate है।   

Quetext

Quetext एक Free & Paid Plagiarism Tool है जो आपके Content में Plagiarism या Duplicacy को Identify करता है। 

इसके Free Version में आप केवल 500 Words ही Check & Analyze कर सकते हैं, इससे अधिक Words के लिए आपको इसके Premium Version को Purchase करने की ज़रूरत पड़ेगी। 

क्योंकि Plagiarism or Duplicate Content को Google जल्दी से Index नहीं करता, आपको इन Plagiarism Checker Tools (SEO Tools Plagiarism) की मदद से इसे हटाने की ज़रूरत होती है। 

Conclusion

SEO Tools आज लगभग सभी Online Business की एक ज़रूरत बन गए हैं। 

ये एक व्यक्ति के Efforts को काफी हद तक कम कर देते हैं जिससे उसका कीमती समय बच जाता है जिसे वह अपनी Various Strategies को Improve करने में लगा सकता है। 

ये Tools Website की Insights को दर्शाते हैं जिससे आपको पता लग जाता है कि Actual में आपकी Website पर क्या चल रहा है और किन Factors पर ध्यान देने की ज़रूरत है। 

इन्हें समझने के लिए ही आज के Blog में हमने इन Free & Paid SEO Tools (SEO Tools In Hindi) के बारे में चर्चा की और जाना कि एक Business Growth में इनकी क्या भूमिका होती है।

जिस तरह SEO Tools की मदद से एक Business को कई गुना तक Grow किया जा सकता है, ठीक उसी तरह एक व्यक्ति को भी अपने जीवन में एक Guru, एक Mentor, या एक Teacher की ज़रूरत होती है, जो उसे सही राह दिखा सके और उसकी जिंदगी को पटरी पर ला सके। 

अब क्योंकि आजकल हर चीज़ डिजिटल होती जा रही है, लोगों को ऐसे Mentors की ज़रूरत महसूस हो रही है जो उनके Business को भी Digital बनाने या Online ले जाने में मदद कर सके। 

ऐसा तभी संभव है जब आपके पास Digital Marketing का Knowledge होगा और आप Digital Marketing Strategies को Implement करेंगे। 

अगर आप Digital Marketing सीखना चाहते हैं और चाहते हैं कि आपका Business भी Online Shift हो जाए जिससे आपको Customers के आने की चिन्ता ना करनी पड़े और साथ ही आपका Bank Balance भी बढ़ता रहे तो जुड़िये मेरे यानि संदीप भंसाली के साथ मेरी Digital Azadi Community में।     

यहां मैं एक Small Business Owner, Homemakers, Students, Service Providers and नौकरीपेशा लोगों को उनकी Income बढ़ाने के Digital Ways सिखाता हूँ।

Website SEO Audit कैसे करें - 10 Steps Guide

Website SEO Audit कैसे करें – 10 Steps Guide

क्या आप अपना Regular Health Checkup करवाते रहते हैं और अपने स्वास्थ्य की देखभाल करते हैं?

जिस तरह एक अच्छे खान-पान और कसरत की मदद से आप अपनी Community में एक स्वस्थ व्यक्ति की Identity बनाते हैं, उसी तरह Website भी आपके Business की एक Digital Identity होती है। 

लेकिन क्या आप अपनी Website को कभी Analyze करते हैं और देखते हैं कि Monthly कितने Visitors आ रहे हैं, कितने Customers में Convert हो रहे हैं, Website के कितने Backlinks बन रहे हैं और किन कारणों की वजह से आज आपकी Website Rank कर रही है?

अन्य लोगों की तरह शायद आप भी नहीं करते होंगे।  

लेकिन क्या आप जानते हैं कि कई बार हमें पता भी नहीं होता और हमारी Website के कुछ Pages Index तक नहीं हो रहे होते, Rank की बात तो बहुत दूर है। 

ऐसा Website के कुछ Internal & External Factors की वजह से होता है जिन्हें Study, Analyze & Optimize करना ही Website SEO Audit कहलाता है।  

Website का SEO Audit करने से आपके SERP में Rank करने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है।  

SEO Audit को विस्तार से समझने के लिए हम आज का यह Blog लेकर आएं हैं जहां हम देखेंगे कि SEO Audit क्या होता है, SEO Audit कैसे करते हैं, SEO Audit Checklist क्या होती है और भी बहुत कुछ। 

तो आइये बिना देरी किये आज के इस Blog को SEO Audit Meaning से शुरू करते हैं।     

Related Post : How To Grow Your Business Using This SEO Fundamental Guide

What Is SEO Audit - SEO Audit क्या होता?

What Is SEO Audit - SEO Audit क्या होता?

अगर हम SEO Audit Meaning को समझें तो हम कह सकते हैं कि यह एक ऐसा Process होता है जिसके तहत आप अपनी Website के उन Errors or Problems को Analyze करते हैं जिनकी वजह से आपकी Website Google के First Page पर Rank नहीं कर रही होती है। 

इसमें सभी छोटे और बड़े Technical & Fundamental Errors शामिल होते हैं। 

इन Errors को Find & Correct करने के लिए कुछ Free & Paid SEO Audit Tools का इस्तेमाल किया जाता है। 

इन Tools के इस्तेमाल से हमें बहुत सी नई Information का पता लगता है, जो Website Ranking सुधारने में Helpful होती है। 

Website के SEO Ranking Factors को जानने के लिए यह Blog अवश्य पढ़ें। 

Also Read : Top 6 Types of SEO To Rank Your Website In Google Within Few Days

Importance of SEO Audit - Why Is It Required?

Importance of SEO Audit - Why Is It Required?

आप जानते हैं कि Website आपके Business का एक Digital Asset है जिसकी माध्यम से आप अपने Target Customers को अपने Business पर Attract करते हैं और अपनी Awareness Create करते हैं। 

लेकिन, आज इतने High Competitive ज़माने में जब एक ही तरह के Business को कई लोग कर रहे हैं, अपने बिज़नेस को अपनी Target Audience तक लेकर जाना मुश्किल होता जा रहा है। 

Inorganic Method (Search Engine Marketing) की मदद से आप कुछ ही समय में अपनी Website को लोगों के सामने लेकर जा सकते हैं, लेकिन जब बात Organic Method (Search Engine Optimization) की आती है, तब थोड़ा समय लगता है। 

और तो और, कुछ छोटी-बड़ी Mistakes भी होती हैं जिनका हमें पता भी नहीं चलता। 

ऐसे में आपको Website SEO Audit की ज़रूरत पड़ती है, जिसमे एक Complete SEO Audit Checklist बनानी पड़ती है, जो आपको निम्न प्रकार के फायदे (SEO Audit Benefits) Provide करती है।    

  1. आप अपनी Website को Search Engine & Users के लिए Optimize कर पाते हैं, उसका Technical Framework, Structure, Mobile Friendliness, Loading Speed को Analyze कर पाते हैं। 

Loading में एक-एक सेकंड का Delay भी आपकी Website का Bounce Rate बढ़ा सकता है जिससे आप Convertible Traffic को Lose कर सकते हैं। 

2. आपको पता चलने लगता है कि ऐसे कौन से SEO Factors हैं जिन्हें Optimize करना रह गया है या Over Optimize कर दिया है, जिससे वह अब Blackhat SEO Technique में Consider किया जाने लगा है। 

इससे आप अपनी Already Implemented SEO Strategies पर Rework कर सकते हैं और अपनी Mistakes को सुधार सकते हैं ताकि Search Engine आपके Website Pages को समझ सके और Crawling & Indexing कर सके। 

क्योंकि यदि Search Engine ने Access नहीं किया तो आपकी Website उन 91% Websites की List में शामिल हो जाएगी जिन पर ना के बराबर Organic Traffic आता है।   

3. इस Process की मदद से आप पता कर सकते हैं कि आपकी Website Lead Generation & Conversion में कहाँ Stand कर रही है। 

SEO Audit Checklist के आधार पर इस Strategy को Implement करने से आप जान सकते हैं कि किन Pages में Proper CTA है, किन में नहीं है, और किन Pages को Redesign करने की ज़रूरत है और उनका Layout Modify करने की ज़रूरत है, ताकि Conversion Rate बढ़ सके। 

4. यह Audit Process आपके Website Errors को Find करने में मदद करता है जो आपके User Experience को खराब कर रहे होते हैं। 

इन Errors में शामिल हैं – Broken Links, Error 404 Redirect, Hidden Content, Speed, Mobile Friendliness, Schema Error, Sitemap Errors, Content Structure (Heading, Subheadings, and Body), etc. 

5. इसके साथ ही आपको Website Structure Issues के बारे में जानकारी मिल जाती है जिन्हें Improve करके आप अपना User Experience बेहतर बना सकते हैं।  


तो हम समझते हैं कि आपको आपके Importance of SEO Audit वाले सवाल का जवाब मिल गया होगा।

यहां तक हमने SEO Audit क्या है और SEO Audit Benefits के बारे में तो समझ लिया, लेकिन हमें यह कैसे पता चलेगा कि इस Process को कब Implement करना चाहिए?

तो चलिए इस सवाल का जवाब जानने के लिए अपने अगले Section को देखते हैं When To Do Website SEO Audit. 

Related Post : Importance of SEO For Business Growth

Website SEO Audit कब Perform करना चाहिए?

जिस तरह अपनी सेहत का ध्यान रखना ज़रूरी है उसी तरह अपनी Website की Health का ध्यान रखना भी ज़रूरी है। 

इससे आप Current Website Errors तो Eliminate कर ही सकते हैं, साथ में Future में पड़ने वाले Impact को भी आज ही Control कर सकते हैं। 

ऐसे में जब भी आपको लगे कि आपके द्वारा Posted Information आपकी Target Audience तक नहीं पहुँच पा रही है, या आपकी Website का Bounce Rate बहुत अधिक बढ़ रहा है, आपको SEO Audit Process Perform करना चाहिए। 

लेकिन यहां सवाल आता है कि आखिर इस Process को कितनी बार Perform करना चाहिए जिससे Best Result मिल सके?

कई Experts का मानना है कि साल में 2-3 बार इस Complete Process को Implement करने से आप काफी हद तक अपने Results को Predictable बना सकते हैं। 

Complete Audit Process को अंजाम देने से आप अपनी Site को Latest Development के हिसाब से Up To Date रख पाते हैं जो आपको एक Competitive Advantage भी देता है। 

लेकिन, क्योंकि Search Engine Algorithms में आये दिन कुछ न कुछ Changes होते रहते हैं, आप महीने या दो महीने में Website के Minor Audits भी कर सकते हैं।  

Minor Audit में आप सभी Factors को Analyze करने की बजाय केवल कुछ ही Factors को Analyze करते हैं और देखते हैं कि उन पर Algorithms Change का कितना Impact पड़ रहा है और आपके Newly Posted Content की Crawling & Indexing में कोई दिक्कत तो नहीं आ रही। 

आइये अब बात करते हैं कि SEO Audit कैसे करते हैं और इस Complete Audit Process में कौन-कौन से Steps शामिल होते हैं। 

SEO Audit करने के लिए आपको कुछ Tools की ज़रूरत पड़ती है जिन्हें SEO Audit Tools कहा जाता है। 

इन Tools की मदद से आप अपने Web Pages की Errors Find कर सकते हैं और उन्हें Resolve कर सकते हैं।  

तो आइये, SEO Audit कैसे करते हैं को जानने से पहले कुछ Important SEO Audit Tools को समझ लेते हैं।  

Also Read : Why Website Is Important in Year 2022

SEO Audit Tools

एक Website के Errors & उसमे Improvements को Manually जाँचना काफी मुश्किल भरा काम होता है। 

ऐसे में कुछ SEO Audit Tools होते हैं जो Specifically Site Audit के लिए ही बनाए गए हैं। 

Google Search Console : यह Free Tool है जो आपको आपकी Website के Crawling & Indexing Issues को Find & Resolve करने में मदद करता है। 

इस Tool की मदद से आप Security Issues, Crawlable Issues, Sitemap Related Issues, Click Through Rate, Any Technical Error, इत्यादि Check & Analyze करने में मदद करता है।  

Google Analytics : इस टूल की मदद से आप अपनी Website Performance को Search Engine में Analyze कर सकते हैं। 

इसके माध्यम से आप अपना Website Traffic, Clicks, Impressions, इत्यादि को देख सकते हैं और इस डाटा के आधार पर अपनी SEO Strategies को Tweak कर सकते हैं।   

Page Speed Tools : Page Speed Tools की मदद से आप अपनी Website की Page Loading Speed को Analyze कर सकते हैं और उन Factors को Find Out कर सकते हैं जो Loading Speed को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं।  

इसके लिए आप Google Page Speed Insights and GTMetrix जैसे Free Tools का Use कर सकते हैं।  

Schema Markup Testing Tool : अगर आप अपनी Website का Schema Create कर रहे हैं तो  आप चाहेंगे कि Backend पर Code ठीक तरह से Create हो रखा हो और कुछ Errors न आएं। 

इस तरह एक सही Schema की मदद से आप अपने Users तक अपनी Business Detail को पहुंचा पाएंगे। 

इस Free Tool की मदद से आप अपने Schema को Test & Validate कर सकते हैं।   

SEO Tools : SEO Tools आपकी Site की Health को Analyze करने की सुविधा देते हैं और बताते हैं कि वो कौन-से Factors हैं जो आपकी Site Performance को Down कर रहे हैं। 

इन Tools में शामिल हैं Ahrefs, Moz, Semrush, Screaming Frog, BuzzSumo, Copyscape, etc. 

यह Tools आपको On-Page SEO Factors, Off-Page SEO Factors, Competitor Analysis, Broken Links, Blocked Robots.txt Files, Keywords, Content Structure, Low Quality & Plagiarized Content इत्यादि को Analyze करने की सुविधा प्रदान करते हैं। 

Check My Links : यह Tool एक Chrome Extension के रूप में उपलब्ध है जो आपकी Website के लगभग सभी Links की Profile को Analyze करने की सुविधा प्रदान करता है। 

इसके माध्यम से आप Broken Links, Structure of Internal & External Links, Backlinks Profile, etc. को Find & Analyze कर सकते हैं।

SEO Audit Meaning and SEO Audit Tools के बारे में Detail से समझने के बाद आइये अब बात करते हैं SEO Audit Checklist के बारे में और देखते हैं कि वो कौन-कौन से Steps हैं जो Website SEO Audit के लिए ज़रूरी हैं।

Website का SEO Audit कैसे करें?

अगर आप अपने Website Errors को Fix करना चाहते हैं और चाहते हैं कि आपकी यह डिजिटल दुकान लोगों की नज़रों में आ सके, तो आपको Website SEO Perform करने की ज़रूरत पड़ेगी।  

इस Process को Perform करते वक्त आपको इन 10 Steps को Follow करना होगा जिससे आप ज़्यादा से ज़्यादा Errors को Fix कर पाएंगे और Dead Pages को Live करके SERP में Rank कर पाएंगे। 

आइये इस 10 Step SEO Audit Checklist को समझते हैं। 

SEO Tool की मदद से अपनी Website को Crawl करें

Website के Errors Find करने और उन्हें ठीक करने के लिए सबसे पहले आपको एक SEO Tool की मदद से अपने Website को Crawl करना होगा। 

इसके लिए आप Ahrefs, Ubersuggest, Semrush जैसे किसी भी टूल का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

आपको अपने URL को Copy करना है और Selected Tool में जाकर Site Audit पर क्लिक करके Website को Crawl होने देना है।  

कुछ Seconds बाद आपको Results मिलेंगे जिसमे विभिन्न Factors देखने को मिलेंगे जो आपकी Site की Health Condition के बारे में बताते हैं।

अपनी Site के Duplicate Version की Browsability को Google पर Check करें

Duplicate Version किसी भी Website के अलग-अलग Web Addresses को दर्शाता है जिससे यह पता चलता है कि कौन-सा Address Index हो रहा है। 

उदाहरण के लिए, किसी भी website के अलग-अलग Web Addresses हो सकते हैं, जैसे कि,

  1. http://yourdomain.com
  2. http://www.yourdomain.com
  3. https://yourdomain.com
  4. https://www.yourdomain.com

एक User को यहां ज़्यादा फर्क नज़र नहीं आता लेकिन Search Engine की नज़र में ये सभी URLs अलग-अलग होते हैं। 

आपकी Site का सिर्फ एक ही Web Address Index होना चाहिए, अन्य Addresses पर आपको 301 Redirect लगाना होता है ताकि यदि User आपके किसी अन्य Address पर क्लिक करे तो वह सीधे आपके Main Address पर Land हो जाए।  

अपनी Site के Indexed URLs को Check करें

Indexed URLs से मतलब है ऐसे URLs जो Already Search Engine द्वारा Crawl & Index किये जा चुके हैं और SERP में किसी Page पर Rank कर रहे हैं। 

ऐसे Pages का पता लगाने के लिए आप “site:yourdomain” Directory का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

आपको करना ये है कि Google पर जाइए और वहां सर्च कीजिए site:digitalazadi.com 

आपके सामने जो भी Results Show होंगे उसमे ऊपर की तरफ Indexed URLs की संख्या लिखी होती है। 

इसे Cross Check करने के लिए आप अपने Google Search Console में जा सकते हैं और वहां Mentioned Indexed URLs की संख्या से Match कर सकते हैं। 

इससे आपको पता लग जाएगा कि कितने URL Index नहीं हैं, जिसका सीधा मतलब होगा कि वह Page Crawl नहीं हुआ है और Search Result में कहीं पर भी Exist नहीं करता। 

इसके साथ ही आप Index & Non Index Pages को जानने के लिए Screaming rog टूल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं जो Google की तरह ही आपकी Site को Crawl करता है। 

इससे आपको पता लग जाता है कि क्या यह Page अपने Duplicate/Thin Content की वजह से Block हुआ है या आपने गलती से इसे robots.txt File से Block कर रखा है।   

इस तरह आप अपनी robots.txt File को भी Analyze कर लेते हैं, जो एक ऐसी File होती है जो Search Engine Crawlers को बताती है कि किस Page को Read करना है और किसे नहीं। 

इस तरह आप इन गलतियों को Resolve कर सकते हैं और Page को Indexing के लिए Allow कर सकते हैं। 

Site पर Google की तरफ से आए Manual Actions को देख लें

कई बार जब कोई Website Google Webmaster की Quality Guidelines को Follow नहीं करती तो उन पर Google की तरफ से कुछ Penalties or Manual Actions आ जाते हैं। 

ये Penalties, Website के किसी Specific Page या Entire Website पर होती है, जो कि एक Website को Derank करने के लिए ज़िम्मेदार होती हैं। 

जब तक Google इन Actions को नहीं हटाता तब तक आपका वो Specific Web Page SERP में ऊपर Rank नहीं कर पाता।  

इसलिए आपको Auditing के समय इन Manual Actions को Check करते रहना होगा और यदि ऐसे कुछ Actions आते भी हैं तो आप इस Guide की Help से उन्हें काफी हद तक Resolve कर सकते हैं। 

On-Page SEO Factors को Analyze करें

On-Page SEO Factors को Analyze करें

SEO Audit Process में On-Page SEO Factors को Analyze करना बेहद ज़रूरी है। 

On-Page SEO Factors में Heading, Subheadings, Title Tag, Meta Description, Alt Tags, Keyword Placement इत्यादि को Analyze करना और इन्हें Correct करना शामिल होता है। 

