संदीप भंसाली - डिजिटल आज़ादी

Learn Digital Marketing In Hindi – Your Ultimate Guide To Learning Digital Marketing In 2024

Learn Digital Marketing In Hindi - Your Ultimate Guide To Learning Digital Marketing In 2023

नमस्कार दोस्तों, कैसे हैं आप सब?

मैं काफी समय से आपको Digit al Marketing सिखा रहा हूँ और इससे होने वाले फायदों, इसकी Strategies, Implementation, आदि से जुड़े तथ्यों को समझा रहा हूँ। 

इसके साथ ही मैं आपको बता रहा हूँ कि कैसे Digital Marketing की मदद से आप अपने Business को Scale कर सकते हैं और उसे Profitable बना सकते हैं। 

कैसे आप Digital Marketing Strategies अपने Business में Implement करना है। 

कैसे आप इस Trending & Most Demanding Skill को सीख कर अपने लिए Multiple Sources of Income Create करने हैं।

मैं आपको Webinars के माध्यम से, YouTube Videos के माध्यम से, Blog Posts के माध्यम से और Social Media Posts के माध्यम से इस स्किल को सिखाता हूँ।  

परन्तु, क्या हैं यदि वो सारा ज्ञान जो मैंने आपको अलग-अलग Platforms पर और अलग-अलग समय पर दिया हो, वो एक साथ और एक ही जगह पर आपको मिल जाये?

मैं जानता हूँ कि इससे आपको ख़ुशी मिलेगी, आपका समय बचेगा और आप Digital Marketing से जुडी चीज़ों को जल्दी सीख, समझ और Implement कर पाएंगे।

इस Blog के माध्यम से मैं आपको वो ख़ुशी देना चाहता हूँ। 

यह एक Blog Cum Detailed Guide है जहां मैंने Digital Marketing के अंतर्गत शामिल सभी Modules का वर्णन किया है। 

इसे पढ़कर आपको Digital Marketing और इससे सम्बन्धित अन्य Skills के बारे में पता चलेगा। 

तो चलिए शुरू करते हैं इस Powerful Guide को जो आपके लिए एकदम Free of Cost उपलब्ध है।   

Table of Contents

Digital Marketing Kya hai - What is Digital Marketing

Digital Marketing Kya hai - What is Digital Marketing

Digital Marketing एक ऐसी कला है जिसके माध्यम से आप अपने Products & Services को Online Market कर सकते हैं और उन्हें दुनिया के किसी भी कोने तक पहुंचा सकते हैं। 

सबसे पहले 1990 के दशक में यह Strategy चर्चा में आई थी, लेकिन अब धीरे-धीरे यह लोगों की ज़िंदगी को आसान बना रही है।

इस Online Marketing से कम समय में ही किसी भी बिज़नेस को $0 Revenue से Multi-Million Dollars Revenue तक लेकर जाया जा सकता है। 

अगर भारत में इसके कुछ आंकड़ों की बात करें तो 2011 में 15 Billion INR Market Size की इस Industry ने 2021 में 250 Billion INR के Market Cap को पार कर लिया है।

ये लगभग 1730% की Growth है जो दर्शाती है कि वाकई भारत में Digital युग की शुरुआत हो चुकी है।  

Digital Marketing के फायदे भी अनेक हैं जिनकी वजह से इस Industry की लगातार Growth हो रही है। 

Customers तक आसानी से और जल्दी पहुँचने के अलावा यह Customers की Demands, उनकी ज़रूरतें, उनकी Problems, और उनके Feedback के अनुरूप Customized Products Sell करने में भी मदद करती है। 

Digital Marketing के अंतर्गत Products & Services Sell करने के लिए Social Media, Apps, Website, Email Marketing इत्यादि का उपयोग किया जाता है। 

लेकिन वो कौन-सी Digital Marketing Tactics हैं जिनके उपयोग से आप अपने Offline Business को Online ले जा सकते हैं और अपने Products Sell कर सकते हैं?

आइये जानते हैं अगले सेक्शन में।  

Types of Digital Marketing Tactics / Digital Marketing Components / Digital Marketing Strategies

हर वो Online Marketing Tactics जिसकी सहायता से Online Presence बनाकर Products Sell किये जाते हैं, Digital Marketing Tactic कहलाती है। 

वैसे तो ऐसी कई Tactics हैं जिनका उपयोग समय-समय पर किया जाता है, लेकिन उन सभी में कुछ मुख्य Tactics भी हैं, जिनमे से हम 8 Best Digital Marketing Tactics पर नज़र डालेंगे।   

  1. Content Marketing
  2. Social Media Marketing (SMM)
  3. Search Engine Marketing (SEM)
  4. Search Engine Optimization (SEO)
  5. Pay Per Click Advertisement (PPC Ads)
  6. Affiliate Marketing
  7. Email Marketing
  8. Apps Marketing
Types of Digital Marketing Tactics : Digital Marketing Components : Digital Marketing Strategies

Content Marketing से तात्पर्य होता है विभिन्न Digital Platforms पर Content Creation & Content Promotion करना!

HubSpot के मुताबिक, लगभग 82% Marketers, Content Marketing को Actively Use करते हैं। 

इससे आप इसकी लोकप्रियता का अंदाजा लगा सकते हैं। 

इस Tactic को Digital Presence Create करने, Brand Awareness Create करने, Traffic बढ़ाने और Leads Generate करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। 

जैसे-जैसे आप Content Create करना शुरू करते हैं, लोग आपको जाने लगते हैं, आपकी Brand Awareness बढ़ने लगती है और आप अपनी Target Audience को अपने Online Platforms पर Attract करने लगते हैं। 

Content Marketing को अंजाम देने के लिए विभिन्न Channels का उपयोग किया जाता है जिन्हें Content Marketing Channels कहा जाता है। 

इन Channels के माध्यम से Content Create किया जाता है जिसे Digital Marketing की अन्य Strategies की मदद से Promote किया जाता है।   

Blog Posts, Audio & Video Type Content, Newsletters, E-Books, इत्यादि इसके उदाहरण हैं।  

इसे भी पढ़ें : Your Ultimate Guide To Creating An Effective Content Marketing Strategy in 9 Steps

Social Media Marketing (SMM)

यह एक ऐसी Strategy होती है जिसकी मदद से Social Media Platforms पर Brand को और अपने Content को Promote किया जाता है। 

Social Media Marketing का Sole Purpose अपने Target Audience तक पहुंचना होता है। 

एक बार Audience जब Social Platforms पर आने लगती है तो उन्हें कोई Quality Product या Service Sell की जाती है और पैसा कमाया जाता है। 

Social Media Marketing Strategy के अंतर्गत Paid Strategies का इस्तेमाल किया जाता है और Social Platforms जैसे कि Facebook, Instagram, LinkedIn, Twitter, Snapchat इत्यादि पर Viral Campaigns Run किए जाते हैं।  

Social Media Marketing के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहां Click करें। 

यदि आप एक Effective & Powerful Social Media Marketing Strategy बनाकर अपना Business Grow करना चाहते हैं तो पढ़ें हमारा Blog 9 Steps To Create Result Oriented Social Media Marketing Strategy For 2024

Search Engine Marketing (SEM)

यह Strategy, Search Engine Optimization के विपरीत एक Paid Strategy होती है। 

इसके अंतर्गत Search Engines, जैसे Google & Bing पर Ads Run किये जाते हैं। 

इन Ads को Run करने के पीछे मकसद होता है ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को अपने Online Platform तक लेकर आना। 

इन Ads को Run करने के लिए Suitable Keywords को Target किया जाता है। 

या इसे यूँ भी कह सकते हैं कि कुछ Specific Keywords के लिए ही Search Engines पर Ads Run किये जाते हैं। 

जब भी कोई व्यक्ति उन Keywords के रूप में अपनी Queries को सर्च इंजन पर पूछता है, तो उसके सामने आपकी Website आ जाती है और इस तरह आपको Traffic मिलता रहता है। 

Search Engine Marketing के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहां Click करें। 

Search Engine Optimization (SEO)

SEO एक ऐसी तकनीक होती है जिसके तहत Organically या बिना पैसा खर्च किये Website को Search Engine पर रैंक कराया जाता है। 

इसी तरह से YouTube SEO भी होता है जिसके अंतर्गत YouTube Videos को YouTube पर रैंक कराया जाता है। 

SEO में Right Keyword Selection सबसे अहम Factor होता है और Website को रैंक करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

यदि इसके विभिन्न प्रकार की बात करें तो SEO को चार भागों में बांटा जाता है – On-Page SEO, Off-Page SEO, Technical SEO, and Local SEO. 

On-Page SEO के अंतर्गत Web Pages को Google Algorithms के हिसाब से Optimize किया जाता है। 

Off-Page SEO के अंतर्गत आपके द्वारा की जाने वाली Activities सीधा आपकी Website से सम्बन्धित नहीं होती, लेकिन फिर भी Ranking के लिए उत्तरदायी होती है, जैसे Backlinks & Directory Submission!

Technical SEO में आपको अपनी Website को कुछ इस तरह से Optimize करना होता है जिससे वो आसानी से Index हैं सके और Search Engine Crawlers उसे Crawl कर सकें। 

Local SEO में अपनी Website को Local Business के लिए Optimize करना होता है जिससे कि आपके Local Area की Audience आपके Business Website पर आ सके और आपके साथ Transact कर सके।

SEO क्या है, SEO क्यों ज़रूरी है, कैसे काम करता है, इत्यादि के बारे में विस्तार से जानने के लिए इस Blog को अंत तक पढ़ें।  

SEO & SEM के बीच के फर्क को जाने के लिए पढ़ें हमारा Blog – SEO Vs SEM In Hindi  

Pay Per Click Advertising

PPC Advertising, Traffic Generation का एक ऐसा Method होता है जहां आप Publisher को पैसे देते हैं जब भी आपके Ad पर कोई व्यक्ति क्लिक करता है। 

PPC Ad Campaign को Target Audience को Attract करने और आपकी Website पर भेजने के लिए Run किया जाता है। 

सबसे Commonly Use होने वाले PPC Ad Campaign में शामिल है Google Ad!