On-Page SEO Factors को Detail से समझने के लिए हमारे इस Blog को ज़रूर पढ़ें। 

इन सभी Factors को SEO Tool की Help से Analyze करके आप एक Report Generate कर सकते हैं जहां आपको पता लग जाता है कि किन Factors को Optimize & Correct करना है और कौन-से Factors पहले से ही Optimized हैं। 

Internal & External Links को Manage करें और अपने Broken Links को Fix करें

Internal & External Linking को एक बेहतरीन SEO Ranking Factor माना जाता है। 

यह Strategy आपको अपने एक Content को अन्य Relevant Content के साथ लिंक करने में मदद करती है। 

आप अपनी Website के Content को भी Link कर सकते हैं (Internal) और साथ ही अन्य किसी High Domain Authority Website के किसी Relevant Web Page को भी Link कर सकते हैं। (External) 

यहां आपको यही देखना होता है कि क्या Proper Linking की गई है और Relevant Information को ही लिंक किया गया है, जिससे Reader को कुछ Additional Information मिल सके जिससे उसे कुछ फायदा पहुंचे।  

लेकिन, कई बार हमें यह पता नहीं होता कि जिस भी Webpage को हमने Link किया हुआ होता है उनमे से कुछ Pages अब Exist नहीं कर रहे होते। 

ऐसे में Broken Links बन जाते हैं जो Users को कहीं भी नहीं ले जाते और User Experience पर Negative Impact डालते हैं। 

ऐसे में Broken Links का Audit करना ज़रूरी होता है जिसे आप Google Webmaster जैसे Free Tool and Ahrefs, Semrush, Screaming Frog जैसे Paid Tools की मदद से Analyze & Fix कर सकते हैं।   

Also Read : Off-Page SEO Guide To Rank Your Website on Search Engine

Duplicate & Thin Content Issues को Find करें और तुरंत Fix करें

Duplicate Content का मतलब होता है एक ऐसा Content जिसे एक ही Website के अलग-अलग Pages पर Repeatedly Post किया गया होता है या वो एक दूसरे से काफी हद तक Similar होता है। 

Duplicate Content होने से Search Engine को Right Content समझने में परेशानी होती है जिससे Ranking पर Effect पड़ता है। 

इसी प्रकार Thin Content कुछ इस प्रकार का Content होता है जिसे Original Context & Relevancy को ध्यान में रखे बिना Create किया गया होता है। 

Duplicate & Thin Content को एक Black Hat SEO Tactic के रूप में भी देखा जाता है जहां Website Owners इनकी मदद से अपनी Ranking को Manipulate करने की कोशिश करते हैं। 

लेकिन, आपको हर हाल में इस तरह की गतिविधियों से दूर रहना है और Ahrefs & Semrush जैसे SEO Tools की मदद से इन्हें Find & Remove करते रहना है।  

Related Post : Learn Content Creation In Hindi

Mobile Friendliness & Web Page Loading Speed को Analyze करें

Mobile Users की संख्या बढ़ने से आजकल Websites को Mobile Friendly बनाना बहुत ज़रूरी हो गया है। 

लेकिन, कई बार ऐसा देखा गया है कि लोग अपनी Website को Mobile Users के लिए Test ही नहीं करते और Ultimately अपने कई सारे Customers से हाथ धो बैठते हैं। 

Mobile Friendliness Test करने के लिए आप Google के Mobile Friendly Test Tool का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

इसके साथ ही Website Page Loading Speed पर ध्यान देना भी बहुत ज़रूरी है अन्यथा इससे Website का Bounce Rate बढ़ सकता है जो Google को एक Negative Signal देता है और आपकी Website Rank नहीं होती।  

Mobile Friendliness & Loading Speed को Improve करने के लिए आपको अपने Navigation, Font Size, Content Layout, Heavy Media Files इत्यादि को Optimize करना पड़ता है। 

**अगर आप Detail में जानना चाहते हैं कि Website को Mobile के लिए कैसे Optimize करते हैं तो हमारी यह Detailed Mobile SEO Guide पढ़ना न भूलें।  

Backlink Audit Perform करें

Backlink Audit Perform करें

Useful & Relevant Backlinks आपकी Website के SEO को Next Level पर ले जाते हैं। ऐसे में आप इसे अपनी SEO Audit Checklist में शामिल करना न भूलें।  

Backlinko द्वारा 11.8 Million Google Search Results पर की गई एक Study के मुताबिक Backlinks आज भी अन्य Ranking Factors से ज़्यादा महत्व रखते हैं। 

एक High Domain Authority की Website से जब आपको कोई Backlink मिलता है तो उसकी Value बहुत अधिक होती है जिससे आपकी भी Site Authority बढ़ती है।  

Backlink Audit Perform करने के लिए आप Ahrefs & Ubersuggest जैसे Tools का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

इनकी मदद से अपनी Current Backlink Profile को Analyze कर सकते हैं और देख सकते हैं कि कैसे और अधिक High Value Links लेकर आया जाए। 

इसके साथ ही आप अपने Competitors के Backlinks को Find कर सकते हैं और उन्हें Outperform करने की दिशा में काम कर सकते हैं। 

Website Content को Audit करें

अंत में अपने Content को Audit करना भी ज़रूरी है। आप अन्य SEO Factors & Errors को तो Optimize कर लेंगे लेकिन, Content Quality & Relevancy का पता करने के लिए आपको Content Audit Perform करना पड़ेगा। 

कई बार कुछ ऐसे Low Quality Pages होते हैं जिन पर बहुत ही कम Traffic आ रहा होता है। ऐसे में आप उन Pages के Content को Update & Search Engine के हिसाब से Optimize करके दोबारा Indexing के लिए भेज सकते हैं। 

हालाँकि, यदि वह Page बिलकुल ही Dead हो गया है और आपको लगता है कि इसमें बहुत अधिक Optimization की ज़रूरत है, आप उस Page को Delete भी कर सकते हैं। 

लेकिन Delete करते वक्त 301 Redirect लगाकर उस Page का Link Juice अपने किसी Relevant Page पर Direct करना न भूलें। 

Conclusion

किसी भी Business के लिए उसकी Website, Traffic Generation & Brand Awareness से लेकर Lead Generation & Lead Conversion के लिए उत्तरदायी होती है। 

लेकिन, कई बार Website में कुछ ऐसे Errors आ जाते हैं जो एक Website Owner को पता नहीं होती, लेकिन उन Errors की वजह से कई सारी Information लोगों तक नहीं पहुँच पाती। 

ऐसे में Website SEO Audit Process को Implement करने की ज़रूरत पड़ती है जिसके बारे में हमने आज इस Blog में पढ़ा। 

इस Blog के माध्यम से हमने SEO Audit क्या होता है, SEO Audit Benefits क्या हैं, SEO Audit कैसे करते हैं, Website SEO Audit Checklist जैसे सवालों का विस्तार से जवाब दिया है।  

यदि आपको लगता है कि आपको इन सभी Steps को Practical सीखने की ज़रूरत है और उसके लिए आप एक Mentor या Teacher की तलाश कर रहे हैं तो आपकी यह तलाश यहीं ख़त्म होती है। 

क्योंकि, मैं संदीप भंसाली, Digital Mentor, Search Engine Optimization जैसी कई Digital Skills सिखाता हूँ और Practically Guide भी करता हूँ। 

इन Skills को मैं अभी तक 3812 से भी ज़्यादा लोगों को सीखा चुका हूँ, जिसमे Students, Homemakers (गृहणी), Business Owners, Shopkeepers, Employed Individuals, Service Providers इत्यादि शामिल हैं। 

अगर आप भी इनमे से किसी Category में शामिल हैं और अपनी Life में कमाई के नए रास्ते खोलना चाहते हैं तो आज ही जुड़िये मेरी Digital Azadi Community के साथ, जहां आपको Step By Step New & Trending Skills सिखाए जाएंगे और Guide किया जाएगा।

Blogging 101 - Basics Decoded - Blogging क्या है और Blog कैसे बनाएं

Blogging 101 – Basics Decoded – Blogging क्या है और Blog कैसे बनाएं

Blogging के बारे में हम सब ने कभी ना कभी ज़रूर सुना है, कई लोगों को कहते भी सुना है की वो Bloggers हैं या उनके दोस्त Blogger हैं पर कितने लोग यह जानते है कि Blogging क्या होता है, या ब्लॉग कैसे बनाएं ? 

हमारे काफी सारे Readers के Suggestion के बाद आज का Article Blogging In Hindi पर Dedicated है।

इस Article में Blogging क्या है इसपर विस्तार से बात होगी और साथ ही यह भी बताया जाएगा की आप Blog कैसे बना सकते हैं और कहाँ – कहाँ अपने Blogs Publish कर सकते हैं। 

अगर आप Blogging Kya Hai In Hindi Search करते हुए यहाँ तक पहुंचे हैं तो इस Article को अंत तक ज़रूर पढ़ें।
आपको Blogging से जुड़ी काफी जानकारी इस Article में मिल जाएगी। 

Blogging एक Popular Career Choice है, In Fact सारे Available Webpages में से ⅓ यानी एक तिहाई Web Pages Blogs को Dedicated हैं। 

Semrush के Blogging Statistics में यह बताया गया है कि Internet पर 1.7 Billion Websites हैं जिनमें से 500 Million तो Blogs हैं।  

एक और Available Statistic के हिसाब से हर महीने 70 Million Blog Post Publish किए जाते हैं। 

Blogging Kya Hai यह समझने से पहले इसकी शुरुआत कैसे हुई इसे संछिप्त में समझिए।  

Table of Contents

Blogging की शुरुआत कैसे हुई ?

Blogging की शुरुआत कैसे हुई ?

Blogging की शुरुआत 1994 में हुई थी। 

उस समय Blogging Diary Writing की तरह हुआ करती थी। 

जब लोगों ने Blogs लिखे तो उनमे अपने कुछ ख़ास या दिलचस्प किस्से या फिर उनका कोई निजी अनुभव लिखकर उसे Online Publish किया और इसी तरह Blogging Digital Personal Diary Writing की तरह शुरू हुई।  

इसी Personal Diary को लोग Online Share करते थे और एक – दूसरे के Experiences के बारे में जानने लगे। 

इनमे लोग अपनी Daily Life या फिर कुछ खास Incidents के बारे में बताया करते थे और इसी तरह लोगों  को Online Communication का एक नया माध्यम मिल गया और साथ – साथ Blogging की दुनिया की शुरुआत भी हुई। 

अब Blogging की कहानी को Fast -Forward करते हैं और समझते हैं Blogging Meaning In Hindi.  

Blogging क्या है?

Blogging क्या है

Blogging का मतलब है अपने Skills जैसे Photography, Writing [लेखन] और अन्य Media को Online Self – Publish करना।  

कई लोग Blogging को एक Skill की तरह भी Define करते हैं। 

उनके अनुसार Blogging एक Skill है जो Blogs लिखने के लिए या Blog Writing के लिए ज़रूरी है। 

कई लोग Blogging को एक Process की तरह भी Define करते ऐन। उनके हिसाब से Blog Creation से लेकर Blog Publishing तक की Full Process को Blogging कहते है। 

Blogging को लेकर एक Myth और भी है, और वो यह कि Blogging का Association सिर्फ Writing या लेखन से है परन्तु ऐसा नहीं है। Photo और अन्य Media Publishing भी Blogging का हिस्सा है।

अब जब Blogging Kya Hai इसे संछिप्त में समझ लिया है तो अब बात करते है Blog क्या है और Blog Kaise Banaye?

Blog क्या होता है ?

Blog क्या होता है ?

Blog एक Narrative या Write -Up की तरह ही होता है, पर कुछ चीज़े हैं जो इसे बाकि Write – Ups से अलग बनाती हैं जैसे – 

  • Blog Writing में लेखक का अपना अनुभव या उसकी राय बहुत ज़रूरी होती है। 
  • Blogs का कोई Specific Format नहीं है, यह बात अलग है कि Blogs लिखने के लिए कुछ Guidelines और Format Suggestions Available हैं पर कोई Specific Format नहीं है। 
  • Blogs कई तरह के होते है जैसे Informative Blogs, Fashion Blogs, Personal Blogs Etc. और हर तरह के Blog में कुछ Variation देखने को मिलता है। 

यह सब Blogs के Characteristics भी है।  

Blog यह शब्द वास्तविकता में Short – Form है इसका Original नाम “Weblogs” था जिससे Blog बना। 

यह Weblogs Internet Users को अपनी पूरी दिनचर्या Record या Log करने में मदद करते थे, बिकुल वैसे जैसे Diary में किया जाता है। जैसे इसी Article में हमने पहले भी Discuss किया था, Blogs Writing की शुरुआत Digital Diary की तरह ही हुई थी।

Blog में Use की जाने वाली भाषा साधारण तौर पर Informal होती है। 

Blogs के लिए आम  बोलचाल की भाषा का प्रयोग किया जाता है। जैसे अगर Formally कुछ पूछना हो तो Enquire शब्द का इस्तेमाल किया जाता है, वहीँ अगर Informally कुछ पूछना तो Ask शब्द अधिक प्रचलन में है और इसी प्रचलित भाषा का इस्तेमाल Blogs में किया जाता है।

Blogs कई भाषाओं में लिखे जा सकते हैं, पर हिंदी और English में लिखे जाने वाले Blogsकी संख्या बाकी भाषाओं की तुलना में अधिक है।

Blogging Kya Hai और Blogging कैसे की जाती है इसके लिए Blog क्या है यह समझना ज़रूरी था, इसे समझने के बाद अब समझते है कि Blog Kaise Banaye. 

Blog कैसे Create करते हैं?

Blog कैसे Create करते हैं?

हमारे Readers में कई ऐसे लोग हैं जो अपना खुद का Blog बनाना चाहते हैं पर यह नहीं जानते कि Blog Kaise Banaye जाते हैं। 

यह Section उन लोगों को Guide करेगा Blog Create करने में। 

Blog Create करने के लिए सबसे पहले एक Subject Select करना ज़रूरी है, Subject से यहाँ पर मतलब है उस विषय से जिसपर आप Blog बनाना चाहते हैं या Blog लिखना चाहते हैं। 

इसके बाद Blog – Type Identify किया जाता है, उसके बाद Relevant Keyword Search किए जाते है, फिर Content Research के बाद Content Create किया जाता है और Last में Editing And Polishing  की जाती है। 

इन्हीं सब Steps को हम Detail में Discuss करेंगे –

Subject (विषय) का चयन करें

Blog Create करने के लिए सबसे ज़रूरी है Subject या Topic Decide करना जिसपर आप लिखना चाहते हैं। 

यह Topic आपके Interest के Basis पर हो सकता है जैसे – Skin Care या फिर किसी ऐसे Area से Related हो सकता है जिसे आप Explore करना चाहते हो जैसे – Mythology या फिर कोई ऐसा Subject जिसमे आपका Experience हो जैसे – Product Designing, Digital Marketing, इत्यादि। 

आपके Blog के Subject का Expandable होना बहुत ज़रूरी है। 

काफी सारे Bloggers बहुत Specific Subjects ले लेते हैं, और फिर उस Topic को Expand करने में Problem होती है। 

जैसे Food एक Broad Subject है पर अगर आप Food में से सिर्फ एक Specific Item जैसे उंधियू पर Blogs लिखें तो शायद आपका Blog इतना Scalable ना हो और आपके Readers भी काफी Specific हो जायेंगे। 

आपके Blog का Subject अगर आप से Relatable हो तो आप कम Research में एक Better Blog Create कर पाएंगे। 

आप किसी Product या Service Category को भी As A Subject ले सकते है। 

काफी सारे Budding Bloggers जब यह पूछते हैं कि Blog Kaise Banaye तो उनमे से Majority का मतलब होता है कि किस Subject पर Blog लिखें? 

अगर आप भी उनमे से हैं और कोई Topic Decide नहीं कर पा रहे हैं तो Trending News या Trending Topics पर भी अपना Blog Design कर सकते है।  

Blog Type Select करें

Blog Type Select करें

Blog कई तरह के होते है जैसे – Personal Blogs, Travel Blogs, Professional Blogs, Food Blogs, Review Blogs Etc. 

जो लोग Blogging Kya Hai इस बारे में थोड़ा भी जानते हैं वो Blogs Types के बारे में भी थोड़ा बहुत जानते ही होंगे। 

यह बिल्कुल ज़रूरी नहीं है कि आप इन्ही Types में से किसी Type को Choose करें। 

आप दो या दो से ज़्यादा Types भी Choose कर सकते हैं जैसे -आप Food Review Blog Start कर सकते हैं या फिर Personal Travelling Blog. 

यह पूरी तरह से आपके Interest और आपकी Requirements पर Depend करता है कि आप कौनसा Blog Type Choose करते है।

Blog Type Choose करना इसलिए Important है ताकि आपके Blog को Categorize किया जा सके और उसी Category के हिसाब से उसे Share और Promote किया जा सके। 

Keyword Research करें

Keyword Research करें

आपके Blogs में Relevant Keywords का होना बहुत ज़रूरी है। 

यह Keywords आपके Blog की Visibility और Searchability बढ़ाते हैं। 

आपका Blog चाहे जितना भी अच्छा क्यों ना हो पर अगर आपकी Audience उस तक Reach नहीं कर सकती तो वो बस आपके Personal Notes या फिर Diary की तरह है। 

इसलिए किसी भी Topic पर Blog Create करने से पहले उससे Related Keywords को Search करें और उन्हें अपने Blog में ज़रूर Include करें। 

Market में कई Free और Paid Keyword Research Tools Available हैं जिनकी मदद से आप आसानी से Keywords Search कर सकते हैं।

Keyword Research को विस्तार से समझने के लिए ये Blog पढ़ें। 

जो लोग Blogging In Hindi या हिंदी भाषा में Blogs लिखना चाहते हैं, उन्हें Bilingual या दोनों भाषाओं –  हिंदी और अंग्रेजी दोनों के Keywords को Target करना चाहिए और साथ ही Hinglish के Keywords को भी क्योंकि काफी सारे हिंदी Readers Google पर Hinglish में Search करते हैं। 

कई Readers English Keywords के Through भी Hindi Content Search करते हैं।

उदाहरण के लिए अगर आप Blogging के बारे में जानना चाहते हैं तो इन Keywords को Search करेंगे – What Is Blogging, Blogging क्या है? या Blogging Meaning In Hindi Etc. 

इसलिए English और Hinglish Keywords भी Blogs में ज़रूरी होते हैं। 

Content Research और Content Creation करें

Content Research और Content Creation करें

Content Research Blog Writing का एक Impotant हिस्सा है।

एक Ideal Blog Length 2000 – 3000 Words तक Range करती है। 

ज़ाहिर सी बात है इतना बड़ा Blog लिखने के लिए काफी Research की ज़रूरत होती है। 

Blog Writing के लिए Topic से Related काफी सारी Details Collect करनी होती हैं, फिर उन्हें Study करते हुए Research करके खुद से लिखना होता है ताकि आपके Blog के Content में Plagiarism ना हो। 

उसके बाद Blogger उस Topic पर अपना View Point या अपनी राय रखता है और Last में Relevant Keywords Add करता है और Blog Create करता है। 

यह कोई Fixed Format या Steps नहीं है यह Blogger के Writing Style पर Depend करता है। 

Blog की Language अधिकतर Informal होती है और Blogs को लिखने के लिए Conversative Tone का Use किया जाता है।  

जो लोग Blogging In Hindi या किसी अन्य भाषा में Blog लिखने में रुचि रखते हैं, वे Bilingual Blogs भी लिख सकते हैं अथवा वे Hinglish का भी Use कर सकते हैं। 

Hinglish Blogs भी काफी Trend में हैं।   

Read Also – Effective Content Creation के लिए 9 ज़रूरी Steps 

Blog Editing और Polishing करें

यह Blog Creation की आखिरी Step है। 

Blog का Draft Create करने के बाद उसमे Editing और Polishing करना काफी ज़रूरी है। 

Editing के दौरान Spelling Errors, Grammatical Errors, Punctuation Errors Etc. को Rectify किया जाता है। 

Blog Polishing से यहां मतलब एक Final Touch-Up से है, जिसमे Images, Video या Audio Add किये जाते हैं। 

Formatting Check की जाती है, Background Edit किया जाता है, Links – Backlinks Insert किए जाते हैं, और बाकि जो भी चीज़े Blog को अंतिम आकर देने के लिए ज़रूरी होती हैं, वो सभी चीज़े इस Step के दौरान की जाती हैं। 

Editing और Polishing के बाद आपका Blog Posting के लिए तैयार है, अब देखते है की इन Blogs को कैसे Upload, या Share कर सकते हैं, यानि किन Platforms पर Blog Upload या Publish किया जा सकता है।  

Blogs को Upload या Publish कहाँ कर सकते हैं?