लगभग 80% Companies अपने Ad Campaign के लिए Google Ads का Use करती हैं। 

इसके अलावा, आप Facebook Ads, Insta Ads, Twitter Ads, इत्यादि को भी Lead Generation के लिए Use कर सकते हैं। 

यह एक ऐसा Method है जहां आप अपना कोई Products या Service Create किये बिना ही पैसा कमाते हैं। 

इसके तहत आपको किसी Merchant या Affiliate Program के साथ जुड़ना होता है और अपने Niche से सम्बन्धित Products को लोगोंं को Promote करना होता है। 

Promote करने के लिए आपको उन Merchants द्वारा Affiliate Links Provide किए जाते हैं, जिन्हें आप अपने Affiliate Sources पर लगाते हैं। 

जब कोई भी व्यक्ति उन Affiliate Links पर क्लिक करता है और आपके Affiliate Products खरीदता है तो आपको कमीशन के रूप में पैसा मिलता है। 

Affiliate Marketing Industry धीरे-धीरे काफी पॉपुलर हो रही है और 2024 के अंत तक इसके $12 Billion तक पहुँचने का अनुमान है।  

Affiliate Marketing क्या है, इसकी शुरुआत कैसे करें, इसके Benefits क्या हैं, इत्यादि के बारे में जानने के लिए हमारी इस Detailed Guide को ज़रूर पढ़ें। 

लेकिन, क्या Affiliate Marketer बनना आपके लिए फायदे का सौदा है? जानिए इस Blog में। 

Email Marketing एक Communication Channel की तरह होता है जो दो व्यक्तियों के बीच में Communicate करने की सुविधा प्रदान करता है। 

इस Technique के माध्यम से Content Promotion, Discount Offering, Webinar Scheduling, Event Planning, Cold Pitching जैसे कार्यों को अंजाम दिया जाता है।

यदि इसके कुछ आंकड़ों की बात करें तो एक सर्वे में यह पाया गया है कि Email Marketing का Return On Investment (ROI) लगभग 4400% है। 

ऐसे में किसी भी Business द्वारा इस Strategy को अपने Business Growth Module में शामिल करना ज़रूरी हैं जाता है।  

किसी Digital Marketer द्वारा अपने Products or Services को Sell करने के लिए Email Marketing Campaigns Run किये जाते हैं और Traffic को Relevant Website या Platform पर भेजा जाता है।

Apps Marketing

Mobile Applications बनाकर लोगों तक Content, Products और Services पहुँचाने की तकनीक को App Marketing कहा जाता है।  

आजकल, क्योंकि इंटरनेट की घर-घर तक पहुँच से Smartphone Use करने वालों की संख्या बढ़ी है, App Marketing द्वारा अपने Products को Advertise करना और बेचना आसान हैं गया है। 

हमने इतनी सारी Digital Marketing Tactics की बात की, लेकिन शायद आप सोच रहे होंगे कि आखिर हमें इनकी ज़रूरत ही क्यों है?

ऐसा क्या है Digital Marketing में जो Traditional Marketing द्वारा नहीं किया जा सकता?

इसी तरह के सवालों को जवाब जानने के लिए हमें इसकी ख़ूबियों की चर्चा करनी पड़ेगी। 

Importance of Digital Marketing - Digital Marketing Benefits

Importance of Digital Marketing - Digital Marketing Benefits

Digital Marketing एक ऐसी Industry बनकर उभर रही है जो लाखों लोगोंं को अपनी ओर आकर्षित कर रही है और उन्हें रोजगार का अवसर प्रदान कर रही है। 

Business करने वाले लोग भी इसे अपने Business में Implement करके अपनी Sales को बढ़ा रहे हैं। 

इसलिए हमें इससे होने वाले फायदों के बारे में चर्चा करनी ज़रूरी है। 

तो आइये Digital Marketing Benefits पर कुछ नज़र डालते हैं और समझते हैं कि क्यों ये एक लोकप्रिय Industry बनती जा रही है।  

  • Increase Online Presence 

किसी भी Product को Online Sell करने के लिए सबसे पहले आपको अपनी Online Presence बनाने की ज़रूरत होती है। 

इसमें Digital Marketing आपकी मदद करता है जिसके विभिन्न Tactics की मदद से आप Website, YouTube, and Social Media Channels पर अपनी Presence बनाते हो। 

  • Ability To Reach & Target the Right People

Digital Marketing के सबसे बड़े फायदों में से एक फायदा ये है कि इसकी मदद से आप एक देश में रहते हए भी किसी अन्य देश में बैठे व्यक्ति को अपना Product Sell कर सकते हो। 

सिर्फ इतना ही नहीं, ये सुविधा देता है कि आप अपने Niche के According अपने Selected Products बेचने के लिए Target Audience को चुन सकते हो। 

ऐसे में आपके लिए केवल कुछ ही Specific Group of People को अपनी Services या Products Sell करने होते हैं। 

  • Ability To Interact & Communicate With Prospects

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि Digital Marketing आपकी Reach पर कोई रोक नहीं लगाती; आप अपने Prospects से लगातार Communicate & Interact करते रहते हो। 

Content Marketing, Email Marketing, Social Media, Videos के माध्यम से आप अपने Prospects को लगातार Value Provide करते रहते हो। 

इससे आपकी Audience का आप पर Trust बनता है जो आपके Business Transaction में काफी मदद करता है। 

  • You Get to Know The User Navigation

Digital Marketing की मदद से आप अपने Online Sources पर Visit करने वाले Visitors या Users की गतिविधियों को Track कर सकते हैं। 

इससे आपको पता चल जाता है कि User बार-बार कहाँ क्लिक कर रहा है, वो Exactly किस चीज़ की ख़ोज कर रहा है, और आप किस तरह उसे वह चीज़ Provide कर सकते हैं। 

इस तरह आप अपने Users को Navigate करके अपने Content & Strategies को उस हिसाब से Adjust & Modify कर सकते हैं और उन्हें अपने Customer में कन्वर्ट कर सकते हैं। 

  • Cost-Effective

यदि आपके पास Low बजट है तो आपको घबराने की ज़रूरत बिलकुल नहीं है। 

Low Budget होने पर भी आप Digital Marketing को अपने Business में Implement कर सकते हैं। 

शुरुआत में आप कम खर्चे पर भी काम चला सकते हैं और Ad Campaigns & Lead Generation के लिए कम पैसा लगा सकते हो। 

इसलिए ये Startups & New Businesses के लिए Brand Awareness Create करने का एक बेहतरीन Option होता है।  

  • Can be Done From Anywhere in the World

अगर आपके पास Office Space नहीं भी है तब भी आप Digital Marketing को किसी भी Location से Implement कर सकते हो। 

आपको चाहिए तो बस एक Computer और एक बेहतर Internet Connection!

इसमें शामिल Content Marketing, Content Planning, Content Creation, Content Promotion, Email Marketing जैसी Techniques को बड़ी ही आसानी से दुनिया के किसी भी कोने में बैठकर Implement किया जा सकता है। 

  • Strategy Can be Measured, Tracked, and Tweaked

कई बार आपकी सोची हुई Strategies या Plans काम नहीं करते और आप एक जगह पर आकर फंस जाते हो। 

ऐसे में आप अपनी Digital Strategies को Track & Monitor कर सकते हैं और देख सकते हैं कि आपके लिए क्या Work कर रहा है और क्या नहीं।

इसके आधार पर आप उन Strategies & Plans को Tweak कर सकते हैं और सही राह चुन कर अपने Business को Profitable बना सकते हो।  

Difference Between Digital Marketing Vs Traditional Marketing

Digital Marketing Traditional Marketing
Digital Marketing एक ऐसा प्रोसेस होता है जिसके माध्यम से एक Seller अपने Customers तक पहुँचने के लिए Online Ads, Social Media, Website, Apps , Videos इत्यादि का सहारा लेता है।
Traditional Marketing एक ऐसा प्रोसेस होता है जिसके अंतर्गत Products या Services को Promote करने के लिए विभिन्न Offline Methods जैसे कि Print Media, Newspapers, Billboards, Posters, TV, इत्यादि का सहारा लिया जाता है।
Digital Marketing के लिए Proper Internet Connection और Computer की ज़रूरत पड़ती है।
Traditional Marketing का मकसद होता है एक बार में ही Large Number of People तक पहुंचना।
इसके अंतर्गत Two Way Communication होता है जहां Seller & Prospect एक दूसरे से कभी भी Digitally Interact कर सकते हैं।
इसमें केवल One Way Communication ही हो पाता है और Sellers & Prospects के बीच Interaction नहीं हो पाता।
यह Location Constraint Strategy नहीं होती और इसे कहीं भी बैठ कर अंजाम दिया जा सकता है, इसलिए Business की Reachability बढ़ती है।
इसे केवल एक Specific Location में रहकर ही अंजाम दिया जा सकता है जिससे इस Method की Reachability कम हो जाती है।
यहां आपके पास Viral होने के Chances बहुत अधिक होते हैं और इसलिए एक Brand बनने में कम समय लगता है।
यहां आपके पास Viral होने के Chances कम होते हैं जिस वजह से एक Brand बनने में काफी समय लग जाता है।
इसमें Cost Of Investment कम होती है और Return On Investment काफी ज़्यादा होता है।
Traditional Marketing के अंदर काफी महंगी Strategies शामिल होती है और ROI भी उतना अच्छा नहीं होता।

एक बार जब आप Digital Marketing सीख लेते हैं (Learn Digital Marketing in Hindi) तो आप सिखाई गई चीज़ों की प्रैक्टिस के लिए या फिर अपने अपने Business के लिए Digital Ecosystem Create कर सकते हैं। 

तो आइये, बात करते हैं कि Digital Ecosystem क्या होता है, ये क्यों ज़रूरी है, और आप कैसे अपने Business के लिए अपना एक Digital Ecosystem Create कर सकते हैं। 

What is A Digital Ecosystem - Digital Ecosystem kya hota hai?

Digital Ecosystem उन सभी Digital Processes का एक कलेक्शन होता है जो किसी बिज़नेस को ऑनलाइन ले जाने और उसके Products & Services को लाखों लोगोंं तक पहुंचाने के लिए उत्तरदायी है। 

इसके अंदर बहुत सी Online Strategies शामिल होती हैं जिन्हें Digital Ecosystem Components के नाम से भी जाना जाता है। 

Generally, इन सभी Strategies को दो भागों में बांटा गया होता है – Organic & Inorganic!

आइये इन Strategies को विस्तार से समझते हैं और देखते हैं कि क्यों Digital Ecosystem आपके Business के लिए ज़रूरी है। 

Digital Ecosystem Blueprint

Components of Digital Ecosystem

Digital Ecosystem Components को दो अलग-अलग Processes के तहत अलग-अलग भागों में बांटा गया है। 

ये दो Processes हैं – Organic Process and Inorganic Process!

Organic Process

इसे Free Lead Generation Process भी कहा जाता है। 

इसके अंतर्गत आपको अपनी Website पर Traffic Generate करने के लिए पैसा खर्च नहीं करना पड़ता और Ad Campaigns नहीं चलाने पड़ते। 

इसके अतिरिक्त, आपको Social Media Platforms जैसे Facebook, Instagram, Twitter, LinkedIn इत्यादि पर Quality Content Post करते हुए Organically अपनी Reach बढ़ानी पड़ती है।  

इसके अंतर्गत तीन प्रमुख Strategies शामिल होती हैं – Content Marketing (CM), Search Engine Optimization (SEO), and Social Media Optimization (SMO).