Blogs को Internet पर Upload या Publish करने के लिए कई सारे Options Available हैं। 

जैसे 

  • खुद की HTML Website बनाकर Blogs Publish करना, 
  • WordPress पर Blogs Publish करना, 
  • किसी और Brand की Website पर Blogs Publish करना, 
  • अपने Social Media Platforms और LinkedIn Profile पर Blogs Publish  करना और
  • Bloggers जैसी अन्य Blogging Sites पर Blogs Publish करना। 

यहाँ पर Blog Upload या Blog Publishing से मतलब है आपके Blog को आपके Readers तक पहुंचाने के लिए उसे किसी भी Medium के Through Internet पर Publish करना। 

इन सारे Options को एक – एक करके Discuss करते हैं 

HTML Website Create करके Blog Publish करें

HTML Websites उन Bloggers के लिए काफी अच्छा Option है जो Tech – Freak हैं या जिन्हें Coding आती है। 

HTML Website से Dynamic Blog Pages Design किए जा सकते हैं। 

आप जितने चाहें उतने Blogs Publish कर सकते हैं और साथ ही उन Blogs को अपने हिसाब से Design भी कर सकते हैं। 

HTML में किसी Extra – Cost या Plugins की ज़रूरत नहीं होती इसलिए यह एक Cost – Effective Option भी है।

इतने सारे Advantages के बाद भी HTML की Coding Complexities उसे Bloggers के लिए एक Less Preferable Option बनाती है। 

HTML Websites में एक छोटी सी Detail Change करने के लिए भी आपको Coding में Change करना पड़ता है जो की काफी Complex हो जाता है। 

वहीं दूसरी तरफ जिन्हे HTML Coding अच्छे से आती है वह HTML का Use करके अपनी Personal Website Create कर सकते हैं और अपने Blogs उन Websites पर Publish कर सकते हैं। 

जिन्हे Coding नहीं आती वे भी किसी HTML Developer से Site Create करवा सकते हैं पर वह Costly होगा क्योंकि आपको एक Developer Hire करना होगा अपनी Website बनाने और उसे Maintain करने के लिए। 

जो लोग Blogging की Field में नए हैं या Blogging Kya Hai इस बारे में ज़्यादा नहीं जानते उनके लिए HTML एक Complicated Option हो सकता है।    

Read Also – क्या सच में Website होना ज़रूरी है?

WordPress पर Website बनाएं और Blog Publish करें

WordPress पर Website बनाएं और Blog Publish करें

WordPress Bloggers में काफी Popular है। 

Blogging के अलावा भी WordPress एक Well- Known Platform है। 

Blogging Wizard में Publish एक Data के अनुसार जितनी भी Websites Internet पर Registered हैं, उनमें से 40% WordPress पर है। 

WordPress की शुरुआत एक Blogging Tool की तरह ही हुई थी पर आज WordPress एक Prominent Content Management System है।

काफी सारी बड़ी Companies जैसे The New York Times, Time Magazine, Sony, Disney Etc. यह सब WordPress Use करते हैं। 

WordPress का Software Free Of Cost Available है, आप उसे Download कर सकते हैं और उसपर Website Create भी कर सकते है।

WordPress का Software ज़रूर Free है पर Website को Internet पर Upload करने के लिए आपको Domain और Hosting Purchase करना  ज़रूरी है। 

Domain का मतलब है अपनी Website के लिए एक Specific Name और Address Purchase करना और Hosting के ज़रिये आप अपनी Website और उससे Related Data को Internet पर Publish कर सकते है।

WordPress की कुछ Themes Free हैं तो वही कुछ Themes सिर्फ Premium Users के लिए ही Available हैं। 

WordPress एक Easy To Use Tool है और Customization इसका USP है। 

यहाँ कई तरह की Themes Available होती है जिससे आप अपने Blog को अपने हिसाब से Design कर सकते हैं और साथ ही यहाँ पर Changes भी आसानी से किए जाते हैं। 

WordPress पर Available Themes को भी Customize किया जा सकता है। इन Themes में आप Background Color Change कर सकते हैं, Logo Upload कर सकते हैं और Extra Plugins भी Add कर सकते हैं। 

WordPress के ज़रिये अपनी Website या Blog कैसे बनाएं, ये मैं Practically अपने Courses में सिखाता हूँ। आज ही DhanNeeti Course में Enroll करें और 100% Practical Implementation के साथ Blogging सीखें। 

Professional Bloggers हो या  New Bloggers या फिर Budding Bloggers जो अभी यह समझ ही रहे है कि Blogging Kya Hai, इन सभी के लिए WordPress एक Ideal Tool है।

Brand Website पर Blogs Publish करें

कई सारे Brands Bloggers को Hire करते हैं अपनी Website पर Blog लिखने के लिए। 

इसके अलावा कुछ ऐसी भी Websites हैं जहाँ आप अपने Blogs Publish कर सकते हैं और अपने नाम से भी Publish कर सकते है या फिर कोई Anonymous नाम का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। 

ऐसा ही एक Platform है – Fuzia, वैसे यह एक Sharing Community है जो Women को Dedicated है। 

यहाँ वो अपनी Writings – Blogs और Articles Share कर सकती है और उसके साथ- साथ ही अपने Artworks और Thoughts भी Share कर सकती हैं। यह एक Free To Use Platform है। 

इसी तरह का एक Platform है Speaking Tree

जो भी Bloggers Mythology या फिर Spirituality में Interested हैं, वो Speaking Tree कि Website पर Register करके अपनी Profile Create कर सकते हैं, उसके बाद उस Profile पर Click करने के बाद आपको Create Blog का Option दिखाई देगा, उसे Select करके नीचे दिए Instruction को Follow करके आप अपना Blog Create कर सकते हैं। 

इन दोनों Websites के अलावा भी कई सारी ऐसी Websites हैं जो Bloggers को एक Platform Provide करती हैं। Blogging In Hindi में Interested लोग या फिर Hindi Blog Writers भी Speaking Tree पर Blog लिख सकते है। 

Social Media और LinkedIn Accounts पर Blogs Publish करें

Social Media और LinkedIn Accounts पर Blogs Publish करें

Social Media और LinkedIn Profile पर Blogs Post करने का एक बड़ा Advantage ये है कि यहाँ Blogs Free Of Cost Publish किए जा सकते हैं। ना Domain की ज़रूरत है और ना ही Hosting की कोई Need है।

LinkedIn Blogging के लिए एक अच्छा Platform है। 

एक Research के हिसाब से LinkedIn के 500 Million से ज़्यादा Users हैं और करीबन 250 Million Monthly Active Users हैं।  

इसके अलावा LinkedIn पर 1 Million से ज़्यादा Users अपना Content Publish करते हैं। 

LinkedIn एक Recruiting Platform होने के साथ – साथ Corporate Network भी है, जहां Users Industry Related Updated Trends और Content की तलाश में रहते हैं। 

LinkedIn Blogs का Use Lead Generation और Traffic Drive करने के लिए किया जाता है। 

LinkedIn पर आप जब भी कोई Blog या Article Publish करते हैं तो उसका Notification आपके Followers तक पहुंच जाता है। 

LinkedIn एक बड़े Publishing Platform की तरह दिख रहा है। 

LinkedIn के अलावा Facebook पर भी Blogs लिखे जा सकते हैं। 

Facebook का अपना एक Blogging Platform भी है Facebook Notes. 

यह Initiative Small Businesses के लिए Start किया गया था ताकि वह अपनी Online Presence Improve कर सकें। Facebook Notes एक Supporting Tool है, उसे Full – Fledged Blogging Platform की तरह नहीं देखा जा सकता है। 

Blogger जैसी अन्य Blogging Websites पर Publish करें

Blogger जैसी अन्य Blogging Websites पर Publish करें

WordPress की तरह ही कई अन्य Websites भी हैं जिन पर Blogs लिखे जा सकते हैं। 

क्योंकि WordPress Blogging के लिए एक Popular Website है इसलिए उसके बारे में अलग से Discussion करना ज़रूरी था।

Blogger भी एक Popular Blogging Website है और Completely Free भी है। 

इसे Access करने के लिए आपको बस अपने Gmail पर जाकर Google Apps का Option Select करना है, फिर एक Drop – Down Appear होगा उसमे से Blogger का Option Select करना है, फिर उसपर Register करने के बाद आप अपना Blog Start कर सकते है।

आप चाहें तो Blogger को अपने Blog Sample Collection की तरह भी Use कर सकते हैं। 

अगर आप Freelance Blogging में Interested है तो कुछ Blogs यहाँ Publish कर सकते हैं, जिन्हें बाद में Work – Sample की तरह Use किया जा सके।

Bloggers के अलावा Wix, Weebly, Substack जैसी कई Blogging Websites भी Available हैं।  

Conclusion

यह Era Content और Digital Marketing का है। 

Blog एक Prominent Content Type है जिसमें काफी लोग आज रुचि रख रहे हैं।

Blogging को काफी लोग एक Complete Profession की तरह देखते हैं और काफी लोग इसे Passive Income या Side – Income के Source की तरह भी देखते हैं।  

इस Article में हमने Blogging Kya है या Blogging In Hindi पर बात की और साथ ही हमने Discuss किया कि Blog Kaise Banaye और उन्हें कहाँ Publish करे। 

Blogging ने पिछले कुछ सालों में काफी Popularity Gain की है और आज कई लोग इसके ज़रिए Passive Income भी कमा रहे हैं। 

अगर आप भी Blogging में रुचि रखते हैं, तो आज ही Blogging  Practically सीखना शुरू कीजिए। 

जुड़िए मेरे साथ Digital Azadi के DhanNeeti Course के ज़रिए जहाँ मैं Blogging के सारे Verticals सिखाता हूँ Hindi में और बताता हूँ कि कैसे आप Blogging और डिजिटल मार्केटिंग सीखकर अपने लिए एक से ज़्यादा Income Sources बना सकते हैं।

A Complete Guide To Local SEO For Your Offline Business

Top 10 Local SEO Strategies To Grow Your Offline Business Digitally

क्या आप अपने Local Business को Search Results में Rank कराना चाहते हैं?

क्या आप चाहते हैं कि आपकी भी Shop, Factory, Retail Outlet इत्यादि पर अधिक से अधिक Customers Visit करें?

यदि हाँ, तो ज़रूरी है कि आप Local SEO को बारीकी से समझें।

एक Research के मुताबिक, 50% Search Engine Users अपनी Local Search के एक दिन के अंदर ही Offline Store को Visit कर लेते हैं। 

Local SEO उन Digital Marketing Strategies में से एक है जो हर तरह के Business Owners, जो Offline अपना कोई Store चलाते हैं, को मदद करता है। 

इसका सबसे बड़ा फायदा है कि इसकी मदद से आप अपने Local Customers से सीधा Face To Face Interact कर पाते हैं जिससे आप उन्हें Upsell भी कर सकते हैं। 

Upsell से तात्पर्य है Customers को उनके Desired Product के साथ अन्य Products or Services भी Sell करना। 

इससे Ultimately आपके Business का Revenue बढ़ता है। 

इसलिए, आज के इस Blog में हम आपको Local SEO के बारे में ही बताने वाले हैं, जहां हम आपको बताएंगे कि Local SEO kya hota hai, यह कैसे काम करता है, Local SEO Benefits क्या हैं, और देंगे अन्य कई महत्वपूर्ण Tips. 

Table of Contents

What is Local SEO In Hindi | Local SEO क्या है?

What is Local SEO In Hindi | Local SEO क्या है?

Local SEO से मतलब है अपने Business को Local Search के लिए Optimize करना। 

Local SEO की मदद से किसी भी Offline Business को उसके Local Customers या Audience को Attract करने के लिए Local Search Results में Rank किया जाता है, जिसके लिए उसकी Online Presence को बढ़ाया जाता है। 

इसे Implement करने पर Search Engine Crawlers Location के हिसाब से Best & Relevant Businesses को Search Result Page पर Show करते हैं। 

ऐसे में अगर आपका Offline Competition काफी बढ़ रहा है, आप Local SEO को Implement करके अपनी Website के माध्यम से अपने Physical Store पर Customers Visit करा सकते हैं। 

आइये अब देखते है कि यह अन्य SEO Types से कैसे अलग है। 

Also Read : आपकी Website के लिए एक Complete SEO Fundamental Guide 

Local SEO अन्य Types of SEO से कैसे अलग है?

हम अन्य Types of SEO Strategies को पहले ही पढ़ चुके हैं, जहां हमने On-Page SEO, Off-Page SEO, Technical SEO, White Hat SEO, and Black Hat SEO के बारे में समझा था। 

लेकिन, Local SEO इन सभी Strategies से अलग कैसे है और इसमें ऐसा क्या है जो इन बाकि SEO Types में नहीं? आइये जानते हैं। 

Local SEO, जैसा कि नाम से ही प्रतीत हो रहा है, एक Specific Geographical Location को Cover करता है और उस Location के अंदर रहने वाले लोगों की Queries के हिसाब से Local Results Show करता है। 

इस Strategy को Implement करके आप International Audience को Target नहीं कर सकते और उन्हें अपने Store पर Visit नहीं करा सकते। 

लेकिन, अन्य SEO Strategies पूरी तरह से National & International Traffic को Site पर भेजने से सम्बंधित है। 

बाकि SEO Processes जैसे कि On-Page SEO, Technical SEO, and Off-Page SEO में ऐसी Strategies शामिल होती हैं जो Website को एक Particular Niche Audience के लिए Rank कराने से संबंधित होती है। 

इसमें ये मायने नहीं रखता कि आपकी Niche Audience कहाँ से Belong करती है। 

आप भारत में बैठ कर एक Niche Specific Website बना रहे हैं और आपकी Audience या Traffic USA, Britain, Australia से आ रहा है, ऐसा बिलकुल संभव है। 

Other SEO Types में On-Page SEO Factors Optimization, Link Building से लेकर Social Media Marketing & Site Structure तक का ध्यान रखना पड़ता है। 

वहीं Local SEO में Main Focus होता है अपने Local Business को Local Listings में Add करना, Especially Google My Business में। 

लेकिन, Local SEO Strategies काम कैसे करती है, आइये जानते हैं अपने Next Section में। 

How Does Local SEO Work | Local SEO कैसे काम करता है

Local SEO अपने Local Business को किसी Specific Region or City के लिए Rank करने का सबसे आसान तरीका है । 

Local Search के लिए Optimize करते वक्त आप Google को Signal देते हो कि आपका Business इस Region में Located है और चाहते हो कि Customers आपके Business को सर्च करके आपके Store पर Visit करें। 

इसके लिए आपको Listing Create करनी पड़ती है और Google My Business पर अपना Account Create करके अपना Business List करना पड़ता है। 

Google My Business एक Free Platform है जो आपको फ्री में अपना बिज़नेस लिस्ट करने की सुविधा देता है। 

इसके अतिरिक्त ऐसे कई Paid Platforms हैं, (E.g. Justdial, IndiaMART, Sulekha, Yellow Page, etc.) जहां पर आप अपने Business को List करके Enquiry Generate कर सकते हैं। 

Google My Business में आपको अपने Business की Accurate Details डालनी होती हैं जो आपके Business से Relevant होनी चाहिए। 

इसके अतिरिक्त, Local SEO को Implement करते वक्त आपके पास अपनी Website का होना बहुत ज़रूरी है। 

क्योंकि, Website पर आपको एक Schema Markup लगाना पड़ता है जो Google को बताता है कि आपकी Website & Business किस बारे में है और किस Particular Area को आप Serve कर रहे हैं। 

Schema Markup Add करने के लिए आप WordPress का Local SEO Plugin Use कर सकते हैं। 

यही नहीं, Local SEO के Different Ranking Signals होते हैं, जैसे :

  1. Google My Business पर Listing 
  2. Users द्वारा Searched Keywords की आपके Google My Business Profile पर Available Keywords के साथ Relevancy
  3. User की Geographical Location या जिस Location के लिए वह सर्च करना चाह रहा है 
  4. NAP (Name, Address, Phone No.) Citations 
  5. Online Reviews 
  6. Google My Business पर Products & Services की Original Photos
  7. अन्य Directories (E.g. IndiaMART, Justdial, Yellow Pages) पर Business की Listing  
  8. Business की Google Maps Star Rating 
  9. Mobile Responsive Website 

इन Factors के आधार पर Search Engine अपना Decision लेता है और Best & Relevant Business Profile को सबसे ऊपर Rank करता है।  

ये सभी Local SEO Tactics का एक अहम हिस्सा है। 

Also Read : Search Engine Optimized Content कैसे लिखते हैं?

Importance of Local SEO

Local SEO क्या है और Local SEO Meaning को जानने के बाद आइये अब जानते है Local SEO Importance क्या है और कैसे ये एक Business का Revenue Grow करने में मदद करता है। 

**Search Engine Optimization क्यों Important है और कैसे काम करता है को जानने के लिए यह Blog अवश्य पढ़ें।  

आपका Business SERP में Rank करने लगता है

आपका Business SERP में Rank करने लगता है

Local SEO Strategy को सही तरीके से अंजाम देने से आपका Business Google के Local Search Results में Rank करने लगता है। 

हालाँकि, शुरुआत में हो सकता है कि उसकी Ranking उतनी अच्छी न हो, लेकिन जैसे-जैसे Business Profile पर Good Ratings, Better Reviews आने लगते हैं और User Engagement बढ़ने लगती है, आपकी Ranking भी Improve होने लगती है। 

आपके Offline Business की Visibility Online & Offline दोनों जगह बढ़ती है

जब भी आप अपने Business को List करते हैं तो आपको अपनी Business Website भी बना लेनी चाहिए, ताकि आपके Offline Store पर आने से पहले Visitors आपकी Website को Visit कर सकें। 

एक बार जब उन्हें आपके Products & Services का Idea हो जाता है, वो आपके Physical Space पर भी आने लगते हैं। 

इस तरह आपकी Online & Offline Visibility बढ़ने लगती है। 

Conversion के बहुत अधिक Chances होते हैं

यदि आपके Product में दम है और उससे लोगों की Problems Solve हो रही हैं तो आपको Better Reviews मिलना शुरू हो जायेंगे जो अन्य लोगों को भी आपके Business पर Attract करेंगे। 

ऐसे में आपके पास अपने Visitors को Customers में Convert करने का बेहतरीन मौका हो सकता है। 

यही नहीं, आप उन्हें Upsell भी कर सकते हैं और अधिक Revenue Generate कर सकते हैं।  

Market में आपके Business की Reputation बनने लगती है

ये बात तो सही है कि अच्छी Ratings और अच्छे Reviews का मतलब है लोगों का आप पर Trust बढ़ना, जिससे Visitors की संख्या बढ़ती है और आपके Business Page पर ज़्यादा Clicks आते हैं।  

यह Factors उस Specific Location के लिए आपकी Reputation को बढ़ाने में कारगर है। 

इन Factors के अलावा आइये कुछ Local SEO Stats भी देख लेते हैं, जिन से आप समझ पाएंगे कि Why Local SEO Is Important.

  • Google पर होने वाली 46% Searches में Local Intent होता है। 
  • एक Local Survey के मुताबिक, 61% लोगों ने कहा है कि वो हर दिन Locally Search करते हैं। 
  • एक अन्य Survey में यह पाया गया है कि 82% Consumers अपनी Local Search के दौरान Online Reviews पढ़ते हैं।  
  • दुनिया के आधे से भी ज़्यादा Users अपने Local Search के लिए Mobile Device का Use करते हैं। इसलिए अपने Page को Mobile Optimized बनाना ज़रूरी है। 

इसे भी पढ़ें : Website को Mobile SEO के लिए कैसे Optimize करें?

Who Needs Local SEO | Local SEO For Small Business

Who Needs Local SEO | Local SEO For Small Business

जो भी Business एक Certain Area में Run करता है और उसका अपना कोई Office या Commercial Space है, उसे Local SEO की ज़रूरत होती है। इनमे मुख्यतः शामिल हैं :

  1. कोई Local Business जैसे कि Professional Service Providers, Medical Services, Pet Services, Legal Services, Gyms & Spa, Salons, Grocery Shops, Showrooms, Retail Outlets, Warehouses, Restaurants, etc. 
  2. Digital Marketing Agencies, जो किसी Specific Location में अपने Local Clients को Serve कर रही होती हैं।

    इस Category में Teaching के वो सभी Institutes भी शामिल हैं जो Students को कुछ न कुछ सिखा रहे हैं। 

3. अलग-अलग Brands की Franchises, जो ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को अपने Outlet पर लेकर आना चाहती हैं। 

4. ऐसी Agencies जो Home Services देती हैं जैसे कि Baby Care, Car Wash, Pest Control Service, House Cleaning, etc.  

लोग इन सभी Businesses के Physical Location पर जाने से पहले इनकी Ratings & Reviews को पढ़ना पसंद करते हैं।

इसलिए, यदि आप अपने Products & Services में Quality देंगे तो आपको अच्छे Reviews मिलेंगे और आप Local SEO Strategies को Implement करके SERP में Rank कर पाएंगे।  

Factors Affecting Local Search Results

क्योंकि आप जान ही चुके हैं कि Local SEO क्या होता है, आपको यह भी पता होना चाहिए कि वो ऐसे कौन-से Factors हैं जो Local Search Results को Affect करते हैं। 

Google तीन प्रमुख Ranking Categories को Define करता है, जो कुछ इस प्रकार हैं : 

Searcher Location और आपके Business Location के बीच की Distance

Searcher अपने सर्च में जो भी Location Terms Use करता है, उस से आपके Business का Distance कितना है, Local Search Results में मायने रखता है। 

यदि Searcher कोई Location Terms Use नहीं करता तो Google खुद ही उसकी Location जान लेता है और Relevant Results Show कर देता है। 

ध्यान रहे कि आप अपनी Website पर अपने Location Relevant Keywords का ज़रुर उपयोग करें। For e.g Best Chinese Restaurants In Dwarka.

Searcher Location और आपके Business Location के बीच की Distance

Relevancy To Search Query

Relevancy दर्शाती है कि कोई Business Profile किसी User की Search Query से कितना मेल खाती है। 

इसके लिए आपको अपनी Business Profile में Complete & Accurate Details भरनी पड़ती हैं, ताकि Google आपके Business को अच्छे से समझ सके और Relevant Searches पर आपकी Profile को Show कर सके। 

इसके लिए आपको अपनी Website पर Schema Markup को Incorporate करना पड़ता है और साथ ही ये भी ध्यान रखें कि आपकी Google My Business की NAP (Name, Address, Phone No.) Details आपके हर Business Platforms पर Consistently Same हो।  

Relevancy To Search Query

Business Prominence

Business Prominence से मतलब है कोई Business एक Specific Location में कितना Well-Known है या कितने लोगों को उस Business के बारे में पता है। 

उदाहरण के लिए कोई Famous Museum, Hotel, Cafe, etc. 

इसके अलावा, Google के पास भी Business की काफी जानकारी होती है जो उसे Articles, Directories, Links, etc. के माध्यम से मिलती है। 

Google उस Business के Reviews, Ratings, इत्यादि को भी देखता है और उसके आधार पर Local Search Results में Rank करता है।   

इन तीनो Factors के अतिरिक्त भी Google ने यहां कुछ Information Share की है जिसे आपको जानना ज़रूरी है। 

Local SEO के बारे में इतना कुछ जानने के बाद आइये अब बात करते हैं कि Local SEO Checklist की जहां हम आपको कुछ Local SEO Tips के बारे में जानकारी देंगे। 

Also Read : YouTube SEO Checklist

Local SEO Checklist and Tips

अपने Business का Local SEO करते वक्त इन Local SEO Checklists पर ध्यान देना ज़रूरी है। 

अपने Business Page को Google My Business (GMB) & Local Reviews Sites पर List करें

अपने Business Page को Google My Business (GMB) & Local Reviews Sites पर List करें

Google My Business आपके Business को Online List करने का एक बेहतरीन Platform है। 

इस पर लिस्ट करने से आपके Local Users आपके Products & Services के बारे में Enquire कर सकते हैं और आप तक आसानी से पहुँच सकते हैं।   

GMB पर लिस्ट करने के लिए आपको इस पर एक Account Create करना होता है, अपने Business की सारी Details भरनी होती हैं, Google Maps Add करना होता है और Business को Live करना होता है। 

NAP का सटीकता से इस्तेमाल करें और ध्यान रखें कि ये Information हर Channel पर Consistent हो

NAP का मतलब है Name, Address, and Phone Number. 

NAP Details Fill करना आपके Business के लिए बहुत ज़रूरी है। ध्यान रखें कि आप इसे सही से Fill करें और अपने सभी Platforms पर, जहां-जहां भी आपने अपने Business की Profile बनाई हुई हो, वहां एक Consistency Maintain करें। 

उदाहरण के लिए, अपनी Website पर, Social Media Profiles पर, Local Listing Sites पर, और Google My Business पर। 

जब भी कोई Geo-Targeted Search होती है, Relevant Results दिखाने के लिए Google, NAP डाटा को Consider करता है। 

इसके साथ ही आप अपने Business की Photos, Description With Keywords, Opening Hours भी ज़रूर लिखें। 

अपने Business Relevant Keywords सर्च करें

आपको अपने Business को List करने से पहले Relevant Keywords को Search करना होगा और Keyword Research करनी होगी। 

Low Competition & High Profitable Keywords को अपनी लिस्ट में शामिल करें। 

इसके साथ ही अपनी Business Profile में Local Keywords and Long Tail keywords का Use ज़रूर करें। क्योंकि, Users अपनी Query Search करते वक्त इन्हीं Keywords का ज़्यादातर Use करता है। 

अपनी Website को Mobile Friendly बनाएं

आज के समय में Mobile Friendly Website का न होना मतलब हज़ारों नए Customers का खोना। 

ऐसे में आप अपने Business का Revenue Grow करने से वंचित रह सकते हैं।  

Mobile Friendliness को Test करने के लिए आप Google Mobile Friendly Test Tool का Use कर सकते हैं। 

** Website का Mobile SEO करने के लिए हमारी इस Premium Guide को ज़रुर पढ़ें – 7 Steps Framework To Optimize Website For Mobile SEO

अपने Customers से Reviews & Ratings प्राप्त करें

Reviews & Ratings नए Customers Create करने में मदद करते हैं। जो व्यक्ति आपके Business के बारे में नहीं जानता वो आपके Business Page पर आकर आपकी Profile, Photos, Reviews & Ratings ही देखता है और उसी के आधार पर अपना Decision लेता है। 

यही नहीं, Google भी Reviews & Ratings को प्राथमिकता देता है और बेहतर Reviews & Ratings वाले Businesses को ही Local Search Result में Rank करता है।  

लेकिन, उसका मतलब ये नहीं कि आपके Page पर सिर्फ 5 Star Reviews ही होने चाहिए, इससे नए Visitor को शक होने लगता है और वो सोचने लगता है कि कहीं ये Spammy Reviews तो नहीं है।  

Negative Reviews भी होने से कुछ परेशानी नहीं होती। आपको अपने Page पर आने वाली सभी Queries का निवारण करना चाहिए जिससे आपके Page पर Engagement बढ़ सके और आप Google की नज़रों में आ सकें। 

अन्य Trusted Websites से Brand Mention & Relevant Backlinks प्राप्त करें

जब आप अपने Offline Business की Website Run कर रहे होते हैं तो आपको उस पर Traffic लाने के लिए Brand Mention & Link Building की ज़रूरत पड़ती है। 

इन्हें प्राप्त करने के लिए आप अपनी Niche में Expert लोगों से Networking कर सकते हैं, Competitors Research करके उनके Backlinks का Source Find कर सकते हैं, अपनी Local Business Directories & Business Groups से Backlinks ले सकते हैं, इत्यादि। 

**Link Building Tactics को विस्तार से जानने के लिए हमारा Off-Page SEO Blog ज़रूर पढ़ें। 

Voice Search के लिए Optimize करें

Voice Search के लिए Optimize करें

Voice Search आजकल Trend में है। लोग कई तरह की जानकारी लेने के लिए Voice Search का उपयोग करने लगे हैं।

ऐसे में Business Page & Website को Voice Search के लिए Optimize करना ज़रूरी हो जाता है।

इसमें सबसे महत्वपूर्ण Factor है – Relevant & Long-Tail Keywords को अपनी Business Profile & Website पर Use करना।  

इसके अलावा आपको अपने Location Related Keywords Use करने होंगे और Near Me जैसे Phrase का इस्तेमाल करना होगा। 

Local Content Create करना शुरू करें

अगर आप अपनी Specific Audience तक पहुंचना चाहते हैं तो Local Content Create करना शुरू कर दीजिये। 

इसके लिए आप अपने Business Pages में महत्वपूर्ण FAQs को Target कर सकते हैं जिससे आप अधिक Queries के लिए Search Results में पहले Show हो सकें। 

इसके साथ ही City Specific Landing Pages बना सकते हैं और उन पर Deals & Discounts Offer करके अधिक से अधिक लोगों को Attract कर सकते हैं।   

Read Also : 9 Best Practices For Effective Content Creation

Website के On-Page Factors Optimize करना न भूलें

On-Page SEO आपकी Website Pages के Internal Factors को Optimize करने में मदद करता है जिससे आप SERP में Rank कर सकते हैं और अच्छा Traffic Gain कर सकते हैं। 

On-Page Factors Optimization में शामिल हैं URL Structure, Title Tag Optimization, Meta Description, Heading & Subheadings Optimization, etc.

**On-Page SEO को विस्तार से जानने के लिए इस Blog को पढ़ना न भूलें। 

अपनी Website का Local SEO Audit ज़रूर करें

अपनी Website का Local SEO Audit ज़रूर करें

एक बार सभी Details को Accurately Fill करने के बाद आपको अपनी Website & Business Pages का Local SEO Audit करने की ज़रूरत पड़ेगी। 

इसमें आप Analyze कर सकते हैं कि,

  1. आपका Google My Business, SERP में कैसा दिख रहा है?
  2. क्या आपकी Site में Crawlable Errors तो नहीं हैं ? इसके लिए Search Console को Analyze करना पड़ेगा। 
  3. क्या आपकी Site के सभी On-Page SEO Factors Optimized हैं?
  4. क्या सभी Directories में एक ही Information Fill की गई है, कहीं कोई Mismatch तो नहीं है?

इस तरह आप अपने Business Page & Website में हो रही Mistakes का पता लगा सकते हैं और उन्हें समय रहते Resolve कर सकते हैं।   

Conclusion

Local SEO आपके Local Business को Grow करने का एक नायाब तरीका है।

यह उन लोगों या Agencies के लिए Helpful है जो अपनी Physical Services or Products Sell करती हैं।  

इसकी मदद से एक Offline Business को Local Search Result Pages में ऊपर लाया जाता है जिससे उस Business पर Visitors आ सकें और Customer में कन्वर्ट हो सकें। 

इस Strategy को Implement करते समय आप एक Specific Location की Audience को Target करते हैं। 

इसके लिए आपको GMB & अन्य Directories पर Business को List करना पड़ता है, Relevant Photos Add करने हैं, NAP Information Fill करने  जैसे कई कार्य करने पड़ते हैं जिससे आपका Business Page Local Search Results में Rank हो जाए। 

यदि आपका Business Page Relevancy, Distance, and Prominence, तीनो में अव्वल होगा, Google की नज़रों में एक Positive Signal जाएगा और वो आपको खास महत्व देने लगेगा। 

इसलिए, सभी Small Business Owners को Local SEO को Step By Step सीखना बहुत ज़रूरी है। 

यदि आप भी ऐसा ही चाहते हैं और Practically ये सब सीखना चाहते हैं तो आपको जुड़ना होगा मेरे DhanNeeti Course में। 

यहां मैं Local SEO के अलावा अन्य Types of SEO और अन्य कई High Income Skills सिखाता हूँ जिससे आप घर बैठे ही कुछ ही महीनों के अंदर Rs. 1 Lakh Per Month तक Earn कर सकते हैं। 

Top 6 Types of SEO To Boost Your Organic Ranking

Top 6 Types of SEO To Boost Your Organic Ranking

क्या आप जानते हैं कि 50% से भी ज़्यादा Website Traffic Organic Search से आता है? 

यही नहीं, 95% से ज़्यादा Search Traffic, SERP में Ranked First Page पर जाता है। 

ऐसे में आपकी Website के रूप में आपके Brand की Presence होना और उसका रैंक होना बहुत ज़रूरी है। 

किसी भी Website को Search Engine Result Pages (SERP) में Rank कराने के लिए Free & Paid Digital Marketing Strategies का इस्तेमाल किया जाता है। 

Free Strategy में शामिल है Search Engine Optimization (SEO) !

वहीं Paid Strategy में शामिल है Search Engine Marketing (SEM) !

हम इन दोनों ही Strategies के बारे में अपने विभिन्न Blogs में बात कर चुके हैं। 

SEO को समझने के लिए हमारा यह Blog पढ़िए – The Ultimate SEO Fundamental Guide

SEM को समझने के लिए हमारा यह Blog पढ़िए – SEM For Business Growth     

जैसे कि हम SEO के बारे में पहले भी बात कर चुके हैं, यह एक ऐसी Organic Strategy है जिसकी मदद से Websites को SERP में Rank कराया जाता है। 

लेकिन, बेशक Website को रैंक कराने में थोड़ा समय लगे, परन्तु एक बार Rank होने पर Business की Profitability कई गुना बढ़ जाती है। 

अब क्योंकि SEO थोड़ा Complex Topic है, हम आपके लिए एक Complete SEO Series चला रहे हैं, जहां हम आपको SEO Basic से लेकर SEO Advance तक की पूरी जानकारी दे रहे हैं। 

आज के इस Blog में भी आपको SEO के बारे में कुछ Advance Information जानने को मिलेगी, जहां हम आपको विभिन्न SEO Types Hindi से रूबरू कराएंगे।

तो चलिए बिना देरी किये शुरू करते हैं आज का Blog – Different Types of SEO In Hindi 

Also Read : SEO Vs SEM In Hindi

Table of Contents

Types Of SEO | SEO के प्रकार

Types Of SEO SEO के प्रकार

SEO एक काफी बड़ा Topic है। अगर आप Internet पर Search करने निकलेंगे तो आपको बहुत से SEO Types देखने को मिल जाएंगे। लेकिन उनमे से सभी आपके काम के नहीं होते। 

इसलिए आज हम आपको 6 Important Search Engine Optimization Types के बारे में बताएंगे, जो आपके Business को लोगों तक पहुंचाने में मदद करेंगे। ये कुछ इस प्रकार हैं:

  1. On-Page SEO
  2. Off-Page SEO
  3. Local SEO
  4. Technical SEO
  5. White Hat SEO
  6. Black Hat SEO

आइये अब इन सभी Types को एक-एक करके विस्तार पूर्वक समझते हैं।  

On-Page SEO

On-Page SEO

On-Page SEO को कई बार On-Site SEO भी कहा जाता है, जिसका उपयोग Web Page Content को Optimize करने के लिए किया जाता है। 

On-Page SEO का मकसद होता है Page Structure को Optimize करना और Website पर Posted Content को Search Engine Crawlers से अवगत कराना ताकि वो समझ सके कि Content किस बारे में है और User Query के कितना Relevant है। 

जैसे-जैसे आप Relevant Content डालते रहते हैं और On-Page SEO Factors को Optimize करते रहते हैं, Search Engine समझ जाता है कि आपकी Website Relevant & Quality Information दे रही है। 

इससे Google अपने Algorithms में Listed Hundreds of Website Ranking Factors के आधार पर आपकी Website को Search Result में ऊपर लेकर आने लगता है और इस तरह आपकी Ranking Improve होने लगती है। 

चलिए बात करते हैं कि On-Page SEO करते वक्त आपको Website के किन Elements (On-Page SEO Eelements) को Optimize करना पड़ता है।    

On Page SEO Factors
  1. URL : URL किसी Webpage का Address होता है जिसे Online किसी के साथ भी Share किया जा सकता है। 

URL को हमेशा Short रखने की कोशिश करें, Suitable Keyword Use करें, और ध्यान रखें कि कोई Stop Word (E.g. a, in, the, your, etc.) Use न हो। 

2. Title Tag : आपके Post का Title जो Search Engine Result Page (SERP) में दिखता है, Title Tag कहलाता है।
Title Tag आपके Content के Relevant होना चाहिए और इसमें आपका एक Primary Focus Keyword ज़रूर होना चाहिए। 

साथ में कोशिश करें कि Title में कुछ Powerful Words Use करें, संख्या का Use करें, और इसे कुछ इस तरह से लिखें कि Reader इसे देखते ही इस पर Click कर दे और आपके Content को Read कर सके। 

3. Meta Description : Meta Description आपके Content का एक छोटा सा सार होता है या फिर यूँ कहें कि ये Words का एक ऐसा समूह होता है जिसे आप Search Engine & Users को दिखाना चाहते हैं। 

अपने Meta Description को To-The-Point रखना और उसमे Keyword Add करना बेहद ज़रूरी है। 

Title & Meta Description दो ऐसे Factors होते हैं जो आपकी Web Page पर अधिक Clicks लाने के लिए ज़िम्मेदार होते हैं। 

4. Content : Content को Crawlers & Users के लिए Optimize करना On-Page SEO की सबसे बड़ी प्राथमिकताओं में से एक है।  

आपको Relevant Content तो तैयार करना ही होगा, साथ ही Content की Quality पर भी ध्यान देना होगा। 

इसके लिए Keywords Placement, Sentence Formation, Detailing इत्यादि पर ध्यान देना पड़ता है। 

अपने Content के शुरुआती 100 शब्दों में Keyword को Place करें, Headings & Subheadings में Keywords Place करें, Content Body में Keywords Place करें, और Content के आखिर में भी Keywords को Place करें। 