Content Marketing and Search Engine Optimization Strategies को हम इस Blog में Digital Marketing Tactics के अंदर Explain कर चुके हैं।

तो इसलिए, आइये अब Social Media Optimization (SMO) को समझते हैं। 

Social Media Optimization (SMO)

Social Media Optimization एक ऐसा Process होता है जिसके तहत विभिन्न Social Media Channels को Optimize किया जाता है और Brand Awareness बढ़ाई जाती है। 

इसके अंतर्गत Social Channels पर Right & Valuable Content Post करना, लगातार User Engagement को बढ़ाना, Interaction करना, इत्यादि शामिल होता है। 

Social Media Optimization के बारे में अधिक जानने के लिए इस Blog को पढ़ें। 

इसे भी पढ़ें : 2024 में SMO Strategies के लिए Ultimate Guide 

Inorganic Process

इसे Paid Lead Generation Process भी कहा जाता है। 

इस Paid Process के माध्यम से आपको अपने Content, Products, and Services को Promote करने के लिए थोड़ा पैसा खर्च करना पड़ता है और Ads Run करने पड़ते हैं। 

इस Strategy की मदद से आप काफी जल्दी अपनी Target Audience तक पहुँच पाते हैं और एक बेहतरीन Landing Page की मदद से उन्हें Customer में Convert कर पाते हो। 

Inorganic Process के अंतर्गत दो Strategies शामिल होती हैं – Search Engine Marketing (SEM) and Social Media Marketing (SMM)

इन दोनों ही Strategies को हम इस Blog में ऊपर Digital Marketing Tactics के Section में Explain कर चुके हैं।

Also Read : SMO Vs SMM In Hindi – An Ultimate Comparison Between Social Media Optimization & Marketing

Why Digital Ecosystem is Important

  • Helps in Business Upgrade

एक Product Based Business में Product Design से लेकर Product Selling तक कई स्टेप्स शामिल होते हैं। 

साथ ही एक Product, Manufacturer से Trader, Trader से Wholesaler, Wholesaler से Retailer, and Retailer से Consumer तक पहुँचता है। 

इन सभी स्टेप्स को कम करने के लिए Digital Ecosystem Create किया जाता है और B2B & B2C Type Business को अपनाया जाता है।

इससे Product पर लगने वाली Additional Cost कम हो जाती है और Customer को सही दाम पर प्रोडक्ट मिल जाता है।   

  • Make Business Convenient and Easy to Run 

इंटरनेट के आने से जब से चीज़ें डिजिटल हुई है, Digital Industry ने काफी Boom किया है और देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में हाथ बंटाया है।

आज से कुछ समय पहले किसी ने नहीं सोचा था कि किसी Business को घर बैठे सिर्फ Computer & Internet की मदद से Operate किया जा सकता है। 

लेकिन, आज ये हो रहा है, लोग अपना Digital Ecosystem बना कर अपनी Operating Cost कम कर रहे हैं। 

इसकी वजह से अधिक से अधिक लोगोंं से जुड़ने में कम समय लग रहा है और Business को Run करना काफी आसान हो गया है। 

अगर आप जानना चाहते हैं कि Digital Ecosystem बनाकर कैसे पैसा कमाया जाये तो पढ़िए हमारा Blog –  2024 में डिजिटल इकोसिस्टम से कमाई के 5 बेहतरीन तरीक़े 

  • Help Establish As A Brand 

यदि आपको अपनी एक अलग पहचान बनानी है और अपने Business को एक Brand के रूप में स्थापित करना है तो Digital Ecosystem Creation इसमें आपकी मदद करेगा। 

आप Digital Marketing का उपयोग करके लोगोंं तक अपनी बात पहुंचा सकोगे, उन्हें सही राह दिखा सकोगे और Value Provide कर सकोगे जिससे धीरे-धीरे वो लोग खुद ही आपके पास आने लगेंगे।  

ऐसे में उनका आप पर Trust बनेगा और वो आपके Content को पसंद करना शुरू कर देंगे। 

जैसे-जैसे आपकी लोकप्रियता बढ़ेगी, अधिक लोग आपको जानने लगेंगे और आप एक Brand के रूप में स्थापित होने शुरू हैं जायेंगे। 

  • Helps Fight With Any Global Pandemic 

किसी भी तरह का Pandemic or Crisis देश की अर्थव्यवस्था को बहुत बड़ा नुक्सान पहुंचाता है। 

लोगोंं की नौकरियां छिन जाती हैं, Businesses ठप हो जाते हैं, और बहुत अधिक Financial Loss होता है। 

ऐसे में यदि कोई Business Online है तो उस पर इस तरह के Pandemics का ज़्यादा असर नहीं पड़ता। 

Digital Ecosystem Create करने से आप एक Shield बना लेते हैं जो Pandemic से लड़ने में आपकी मदद करती है।

How To Create A Digital Ecosystem

How To Create A Digital Ecosystem

किसी भी स्किल को सीखने का सबसे सही तरीका होता है उसे Practically Apply करते रहना। 

Practically Apply करते रहने से आप चीज़ों को जल्दी और अच्छे से समझते हैं और आपके दिमाग में जो भी Doubts होते हैं वो खुद-ब-खुद क्लियर होते जाते हैं। 

इसी तरह Digital Marketing को भी सीखने के बाद Practice करना ज़रूरी है तभी आप अपना Digital Ecosystem Create कर पाएंगे। 

इसे सीखने और अपना Digital Ecosystem Create करने के लिए आपको निम्न Steps को Follow करना होगा। 

1. Select Your Niche

किसी भी बिज़नेस को शुरू करने के लिए Niche Selection सबसे पहला स्टेप होता है। 

आप सभी क्षेत्रों में Perfect नहीं हैं सकते, बल्कि आपकी किसी Specific Field में Expertise ज़रूर हैं सकती है। 

इसलिए अपने Passion, Interest, लोगोंं की Problems, Niche Potential इत्यादि को देखते हुए अपने Niche का Selection करें।  

2. Build Your Website 

एक बार Niche का चयन करने के बाद Content Create करने के लिए आपको अपनी Website बनानी है। 

Website बनाने के लिए आपको Domain & Hosting की ज़रूरत पड़ेगी, जिससे आपके Business को एक नाम मिलेगा। 

इसके लिए आप Free Platform (Blogger.com) का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आपको Domain & Hosting खरीदने की आवश्यकता नहीं होती। 

लेकिन, ध्यान रहे कि Blogger.com को आप अपनी Business Website का Replacement नहीं मान सकते, बल्कि ये सिर्फ आपकी Practice के लिए ही उपयुक्त है। 

हालांकि, यदि आप अपनी Website को Long Term तक Run करना चाहते हैं और अपनी Credibility बनाना चाहते हैं तो आपको WordPress का उपयोग करना होगा। 

WordPress पर आप Plugins, Customized Themes वगैरह Install करके अपनी Website को बेहतर लुक दे पाएंगे।    

3. Create Profiles on Social Media Platforms

सिर्फ Website बना देने से काम नहीं चलने वाला, बल्कि आपको विभिन्न Social Media Platforms पर अपनी Profile Create करनी होगी। 

YouTube, Facebook, Instagram, LinkedIn, Twitter जैसे मुख्य Platforms पर अपनी प्रोफाइल क्रिएट करने के बाद आपको अगले स्टेप पर जाना है।  

4. Optimize Your Social Media Platforms

एक बार Profile Create होने के बाद आपको अपने Social Platforms को Optimize करना होगा। 

आपकी Profile Picture, Profile Description, Color Theme, इत्यादि आपके सभी Platforms पर एक सा होना चाहिए। 

इसके साथ ही आपको अलग-अलग Social Platforms के हिसाब से देखना है कि किस Platform पर किस तरह का Content अच्छे से Work करता है। 

5. Create & Publish Content

Digital Ecosystem के इस आखिरी स्टेप के तहत आपको Attracting, Engaging, SEO Friendly, and Viral Content Produce करना होगा।

Content Produce करने के लिए आपको अपनी Website, Videos Platforms (YouTube, TikTok), Social Media Platforms (Facebook, Instagram, LinkedIn, Twitter, Quora) पर Content Create होगा और लोगोंं के साथ Share करना होगा। 

Content Create करने के लिए आप Canva & Grammarly जैसे Free Tools का उपयोग कर सकते हैं। 

यदि आप अपने Content में Quality Provide करेंगे और आपकी Audience को वो पसंद आएगा तो उसका Share Rate बढ़ जायेगा। 

इस तरह धीरे-धीरे आपकी Digital Presence बनती जाएगी और अपना एक Digital Ecosystem बना लेंगे।

Digital Ecosystem के अंतर्गत एक बहुत महत्वपूर्ण स्टेप होता है – Website Designing. 

ये हर तरह के Business के लिए बेहद ज़रूरी है, चाहे वो Offline Business हैं या Online Business. 

इसकी इतनी अधिक Importance को देखते हुए इसके बारे में चर्चा करना ज़रूरी हैं जाता है। 

इसलिए, आइये समझते हैं कि Website kya hai, Website की ज़रूरत क्यों है, और Website Create करते वक्त किन बातों को हमें ध्यान रखना चाहिए। 

अब बनाइये अपना Digital Ecosystem एकदम फ्री में और जुड़िये मेरे साथ और सीखिए Digital Marketing साधारण और सरल भाषा में (Learn Digital Marketing In Hindi)

Digital Ecosystem, Website Create किये बिना नहीं चलने वाला, इसलिए इसमें Website Building का बहुत अधिक महत्व है।

इसी महत्व को जानने के लिए आइये Website के बारे में विस्तार से चर्चा करते हैं। 

Website - A Digital Asset of Any Business

Website किसी भी बिज़नेस का एक Digital Asset होती है। अब चाहे वो बिज़नेस छोटा हैं या बड़ा, Website के बगैर बिज़नेस अधूरा ही रहता है। 

यही कारण है कि आज के समय 1.9 Billion से भी अधिक Websites मौजूद है जिनकी संख्या वर्ष 2010 में 210 Million थी। 

सभी Online Businesses में Traffic & Leads Generation के लिए बहुत सी Strategies बनाई जाती है। 

लेकिन, इन Strategies को Implement करके जब Traffic आता है तो उसे Products & Services से रूबरू कराने के लिए एक Platform की ज़रूरत होती है। 

इस Platform की कमी को दूर करने के लिए Website से बेहतर अन्य कोई विकल्प नहीं हैं सकता। 

इसी बात को आगे बढ़ाते हुए आइये जानते हैं कि एक Website क्या होती है, इसकी क्या Importance है, और इसे कैसे Design किया जाता है। 

Website - A Digital Asset of Any Business

What is a Website - Website क्या है?

Website किसी बिज़नेस का ऐसा Digital Asset होती है जो उस बिज़नेस की Identity को दर्शाती है। 

इससे लोगोंं को पता चलता है कि आखिर कोई कंपनी काम क्या करती है, किस तरह के Products or Services बेचती हैं, उनकी क्या Policies हैं, उनके Customer कौन-कौन हैं, और भी अन्य कई चीज़ें।

अगर Technically बात करें तो, Website कई सारे Web Pages का एक Collection होती है जिसका एक Domain होता है जो किसी Server पर होस्ट होता है।

आप विभिन्न Marketing Strategies की मदद से Visitors को अपनी Website पर लेकर आते हैं और उन्हें अपने Products या Services से अवगत कराते हो। 

इसलिए, आपको हमेशा अपनी Website को Responsive, Attractive, and Mobile Friendly बनाना चाहिए, जिससे यदि Visitors उस पर पहुंचे तो कुछ समय भी बिता सके।

Website के बारे में Detail में जानने के लिए पढ़िए हमारा ब्लॉग – क्या सच में वेबसाइट इतनी ज़रूरी है?

Importance of a Website

आज के Digital युग में जब सभी चीज़ें Digital हैं रही हैं और Online Shift हैं रही हैं, तो ऐसे में किसी भी Online या Offline Business के लिए एक Website का होना अत्यंत आवश्यक हैं जाता है। 

आइये देखते हैं ऐसा क्या है कि एक Website की Importance इतनी ज़्यादा है और क्या-क्या इसके Benefits (Website Benefits) हैं। 

1. आपकी Professional Picture को दर्शाती है 

Website आपके Professional Version को दर्शाती है जिससे लोगोंं को आपके बारे में पता चलता है। 

एक सर्वे के मुताबकि, 75% Consumers ये मानते हैं कि वो एक Company की Credibility को उसकी Website से Judge करते हैं। 

इसलिए, आपकी Website जितनी Professional और Responsive होगी, उतनी ही उसकी Credibility बढ़ेगी। 

वैसे भी यदि आप Professionally Work करना चाहते हैं तो आपकी एक Business Website होना आवश्यक है। 

अपनी Professional Website में आप अपनी Private Life से हटकर अपनी और अपने Business की Professional Details को दर्शाते हैं। 

उदाहरण के लिए आप इसमें आपकी Education, Professional Experience, List of Executive Members & Team Members, Clientele, Projects Executed, etc. दिखा सकते हैं।   

2. Search Engine से Traffic Gain करने में मदद करती है 

किसी भी Online Business में Traffic लाने के लिए Search Engine का उपयोग करना बेहद ज़रूरी है। 

लगभग सभी Information आजकल Google पर उपलब्ध है, ऐसे में आप भी चाहोगे कि जो भी Information या Products और Services आप Sell कर रहे हैं, उसके बारे में लोगोंं को पता चले। 

इसलिए, यदि आप पैसा नहीं खर्च करना चाहते तो Search Engine Optimization सबसे बेहतरीन Method हैं सकता है आपके लिए Traffic Gain करने का। 

सही Keywords और SEO के विभिन्न तरीकों का उपयोग करके आप अपनी Website को Google पर Rank करा सकते हैं और Organic Traffic Gain कर सकते हैं।  

3. Products & Services List करने का एक Suitable Platform होती है 

Website आपके Products & Services को लिस्ट करने का एक बेहतरीन माध्यम है। 

जब Visitors आपकी वेबसाइट पर आएंगे तो आपके द्वारा Listed Products के माध्यम से वे जान पाएंगे कि Exactly उन्हें क्या मिलने वाला है। 

Listing के लिए आप बेहतरीन Pictures, Videos, and Infographics का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

एक Web Page जिसमे Video को Use किया गया होता है, उस पर Users 88% अधिक समय व्यतीत करते हैं। 

इसके माध्यम से आप अपने Products की Detail और अन्य ज़रूरी चीज़ों की जानकारी दे सकते हैं। 

4. Business का ROI बढ़ाने में मदद करती है 

Website Design करने के लिए Domain & Hosting की आवश्यकता होती है। हालाँकि, ये Investment इतनी अधिक नहीं होती, लेकिन आपको एक Powerful Platform Provide करती है। 

एक Search Engine Optimized Website आपको लाखों Visitors Free में लाकर दे सकती है जिससे आपका Revenue कई गुना तक बढ़ सकता है।

इसके साथ ही यदि आप Quick Results चाहते हैं तो Ad Campaign के माध्यम से भी अपनी Target Audience तक पहुंच सकते हैं और Transact कर सकते हैं। 

इस तरह इसे एक Low Entry Cost and High Return On Investment Platform भी कहा जा सकता है।   

5. आपका Business 24/7/365 Active रहता है 

Website एक ऐसा Marketing Platform होता है जो आपके लिए 24 घंटे, 7 दिन, और पुरे साल काम करती रहती है। 

आप बिना कोई Rented Place लिए, और किसी को Hire किये बिना भी अपनी Website के माध्यम से हमेशा Active रह सकते हैं। 

बल्कि, आजकल तो Boats का ज़माना चल रहा है, जिसके अंतर्गत नए Visitors के साथ Interact करने के लिए Websites पर Boats को Activate कर दिया जाता है। 

ये Bots आपके Products & Services Recommendation से लेकर सही Content को आपके Visitors तक पहुंचाने का कार्य करते हैं। 

6. बिना Product Sell किये Earning कर सकते हैं 

यदि आपके पास अपना कोई Product नहीं है या कोई ऐसी Skill भी नहीं है जिसके आधार पर आप अन्य लोगोंं को अपनी कोई Service दे सके, तो आपको परेशान होने की ज़रूरत नहीं है।

Website के माध्यम से आप Blogging कर सकते हैं, जिसमे आप Google AdSense, Affiliate Marketing, Sponsored Post, इत्यादि से अच्छा ख़ासा पैसा कमा सकते हैं।

Blogging की शुरुआत करने के लिए आपको एक Particular Niche Select करनी होती है और उसके Around Content Create करना पड़ता है। 

यदि आप अपने Content में Valuable Information Share करोगे तो लोगोंं को आपका Blog पसंद आएगा और वो अन्य लोगोंं में उसे Share करेंगे। 

इससे आपकी Website पर Traffic आने लगेगा और आप Google AdSense का Approval लेकर अपनी Website पर Ad लगा सकेंगे और पैसे कमा सकेंगे।   

इसके अलावा आप Affiliate Marketing की मदद से भी Earning कर सकते हैं जिसके अंतर्गत आपको किसी अन्य Merchant या Affiliate Program (जैसे Amazon Associates Affiliate Program) से जुड़कर उनके Products को अपने Blog पर Promote करना होता है। 

Website Benefits in Business के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए पढ़ें हमारा Blog – 2024 में आपकी Website होना क्यों ज़रूरी है? 10 मुख्य कारण !

How to Make a Website - Website कैसे बनाएं?

How to Make a Website - Website कैसे बनाएं?

अब तक आपको Website क्या है और Website Benefits क्या हैं के बारे में सम्पूर्ण रूप से पता लग गया होगा।

क्या आप जानते हैं कि एक Web Developer एक Basic Website Design करने के Rs. 15,000 से Rs. 20,000 तक चार्ज करता है। 

लेकिन, आज के समय में WordPress & Wix जैसे Drag & Drop Tool का इस्तेमाल करके आप Web Developers की मदद लेने से बच सकते हैं। 

इसी के सन्दर्भ में हम यहां आपको बताएंगे कि आप कैसे बिना पैसे खर्च किये और बिना Coding के अपनी एक Powerful Website Create कर सकते हैं। 

आइये चलते हैं और आपको बताते हैं कि एक Website Design kaise karein?

  • सबसे पहले आपको अपनी Website का Domain Name सोचना होगा। एक बार Domain Name सोचने के बाद आपको GoDaddy, NameCheap जैसे Domain Registrar पर जाकर अपने Domain की उपलब्धता का पता करना होगा।

    यदि Domain Name उपलब्ध होगा तो आपको अपनी सहूलियत के हिसाब से .com, .in, .org, .net इत्यादि Suffix वाले Domain के लिए SignUp करना होगा। 

  • एक बार Domain Purchase कर लेने के पश्चात आपको अपने Domain को Server पर होस्ट करने के लिए Hosting खरीदने की ज़रूरत पड़ेगी।
    Hosting के लिए आप Hostinger, Bluehost, Siteground इत्यादि के Plans चेक कर सकते हैं।

  • इसके बाद, सही Content Management System (CMS) सेलेक्ट करना होगा जहां आप अपनी Website पर नज़र रख सकोगे और ज़रूरी Editing कर सकोगे। 

  • यदि आपने WordPress को अपना CMS चुना है तो आपको अपनी Website को Attractive, Responsive, User Friendly, and Secure बनाने के लिए कुछ Plugins & Themes को Install करना पड़ेगा। 

    इस तरह आपकी Website बन कर तैयार हैं जाएगी और आप अपना Content Publish करना शुरू कर सकोगे।  


*यदि आप Website Design को Step by Step सीखना चाहते हैं तो जुड़िये हमारे Course
LokNeeti के साथ। 

Common Website Design Mistakes To Avoid

कई नए लोग Website Design करते वक्त कुछ गलतियां करते हैं, जिन्हें अगर शुरुआत में ही रोक लिया जाये तो Business के लिए अच्छा होगा। 

अक्सर लोग अपना कोई प्लान नहीं बनाते और अपना USP Define किये बिना और अपने Competitors की रिसर्च किये बिना ही लग जाते हैं Website Build करने में। 

ऐसे में उन्हें Future में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। 

इसलिए, हमेशा आपको अपनी Website Create करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूरी होता है। 

आइये देखते हैं कि एक Website Design करते वक्त लोग किस तरह की Mistakes करते हैं। 

1. User Friendly Design or Layout का न होना 

अधिक से अधिक लोगोंं को अपनी Website पर Attract करने के लिए Website Design & Layout बहुत मायने रखता है। 

यदि कोई Visitor आपकी वेबसाइट पर आता है और सही Design & Pathway न होने से बीच में ही कहीं अटक जाता है तो इससे आपको ही नुकसान हैं सकता है। 

आपकी Website का Bounce Rate बढ़ता है और आपकी Website की Ranking पर इसका असर पड़ता है। 

Smallbizgenius तो यह कहता है कि 88% Users ऐसे होते हैं जो एक बार Bad Experience होने के बाद आपकी Website को दोबारा Visit नहीं करते।

इसके अलावा आप एक बात ज़रूर ध्यान रखिये कि आज के समय लोगों के पास बहुत सारे Options हैं। 

इसलिए, यदि आपकी Website पर उन्हें वो चीज़ें अच्छी नहीं लगेंगी या Elements पसंद नहीं आएंगे तो Users किसी अन्य की Website पर Land कर लेगा और इससे आपका नुक्सान होगा।  

2. Mobile Friendliness के बारे में न सोचना 

आजकल बहुत बड़ी तादाद में Mobile Users हैं गए हैं और Online Searches भी कंप्यूटर की बजाय Smartphone से ज़्यादा हैं रहें हैं। 

Statista के मुताबिक, वर्ष 2021 में Mobile Users की संख्या 6 Billion को पार कर चुकी है और 2027 तक 7.5 Billion तक पहुँचने का अनुमान है।

ऐसे में Website को Mobile Friendly बनाना बहुत ज़रूरी हैं जाता है। 

Bluecorona के मुताबिक, 71% Marketers का मानना है कि Mobile Marketing उनके Business का Core Part है। 

इसलिए, Mobile Friendliness के बारे में सोचना अत्यंत महत्वपूर्ण हैं जाता है।   

Website को Mobile Friendly बनाने के लिए आपको Mobile Responsive Themes, Templates, इत्यादि का इस्तेमाल करना पड़ता है और खुद चीज़ों को Experience करके देखना होता है।  

3. Website Load Time अधिक होना 

जब हम किसी Website पर Visit करते हैं और Link पर क्लिक करते हैं तो हम चाहते हैं कि जिस भी Information के लिए हम यहां आये हैं वो Information जल्दी से हमे मिल सके और हम उसे पढ़ सकें।

लेकिन, क्या हैं यदि वो Information वाला WebPage खुलने में काफी समय ले?

ज़ाहिर सी बात है, इससे आपका Experience खराब होगा।  

कई बार लोग Website Creation के वक्त Load Time पर अधिक ध्यान नहीं देते। 

वो बेवजह ही Heavy Images, Heavy Graphics, Heavy Theme, और बहुत सारे Plugins अपनी वेबसाइट पर Use करते हैं। 

ये सभी चीज़ें Website का Loading या Opening Time बढ़ाती है। 

देश-विदेश में Famous Digital Entrepreneur Neil Patel के अनुसार, एक Website का Load Time 3 सेकंड से अधिक नहीं होना चाहिए।  

क्योंकि आजकल लोग हर चीज़ जल्दी पाना चाहते हैं, ऐसे में वो इस तरह की Websites पर दोबारा कभी Visit नहीं करते। 

4. Website की Security को नज़रअंदाज करना 

आज के समय में जितनी आपकी Privacy ज़रूरी है उतनी ही ज़रूरी है आपकी Website की Security!