ध्यान रखें कि Keyword Stuffing (बहुत अधिक Keywords Use करना या Repeat करना) न करें, अन्यथा Search Engine द्वारा Ban भी किया जा सकता है।  

इसके अलावा, Short Paragraphs लिखें और अपने Content को एक Proper Format & Detailing देने की कोशिश करें, जिससे पढ़ने वाले को भी एक अच्छा Experience मिल सके। 

इसे भी पढ़ें : Content Writing In Hindi

5. Heading & Subheadings Tag (H1, H2, H3) : Headings & Subheadings Tags से आप अपने Content को Content Body से अलग कर सकते हैं, जिससे Crawler को भी Content समझने में आसानी होती है। 

इन Headings & Subheadings में आपको अपने Primary Focus Keywords & Secondary Keywords (LSI) भी डालने होते हैं। 

6. Image Alt Attribute (Alt Txt) : क्योंकि Search Engine Crawlers हम इंसानो की तरह Images को नहीं पढ़ सकते, वो Text को Read करते हैं। ऐसे में आपको अपनी Images को कुछ नाम देना होता है, जिसे Image Alt Text कहा जाता है। 

आपको ऐसा नाम चुनना होता है जो आपकी उस Image को आपके Content के साथ Relevant बना सके। 

ध्यान रखिएगा कि नाम के साथ आपको अपना कोई Relevant Keyword भी Use करना होता है। 

7. Anchor Text :  ये कुछ ऐसे Words होते हैं जो किसी Keyword को Define कर रहे होते हैं और Clickable होते हैं, जिससे User इन पर क्लिक करके किसी अन्य Page पर Direct हो जाता है। 

उदाहरण के लिए – डिजिटल मार्केटिंग

8. Internal & External Links : Internal & External Linking भी On-Page SEO का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह Search Engine Crawlers को एक Positive Signal देता है कि आप Users को बेहतर Quality Provide कर रहे हो।

इससे आपके Linked Web Pages Rank होते हैं और SERP में आपकी Authority बढ़ती है।  

9. Mobile SEO : Mobile के लिए Website को Optimize करना Mobile SEO कहलाता है। 

आजकल Mobile Users की संख्या Computer Users की तुलना में लगातार बढ़ती जा रही है, इसलिए Mobile SEO Strategies को Implement करना ज़रूरी है। 

एक Mobile Optimized Website हमेशा Fast Load होती है जिससे उसका Bounce कम हो जाता है और वो User Friendly बन जाती है। 

Mobile SEO को हमने एक Complete Guide के माध्यम से समझाया है जिसका Title है –  

7 Step Framework To Optimize Website For Mobile SEO 

इस Guide को ज़रुर पढ़िएगा, आपको निश्चित ही कुछ नए Facts का पता चलेगा।  

इन सभी On-Page SEO Factors को समझने के बाद अब बात आती है Off-Page SEO Factors को समझने की। 

**On-Page SEO के बारे में और अधिक जानकारी के लिए पढ़िए हमारा Blog : Search Engine Optimized Content लिखने के 4 Golden Steps 

Off-Page SEO Factors भी उतने ही Important हैं जितने कि On-Page Factors. आइये इनके बारे में भी विस्तार पूर्वक जानते हैं। 

Also Read : SEO कैसे काम करता है?

Off-Page SEO

क्या आप जानते हैं कि एक ऐसा SEO Type भी होता है जिसमे आपको अपनी Website को Optimize करने की ज़रूरत नहीं होती?

जी हाँ, उस SEO Type का नाम है Off-Page SEO!

इस SEO Process के तहत उन सभी External Factors पर ध्यान दिया जाता है जो एक Website को SERP में Rank कराने के लिए ज़िम्मेदार होते हैं। 

Off-Page SEO में दो चीज़ें सबसे ज़्यादा महत्व वाली होती हैं – Authority & Relevancy!

इन दोनों Factors को समझने से पहले हमें समझना होगा कि Off-Page SEO कैसे काम करता है। 

इस SEO Strategy में तीन सबसे महत्वपूर्ण Strategies शामिल होती हैं, जिनका नाम है Link Building, Social Media Marketing, Brand Building

Link Building से तात्पर्य होता है अपनी Website के लिए Backlinks Create करना। 

Backlinks हमेशा एक High Domain Authority, Page Authority, and Relevancy वाली Websites से Create करने होते हैं।

क्योंकि इन High Authority Websites से Backlinks मिलने का मतलब है उनकी Website का Link Juice आपकी Website पर Transfer होना, जो Ranking में बहुत फायदा करता है। 

वहीं Social Media Marketing and Brand Building में आपको अपने विभिन्न Social Media Platforms पर Profile Create करनी होती है और अपने Visitors के साथ Engage होना पड़ता है। 

आप उन्हें Content Marketing के माध्यम से Value Provide करते हैं और जिससे Search Engine को Positive Signal जाता है और Website की Ranking पर Positive Impact पड़ता है।  

**Off-Page SEO को हमने अपनी एक Detailed Off-Page SEO Guide में समझाया है, जहां हमने उसमे Link Building Techniques, Link Types, Social Media Marketing, and Brand Building के बारे में विस्तार से चर्चा की है। 

Local SEO

क्या आपका एक Offline Business है, दुकान है, या Factory है जहां पर आप रोज़ Physically जाकर अपना दिन गुज़ारते हैं और Customers से Deal करते हैं?

क्या आप चाहते हैं कि कोई ऐसा तरीका हो जिससे आपके Offline Business को अधिक से अधिक लोग जानने लगें, Store पर Customers आने लगें और आपकी Sale कई गुना बढ़ जाए?

यदि हाँ तो आपको अपने Business में एक Unique & Important SEO Strategy को Implement करना होगा जिसका नाम है Local SEO. 

Local Search Engine Optimization में आपको अपने Offline Business को अपने Local Customers & Search Engine के लिए Optimize करना होता है। 

आइये इसे एक उदाहरण के माध्यम से समझते हैं। 

मान लेते हैं कि आप दिल्ली में रहते हैं और Google पर सर्च करते हैं – Best Chinese Restaurant In Delhi 

आपको Results में कई Restaurants देखने को मिल जाएंगे। ये सभी Results अपने Local SEO के दम पर ही Rank कर रहे होते हैं। 

एक स्टडी के मुताबिक, 91% Consumers अपना Decision लेने से पहले Online Local Reviews पढ़ना पसंद करते हैं। 

ऐसे में यदि आप इस Strategy को Implement नहीं करेंगे तो आपको अपने नए Customers से हाथ धोना पड़ सकता है।    

आप चाहें तो अपने Business को Online भी Run कर सकते हैं, लेकिन यदि आपको लगता है कि आप Local Customers तक भी अपने Product or Services Sell कर पाएंगे तो आपको Search Engine Result में अपने Offline Business को Show करने के लिए Local SEO का सहारा लेना पड़ेगा। 

तो आइये अब बात करते हैं कि Local SEO को Implement कैसे किया जाता है।

Local SEO - तो आइये अब बात करते हैं कि Local SEO को Implement कैसे किया जाता है

Local SEO की शुरुआत होती है Google Listing Create करने से। 

Google Listing Create करने के लिए आपको Google My Business में अपना एक Account Open करना पड़ता है, जहां आपको ज़रूरत पड़ती है एक Email Id की। 

यहां आपको अपनी Business Profile Create करनी पड़ती है और अपने Local Store से जुडी जानकारी जैसे Business Name, Address, Contact Information, Opening Hours, Customer Reviews, इत्यादि डालने पड़ते हैं। 

इसके साथ ही आपको अपनी Listing को अपने Business की कुछ बेहतरीन Photos, Description, 5 Star Reviews की मदद से Optimize करना होता है। 

Google को समझाने के लिए Schema Markup Add करना पड़ता है, अपनी Specific Location & Region का चयन करना होता है, Google Map Add करना होता है। 

इसके अलावा, Keywords डालने होते हैं और कुछ Awards & Achievements Mention करने होते हैं, ताकि लोगों में Trust बन सके और वो आपके Local Business पर Visit कर सकें और Ultimately Customers में Convert हो सकें। 

यहां आप अपने Business की एक Dedicated Website भी Create कर सकते हैं ताकि लोग आपके Store पर Visit करने से पहले आपके Products & Services की पहले से ही जानकारी ले सकें। 

ध्यान रखिएगा कि आपकी Website Mobile Friendly हो और उसका Mobile SEO सही से हुआ हो। 

**Website का Mobile SEO कैसे करते हैं, इसे जानने के लिए पढ़िए हमारा Blog – 7 Steps Framework To Optimize Website For Mobile SEO

ये सभी Details डालने के बाद आपको अपने Business को Local Directories में Promote करना होता है। 

Local Business को Grow करने और Google की नज़रों में आने के लिए सबसे ज़रूरी है अपने Visitors & Customers को Quality Products & Services Sell करना। 

इससे आपके Business की Online चर्चा होने लगेगी और उस पर अच्छी Ratings आने लगेंगी, जिसे Google भी Notice करने लगेगा और Ultimately आपके Competitors की तुलना में आपके Business को रैंक करेगा। 

Local SEO के लिए हमारा एक Dedicated Blog आने वाला है, जिसमे हम आपको विस्तार से बताएंगे कि Local SEO क्या होता, ये क्यों ज़रूरी है, इसे Implement करने के लिए क्या-क्या Steps Follow करने पड़ते हैं, इत्यादि। 

तो आपको बने रहना है हमारी इस SEO Series में और इस ज्ञान को अर्जित करते रहना है। 

Also Read : Top 10 Digital Marketing Strategies For Small Business Owners

Technical SEO

Technical SEO एक ऐसा SEO Type होता है जिसमे वो सभी Backend Actions होते हैं जो Search Engine Bots को आपके Web Pages को Crawl & Index करने में मदद करते हैं। 

इसे हम Website का Skeleton (कंकाल) भी कह सकते हैं, लेकिन सिर्फ Skeleton से बात नहीं बनने वाली। आपको इसे On-Page SEO & Off-Page SEO की मदद से मज़बूत बनाना पड़ेगा। 

इसके अंदर कुछ Internal Factors को Optimize करना होता है जिससे Crawling & Indexing Fast होती है। 

इसमें Website Speed को बढ़ाना, उसे Mobile Friendly बनाना, Sitemaps Upload करने जैसे Factors शामिल हैं।

यदि हम इसे एक Sentence में समझना चाहें तो हम कह सकते हैं कि Technical SEO में आपको Site Speed, Mobile Friendliness, Site Structure, Structured Data, Crawlability, Indexing, Security इत्यादि पर Focus करना पड़ता है। 

आइये अब Technical SEO की कुछ Activities को समझते हैं। 

  1. अपनी Website का Design Responsive रखें ताकि वो किसी भी Device पर सही तरीके से Open हो सके और User को एक अच्छा Experience दे सके। 
  2. अपनी Site पर HTTP की जगह HTTPS का Use करें ताकि आपकी Website Secure हो सके और उस पर कोई Man-In-Middle Attack न हो पाए। 

इसके अलावा HTTPS को Implement करने से आपकी Website का Bounce Rate भी कम होता है, क्योंकि एक Insecure Site पर जल्दी से लोग Enter नहीं करते और अगर करते भी हैं तो बहुत जल्द वापस आ जाते हैं।  

3. अपनी Website पर Schema Markup का Use करें जिससे Crawlers आपके Page की Information को समझ सके, Categorize कर सके, और Crawling & Indexing Fast हो।

4. Technical SEO Perform करते वक्त Robots.txt को Update करना न भूलें। 

5. अपनी Website के Broken Links (Internal & External) को Fix करना न भूलें तथा Redirects को Properly Add करें। 

6. अपनी Website पर Posted Thin & Duplicate Content को Update करना न भूलें। इससे Crawling में दिक्कत आती है और User Experience भी अच्छा नहीं होता।

तो आपको कुछ इस तरह की Activities Perform करनी पड़ती हैं और अपने Overall User Experience को सुधारना पड़ता है।     

यहां आप अपने Website के लगभग सभी Technical Errors को Check & Analyze करने के लिए Google Webmaster Free Tool का Use कर सकते हैं।  

White Hat SEO

White Hat SEO

White Hat SEO उन सभी Optimization Practices का Combination होता है जो Google Search Engine Guidelines को ध्यान में रख कर Implement की जाती हैं। 

वैसे तो इसमें शामिल सभी Strategies Organic होती हैं जिनसे Result आने में थोड़ा समय लग जाता है, लेकिन जब भी कोई New Algorithm Update आता है तो आपकी Website Down नहीं होती। 

क्योंकि, इसमें Used सभी Practices Legit होती हैं और Google Guidelines को Follow करते हुए Implement की गई होती हैं, ऐसे में इसे एक Low Risk & High Reward SEO Strategy भी कहा जा सकता है। 

यहां हम आपको बताना चाहेंगे कि White Hat SEO में कुछ अलग Steps नहीं Perform किये जाते, बल्कि On-Page, Off-Page, and Technical SEO की Tactics को ही Legit तरीके से और Google Guidelines को Follow करते हुए Use किया जाता है। 

यदि फिर भी हम White Hat SEO Tactics की बात करें तो इसमें शामिल है,

  1. Quality Content Produce करना जो Long Form हो और किसी अन्य Website से Copy नहीं किया गया हो। 
  2. Proper Keyword Research, Keyword Placement करना और Keyword Stuffing को Avoid करना। 
  3. Legit Ways से Link Building या Backlinks Create करना जैसे Blogger Outreach & Guest Blogging. 
  4.  अपनी Website को Responsive & Mobile Friendly बनाना। 
  5. अपनी Website Loading Speed को बेहतर बनाने की दिशा में कार्य करना। 
  6. अपने Old Content को लगातार Update करते रहना। 
  7. अपनी Site Navigation को बेहतर बनाने की दिशा में कार्य करना। 
  8. अपनी एक Proper Online Presence बनाना जहां आप Articles, Videos, Infographics इत्यादि Content लगातार Post करते रहें। 

ये सभी Steps आपके White Hat SEO में शामिल हैं जिन्हें आप यदि लगातार Implement करते रहेंगे तो आपकी Website पर Search Engine Algorithms Updates का ज़्यादा असर नहीं पड़ेगा।  

Black Hat SEO

Black Hat SEO

Black Hat SEO में वो सारी Unethical Practices शामिल होती हैं जिनका उपयोग Website को Search Engine में Quickly Rank कराने के लिए होता है। 

इन Practices को Search Engine Guidelines Follow किये बिना ही Implement किया जाता है। 

ये Practice Fast Result ज़रुर देती हैं परन्तु Temporary होती हैं और Search Engine की कोई भी नई Update आने से Website को Down या Ban करवा देती हैं। 

इसलिए इन Practices को अपनाना आपकी Website और Ultimately आपके Business के लिए एक घाटे का सौदा साबित हो सकता है। 

Black Hat SEO में निम्न Tactics शामिल होती हैं:

  1. Keyword Stuffing करना, मतलब एक Article में Search Engine Crawlers को Impress करने और Relevancy का Signal देने के लिए ज़बरदस्ती कई बार एक ही Keyword को Use करना। 
  2. Spammy Backlinks Create करना और Paid Link Building Methods का Use करना। 

कुछ लोग अपनी Site को जल्दी रैंक करने के लिए Fiverr जैसी Freelancing Website से केवल कुछ पैसों में हज़ारों Irrelevant Backlinks खरीद लेते हैं। 

यदि ये एक बार Search Engine की नज़रों में आ जाते हैं तो Site का Down होना लगभग तय होता है। 

3. Cloaking करना, जिसके तहत Website Owners एक ही नाम से Crawlers & Users के लिए अलग-अलग तरह का Content Create करते हैं। 

4. Hidden Texts & Links का Use करना।

5. Thin & Duplicate Content का Use करना। 

6. Article Spinners का Use करके अपनी Website पर Spinned Articles को Use करना, जिसमे पहले से लिखे Article को ही Spin करके उसकी अनेक Copies बनाई जा सकती हैं।  

7. Doorway Pages का Use करना, जो केवल Keywords से भरा होता है और उसमे Relevant Information नहीं होती और ऐसे Links होते हैं जो Users को Irrelevant Pages की तरफ Direct कर रहे होते हैं। 

ये सभी Tactics Black Hat SEO में Consider की जाती हैं। ऐसे लोग कभी न कभी Google की नज़रों में आ ही जाते हैं और उनकी Website भी Ban हो जाती है। 

इसलिए जितना हो सके केवल Ethical Ways का सहारा लेकर ही अपनी Website को SERP में Rank करें। 

Conclusion

Search Engine Optimization किसी भी Website को Search Engine Result Pages में Rank कराने के एक बेहतरीन Organic तरीका होता है। 

Search Engine Optimization के विभिन्न Types होते हैं जिनमे से आज हमने कुछ महत्वूर्ण SEO Types के बारे में इस Blog में पढ़ा। 

Website को Optimize करने के लिए उसके Internal Factors के साथ-साथ कुछ External Factors को भी Optimize करना ज़रूरी है। 

ध्यान ये रखना चाहिए कि हमेशा आप Legit Ways का Use करके ही Website को Rank कराने की कोशिश करें। 

लेकिन, दूसरी ओर कुछ ऐसे लोग भी हैं जो अपनी Website को जल्दी Rank कराने के लिए कुछ गलत Strategies का Use करते हैं और कुछ समय बाद कोई Update आने पर पकड़े जाते हैं और उनकी Site Ban हो जाती है। 

Website आपकी Digital Dukaan है, ऐसे में इसे आप Ban नहीं होने दे सकते। 

इसलिए केवल सही तरीकों को ही Implement करके अपनी Website पर Traffic लेकर आएं। 

अब यदि आप और विस्तार से इन Legit Ways को जाना चाहते हैं और Practically उन सभी Steps को समझना चाहते हैं तो आपको ज़रूरत पड़ेगी एक Mentor की जो आपको इस Journey में Guide कर सके और सही गलत में फर्क बता सके। 

यदि आप ऐसे ही एक Mentor की तलाश में हैं तो जुड़िये मेरे यानि संदीप भंसाली के साथ। मैं हिंदी में Digital Marketing सिखाता हूँ और SEO समेत अन्य High Income Skills का ज्ञान Practically अपने Students को देता हूँ। 

A Complete Guide On Off-Page SEO For Ranking Your Website On Search Engine

A Complete Guide On Off-Page SEO For Ranking Your Website On Search Engine

क्या आप एक ऐसी SEO Strategy के बारे में जानना चाहते हैं जिसमे आपको अपनी Website को Optimize करने की भी ज़रूरत नहीं होती?

जी हाँ, हम बात करने जा रहे हैं एक ऐसे SEO Type की, जिसका Website पर Posted Content से ज़्यादा कुछ लेना-देना नहीं है, बल्कि, कुछ ऐसे External Factors से लेना-देना है जिन्हें Optimize करने से Website को SERP में Rank कराना आसान हो जाता है। 

इस SEO Strategy का नाम है Off-Page SEO!