यदि आप अभी तक http Protocol का ही उपयोग कर रहे हैं तो आप अपनी वेबसाइट पर Spammers & Attackers को बुलावा दे रहे हैं।

आपको अपनी Website को Secure करने के लिए https Protocol का उपयोग करना होगा जिसके लिए आपको SSL Certificate की ज़रूरत पड़ेगी। 

SSL Certificate के लिए आपको अपने Hosting Provider से संपर्क करना पड़ेगा।    

5. Call To Action का न होना 

यदि आपकी Website पर अच्छा Traffic आ रहा है लेकिन उसके बावज़ूद आपका Objective पूरा नहीं हैं रहा, तो ये इशारा है कि आपकी Website या Landing Page पर सही Call To Action की गड़बड़ है।

आपका Objective कुछ भी हैं सकता है जैसे – Product Sell करना, Service Sell करना, Course या Program के लिए SignUp, etc. 

Call To Action सही न होने से आपका Customer Conversion Rate भी बहुत कम हैं जाता है। 

हालांकि, इसे सही करने के लिए आपके दिमाग में पहले ये क्लियर होना चाहिए कि आप अपने Visitors से क्या कराना चाहते हैं। 

उसके हिसाब से आपको Planning करनी होगी, अपने कंटेंट को Modify करना होगा, और Landing Page को Redesign करना होगा। 

6. Search Engine and Users के लिए Optimized न होना 

एक Well Optimized Website को Lead Generation से लेकर lead Conversion तक के लिए Use किया जाता है। 

लेकिन, लोग इस चीज़ को ध्यान में नहीं रखते और जैसे उन्हें पसंद आता है वैसे वो अपनी Website को Design & Modify करते हैं। 

Site को Optimize करने के लिए आपको Users के साथ-साथ Search Engine की Algorithms या Terms & Conditions को भी follow करना होता है।  

आपको अपने Content, Images, Videos, Website Pages, Design, इत्यादि को Optimize करना होता है, जिससे वो User Friendly भी बन जाये और Search Engine के हिसाब से भी Powerful बन जाये।  

यदि आप अभी भी Confused हैं और Website Design सीखना चाहते हैं तो जुड़िये मेरे साथ मेरे LokNeeti Classes में (Learn Digital Marketing In Hindi), जहां मैं Website Design, Video Creation Strategy, Copywriting इत्यादि सिखाता हूँ।  

लेकिन, एक Website को Search Engine के हिसाब से कैसे Optimize करें?

इसका जवाब जानने के लिए आइये देखते हैं कि Search Engine Optimization क्या होता है, SEO कैसे काम करता है, और SEO Benefits क्या-क्या हैं। 

Organic Ways To Boost Traffic and Make Money

क्या आप जानते हैं कि एक Website पर Traffic लाने की दो मुख्य Strategies होती हैं – Organic and Inorganic 

Organic Strategies में ऐसे तरीके शामिल होते हैं जो Free होते हैं और जिन से Results आने में थोड़ा समय लगता है। उदाहरण – Search Engine Optimization (SEO) and Social Media Optimization (SMO)

वहीं दूसरी तरफ, Inorganic Strategies में ऐसे तरीके शामिल है जहां आपको Quick Results के लिए कुछ पैसे खर्च करने पड़ते हैं। उदाहरण – Search Engine Marketing (SEM) and Social Media Marketing (SMM)

तो आइये सबसे पहले Organic Processes की बात करते हैं जिसके अंदर सबसे पहले नाम SEO का आता है। 

What is Search Engine Optimization - SEO In Hindi

What is Search Engine Optimization - SEO In Hindi

क्या आप जानते हैं कि Google पर हर सेकंड एक लाख से भी ज़्यादा Searches होती है?

हर वो व्यक्ति जिसे अपने सवालों का जवाब चाहिए होता है, कुछ ढूंढना होता है या खरीदना होता है, Google का रुख करता है और First Page पर Ranked Websites को Visit करता है। 

लेकिन, यह कैसे Decide होता है कि कौन-सी Website First Page पर रैंक करेगी और कौन-सी नहीं?

इसे समझने के लिए हमें Search Engine Optimization (SEO) को समझना होगा। 

SEO एक ऐसी Technique होती है जो आपकी Website को Google पर रैंक कराने से सम्बन्धित है। 

जब भी आप अपनी किसी Query को Google पर सर्च करते हैं और जो Results या Websites आपको Google के पहले Page पर दिखती हैं, वो सभी SEO की वजह से रैंक हुई होती हैं। 

जितना ऊपर आप रैंक करेंगे, उतना ही आपको Organic Traffic मिलेगा और आपकी Website की Authority बनेगी। 

Advanced Web Ranking के मुताबिक, लगभग 67% Clicks, Search Engine पर Ranked पहले पांच Results पर आते हैं। 

इसलिए कहा जाता है कि Website को Search Engine के हिसाब से Optimize करना बेहद ज़रूरी है।

SEO Technique में एक शब्द के बहुत मायने है जो है – “Keyword”

Keywords ऐसे शब्द होते हैं जो User द्वारा Google पर अपनी Query पूछते वक्त इस्तेमाल किये जाते हैं। 

जैसे – Best Smartphones Under 10,000, Best Sport Shoes, Gajar Halwa Recipe, Best Motivational Book, etc.

इन्हीं Keywords को आपको अपनी Website के Content में सही से और Strategically Use करना होता है। 

Keywords के अलावा भी SEO के अनेकों Components होते हैं जो Website की रैंक के लिए जिम्मेदार होते हैं।

इनमे मुख्य रूप से शामिल हैं, Backlinks, Guest Posting, Image Optimization, Alt Tags, Meta Description, Internal Links, etc. 

इन सभी Factors को Detail में समझाने के लिए हम आपके लिए एक Powerful SEO Guide लेकर आने वाले हैं। इसलिए, बने रहिएगा हमारे साथ। 

तो हमने आपको बताया SEO Meaning In Hindi. आइये अब देखते हैं कि Search Engine Optimization कैसे काम करता है (How Does SEO Work).   

How Does SEO Work?

Search Engines जैसे कि Google & Bing के अपने कुछ Crawlers होते हैं जिन्हें Bots भी कहा जाता है। 

जब भी आप अपनी Website पर कुछ Content Post करते हैं तो ये Crawlers आपके उस Content को Crawl या Read करते हैं और Information को समझने की कोशिश करते हैं। 

ये Crawlers आपके Web Page पर लिखे Content, Images, Links इत्यादि से पता लगाते हैं कि आखिर यह Content किस बारे में है। ये पता करने के बाद Google उस Web Page को Index कर देता है। 

Indexing से तात्पर्य होता है Information को Database में स्टोर करके रखना। 

Indexing को आप एक बहुत बड़ी Library समझ सकते हैं जहां लाखो-करोड़ों किताबें रखी हुई होती हैं और किताबों के रूप में Google (एक Librarian) Data Store करके रखता है। 

अब जब कभी कोई User Google पर अपनी Query पूछता है या कुछ सर्च करता है तो Google अपनी Algorithm या Set of Rules के हिसाब से User के सामने कुछ Results पेश करता है।

इसे आप इस तरह से समझ सकते हैं कि User की Query का जवाब देने के लिए Librarian अपनी Library में रखी लाखों-करोड़ों किताबों में से सही किताब User को निकाल कर देता है। 

ये Results लाखों-करोड़ों की संख्या में होते हैं और Web Pages, Images, Videos, Local Listed Business के रूप में आपके सामने आते हैं। 

लेकिन Google ये कैसे पता करता है कि लाखों और करोड़ों Websites में से किन Websites को First Page पर, किन्हें दूसरे, तीसरे, चौथे इत्यादि Pages पर रैंक करना है?

सही & Relevant Website का पता लगाने और उसे रैंक करने के लिए Google अपनी Algorithm का सहारा लेता है जिसमे 200 से भी अधिक Ranking Factors होते हैं। 

लेकिन, इनमे से केवल कुछ ही Factors Major होते हैं जिनका प्रभाव सबसे अधिक होता है। 

इनमे शामिल है –  Links, Content Relevancy, HTML Structure, Site Architecture, etc. 

Links: अपने एक Web Page को अपने ही किसी दूसरे Web Page या Content से लिंक करना, अपने Content को किस अन्य High Authority वाली Website के साथ लिंक करना, या किस अन्य Website द्वारा आपकी Website को लिंक करना, सभी बहुत मायने रखते हैं। 

इससे Google को ये पता चलता है कि जिन भी Web Pages या Websites के साथ आप लिंक कर रहे हो, वो सभी आपके द्वारा दी गई Information से किसी न किसी तरह सम्बंधित है और इससे User को जो कुछ भी जानकारी चाहिए वो मिल पा रही है। 

Content Relevancy: Google देखता है कि आपका Content, User Query से कितना Relevant है।

इसके लिए Keywords, Content Quality, Content Freshness, Intent इत्यादि को देखा जाता है।   

HTML Structure: सभी Web Pages को HTML Code में लिखा जाता है जो Computer Programming की एक भाषा होती है और Google जैसे Search Engine को समझ आती है। 

लेकिन, इसका मतलब ये बिलकुल नहीं है कि आपको भी Coding सीखने की ज़रूरत है। 

WordPress जैसे Content Management System में यह Codes पहले से ही आपको मिल जाते हैं। 

आपको बस अपने Web Page के Title Tag, Meta Description, Subheadings, Schema, Alt Text को अपने Content के हिसाब से Optimize करना होता है। 

Site Architecture: एक अच्छा Site Structure आपकी Website को User Friendly बनाता है जो SEO के लिए बेहद ज़रूरी है।

इसके अंदर Site Speed, Loading Time, Mobile Responsive, इत्यादि Factors को Improve किया जाता है। 

Importance of SEO

SEO Working समझ लेने के बाद आइये जानते हैं कि SEO Importance क्या है और क्यों एक Website के लिए यह ज़रूरी है। 

1. आपके Business की Online Visibility बढ़ाती है 

Business को Online ले जाने का मतलब ही ये होता है कि आपको अपने Products & Services को लाखों-करोड़ों लोगोंं को दिखाना है। 

जब आपकी Website के माध्यम से लोग आपके Business को देखेंगे, तभी वो आपको जान पाएंगे। 

इसलिए, Website एक ऐसा Online Platform होता है जो आपकी Visibility को कई गुना तक बढ़ा देती है। 

बल्कि, Ironpaper की एक Study में तो ये पाया गया है कि Social Media से 93% Online खरीदारी करने वालो का Decision Influence होता है। 

2. Free Traffic Website पर आता है 

SEO की मदद से Website को रैंक करने के बाद आपके पास Free Traffic आने लगता है और Visitors आपकी Website पर Posted Content, Products, and Services में रुचि दिखाने लगते हैं। 

इससे लोग आपको जानने लगते हैं और बार-बार आपकी Website पर Visit करने लगते हैं, जो आपकी Domain Authority को बढ़ाने में कारगर है। 

ऐसे में आप अपनी Website को AdSense and Affiliate Marketing जैसी Services से Monetize करके अच्छे पैसे कमा सकते हैं। 

Read Also : 11 Best Affiliate Marketing Programs To Join In 2024

3. आपकी Brand Authority & Reputation बनती है

यदि आपकी वेबसाइट पर अच्छा Traffic है और लोग बार-बार उसे सर्च कर रहे हैं तो ये Indicate करता है कि आपका Content अच्छी Quality का है और Audience की Problems को हल कर रहा है। 

इससे Google की नज़रों में आपकी Website की Authority & Reputation बनती है और Goggle हर बार आप की ही Website को रैंक करता है। 