Off-Page SEO का काम होता है Relevant & Authoritative Websites से Links लेकर अपनी Site पर Relevant Traffic को भेजना जिससे Search Engine की नज़रों में उसकी Quality & Authority दोनों बढ़ सके। 

तो आइये इस बहुत ही मज़ेदार Concept के बारे में विस्तार से चर्चा करते हैं। (Off-Page SEO In Hindi) 

*Search Engine Optimization Process को Detail में समझने के लिए पढ़िए हमारा Blog – The Ultimate SEO Fundamental Guide 

Table of Contents

Off-Page SEO In Hindi

Off-Page SEO In Hindi

जैसा कि हमने ऊपर बताया, Off-Page SEO एक ऐसा Process होता है जिसमे Website के Pages पर काम न करते हुए अन्य External Factors पर फोकस किया जाता है। 

Off-Page SEO का मकसद होता है Website के माध्यम से Brand पर Trust Gain करना, जिससे अधिक संख्या में Visitors आपकी Website पर Visit कर सकें और Search Engine की नज़रों में उसकी Authority बढ़ने लगे।

Authority बढ़ने लगेगी तो आपकी Website अपने आप ही Search Engine Result Page में ऊपर Rank करने लगेगी। 

Off-Page SEO Process में सबसे महत्वपूर्ण Step होता है Link Building. हालाँकि, इसके अलावा भी अन्य कई Strategies हैं जो Off-Page Search Engine Optimization के वक्त अपनानी पड़ती हैं जिनमे शामिल हैं Social Media Marketing and Brand Building. 

तो आइये शुरुआत करते हैं Link Building से और बात करते हैं Different Types of Links की।  

Also Read : How To Write Search Engine Optimized Content 

Link Building

Aira के मुताबिक, 85% Marketers अभी भी मानते हैं कि अगले पांच सालों तक Link Building, Google Algorithm का एक महत्वपूर्ण Ranking Factor रहने वाला है। 

ऐसे में इसे नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। तो आइये Link Building के इस Concept में सबसे पहले समझते हैं कि Backlinks क्या होते हैं। 

Link Building Techniques In Off-Page SEO

ये सभी Link Building Techniques आपको अपनी Site पर Traffic Drive करने में मदद करेंगी।  

  • Guest Posting : Guest Posting Off-Page SEO की सबसे बेहतरीन Techniques में से एक है। 

Guest Posting का एक Complete Process होता है जिसके तहत आप कुछ Relevant & High Domain Authority Websites को Search करते हैं और वहां अपना एक बेहतरीन Article Post करते हैं। 

Article Post करने के लिए कई Websites आपसे कुछ पैसे भी Charge कर सकती हैं और वहीं कुछ Websites Free में Guest Posts Accept करती हैं। 

अपने Article में आप अपनी Website का Link लगा देते हैं जिससे उस Website के Readers यदि आपका वह Content पढ़ें तो आपके Link के माध्यम से आपकी Site पर Direct हो सकें। 

इस Process से आपको Visitors Organically मिल जाते हैं और Google अपने विभिन्न Ranking Factors को मद्देनज़र रखते हुए आपको Rank करने लगता है।  

  • Bloggers Outreach : यदि आप एक Blogger हैं तो आपको Bloggers Community के साथ जुड़ना होगा। क्योंकि उस Community में ऐसे कई Bloggers होंगे जो पिछले कई वर्षों से काम कर रहे होंगे। 

ऐसे में उनकी कई High Authority Websites होंगी जो SERP पर Ranked होंगी। ऐसे में उनके साथ जुड़कर, उनके साथ Podcast करके, Events में जाकर आप एक अच्छी Relation बना सकते हैं। 

इसी तरह यदि आप अन्य कुछ कार्य करते हैं तो आपको अपनी Community के लोगों के साथ एक Bonding बनानी होगी, उनसे मिलना होगा, बात करनी होगी और इस तरह आप उनके साथ Link Exchange कर सकेंगे। 

ये Off-Page Activities का ही एक हिस्सा होता है जहां से आपकी Website को Backlinks मिलने की सम्भावना रहती है।  

Forum Posting
  • Forum Posting : Forums ऐसे Online Platforms होते हैं जहां आप अपनी Profile बनाकर लोगों के साथ Engage करते हैं, उनके सवालों के जवाब देते हैं, और उनके साथ एक अच्छी Bonding बनाते हैं। 

इस बीच आप अपनी Website का Link भी Share कर सकते हैं और वहां से Traffic Drive कर सकते हैं।

याद रखें कि केवल Relevant Audience के साथ ही Engage करें, तभी आपको कुछ फायदा मिल सकता है।  

  • Social Bookmarking : Social Bookmarking से मतलब है अपने Web Pages या Website को कुछ Platforms पर Save & Share करना, ताकि वहां से Readers आपकी Website को देख कर या अपने मतलब का Content देखकर आपकी Website पर आ सके।

इसके लिए कुछ Platforms होते हैं जो Social Bookmarking की सुविधा देते हैं जैसे Reddit, Digg, StumbleUpon, etc.  

  • Quora : Quora के बारे में तो आप सभी लोग जानते ही होंगे। यह Forum Posting का एक Extension है जहां Question & Answers के रूप में लोग एक दूसरे के साथ Engage होते हैं। 

Quora पर आपको लगभग हर Community की Audience मिल जाती है जहां किसी न किसी Topic के बारे में चर्चा ज़रूर हो रही होती है। 

यहां आपको Helpful & Genuine Information देते हुए अपनी Community के लोगों के बीच एक Reputation बनानी होती है। 

साथ ही आप अपने Answers देते वक्त Readers को Anchor Text के माध्यम से अपनी Website पर भेज सकते हैं। 

  • Image Submission : जो भी Images आप अपने Content में Use करते हैं उन्हें आप अन्य Platforms पर भी Directly Submit कर सकते हैं और वहां से Relevant Traffic Gain कर सकते हैं। 

Image Submission की कुछ प्रमुख Websites हैं – Flickr, Photobucket, Imgur, etc.

यहां आपको एक बात ध्यान रखनी होगी कि जो भी Image आप Submit करेंगे, उसका Proper Alt Text होना ज़रूरी है। 

Also Read : How Does Search Engine Optimization Work?

Social Media Marketing

Social Media Marketing

Social Media Marketing भी एक ऐसी Off-Page SEO Activity है जो आपकी Website पर Traffic Boost करने में मदद करती है। 

आपको इसका लाभ उठाने के लिए Social Media के विभिन्न Platforms पर अपनी Profile Create करनी होगी। 

इसके बाद आपको अपने अपने Posts & Content को उन Platforms पर Share करना होगा जिससे लोगों तक आपका Content पहुँच सके और वहां से आपकी Site पर Traffic बढ़ सके। 

आप Engagement बढ़ाने के लिए कोई New Deal, Offers, Discounts, New Product Arrival, इत्यादि Content अपनी Audience के साथ Share कर सकते हैं और उनकी Queries को Answer करना, उनसे Feedback लेना जैसी Tactics को Use कर सकते हैं। 

जब लोग Social Media पर आपके Content, Posts, इत्यादि की बात कर रहे होंगे और आपके साथ Engage करते हुए आपकी Site पर Divert हो रहे होंगे तो इससे आपकी एक Authority बनेगी जो Off -Page SEO में मदद करेगी। 

एक बात और ध्यान रखियेगा कि अपनी Site पर Social Sharing Buttons ज़रूर लगाएं ताकि Readers आपके Content को Share करके आपकी Reach बढ़ा सकें। 

**Social Media Marketing क्या होती है, इसे कैसे करते हैं, को विस्तारपूर्वक जाने के लिए पढ़िए हमारा Blog  –  Social Media Marketing – 2022 के लिए Best Marketing Strategy

Brand Building

Brand Building

Brand Building भी Off-Page SEO के Aspects में शामिल है जिसमे Google आपकी Brand Website को Review करता है। 

आपने ये ज़रुर Observe किया होगा कि जब कभी भी हम किसी Company का सामान खरीदने की सोचते हैं और उसके लिए Google पर सर्च करते हैं तो Brands की Websites सबसे पहले Rank हो रही होती हैं। 

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि लोगों का इन पर Trust बन चुका होता है और लोग बार-बार सिर्फ इन्हीं Websites को सर्च कर रहे होते हैं। 

Brand Building में Content Marketing and Social Media Marketing आपकी मदद कर सकते हैं। 

एक बार Brand Build हो जाएगी तो आपकी Website पर Traffic आना शुरू हो जाएगा और Online World में आपके Brand की चर्चा होने लगेगी। 

इसे Google एक Positive Signal के रूप में देखेगा और आपकी Website को और ऊपर Rank करने लगेगा। 

**Note : Brand Building, Off-Page SEO का एक Later Stage Process होता है। अपने Business के शुरुआती दिनों में आपको Link Building Strategy को अपनाना होगा और धीरे-धीरे आगे के Steps लेने होंगे।   

Conclusion

Search Engine Optimization आपकी Website को Search Engine Results Page (SERP) में Rank करने और आपके Business को Profitable बनाने में मदद करता है। 

आज इस Blog में हमने SEO के एक Important Type Off-Page SEO के बारे में पढ़ा (Off-Page SEO In Hindi) और जाना कि Off-Page SEO Process को किस तरह अंजाम दिया जाता है। 

Off-Page SEO उतना ही ज़रूरी है जितने कि अन्य SEO Types (On-Page SEO, Local SEO, Technical SEO, White Hat, and Black Hat SEO)

Off-Page SEO में Link Building, Social Media Marketing, and Brand Building का अहम योगदान रहता है।  

अगर आप Off-Page SEO को Practically सीखना चाहते हैं तो आपको एक ऐसे Mentor की ज़रुरत पड़ेगी जो आपको न केवल SEO का शास्त्र सिखाए बल्कि ये भी बताए कि इसे Implement कैसे किया जाता है। 

यदि आप ऐसे ही एक Mentor के साथ जुड़ना चाहते हैं तो आज ही Join कीजिए मेरा DhanNeeti Course, जहाँ मैं आपको SEO सहित बीस से भी ज़्यादा (20+) Most Demanding और Trending Skills सिखाता हूँ। 

इन Skills को सीखने से आप अपने लिए Multiple Sources Of Income Create कर पाएंगे और Financial Freedom Achieve कर पाएंगे।  

7 Step Framework To Optimize Website For Mobile SEO

7 Step Framework To Optimize Website For Mobile SEO

आपने ये ज़रुर पढ़ा होगा कि इंटरनेट की पहुँच बढ़ने से Mobile Users की संख्या Computer Users की तुलना में कई गुना बढ़ गई है। 

लेकिन, क्या आप ये जानते हैं कि Google पर लगभग 64% Organic Web Traffic Mobiles से आता है?

यही नहीं, दुनिया के लगभग 57% Organic Views भी Mobiles के माध्यम से ही आते हैं। 

ऐसे में अपनी Website को Mobile के लिए Optimize नहीं करने से आपको Leads & Conversion से हाथ धोना पड़ सकता है।

इसके साथ ही आपकी Website Reach भी नहीं बढ़ पाती और आप Search Engines पर रैंक भी नहीं कर पाते। 

अब तो बल्कि Google ने भी अपनी कुछ पिछली Algorithm Updates में Mobile SEO को महत्व देना शुरू कर दिया है। 

अब ऐसी Websites जल्दी रैंक हो रही हैं जो Mobile Optimized हैं और Search Engine Optimization के सभी नियमों का पालन कर रहीं हैं।

*Search Engine Optimization को जानने के लिए पढ़िए हमारा Blog – SEO Fundamentals Guide  

ऐसे में Mobile SEO को समझना ज़रूरी है। आज के इस Blog में हम आपको Mobile SEO के बारे में ही बताने वाले हैं। 

हम बात करेंगे कि Mobile SEO क्या है, ये क्यों ज़रूरी है, Mobile SEO कैसे करते हैं, इत्यादि। 

तो आइये शुरू करते हैं आज का ये Blog. यहां मैंने इसमें कुछ बेहतरीन Information Share करी है, इसलिए आप इसे अंत तक ज़रूर पढ़ियेगा।   

Table of Contents

What Is Mobile SEO?

What Is Mobile SEO

Mobile SEO का मतलब है Mobile Search Engine Optimization!

यह एक ऐसी Practice होती है जिसके तहत आप अपनी Website के Content को Mobile Users के लिए Optimize करते हैं ताकि Website पर Mobile Traffic भी आ सके। 

Mobile Optimized Website हमेशा Search Engine की नज़रों में होती है और अन्य Websites की तुलना में जल्दी रैंक होती है। 

इससे Mobile Users को कई फायदे मिलते हैं जैसे :

  • Website, Fast Load होती है। 
  • Users अपनी ज़रूरत की Information तक जल्दी पहुँच पाते हैं। 
  • Website Bounce Rate कम हो जाता है। 
  • Users को Navigate करना आसान हो जाता है। 
  • Content को Like, Share, and Comment करने की संभावना बढ़ जाती है। 

इसके अलावा एक Mobile Optimized Website के अन्य कई फायदे (Mobile SEO Benefits) होते हैं। आइये उनके बारे में विस्तार से चर्चा करते हैं। 

Importance of Mobile SEO

Importance of Mobile SEO

Mobile SEO Benefits अब केवल Traffic बढ़ाने और Rank करने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसे Implement करने से आपकी Website Search Engine & Users दोनों के लिए Optimize हो जाती है। 

आपकी Mobile Optimized Website आपको निम्न तरह के फायदे देती है: 

इसे भी पढ़ें : Importance of Search Engine Optimization

User Experience बेहतर हो जाता है

User Experience बेहतर हो जाता है

User Experience तभी बेहतर बनता है जब Users के लिए Navigate करना आसान हो। 

आप नहीं चाहेंगे कि उन्हें अपनी Needful Information तक पहुँचने में परेशानी हो, बार-बार Content को Zoom करके देखना पड़े, Buttons पर क्लिक न कर पाएं, या Web Page ही Slow Load हो। 

इन सबसे आपकी Website के User Experience पर Negative Impact पड़ता है और वो लोग आपकी Website को बहुत कम Visit करने लगते हैं। 

जब Visitors कम होंगे तो Search Engine की नज़र में भी Website की Value कम होने लगेगी और आपकी Ranked Website धीरे-धीरे Derank होने लगेगी। 

Mobile के लिए Optimize करने पर और ज़रूरी Changes करने पर आपकी Website पर Users रुकने लगते हैं, उन्हें आपका Layout, Content, and Fast Loading Speed पसंद आने लगती है। 

इससे Search Engine को भी एक Positive Signal जाता है और इस तरह आपकी Authority भी बढ़ने लगती है। 

इस तरह आप Readers को एक अच्छा Experience Provide करके अपना Revenue बढ़ा पाते हैं। 

Mobile Searches बढ़ रहे हैं

जैसा कि हमने ऊपर देखा कि 64% Organic Traffic Mobile से आने लगा है, जिसका मतलब है कि अधिक से अधिक लोग ऑनलाइन सर्च करने के लिए Mobile जैसे Handy Device का Use कर रहे हैं। 

ऐसे में Brand की Reach को Mobile Users तक पहुंचाने के लिए और Discoverable बनाने के लिए Mobile Optimized Website का होना ज़रूरी है। 

आजकल लोगों के पास समय की कमी है, ऐसे में वो हर काम जल्दी में निपटाना चाहते हैं और Mobile के माध्यम से ही अपने सभी काम करना चाहते हैं। 

ThinkWithGoogle ने अपनी एक स्टडी में ये पाया कि लगभग 40% Consumers अपनी Shopping Journey Mobile के Through पूरी करते हैं। 

इसके साथ ही उन्होंने देखा कि सिर्फ एक सेकंड के Load Time Delay से Conversion पर 20% तक Impact पड़ सकता है। 

 इसलिए आप इसे कम नहीं आंक सकते। आपको अपनी Audience को एक बेहतर Experience देना ही पड़ेगा और उसके लिए Mobile SEO पर काम करना ही पड़ेगा। 

Mobile Search से Sales Drive करना आसान हो जाता है

Mobile Search से Sales Drive करना आसान हो जाता है

आपके Sales Objective को पूरा करने में Mobile Optimized Website आपकी मदद कर सकती है। 

एक बार Optimized होने पर, जो भी Visitors आपकी Optimized Website पर अपने Mobile के माध्यम से Visit करेंगे तो सम्भावना होगी कि वो अपनी Contact Details देकर जाए। 

वो आपके Call To Action पर क्लिक करेंगे, कोई Form Fill करेंगे, या अपना Phone No. और Email Id देकर जायेंगे। 

ऐसे में आपके पास Leads बढ़ती जाएँगी और आपके लिए उन्हें Nurture करके Customer में कन्वर्ट करना आसान हो जाएगा। 

आजकल हर व्यक्ति के पास Laptop या Computer नहीं है, लेकिन Mobile ज़रूर है, जिसे कहीं भी और किसी भी समय Use किया जा सकता है।  

ऐसे में यदि आपके पास एक Well Optimized Ecommerce Website है जो SERP में Ranked भी है, आपको Organic Traffic मिलने लगेगा और आपका Revenue बढ़ने लगेगा।   

Website, Voice Search के लिए Optimize हो जाती है

Voice Search धीरे-धीरे अपनी रफ़्तार पकड़ रहा है और Trend में है। इस Feature के माध्यम से टाइप करने की बजाय बोल कर Online Information प्राप्त की जा रही है। 

आपने शायद देखा होगा कि “Siri” and “Ok Google” जैसे Voice Search Tools ने मार्केट में अपने पैर पसारने शुरू कर दिए हैं।  

इन Tools के माध्यम से आप बस कुछ ही Seconds में Online Search कर सकते हैं। 

इसलिए जब आपकी Website भी Voice Search के लिए Optimized होगी और SERP में Rank कर रही होगी तो उस पर Traffic आने के Chances भी बढ़ जाएंगे। 

ThinkWithGoogle की एक रिपोर्ट के अनुसार, वे लोग जो Online Search के लिए Voice Command का इस्तेमाल करते हैं, चाहते हैं कि Brands उन्हें Deals, Sales, and Promotion के बारे में जानकारी देते रहें। 

वहीं दूसरी तरफ, Clutch ने अपनी Study में यह पाया कि अधिकतर लोग Voice Assistant के लिए Smartphones का Use करते हैं। 

इन दोनों ही उदाहरणों से यह पता चलता है कि Voice Command Feature से एक Mobile Optimized Website को हमेशा ही फायदा मिलने वाला है।  

Also Read : Website क्यों ज़रूरी है?

Google भी अपने Algorithms Update करने लगा है

Google भी अपने Algorithms Update करने लगा है ​

जैसे-जैसे Mobiles Users बढ़ने शुरू हुए हैं Google जैसे Search Engine ने भी Websites को Mobile Users Friendly बनाने के लिए बहुत से Updates निकाल दिए हैं।

वर्ष 2013 में शुरू हुआ यह Updates का सिलसिला आज भी कायम है। शुरुआत में Google ने Faulty Redirects & Smartphone Only Errors को अपने Mobile Friendly Guidelines में रखा, जिससे कई Websites केवल कुछ ही दिनों में Derank हो गई। 

धीरे-धीरे इसने Mobile Friendly Websites को Label करना शुरू किया और Mobile Friendliness को जांचने के लिए एक Mobile Friendly Testing Tool निकाला। 

अगले ही पल Google ने Mobile पर Website Loading Speed के लिए नया Update निकाला।

इस तरह Google भी अपनी Guidelines & Working Pattern पर काम करता गया और आज एक ऐसी Website जो Mobile Friendly नहीं है या जिसका Mobile SEO सही से नहीं हुआ है, उसकी SERP मैं Rank करने की संभावना बहुत कम है। 

तो ये थे कुछ Mobile SEO Benefits. इन्हें जानने के बाद आइये अब बात करते हैं कि आखिर Mobile SEO कैसे करते हैं और How To Optimize Website For Mobile SEO?

Also Read : How To Write Search Engine Optimized Content

How To Perform Mobile Search Engine Optimization - अपनी Website के लिए Mobile SEO कैसे करें?

क्या आप Website को Mobile Optimized बनाने के लिए तैयार हैं?