4. आपका Leads & Conversion Rate बढ़ता है 

एक Website का Google के First Page पर रैंक होने का मतलब है वेबसाइट पर अधिक Traffic आना, जो Ultimately आपके Prospect to Conversion Rate को बढ़ाएगा। 

आप एक Powerful Call To Action लगाकर अपनी Audience को अपने Objective (उद्देश्य) की तरफ Divert कर सकते हैं। 

5. आपके Marketing Ecosystem का एक अहम हिस्सा है 

SEO आपके Marketing Ecosystem का एक अहम हिस्सा होता है जो आपकी Website के अलावा आपके अन्य Platforms को भी जोड़ता है। 

आप अपनी Website पर अपने Social Media Channels जैसे Facebook, Instagram, Twitter, LinkedIn, YouTube इत्यादि को Promote करते हो। 

ऐसे में यदि आपने सही से SEO नहीं किया होगा तो आपकी Website रैंक नहीं करेगी और आपकी Audience आपके Social Channels तक नहीं पहुंच सकेगी।

Techniques Or Strategies Used in Search Engine Optimization (SEO)

Techniques Or Strategies Used in Search Engine Optimization (SEO)

Search Engine Optimization के अंतर्गत कई Strategies शामिल होती हैं जो Website Ranking को प्रभावित करती है। 

लेकिन, आज हम केवल कुछ चुनिंदा और महत्वपूर्ण Strategies की ही बात करेंगे। 

1. Keyword Research

Keyword Research SEO की कुछ प्रमुख Techniques में से एक है। 

Hubspot के मुताबिक, 71% Marketers मानते हैं कि सही Keywords का चयन करना SEO की सबसे ज़रूरी प्राथमिकताओं में से एक है। 

इसके अंतर्गत आप ये देखते हैं कि Users अपनी Query पूछते वक्त किन-किन Keywords को इस्तेमाल करते हैं। 

इसके साथ आपको अपने Competitors की Research भी करनी होती है और देखना होता है कि उनकी वेबसाइट कौन-कौन से Keywords पर रैंक हैं रही है। 

इसके लिए आप Keywords Research Tools जैसे Google Keyword Planner, Ubersuggest, Ahrefs, SemRush, Answer the Public, Google Trends, इत्यादि का सहारा ले सकते हैं।  

2. Content Planning and Content Creation

SEO Strategy को Implement करने से पहले आपको अपना Content Plan करना पड़ता है और Content Creation Strategies बनानी पड़ती है।  

अधिकतर समय, Lead Generate & Convert करने के लिए Textual, Video Form, and Infographic Type Content काफी Use होता है। 

इसलिए सोच समझ कर आपको अपने विभिन्न Web Pages का Content Plan करना पड़ेगा और Search Engine के हिसाब से उसे Optimize करना पड़ेगा। 

3. On-Page, Off-Page, and Technical SEO

ये तीनो SEO Techniques आपकी Website Ranking को सबसे ज़्यादा प्रभावित करती है। 

On-Page SEO के तहत आप आप अपने Web Page के Internal factors को Optimize हो, जैसे Keyword Placement, Alt Text, Meta Tag Description, etc. 

Off-Page SEO के अंतर्गत आप अपनी Website के External Factors को Optimize करते हो, जैसे Backlinks, Directories, Guest Posting, etc. 

Technical SEO के अंतर्गत आप अपनी Website के Server को Optimize करते हैं जिससे Search Engine Crawlers आपकी Website को Effectively Crawl & Index कर सकें। 

4. Site Architecture

इस Technique की सहायता से आप अपनी Site के Structure को अच्छा बनाते हैं और कुछ Factors जैसे कि XML Sitemaps, Anchor Texts, Loading Time, Responsiveness इत्यादि को ध्यान में  रखते हुए उसे Optimize करते हो।

5. Semantic Markup

Semantic Markup एक ऐसी SEO Technique होती है जिसके अंतर्गत ये पता किया जाता है कि किसी Web Page पर Posted Content किस बारे में है, किस चीज़ के बारे में बता रहा है, उस Content का Author कौन है, उसका Intent क्या है, इत्यादि। 

Semantic Markup के इस्तेमाल से आपके Content का एक Rich Snippet बनने की संभावना बढ़ जाती है। 

Rich Snippet एक Group of Texts होता है जो Google के First Page के First Result द्वारा Show किया जाता है। 

जब आपकी Website First Page की First Position पर रैंक करेगी तो Rich Snippet बनेगा और Website पर Click Through Rate (CTR) बढ़ जायेगा, जो Ultimately Website पर और अधिक Traffic लाने में मदद करेगा।   

तो इस तरह Search Engine Optimization कार्य करता है और एक Unknown Business को लोगोंं की नज़रों में लाने में मदद करता है।  

मैं आशा करता हूँ कि आपको यह पसंद आया होगा और ज़रूर कुछ नई चीज़ों के बारे में पता लगा होगा। 

जिस तरह किसी भी नई Skill को प्रैक्टिस द्वारा अच्छे से सीखा जा सकता है, उसी तरह SEO को भी Practically Implement करना बहुत ज़रूरी है। 

लेकिन, इसे Practically Implement कैसे करें?

इसे सीखने के लिए जुड़िये मेरे साथ और Learn Digital Marketing In Hindi  

आइये अब अपना रुख Social Media Platforms की तरफ मोड़ते हैं और Social Media Optimization की बात करते हैं। 

वैसे तो हम पहले ही ऊपर ज़िक्र कर चुके हैं कि SMO, Brand Awareness Create करने और Traffic Generation का एक Organic या Free Process होता है, लेकिन इसे अच्छे से समझना बेहद ज़रूरी है।    

What is Social Media Optimization - Social Media Optimization In Hindi

Social Media Optimization एक ऐसी Technique होती है जिसकी मदद से किसी बिज़नेस की Digital Presence Create करने और Brand Awareness को बढ़ाने के लिए विभिन्न Social Media Platforms को Optimize किया जाता है। 

इसके तहत Social Accounts को Optimize किया जाता है, Content Marketing की जाती है, Audience के साथ Engagement बढ़ाई जाती है, और Content को Regularly Post & Share किया जाता है। 

GlobalWebIndex के अनुसार, 54% Social Browsers अपने ज़रूरत के Products की Research करने के लिए Social Media का Use करते हैं। 

ऐसे में अपने Social Media Platforms को Optimize करना ज़रूरी हो जाता है। 

SMO को अपनाने के भिन्न-भिन्न मकसद होते हैं:

Search Result में दिखना, अपने Followers की Feed में दिखना, विभिन्न Posts पर Engagement आना, अपनी एक Unique Identity बनाना, Brand Awareness Create करना, इत्यादि। 

लेकिन, SMO Strategy को अपनाने के क्या फायदे हैं? (SMO Benefits)

आइये समझते हैं अपने अगले Section में।  

What is Social Media Optimization - Social Media Optimization In Hindi

Importance of Social Media Optimization

SMO को हिंदी में (SMO In Hindi) समझने के बाद ये समझना भी ज़रूरी है कि आखिर Social Media Optimization की Importance क्या है। 

क्या इसके बिना काम नहीं चलने वाला?

क्यों हमें अलग-अलग Social Media Platforms पर अपनी Profile Create करने की ज़रूरत होती है?

आइये इन सभी सवालों के जवाब जानने का प्रयास करते हैं!

1. आपकी Brand Awareness Create होती है

 Brand Awareness Create करने के लिए सबसे ज़रूरी है लोगोंं को अपने बारे में बताना। 

SMO के तहत जब आप Content Marketing Strategy का उपयोग करते हैं तो विभिन्न तरह के Content के माध्यम से आप अपनी Brand का प्रचार-प्रसार करते हैं। 

आप अपने Content में अपना USP Add करते हैं, अपना Common Theme & Colour चुनते हैं और अलग-अलग तरह के Posts के माध्यम से अपनी Knowledge को Share करते हो। 

ये आपकी Brand Visibility, Brand Reach, and Online Presence को बढ़ाने में बहुत मदद करता है।  

2. Audience Interaction & Engagement को बढ़ाने में कारगर है 

किसी भी Business की सफलता के लिए Brand और उसके Customers के बीच एक अच्छी Engagement & Relationship होनी ज़रूरी है। 

इससे आप हमेशा अपने Customers की पहली प्राथमिकता बन जाते हैं और वो आप पर Trust करने लगते हैं।

इस Relationship को बेहतर बनाने के लिए Social Media से अच्छा और कोई तरीका नहीं हो सकता। 

आप अपने Clients के नाम से उनके साथ Interact कर सकते हैं, उनके Comments को Like कर सकते हैं, और उनकी Feedback को Appreciate कर सकते हैं। 

इस तरह आप अपने Business के लिए अपनी Online Community बनाने में कामयाब हो जाते हैं।  

3. Lead Generation & Lead Conversion में मदद करती है 

यदि आपकी Reach बढ़ेगी तो शुरुआत में आपके Social Platforms पर हज़ारों-लाखों Visitors आएंगे। 

लेकिन, सवाल ये है कि आप उनमें से अधिकतर Visitors को कैसे Retain (बनाए रखना) कर पाओगे?

इसका सीधा सा जवाब है – Fast & Quick Interaction के साथ Informational, Unique, and Out of The Box Content Create करके !

लोगोंं को जितनी अच्छी और Unique Quality का Content मिलेगा और साथ में उनके Query का Fast Response मिलेगा, उतना अधिक ही उनके Retain होने की संभावना बढ़ जाएगी। 

और जब एक बार Leads Retain होने लगती है तो आपके पास सबसे अधिक मौका होता है उन्हें अपने Customers में कन्वर्ट करने का। 

ये सभी चीज़ें आप अपने Optimized Social Media Channels के माध्यम से कर सकते हैं। 

4. आप अपने Business Website और Landing Page पर Free Traffic भेज सकते हैं 

Social Media Optimization केवल Content Create & Share करने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि आप अपनी Social Profiles में अपनी Website, Landing Page, YouTube Channel, इत्यादि का भी Link Share कर सकते हैं। 

इससे आपको तीन तरह से फायदा होता है:

पहला आपके पास Organic या Free Traffic आ जाता है,

दूसरा, आप अपनी Website पर Listed Products को Directly Sell कर सकते हैं,

और तीसरा आपकी Site पर Traffic के आने से Google AdSense और Affiliate Marketing से अच्छी ख़ासी कमाई हो जाती है। 

परन्तु, ये सभी चीज़ें केवल आपके Optimized Social Media Platforms के ज़रिये ही हो सकती है। 

5. आपकी Website की Ranking में काफी उपयोगी है 

Google एक Search Engine है जो कई Factors के आधार पर ये तय करता है कि किस Website को रैंक करना है और किस को नहीं। 

लेकिन, यदि आपकी Website पर अधिक Clicks आ रहे हैं और अलग-अलग लोगोंं द्वारा किये जा रहे हैं, तो Google इसे भी एक Ranking Factor मानता है। 

Google को लगता है कि Website बार-बार Open हो रही है, इसका मतलब है कि इसके Content में लोगोंं की रुचि है। 

तो इस तरह, Google धीरे-धीरे आपकी Website को Search Results में ऊपर लेकर आने लगता है। 

6. Marketing Cost काफी कम हो जाती है  

एक Brand को और उसके Products & Services को लोगोंं के समक्ष ले जाने में बहुत पैसा खर्च करना पड़ता है। 

Brands को Social Media Ads, Google Ads इत्यादि Run करने पड़ते हैं, तब जाकर वो कहीं लोगों की नज़रों में आते हैं। 

लेकिन, SMO एक ऐसी Technique है जिसके माध्यम से आप Content की मदद से अपने आप को Popularise & Viral करते हैं। 

इससे आप अपने Marketing & Promotion पर लगने वाले खर्चों को काफी हद तक कम कर लेते हैं। 

SMO के बारे में विस्तार से जानने के लिए पढ़िए हमारा Blog – Social Media Optimization (SMO) क्यों ज़रूरी है?

Best Social Media Optimization Techniques

Social Media Optimization के लिए आपको विभिन्न Techniques का इस्तेमाल करना पड़ता है। 

इन Techniques को Apply करने पर ही आप अच्छे Results की उम्मीद कर सकते हैं। 

आइये इन Techniques के बारे में विस्तार से जानते हैं । 

1. अपनी Profile or Bio पर काम कीजिये 

यदि आप Quality Content Produce करेंगे तो Visitors आपके Content को पढ़ कर आपके बारे में और अधिक जानना चाहेंगे। ऐसी Situation में आप अपनी Profile से समझौता नहीं कर सकते। 

अपनी Profile Picture, Username, Bio इत्यादि आपको Update और Optimize करना पड़ता है। 

Bio में आप अपने बारे में, अपने काम के बारे में, अपने Interest इत्यादि के बारे में बता सकते हो। 

साथ ही आपको ये भी ध्यान रखना होगा कि आप अपनी हर किसी Social Profile पर एक जैसी Brand Tone का इस्तेमाल करें। 

आपकी हर Social Profile पर Color Theme, Brand Mission & Vision, Contact Details इत्यादि Same (एक सा) होना चाहिए। 

ये सभी छोटी-छोटी चीज़ें आपकी Social Media को Optimize करने के लिए ज़रूरी है। 

2. Catchy Headlines और Captions लिखिए 

क्या आप जानते हैं कि एक Catchy Headline & Excellent Caption आपके Link पर होने वाले Clicks की संख्या को बढ़ा देता है?

Catchy Headlines लिखने के लिए आपको अपनी Writing Skills पर थोड़ा काम करना पड़ता है और उसे थोड़ा और अधिक निखारना होता है। 

लेकिन, अच्छी Headlines & Captions लिख देने भर से काम नहीं चलने वाला; आपका Content भी अच्छी Quality का होना चाहिए। 

अन्यथा, आपके Posts पर केवल Clicks ही आते रहेंगे और Conversion & Retention Rate न के बराबर होगा। 

3. Content Post करने का सही समय जानिए 

क्या आपने कभी सोचा है कि क्यों कोई Social Media का एक Page केवल कुछ ही महीनों में Millions of Followers तक Gain कर लेता है?

इसमें Content Quality बहुत Matter करती है, लेकिन इसके साथ एक चीज़ और है जो बहुत मायने रखती है और वो है Right Content Frequency & Right Time for Content Posting!

आप जब अपनी Social Media Platforms की Analytics को सर्च करेंगे तो पाएंगे कि आपके Users की Engagement दिन के केवल कुछ ही घंटों में सबसे अधिक रहती है। 

ऐसे में आप अपने Content को केवल उसी समय के भीतर Post कर सकते हैं और ज़्यादा से ज़्यादा  Engament Gain कर सकते हैं।  

4. अपनी Content Posting Frequency Define कीजिए 

जिस तरह Content Posting का समय बहुत मायने रखता है उसी तरह Content Posting Frequency का भी अपना महत्व है। 

इसके तहत आपको देखना होता है कि एक दिन में कितने Posts आपको अपने अलग-अलग Platforms पर Post करने हैं।  

सही Frequency जानने के लिए आपको खुद ही कुछ Experiments करने होंगे और Engagement Rate, Likes, Comments, Clicks इत्यादि को देखना होगा। 

कुछ हफ्ते Experiments करने के पश्चात आपको खुद ही Idea लग जायेगा कि Persona’s Behaviour कैसा है और आप जान पाएंगे कि किस Frequency Level पर आपको अधिक Positive Results मिल रहे हैं। 

5. Content को Repurpose & Reuse कीजिये 

Content Repurpose & Reuse से तात्पर्य होता है एक ही Content को अलग-अलग तरह से Reuse करना। 

Hubspot के मुताबिक, 82% Marketers अपने Content को विभिन्न Social Media Channels पर Repurpose करते हैं। 

उदाहरण – आप अपनी एक YouTube Video या Webinar को Blog Post में या Instagram के Carousel Post में कन्वर्ट कर सकते हैं। 

आप क्योंकि बार-बार या हर दिन Same Quality & Posting Frequency Maintain नहीं कर सकते; आप अपने पहले से Published Content को विभिन्न Forms में Repurpose करके Traffic & Lead Generation कर सकते हैं। 

6. Shareable & Viral Content Produce कीजिये 

आपके Posts जितने देखने में अच्छे होंगे और जितनी अधिक वो Value Provide कर रहे होंगे, उतना ज़्यादा ही उनका Share Rate बढ़ने की सम्भावना होगी। 

इसके लिए आपको Engaging Texts, Visuals, Tone, Color Theme का इस्तेमाल करना होगा। 

साथ ही आप ये भी चाहेंगे कि आपका Content Viral हो और अधिक से अधिक लोगोंं तक पहुंचे। 

Content को Viral करने के लिए सही Hashtags का उपयोग ज़रूरी है। 

इन सभी Techniques की मदद से आप अपने Social Media Platforms को Optimize कर पाएंगे और अपनी Brand की Reach बढ़ा पाएंगे। 

Social Media Marketing Strategies के बारे में जानने के लिए पढ़िए हमारा Blog – 2024 में SMO Strategies के लिए Ultimate Guide!

Social Media Marketing के अलावा एक और Marketing Strategy होती है जो Social Profiles की बजाय Search Engine पर अधिक फोकस करती है। 

इस Strategy का नाम है – Search Engine Marketing !

आइये इस Digital Marketing Strategy को अच्छे से समझते हैं (Search Engine Marketing In Hindi) और जानने की कोशिश करते हैं कि क्यों ये Business के लिए ज़रूरी है।(SEM Importance for Business) 

यदि आप Live Classes के माध्यम से इस Strategy को सीखना चाहते हैं तो जुड़िये मेरे साथ और सीखिए Digital Marketing In Hindi (Learn Digital Marketing In Hindi)

Inorganic Ways to Boost Traffic and Make Money

जैसा कि हमने Traffic Generation के Organic Ways का ज़िक्र किया, ठीक उसी तरह कुछ Inroganic Ways या Paid Strategies भी होती है। 

Inorganic Ways में मुख्यतः शामिल है – Search Engine Marketing (SEM) and Social Media Marketing (SMM)

आइये इन दोनों Strategies को एक-एक करके समझते हैं। 

What is Search Engine Marketing - Search Engine Marketing in Hindi

Search Engine Marketing एक ऐसी Technique होती है जो किसी Website को Search Engines Results में Rank करने में मदद करती है। 

ये एक Paid Strategy है जिसके तहत आपको Website को रैंक कराने के लिए Ads Run करने पड़ते हैं। 

Website Rank होने से Search Engine आपकी Website पर Relevant Traffic भेजता है जिन्हें आप अपने हिसाब से Convert कर सकते हैं। 

लेकिन, क्या आपने कभी सोचा है कि Search Engine Marketing कैसे काम करती है?

आइये इस ब्लॉग में हम आपको बताते हैं कि ये कैसे काम करती है। 

इसके साथ ही हम इसके फायदों का भी ज़िक्र करेंगे (SEM Benefits) और समझेंगे कि कैसे SEM को Implement करने से आपका बिज़नेस Grow कर सकता है। (How to Grow Your Business Using SEM) 

What is Search Engine Marketing - Search Engine Marketing in Hindi

How Does Search Engine Marketing Work?

Search Engine Marketing Technique के तहत आप अपने Ads Run करने लिए Google और Bing जैसे Search Engines को पैसा देते हैं । 

यदि इसे और गहराई से समझें तो हम कह सकते हैं कि आप अपने Link पर आने वाले Clicks के बदले Per Click के हिसाब से Search Engine को पैसा देते हो।

Per Click के बदले पैसा कितना देना है, ये आप पर निर्भर करता है, जिसके लिए आप उस Keyword का Competition, Volume इत्यादि देखते हो। 

लेकिन, Search Engine Marketing की कहानी सबसे पहले शुरू होती है आपकी रिसर्च से। 

आपको निम्न चीज़ो की रिसर्च करनी पड़ती है:

  • Right Keyword जो Audience द्वारा उनकी Query में इस्तेमाल किया जा रहा है 
  • Target Users की Geographical Location, Age, Gender, etc. 
  • Ad में Display करने के लिए सही Text Ad का चयन 
  • Ad पर Clicks के बाद की Price Bid


उदाहरण : यदि आप अपनी Website पर Shoes बेचते हैं तो आपको Best Shoes Under 5000, Best Nike Shoes for Running, Floatters for Girls Under 2000 जैसे Long Tail Keywords का उपयोग करना होगा। 

इसके अलावा आप अपने Target Audience की Geographical Location, Age, Gender, Device They Use के आधार पर अपने Ad को Plan कर सकते हैं। 

एक बार ये सभी चीज़ें Decide करने के बाद आपको अपने लिए Text Ads, Google Shopping Ads, Local Service Ads, Responsive Ads में Ad का चयन करना पड़ता है। 

Generally, Text Ad का इस्तेमाल अधिक किया जाता है। 

Text Ad में आपकी Ad की Headline, Ad Body, and Website link को शामिल किया जाता है। 

अब, ये Ads आपकी Price Bid और Search Engine के हिसाब से First Page या अन्य किसी Page पर दिख सकते हैं। 

अपने Ads को First Page पर Show करने के लिए आपकी Price Bid अच्छी होनी चाहिए, Keyword Selection सही होना चाहिए, या यूँ कहें कि आपकी Research सही होनी चाहिए। 

तो इस तरह इन सभी बातों को मद्देनज़र रखते हुए आप अपने Ads को Place करते हैं और अपनी Website या Landing Page पर Traffic लेकर आते हो। 

यह भी पढ़ें : सर्च इंजन मार्केटिंग – Business बढ़ाने की नई रणनीति!

Importance Of Search Engine Marketing

Importance of Search Engine Marketing

SEM एक Paid Strategy है जिसमे थोड़ी Investment भले ही लगती है, लेकिन आपको Quick Results मिलते हैं। 

इसके अलावा, इसके अन्य कई फायदे हैं (SEM Benefits) जिन्हें समझना ज़रूरी है।  

1. Brand Visibility बढ़ती है 

आप जब Search Results पर रैंक करने लगते हैं तो आप खुद ही लोगोंं की नज़रों में आने लगते हैं। 

क्योंकि आप केवल अपने Niche से सम्बंधित लोगोंं को ही Target करते हैं, आपके पास Quality Leads आने लगती हैं जो आपके Brand को जानने और पहचानने लगती हैं। 

2. Higher Conversion Rates 

जब लोग आपकी Website का Ad बार-बार Search Results में अन्य Popular Brands के साथ देखते हैं तो वो भी आपके Business के बारे में, आपके Products & Services के बारे में जानने के इच्छुक होते हैं। 

ऐसे में इस तरह की Audience को Target करना और Customer में तब्दील करना आसान हो जाता है। 

आपका Lead Generation Rate बेशक कम हो, लेकिन Lead Conversion Rate ज़रूर अधिक होता है, बशर्ते आप अपने Prospects को Quality Knowledge Provide कर रहें हों। 

3. आप कम समय में Search Engine Results में Rank करते हैं 

Search Engine Marketing के सबसे बेहतरीन Benefits में से एक है इसकी Quick Result Provide करने की क्षमता। 

जब आप कुछ Particular Keywords को Target करके अपने Ads Run करते हैं तो Search Engines अपनी Algorithm के आधार पर आपकी Website को अन्य Websites से ऊपर दिखाने लगता है। 

इसका सीधा असर आपकी Website के Traffic पर पड़ता है और आपका Click Through Rate (CTR) बढ़ जाता है।  

इसे भी पढ़ें : SEO Vs SEM In Hindi – सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन और सर्च इंजन मार्केटिंग के बीच का बड़ा अंतर!