आइये जानते हैं उन 7 Steps के बारे में जिनकी मदद से आप एक Normal Website को Mobile Optimized Website में कन्वर्ट कर सकते हैं। 

Mobile-Friendly Tool में Website Test करें

Website को Smartphone Friendly बनाने से पहले ये जांचना ज़रूरी है कि अभी आपकी Website कहां Stand कर रही है। 

क्या वो Mobile Friendly है, या नहीं है?

अगर नहीं है तो किन Areas में Improvements की ज़रूरत है?

इसे जांचने के लिए आप अपनी Website को अलग-अलग Devices में Open कर सकते हैं और Content, Design, Readability, इत्यादि Factors को जांच सकते हैं। 

इसके अलावा आप एक दूसरा तरीका भी अपना सकते हैं जिसके तहत आप Google का Free Testing Tool भी इस्तेमाल कर सकते हैं। 

यहां बस आपको अपना Website URL डालने की ज़रूरत होती है और बस कुछ ही Seconds में आपके सामने आपकी Website की Report आ जाती है। 

यदि Website Mobile Friendly है तो आपको Green Signal के माध्यम से यह टूल बता देगा और यदि Mobile Friendly नहीं है तो आपको बताएगा कि कहाँ-कहाँ सुधार की ज़रूरत है।  

Also Read : वर्ष 2022 में Website क्यों ज़रूरी है?

अपनी Website Speed Improve करें

अपनी Website Speed Improve करें ​

Website Load Time को जितना कम से कम रखें उतना ही बेहतर है।

 जब से Google ने Site Speed को Website Ranking Factors की लिस्ट में डाला है, तब से बहुत सी Slow Loading Websites Derank हो गई हैं। 

इसका एक प्रमुख कारण है Bounce Rate का बढ़ना।

Bounce Rate एक ऐसा Factor होता है जो बताता है कि कोई Visitor आपकी Website पर कितने समय के लिए रुक रहा है। 

अपनी Site का Bounce Rate हमेशा कम करने का प्रयास करें ताकि इससे User Experience अच्छा हो सके और आपकी Website Google की नज़रों में आ सके। 

जैसे ही Load Time 1 – 10 Seconds तक बढ़ता है, Bounce Rate 123% तक बढ़ सकता है। 

आप अपनी Website Speed को जांचने के लिए ThinkWithGoogle का Free Tool Use कर सकते हैं। 

वहीं, Page Speed Insights से ये अंदाजा लगा सकते हैं कि क्या आपके Web Page सभी Devices पर Fast Load हो रहे हैं। 

लेकिन यहां एक प्रमुख सवाल आता है कि,

How To Improve Website Page Speed या Website Page Speed को कैसे Improve करें?

इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ता है जो कुछ इस प्रकार है:

  • Images को Compress करके उनका Size कम करें : Large Images Website के Slow Loading Time के प्रमुख कारणों में से एक है। Images Compress करने से उनकी Quality पर कोई ज़्यादा असर नहीं पड़ता, बल्कि वो Website Space कम घेरती हैं। 

Compress करने के लिए आप Online Free Tools का उपयोग कर सकते हैं। 

  • Unnecessary Plugins को Remove करें : जितने ज़्यादा Plugins होंगे, उन्हें load होने के लिए उतने ही ज़्यादा Resources की ज़रूरत पड़ेगी। 

जो Plugins आप Use नहीं करते उन्हें आप Delete या Deactivate करके Site Load Speed को बढ़ा सकते हैं।  

  • Content Delivery Networks (CDN) का Use करें : CDN Remote Servers का एक Network होता है जो दुनिया के अलग-अलग देशों में फैला होता है।  

हर Server में आपकी Website की एक कॉपी होती है जिसे उस देश के Visitors Access कर पाते हैं और Website Visit कर पाते हैं। 

ऐसा करने से हर Geographical Location में आपकी Website की Speed एक जैसी रहती है।  

  • Caching को Implement करें : Caching Implement करने से आपकी Website की Cache Files आपके Visitors के Device में Download हो जाती है। अब यदि वह Visitor दोबारा Website को Visit करता है तो Page बहुत Fast खुलता है। 

इससे User Experience को बढ़ाने में मदद मिलती है। 

  • CSS, HTML, and Java Script File को Optimize करें : ये Files आपकी Website का Backend होती है जिन्हें Optimize करना बेहद ज़रूरी होता है। 

आप इनकी मदद से Unnecessary White Space, Formatting, and Code को Remove कर सकते हैं और Web Page को Light बना सकते हैं।  

अपना Website Layout Mobile Responsive बनाएं

Responsive Website बनाने से यह विभिन्न Devices में अलग-अलग तरह से दिखाई देगी और इसके Elements उन विभिन्न Devices की Screen के आधार पर Adjust हो जाएंगे।

Responsive बनाने के लिए आपको अपनी Images को Mobile Users के हिसाब से Scale करना पड़ेगा।

एक बेहतर Navigation Menu का Use करना पड़ेगा, Screen से Pop Ups हटाने पड़ेंगे, और Text Size छोटा करना पड़ेगा। 

इसके अलावा, आपको एक Responsive Theme Select करने की ज़रूरत होगी जो Light & Optimized हो और आपकी Website Performance को Impact न करे। 

एक बार जब आप Responsive Theme Install कर लेते हैं तो आपको देखना होता है कि यह विभिन्न Devices में किस तरह से दिख रही है। 

एक Reliable Hosting Provider को चुने ​

एक Reliable Hosting Provider को चुने

एक Reliable Web Hosting का चयन करना किसी भी Website की Performance को Enhance करने के लिए उत्तरदायी है। 

अगर आप एक ऐसी Hosting Choose कर लेंगे जो Speed & Resources प्रदान नहीं करती है, आपको Website Rank कराने में बड़ी दिक्कतों का सामना कर पड़ सकता है। 

आपकी Hosting Traffic को Handle नहीं कर पाएगी और बार-बार Down होती जाएगी। इससे User Experience पर बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ेगा। 

इसलिए आपको एक ऐसा Plan Choose करना पड़ेगा जो लगातार High Performance & Minimal Downtime की गारंटी दे। 

ऐसे में आप BlueHost की Hosting ले सकते हैं जो आपकी Website की Performance को Enhance करती है और Traffic को Easily Handle करती है।  

Website Content को Mobile के लिए Optimize करें

Website Content को Mobile के लिए Optimize करें

Mobile Phones के विस्तार से अब अधिकतर लोग अपने Daily Internet Use के लिए Mobiles का इस्तेमाल करते हैं। 

इसे Carry करना हमेशा आसान होता है और कहीं भी और कभी भी Online Search के माध्यम से अपने सवालों का जवाब ढूंढा जा सकता है। 

अब अगर आप चाहते हैं कि Visitors आपकी Site पर अधिक Time Spend करें, तो आपको Website Content को Mobile के लिए Optimize करना होगा। 

इसके लिए आपको Navigation को आसान बनाना होगा, Paragraphs & Sentences को Crisp करना होगा, Content को छोटे-छोटे Sections में Break करके लिखना होगा, Text Styling, Font Size & Color पर भी ध्यान देना होगा। 

Accelerated Mobile Pages (AMP) को Enable करें

AMP को अगर साधारण शब्दों में समझा जाए तो यह कहा जा सकता है कि यह ऐसा Method होता है जिसमे आपके Site Pages को Mobile Friendly Version में Convert किया जाता है। 

इसमें Content को Crisp Form में तब्दील किया जाता है और गैरज़रूरी Media Files को Remove किया जाता है। 

जब भी कोई Visitor आपकी Website को अपने Mobile से Access करता है तो उसे AMP Version Page ही दिखाया जाता है। 

अब यदि आप AMP Pages Create करना चाहते हैं तो AMP For WordPress Plugin को Install कर सकते हैं।  

Web Content को Local Search के लिए Optimize करें

Mobile Optimized Website होने के साथ-साथ आपको Local Search पर भी ध्यान देना होगा। 

आजकल लोग अपने Mobile के माध्यम से “Near Me” Phrase का अधिकतर Use करते हैं, ऐसे में Mobile SEO करते वक्त इस Phrase or Keyword को अपने Content में Implement करना न भूलें। 

ThinkWithGoogle की एक Study के मुताबिक, “Near Me” वाली Queries (E.g. Where Can I Buy Handbags Near Me, Best Shops to Buy Men’s Shirts Near Me, etc.) में केवल दो सालों में ही 500% की Growth देखने को मिली है।   

इसलिए अपनी Website को Local SEO के हिसाब से Optimize करने से आप अपने आस-पास के Customers को Gain कर सकते हैं। 

इसके लिए आपको Google My Business पर Listing करनी पड़ती है और अपना Business Name, Address, Contact Details, Website, Category इत्यादि को Detail से भरना होता है। 

आइये अब देखते हैं कि Mobile के लिए Website को Optimize करने में लोग किन गलतियों को अंजाम देते हैं। 

Also Read : YouTube SEO कैसे करें?

Mistakes To Avoid While Doing Mobile SEO

Mistakes To Avoid While Doing Mobile SEO

Search Engine Optimization को लोग अब समझने लगे हैं। लेकिन, Mobile SEO अभी भी कई लोगों के लिए एक मुद्दा बना हुआ है। 

ऐसे में Mobile SEO Mistakes होना जायज़ है। आइये ऐसी ही कुछ Mistakes के बारे में ज़िक्र करते हैं जिन्हें Avoid करना ज़रूरी है। 

  • Java, CSS, and Image File को Block करना : कई बार Developers आपकी Website की Java, CSS, and Image File को Block कर देते हैं जो Google की Guidelines के खिलाफ होता है। 

In Fact, Google ने खुद ही ये कहा है कि इन Files को Block करने से Crawling & Indexing में दिक्कत आती है जो आपकी Website की Ranking पर Negative Impact डालती है। 

इसे Avoid करने के लिए आपको अपनी Robots.txt File को Analyze करना होगा और Mobile Friendly Test करना होगा ताकि आप देख सकें कि Website Mobile Friendly है या नहीं। 

  • Responsive Website Design Use न करना : Website को Responsive बनाने की चर्चा हम ऊपर कर ही चुके हैं। इसे नज़रअंदाज़ करने से आप Different Device Use करने वाली अपनी Leads से वंचित रह सकते हैं। 

Statista की एक रिपोर्ट के मुताबिक, Mobile Ad Spend भी अब लगभग Desktop Ad Spend के बराबर पहुंच गया है। 

ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि Mobile Users की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है और Brands को भी ये समझ आ गया है कि इन्हें Target करना उनके लिए Profitable Option साबित हो सकता है। 

आप Ad Run करके Leads को कहाँ लेकर जाओगे? Landing Page पर, जो आपकी Website पर ही होगा! यदि आपकी Website Responsive होगी तो उस पर Engagement भी अच्छी होगी। 

  • Call To Actions Buttons को Small रखना : Smaller Call To Action Buttons आपके Lead Conversion Process में बाधा डाल सकते हैं। 

इसलिए जितना हो सके इन्हें Proper Size, Font and Color Scheme में रखें ताकि Visitors को Visible हो सके। 

Button Design करते वक्त देखें कि ये 5-6 Inch की Smartphone Screen पर कैसे दिखाई देंगे। 

  • Fonts पर ध्यान न देना : कई बार लोग अपने Headings, Subheadings, and Paragraphs Font Size पर ध्यान नहीं देते जिससे पूरा Content एक Mixed Content की तरह प्रतीत होता है। 

ऐसे में Users को अपनी ज़रूरत की Information ढूंढने में परेशानी होती है और धीरे-धीरे आपका Bounce Rate बढ़ने लगता है। 

Google Recommend करता है कि Mobile SEO के वक्त अपने Font Size को 12x से कम न रखें ताकि Reader को उसे Zoom करके न पढ़ना पड़े। 

**Google द्वारा Defined Mobile SEO Mistakes को जानने के लिए यह Blog अवश्य पढ़ें। 

  • Optimized Menu Items Use न करना : कई बार ऐसा देखा गया है कि Website के Top Menu पर बहुत सारी Categories को Mention कर दिया जाता है। 

ऐसे में User को Information Navigate करने में परेशानी होती है और किसी गलत Link पर भी Click हो सकता है। 

इतनी सारी Categories Mobile की Screen का काफी Space घेर लेती हैं और User को Proper Content नहीं दिख पाता।

ये User के लिए Distraction बन जाता है और इससे User Experience पर Effect पड़ता है। इसलिए Optimized Menu Items Use करना ज़रूरी है। 

  • 404 Error को Monitor नहीं करना : आपने “404 Error Page Not Found” Texts को ज़रुर कभी न कभी Observe किया होगा। 

ये 404 Error तब Show होती है जब आप अपनी Website का Mobile Version Design करते हैं। 

वो Page आपकी Website के Desktop Version में तो Show हो रहा होता है लेकिन Mobile Version में 404 Error Show करता है।

इसे Avoid करने के लिए आप Broken Link Checker का इस्तेमाल कर सकते हैं, जो आपको बताएगा कि क्या Link अभी भी Redirect कर रहा है या Broken है। 

इसके अलावा आपको अपने Google Webmaster Tool पर भी नज़र रखनी होगी, जहां Google Crawlers आपको इस तरह की दिक्कतों से निज़ात पाने में मदद करेंगे।    

  • Accelerated Mobile Page (AMP) को Consider नहीं करना : AMP के बारे में Detail में हम ऊपर इस Blog में समझ चुके हैं।

Accelerated Mobile Pages की Loading Speed ज़्यादा होती है और इसलिए Rank करने की Tendency भी अधिक होती है। 

यदि कोई User Quickly कोई Information Gain करना चाहता है तो AMP उनके लिए Best Platform साबित हो सकते हैं। 

Conclusion

Website के Desktop or Computer Version को Search Engine के लिए Optimize करना थोड़ा आसान होता है। 

हालाँकि, वहां भी आपको कुछ Factors का ध्यान रखना पड़ता है जिन्हें समझने के लिए आप हमारा यह Detailed Blog पढ़ सकते हैं।  

लेकिन, जब Website के Mobile Version की बात आती है तो उसे Optimize करने के लिए Mobile SEO की आवश्यकता पड़ती है। 

Mobile Devices की पहुँच बढ़ने से अब Brands भी अपनी Website को Mobile Users के अनुरूप ढ़ालने में जुट गईं हैं। 

Mobile Optimized Website, Users को एक बेहतरीन User Experience Provide करती है और Lead To Customer Conversion में मदद करती है। 

Mobile Search Engine Optimization Perform करने के लिए आपको कुछ महत्वपूर्ण Steps को Follow करना पड़ता है जिनका ज़िक्र मैंने इस Blog में किया है। 

लेकिन, यदि आप Practically SEO को सीखना चाहते हैं और इसके साथ-साथ Copywriting, Blogging, Affiliate Marketing, Email Marketing जैसी Trending Skills को भी सीखना चाहते हैं तो जुड़िये मेरे साथ DhanNeeti के इस सफर में। 

इन Trending Skills को सीखकर आप अपने लिए Multiple Sources of Income Generate कर पाएंगे और केवल कुछ ही दिनों में Rs. 1 लाख महीना तक कमा पाएंगे।    

Top 7 Digital Marketing Skills For A Homemaker To Master in 2022

Top 7 Digital Marketing Skills For A Homemaker To Master in 2022

शादी के बाद अक्सर एक Housewife नज़रअंदाज़ की जाती है, कभी अपने पति द्वारा, कभी बच्चों से और कभी अपने परिवार से।

ये अक्सर इसलिए होता है क्योंकि एक गृहिणी को केवल घर में ही, घर के काम करते हुए पाया जाता है। 

कोई Financial Contribution नहीं होती है और इसलिए इन सब का सामना एक गृहिणी को करना पड़ता है। 

क्या आप जानती हैं आप अपनी इस Situation को बदल सकती हैं? 

जी हाँ, डिजिटल मार्केटिंग से। 

लेकिन डिजिटल मार्केटिंग ही क्यों?

ये एक In Demand Skill है, जिससे आपको Freedom मिलता है, पैसों की Problems से।
ये Flexible है, आप घर से काम कर सकते हैं,
इसमें Investment कम है और Returns काफी ज़्यादा हैं।
और जब आप Earn करना शुरू करते हो, आपको अपनी खोई हुई Self Respect दोबारा मिल जाती है। 

Pandemic ने हमें ये तो सीखा दिया की जो Online है, वो बिकता है। 

ऐसे में कई सारे Businesses Offline से Online आ रहे हैं और इसके लिए Business Owners को ज़रुरत होती है Digital Marketing Experts की। 

डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में हर साल 18 लाख नौकरियां निकलती हैं। 

इसी से अंदाज़ा लगाया जा सकता है की इस Industry में कितना Scope और Opportunities हैं आपके लिए। 

एक Homemaker का ज़्यादातर समय पारिवारिक ज़िम्मेदारियों में ही गुज़र जाता है। ऐसे में कई Homemakers को Job करने का भी समय नहीं मिल पाता है। ऐसे में वे Digital Marketing Skills का सहारा ले सकती हैं। 

Digital Marketing एकमात्र ऐसा तरीका है जिसके माध्यम से घर बैठे पैसे कमाएं जा सकते हैं और किसी कंपनी के बिजनेस को Grow किया जा सकता है। यहां तक खुद का बिजनेस भी शुरू किया जा सकता है। 

इसके अलावा इसमें Offline Jobs की तरह Fix Time नहीं देना पड़ता क्योंकि इसमें अपनी सहूलियत के हिसाब से वक्त निकालकर कभी-भी काम कर सकते हैं इसलिए यह तरीका Housewives के लिए वरदान है।

इससे न सिर्फ आप अपनी पारिवारिक ज़िम्मेदारियों को निभा पाएंगी बल्कि अपने परिवार को Financially मजबूत भी करेंगी।

इसके लिए आपको कुछ Digital Skills सीखनी होगी। जैसे – वेबसाइट बनाना, Content Create व Optimize करना तथा Product Or Content को Promote करना आदि।

ये सभी Market Needs हैं और इन्हें जो पूरा करना जानता है वो यहां से ढेर सारे पैसे कमा सकता है। यह न सिर्फ Business Growing Skill है बल्कि Best Job Opportunity Skill भी। चलिए अब इसके बारे में और जानकारी लेते हैं।

डिजिटल मार्केटिंग क्या है ?

डिजिटल मार्केटिंग क्या है

आसान शब्दों में, जो Process एक Manufacturer और Customer के बीच की Gap को कम करे, उसे Digital Marketing कहते हैं। 

इस Process के द्वारा एक Manufacturer, डिजिटल माध्यमों से अपने Products को Online Market करके Consumers तक पहुंचाता है। 

आपने अक्सर Facebook, YouTube और Google के साथ अन्य Social Media Platforms और Search Engine Platforms पर ऐसे Ads देखे होंगे जिनमें Brands इन Ads के माध्यम से अपने Business का Promotion करती हैं जिसमें दिखाया जाता है कि आखिर उनका Product ही क्यों बेहतर है। 

Ads से Users को लुभाने का प्रयास किया जाता है। इससे न सिर्फ उनका Product बहुत सारे लोगों तक पहुंच जाता है बल्कि बहुत सारे Leads भी Generate हो जाते हैं। ऐसा सिर्फ डिजिटल मार्केटिंग से ही संभव होता है क्योंकि इससे अपने Product या Business को पूरे World में Visible किया जा सकता है।

डिजिटल मार्केटिंग ऐसा Online माध्यम है जिसमें किसी Product के Promotion के लिए डिजिटल माध्यम जैसे – Internet Connection, Laptop, Computer आदि आवश्यक हो है। यहां तक इसमें अपनी Services को भी शामिल कर सकते हैं। For Example – Website बनाना, Apps बनाना, Email Marketing आदि।

किसी भी Content को सही समय में, सही जगह पर इंटरनेट के माध्यम से पहुंचाना डिजिटल मार्केटिंग है अर्थात ऐसा माध्यम जिसका प्रयोग करने के लिए इंटरनेट आवश्यक हो, डिजिटल मार्केटिंग कहलाती है। भले इसके पीछे Marketing शब्द जुड़ा है लेकिन इसका मतलब सिर्फ Selling करना नहीं है। बल्कि इसमें वे सभी Services शामिल हैं जो Digitally Available है।

Digital Marketing को In-Depth समझने के लिए हमारा ये Article ज़रूर पढ़ें। 

Digital Marketing सीखना क्यों ज़रूरी है?

Covid 19 के बाद मानो जैसे Life एक Standstill पर आ गई थी और बस इसी दौरान डिजिटल मार्केटिंग ने तेज़ी पकड़ ली। 

बड़ी-बड़ी कंपनियां हमेशा अपने Product को सबसे पहले Digitally Launch और Promote करती हैं अर्थात जब तक Product Offline Available होता है तब तक बहुत सारी Selling हो चुकी होती है।

चलिए अब जानते हैं कि Digital Marketing सीखना क्यों जरूरी है :

To Learn Trending Skill

Digital Marketing का क्रेज़ 2022 में और भी बढ़ने वाला है क्योंकि आने वाले समय में इसकी मांग बहुत ज़्यादा बढ़ेगी अर्थात यह Future Trend है। 

इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है 2015 में Launch की  गई हमारे प्रधान मंत्री Narendra Modi जी द्वारा Digital India योजना।

इस योजना का लक्ष्य है कि आने वाले समय में हर Service को Digitally उपलब्ध कराना है। 

इसके लिए सरकार Cashless Digital Payment को बढ़ावा दे रही है और साथ ही जो चीज़ें डिजिटली उपलब्ध नहीं है उन्हें उपलब्ध करा रही है। जैसे पहले निवास पत्र सिर्फ Offline तहसीलदार बनाते थे लेकिन अब Online बनता है। 

हर व्यक्ति के Digital Skills नहीं होती है ऐसे में आप यह स्किल सीख कर Trend के According चल सकती है।

मैं इसे Trending Skill इसलिए कहता हूं क्योंकि आगे चलकर इसका Scope बहुत ज़्यादा है। For Example – आज हम अपने Family व Friends से सिर्फ बात करने के लिए लोग Facebook पर घंटों व्यतीत करते हैं।

इसके अलावा जो लोग Google में सिर्फ Type करके Question Search करते थे अब वो Voice Search से भी करते हैं अर्थात Voice Search भी एक प्रकार का Scope ही था।

No Big Investment Required

Digital Marketing सीखने में सस्ता व सुगम है। उदाहरण के लिए Facebook Marketing सीखना है तो देखिए कि दूसरे लोग Marketing के लिए क्या Funda अपना रहे हैं अर्थात वह ऐसा क्या कर रहे जिससे उनका बिजनेस Grow कर रहा है। यह आप Digital Marketing Course से भी आसानी से सीख सकते हैं और अपना Business Grow कर सकते हैं।

यह सीखने में सस्ता व सरल इसलिए होता है क्योंकि यह हमारी Day To Day Life पर Based होता है। For Example Facebook हम सभी चलाते हैं लेकिन यह गौर नहीं करते कि किस तरह यह ज़्यादा अच्छा रिजल्ट देता है अर्थात किसी Particular Page में ज़्यादा लाइक आने का Reason जान लेना Facebook Marketing का काम है। 

Best Job Opportunity Skill

Digital Marketing से लाखों लोगों तक अपने Products को पहुंचाया जा सकता है। 

ऐसे में हर कोई अपना Business Online करना चाहता है जिनमें से ज़्यादातर लोगों के पास Digital Marketing Skills हैं ही नहीं। ऐसे में वे दूसरों को Hire करते हैं जिससे ये Best Job Opportunity भी है और साथ ही Best Business Option भी और इसे किसी Job के साथ भी किया जा सकता है। इसके अलावा कई Skills को एक साथ Show कर सकते हैं जबकि Jobs में ऐसा Possible नहीं है इसलिए Digital Marketing Skills सीखना बेहद ज़रूरी है। 

क्या आप जानते हैं एक डिजिटल मार्केटिंग Fresher कि Salary Rs. 15000/- से शुरू होती है?

Multiple Sources Of Income कमाने के लिए

डिजिटल मार्केटिंग एक मेव ऐसा Skill है जिसके ज़रिए आप कई सारे Skills सीखते हैं और अपने लिए पैसे कमाने के नए ज़रिए बना सकते हैं। 

एक से ज़्यादा पैसे कमाने के ज़रिए जब आप बना लेते हैं, आप आज़ादी पा सकते हैं पैसों की Problems से और समय से। 

आप Blogging के साथ Affiliate Income कमा सकते हैं, Content Marketing कर सकते हैं, Influencer Marketing से Sponsorships के ज़रिए पैसे कमा सकते हैं और Courses Sell करके भी पैसे कमा सकते हैं। 

एक गृहिणी के लिए Digital Marketing ही क्यों सबसे Best Choice है अपना Career Restart करने के लिए ?

एक गृहिणी के लिए Digital Marketing ही क्यों सबसे Best Choice है अपना Career Restart करने के लिए

भारत में ज़्यादातर महिलाएं परिवारिक ज़िम्मेदारियों के चलते अपनी Jobs छोड़ देती है। Business Standard 2017 की रिपोर्ट के अनुसार 2.4 मिलियन महिलाओं ने Jobs छोड़ी हैं अर्थात इनके Employment Map में 2.4 Million की गिरावट आयी है। इनमें से ज़्यादातर महिलाएं Housewives है।

UNDP की रिपोर्ट के अनुसार 68.3% महिलाएं ऐसी है जिन्होंने Graduation तो Complete कर लिया लेकिन कोई काम नहीं करती हैं। 

इससे यह बात तो स्पष्ट है कि इस Unemployment का Reason कम Time व बच्चों की ज़िम्मेदारी हो सकती है। ऐसे में कई गृहिणियां अपना करियर या तो स्टार्ट नहीं करती या तो बीच में छोड़ देती हैं। 

अगर आपके साथ भी ऐसा हुआ है तो आपका भी मन दुबारा Career Start करने का होता होगा और आप एक Best Career Opportunity की तलाश कर रहे होंगे। 

यदि हां तो आज से आपकी तलाश खत्म हुई क्योंकि आज हम जानेंगे कि एक Homemaker के लिए डिजिटल मार्केटिंग Career शुरू करने के लिए क्यों Best Choice है। 

चलिए जानते हैं :

मन मुताबिक समय पर काम करने के लिए

यदि आप गृहिणी हैं और आपने भी Job छोड़ दी है तो आपको अपने करियर की शुरुआत Digital Marketing से अवश्य करनी चाहिए। यह आपके लिए बेहतर विकल्प साबित होगा क्योंकि यह आपकी मर्ज़ी से चलेगा। जब समय मिले तब काम करो और जब चाहो तब छुट्टी। इसमें Jobs की तरह समय की पाबंदी नहीं रहती इसलिए यह आपके समय की कमी को दूर करता है।

You are your own boss

डिजिटल मार्केटिंग में आप स्वयं Boss होते हैं क्योंकि इसमें कोई Order देने वाला नहीं होता है कि कब और कैसे Work करना है यह सब आप पर Depend करता है।  इसलिए यहां पर Boss की डांट के डर से तो छुटकारा मिल ही जाता है।

घर बैठे बिज़नेस Start करने के लिए

घर बैठे बिज़नेस Start करने के लिए

अब घर बैठे चंद घंटे देकर Business स्टार्ट करना कोई बड़ी बात नहीं है। Digital Marketing इसमें पूरी तरह से सक्षम है। अब अपनी Services देना भी Business का एक Part है आप इससे Business Startup कर सकती हैं।

शुरुआत में भले ही कम पैसे मिले लेकिन जैसे-जैसे Growth होती है और Skills बढ़ते जाते हैं आपका Experience और Value भी बढ़ने लगते हैं। 

For Example शुरुआत में जब आप As A Freelancer दूसरों के लिए आर्टिकल लिखेंगे तो हो सकता है वो आपको 500 रूपए ही दें लेकिन जैसे जैसे Experience और Skills बढ़ेंगे वो आपको 5000 तक भी खुशी-खुशी दे देंगें।

घर बैठे काम करने की आज़ादी पाने के लिए

Offline Jobs हमेशा Schedule पर आधारित होता है और निर्धारित समय पर Office पहुंचकर निर्धारित घंटे तक काम करना होता है। यहां तक Late जाने पर वेतन तक काट लेते हैं जबकि Digital Marketing के साथ ऐसा नहीं है। इसमें आप जब चाहें Work करें बशर्ते दिए गए समय पर काम Complete होना चाहिए। यह आपके Schedule पर निर्भर करता है।

घर बैठे पैसे कमाने के लिए

एक गृहिणी को कई बार बाहर काम करने के लिए परिवार या समाज का सपोर्ट नहीं मिलता है। ऐसे में Digital Marketing उनके लिए Best Choice है क्योंकि यहां पर आप घर बैठे काम करके पैसे कमा सकते  हैं।

Financial Freedom पाने के लिए

किसी भी व्यक्ति कि Financial Condition इस बात पर निर्भर करती है कि उसके पास कितने पैसे हैं और वह कितना कमा रहा है। 

आज का समय ऐसा है कि किसी एक व्यक्ति के कमाई पर घर नहीं चल सकता। 

ऐसे में आप खुद पैसे कमा कर अपने परिवार को Financially Independent और Strong बनाने में सहयोग कर सकती हैं और इसके लिए ज़रूरी है Digital Marketing सीखना और Implement करना। 

Financial Freedom पाने के लिए

Successful Entrepreneur बनने के लिए

एक Entrepreneur वह होता जो Creative तरीके से अपने Business को Grow करता है साथ ही दूसरे लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध करता है। वह हमेशा Public की Needs को पूरा करता है।

आज इतनी सारी गृहिणियां हैं जो पार्ट टाइम में Digital Marketing सीखकर, Implement करके, अपनी नई पहचान बना रही हैं, घर बैठे लाखों कमा रहीं हैं। 

Best Digital Marketing Skills For Homemakers

डिजिटल मार्केटिंग का Scope काफी बड़ा है। 

इसमें कई सारे Skills आते हैं जैसे Website Creation, Email Marketing, Affiliate Marketing, Blogging, Social Media Marketing, Content Marketing, इत्यादि। 

आज हम 7 ऐसे Skills की बात कर रहे हैं जो एक गृहिणी के लिए Best Income Opportunities दे सकते हैं।  

Website Creation

किसी भी वेबसाइट को बनाने का Process Web Creation है। इस Process में विभिन्न टूल्स व प्लेटफार्म का Use किया जाता है। अर्थात Website को Attractive बनाते समय जो Changes किए जाते हैं वो Website Creation के अंतर्गत आता है।

Website बनाते समय निम्न कार्य किए जाते हैं :

  1.  User Friendly Blog Design बनाना जो अच्छा User Experience दे अर्थात उन्हें आसानी से पता चल सके कि Website में क्या है। 
  2.  ऐसा Website Logo बनाना जो Business को Exactly Represent करे
  3.  Easy Navigation बनाना ताकि यूजर्स समझ सके कि यहां पर क्या है।
  4. Contact करने की सुविधा देना ताकि यूजर्स समस्या बता सके।
  5. Visible Content डालना जो पूरी वेबसाइट की झलक दिखाए और यूजर्स की Needs को Represent करे।

Website Creation एक Demanding Skill है So थोड़ा सा Time Invest करके आपको अवश्य सीखना चाहिए।

Websites को In Depth समझने के लिए हमारा ये Blog ज़रूर पढ़ें। 

Content Creation

Content Creation

मार्केट में हमेशा से ही कंटेंट की डिमांड रही है। 

Content को बनाना ही Content Creation है। कंटेंट के अंतर्गत सभी प्रकार की सामग्री आ जाती है जैसे – Podcasts, Image, Pdf, Video, Text, YouTube Script आदि। 

यदि आपको ये Skills नहीं आते हैं तो भी इसे आसानी से Online सीखा जा सकता है। समय के साथ कंटेंट अपने आप निखरने लगता है।

सभी Platform में कंटेंट बदलते रहते हैं जैसे YouTube पर लोग Informative और Entertainment के Videos देखने आते हैं, Instagram पर Entertainment के लिए Reels हैं। 

Content Creation की Value Covid ने और भी बढ़ा दी है। 

जिन Celebrities के YouTube Channel नहीं थे अब उनके भी बन चुके हैं जिसमें वे Videos Upload करके अपने Fans को Entertain करते हैं, अपना Influence और बढ़ाते हैं। 

इसके अलावा यदि Instagram कि बात करें तो  यहां सिर्फ फोटो और वीडियो कंटेंट चलता है। यहां पर Facebook की तरह बिना फोटो या वीडियो शेयर किये बिना Text Content नहीं डाल सकते। लेकिन Reels दोनों प्लेटफार्म पर उपलब्ध है। Reels नया Content है और इसकी मांग भी बहुत ज़्यादा है।

एक अच्छे कंटेंट में निम्न Quality अवश्य होनी चाहिए :

  1. कंटेट ऐसा हो जो User Friendly हो अर्थात यूजर के सभी सवालों का जवाब दे।
  2. कंटेंट Informative हो और Users को Benefits दे।
  3. कंटेट में Users के क्या, क्यों और कैसे सवाल का जवाब अवश्य हो।

Blogging

Blogging

Blogging के अंतर्गत वे सभी चीजें आती है जो एक Blogger अपने Blog में Daily Base में करता है जैसे – Blog Publish करना, Image डालना, SEO करना, Blog Design करना आदि। 

यह एक प्रकार से एक डायरी होती है जिसे Digitally Manage किया जाता है जिसमें Website Address का प्रयोग होता है। और इस डायरी में लोग अपने Experience या Thoughts Writing के माध्यम से शेयर करते हैं।

यह Experience कुछ भी हो सकता है जैसे – Personal बातें, अपनी Travelling की जानकारी देना, Cooking रेसिपी बताना तथा नयी Technology कि जानकारी देना आदि। 

साथ ही इसमें कंटेंट ही आपकी पहचान होती है। यहां पर शक्ल दिखाये बिना भी काम किया जा सकता है इसलिए इसमें वे गृहिणी भी काम कर सकती हैं जो लोगों के सामने काम करने से डरती हैं और साथ ही इसमें Google Adsense के Ads लगाकर भी पैसे कमाए जा सकते हैं।

Affiliate Marketing

Affiliate Marketing

आपने अक्सर कई ऐसे News Websites को ज़रूर देखा होगा जिनमें नीचे साइड Amazon के Product दिखाई देते हैं जिनपर क्लिक करके कोई भी Product को Buy कर सकता है। यह कुछ और नहीं Affiliate Marketing का कमाल है।

Affiliate Marketing एक ऐसा तरीका है पैसे कमाने का जिसमें Links की सहायता से Product Promotion करना होता है। अर्थात Affiliate Marketing एक Paid Promotion Technique है जिसकी सहायता से आसानी से Business Grow किया जा सकता है।

बड़ी-बड़ी Marketing Companies अपने Products का Promotion करने के लिए Affiliate Marketing का प्रयोग करती हैं और इसमें सीधे किसी को पैसे नहीं दिए जाते हैं बल्कि तभी दिए जाते हैं जब उनका कोई Product Sell होता है। 

प्रत्येक Product में एक निश्चित Percentage होता है जो जितना ज़्यादा Sell कर सका उतना ही ज़्यादा उसका पैसा। 

इसके लिए Affiliate Account बनाना पड़ता है। इसके बाद उसके Affiliate लिंक्स Blogs में लगाने होते हैं। Amazon और Flipkart भी Affiliate Marketing की सुविधा देता है। 

Amazon Associates के बारे में जानने के लिए यहाँ Click करें। 

Affiliate Marketing आज इतना प्रचलित हुआ है क्योंकि ये Passive Income का एक ज़रिया है और इसमें कोई Minimum Education Qualification कि कोई Requirement नहीं है, आप घर बैठे ही, पार्ट टाइम में काम करके, Full Time जितना पैसा कमा सकती हैं। 

Affiliate Marketing से जुड़े आपके सारे Doubts इस Blog में Clear हो जाएंगे। 

Search Engine Optimization

Search Engine Optimization

आपने अक्सर Google में अपनी Query जरूर Search की होगी और पाया होगा कि Google Top में सिर्फ वही Result दिखता है जो सबसे Best है, अर्थात सबसे Informative Post No.1 में दिखती है। और ऐसा Possible होता है SEO से। 

Search Engine Optimization या SEO का मतलब ही यही होता है कि Search Engine को समझाओ कि आपका कंटेंट किस बारे में है। इसके लिए Keyword का प्रयोग होता है क्योंकि Search Engine सिर्फ Keywords की भाषा समझता है और उसी के हिसाब से User Intent को समझता है।

Search Engine Optimization Fundamentals पर मैंने एक Guide बनाई है जो आपको ज़रूर पढ़नी चाहिए। 

इसे पढ़ने के लिए यहाँ Click करें। 

For Example यदि आपके पास Clothes की वेबसाइट है और उसमें Online Clothes Keyword Mention नहीं है तो सर्च इंजन समझ ही नहीं पायेगा कि आप भी Online Clothes Sell करते हैं।

Users के Intent को समझने व उनकी प्राथमिकता को ध्यान में रखते हुए Google ने 150+ Algorithms बना रखे हैं जो कि SEO का Important Part है और इसी के According Search Engine Work करता है। 

ये निरंतर Change होता रहता है और हर एक Search Engine का अपना Optimization Criteria होता है।

संक्षिप्त में Search Engine व Users के Prospective को ध्यान में रखकर बनाए गए कंटेंट को ही Search Engine Optimized Content कहते हैं तथा यह Process को Search Engine Optimization कहलाता है जिसे Short में SEO कहते हैं।

अगर आप ये जानना चाहते हैं कि Search Engine Optimized Content कैसे लिखते हैं तो मेरा ये Blog ज़रूर पढ़ें। 

एक अच्छा SEO Expert अपनी साइट को Optimize करते समय निम्न सवालों का अवश्य ध्यान रखता है क्योंकि ये सभी SEO का Part है :

  1.  Article Title कैसा रहेगा?
  2. लोग कैसे टाइटल ज़्यादा पसंद करते हैं?
  3. Keyword क्या है और कहां डालना Important है?
  4.  किस प्रकार की इमेज लोगों को पसंद आती है?
  5.  Current में लोग किस प्रकार के कंटेट को पसंद कर रहे हैं? 
  6. Meta Tag क्या डालना है
  7. यह जानना दूसरे लोग ऐसा क्या कर रहे है जो यूजर पसंद कर रहे है?
  8. यूजर Experience कैसा रहा?

SEO, Observations Techniques पर Work करता है और इसके लिए निरंतर New Experiment करना होता है क्योंकि यह निरंतर Change होता है। 

यदि आप भी Observation में अच्छे हैं तो आपको भी Search Engine Optimization में जरूर Try करना चाहिए। SEO के लिए कई कंपनियां लाखों तक खर्च कर देती है।

<