4. Local Customers को Target करने में मदद करता है 

किसी भी Local Business के लिए उसके आसपास के Local Customers बहुत मायने रखते हैं। 

Brightlocal के मुताबकि, वर्ष 2021 में Local Businesses को सर्च करने के लिए 81% Consumers ने Google का Use किया था। 

Local Customers को टारगेट करने के लिए Local Service Ads का ऑप्शन उपलब्ध होता है, जिसके माध्यम से आप अपने Local Business के लिए Google पर Ads Run कर सकते हैं। 

इसके माध्यम से आप केवल अपने एक Particular Area के अंदर ही लोगोंं को अपने Offline या Online Business पर ला सकते हैं और उन्हें Customer में कन्वर्ट कर सकते हैं। 

SEM Tools

SEM Technique को और भी अधिक Powerful बनाने के लिए SEM Tools का इस्तेमाल ज़रूरी है। 

ये Tools सही Keywords Selection और सही Search Engine Marketing Strategies बनाने में मदद करते हैं। 

इसलिए, आइये कुछ Popular Search Engine Marketing Tools की बात करते हैं। 

Google Ads Keyword Planner : ये Google का ही अपना Tool है, इसलिए Google Ads Run करने के लिए लोग इस टूल की मदद लेना भी पसंद करते हैं। 

ये टूल आपको बताता है कि किस Keyword के लिए कितना न्यूनतम और अधिकतम Bid Price है। 

साथ ही, यह Keyword Volume & Keyword Difficulty जैसे महत्वपूर्ण Factors के बारे में भी जानकारी उपलब्ध कराता है।  

SemRush : SemRush एक All In One Tool है जो Keyword Research, Keyword Rank Tracking, Site Analysis, Traffic Analysis, Competitor Bid Analysis जैसी सुविधाएं प्रदान करता है।

ये बताता है कि आपके Competitors अपनी Website Rank कराने के लिए किस तरह से अपनी Marketing Strategy को अंजाम दे रहे हैं और Keywords पर Ads Run करने के लिए कितना Bid कर रहे हैं। 

Ahrefs : Ahrefs भी एक Keyword Research Tool है जो Keyword Research के साथ-साथ Competitor Analysis की भी सुविधा देता है। 

इसकी मदद से आप अपने Competitor की Marketing Strategy, उसके द्वारा उपयोग किये जाने वाले Long Tail & Short Tail Keywords, Bid On Keywords For Ads, इत्यादि की जानकारी ले सकते हो। 

UberSuggest : UberSuggest एक बेहतरीन टूल है जो आपको सही Keyword Find करने के अलावा आपके Competitor की SEO, Content Marketing, and Social Media Marketing Strategy की Reverse Engineering करने में मदद करता है।  

साथ ही यह आपको Suggest करता है कि किसी Particular Keyword की Volume कितनी है, उसका Competition कितना है, उसका सालाना Trend कैसा है, कितना आसान या मुश्किल है उस पर Webpage को Rank करना, इत्यादि।  

WordStream : यह एक Advertising Management Tool है जो आपके Ads को Manage और उसकी Performance को Measure and Optimize करने में मदद करता है। 

आप इसके Advanced Data Analysis Feature की मदद से अपने Ad Campaigns की Strategy बना सकते हैं। 

Search Engine Marketing से ही मिलती-जुलती एक और Strategy है जिसे Social Media Marketing के नाम से जाना जाता है। 

Social Media Marketing भी एक Paid Marketing Strategy होती है, सिर्फ फर्क इतना ही होता है कि यहां Search Engine की बज़ाय Social Media Platforms के लिए Ads Run किए जाते हैं। 

आइये इस Strategy के बारे में विस्तार से समझते हैं और देखते हैं कि इसके क्या फायदे हैं। 

ये सभी Strategies Digital Marketing का एक अहम् हिस्सा है। इसलिए, यदि आप इन्हें Step By Step & Practically सीखना चाहते हैं तो सीखिए Digital Marketing मेरे साथ (Learn Digital Marketing In Hindi). 

जैसा कि हम ऊपर भी देख चुके हैं, Social Media Marketing, Traffic Boost करने और Brand Awareness बढ़ाने की एक Paid Marketing Strategy होती है। 

SMM क्या है, इसके Benefits क्या है, इसे कैसे शुरू करें, इत्यादि सवालों का जवाब जानने के लिए इसे ज़रूर पढ़ें। 

Social Media Marketing क्या है - What is Social Media Marketing

Social Media Marketing एक ऐसी Digital Marketing Strategy होती है जिसके तहत Social Media का Use करके Brand Promotion किया जाता है या Company के Products & Services को मार्केट किया जाता है। 

यह Strategy, Digital Ecosystem की Inorganic Strategies में शामिल होती है जिसके तहत आप Paid Ads Run करके अपनी Brand को Promote कर सकते हैं। 

Statista के मुताबिक, Social Media पर Ad Spending $173 Million को पार कर जाएगी। 

Social Media Marketing क्या है - What is Social Media Marketing

How to Get Started With Social Media Marketing

Social Media Marketing की शुरुआत करने के लिए आपको कुछ Steps का ध्यान रखना पड़ेगा। 

आइये जानते हैं उन स्टेप्स के बारे में। 

1. Choose Your Platform

Social Media Marketing शुरू करने के लिए आपको सबसे पहले अपने लिए Right Platform का चयन करना पड़ेगा। 

आप निम्न बातों का ध्यान रख सकते हैं:

  • उस Platform को Consider कीजिये जिस पर आपकी अधिकतर Audience Engage रहती हैं 
  • अपनी फील्ड में प्रचलित Platforms के बारे में रिसर्च कीजिये 
  • अपने Competitors को देखिये कि वो कौन-कौन से Platforms Use कर रहे हैं

शुरुआत आप सिर्फ एक Platform से कर सकते हैं और धीरे-धीरे अन्य Platforms के साथ जुड़ सकते हैं। 

2. Set Your Goals and Objectives

विभिन्न Platforms पर अपनी Profile Create करने के बाद Goals बनाइये कि कब, क्या पोस्ट करना है। 

Ads में कितना Invest करना है, एक महीने में कितनी Following बढ़ानी है, इत्यादि। 

इससे आप Consistently काम करते रहेंगे और आपकी Reach भी बढ़ती जाएगी। 

3. Create a Marketing Strategy

अपने Social Media Profiles पर Content Publish करने से पहले आपको अपने कुछ Marketing Goals Define करने पड़ेंगे।

आपको अपने आप से कुछ सवाल पूछने पड़ेंगे, जैसे कि,

क्या आप Social Media Marketing से  Web Traffic Generate करना चाहते हैं?

क्या आपका End Goal Lead Generate करना है?

क्या आप अपने Products & Services बेचना चाहते हैं?

क्या आप अपने Potential Customers से अपने Courses & Programs SignUp कराना चाहते हैं?

जो भी आपका End Goal है, आपको उसके हिसाब से अपनी रणनीतियां बनानी है और काम शुरू कर देना है। 

इसे भी पढ़ें : 9 Steps To Create Result Oriented Social Media Marketing Strategy For 2024

4. Content Planning & Publishing

Content Planning and Publishing को हमेशा ही नज़रअंदाज़ किया जाता है। 

लेकिन, Right Post Type, Posting Timing, Posting Frequency, इत्यादि Brand Visibility के लिए ज़रूरी है।  

आपको देखना होगा कि कब Image Post करनी है, कब Short या Long Videos Post करनी है, कब Blog Post Publish करना है, और कब Interaction के लिए Live आना है। 

आपको अपने Content को Valuable & Audience Centric रखने की ज़रूरत होगी। 

इसके साथ ही आपको अपनी Audience के Engagement के आधार पर Content को Adjust करते रहना होगा और एक Clear Call To Action देना होगा। 

5. Use Content Creation Tools

Content Creation को आसान बनाने के लिए आजकल बहुत से Tool उपलब्ध हैं। 

उदाहरण के लिए Canva & Grammarly!

इन टूल्स की मदद से Content को Create, Modify, and Update करना काफी आसान हो गया है। 

इसके अलावा, Content Publishing Tools की मदद से आप अपने Content को Pre-Plan कर सकते हैं जिससे वो Automatically आपकी Decided Date पर Publish हो जायेगा।  

6. Interact & Engage with Your Audience

जब भी कोई Business Grow कर रहा होता है तो लोग उसके बारे में जानने के लिए उत्सुक होते हैं। 

Business जिन सभी Online Platforms पर listed होता है, उन सभी पर लोग Comments करते हैं , अपनी Query पूछते हैं, और यदि Content पसंद आता है तो उसे Share करते हैं। 

इसीलिए, आपको भी Interaction & Engagement बढ़ाने के लिए अपने Prospects के साथ बात करनी होगी, उनके सवालों को जवाब देना होगा, और उनके साथ Live Interaction करना होगा। 

इससे आपकी Audience का आप पर और आपके Business पर Trust बढ़ेगा। 

7. Analyse & Track Data

आपको अपनी विभिन्न Social Media Marketing Strategies की Performance को समय-समय पर Analyse करते रहना चाहिए। 

आपको अपने आप से कुछ सवाल करने होंगे, जैसे, 

  • आप अपने पिछले महीने की तुलना में इस महीने कितने Leads तक पहुंचे? 
  • कितने लोगोंं ने आपकी Brand को Positive Mention दिया?
  • कितने लोगोंं ने आपका Brand Hashtag Use किया?
  • कितने लोगोंं को आप अपने Products & Services बेचने में सफल रहे?


इस तरह से अपने Data को Analyse & Track करके आप पता लगा सकते हैं कि क्या सब कुछ आपकी Strategy के हिसाब से हो रहा है। 

आप मार्केट में उपलब्ध कई Analysis Tools का भी उपयोग कर सकते हैं, जैसे- HubSpot, Sprout Social, Google Analytics, etc.

8. Advertise

Search Engine Ads के बाद दूसरा सबसे बेहतरीन Ad माध्यम है Social Media Platforms पर Ad Run करना। 

आजकल Social Media इतनी ज़्यादा Popular हो रही है कि हर New Brand & Established Companies ने अपने-अपने Pages बनाये हुए हैं और अपनी Audience के साथ Engagement बनाई हुई है। 

लेकिन, क्या सभी Social Platforms पर Ad Run कर सकते हैं?

नहीं! क्योंकि हर Social Platforms Ads Run करने की सुविधा नहीं देते। 

लेकिन, यदि सबसे ज़्यादा Trending Social Media Platform की बात की जाये तो उसका नाम है Facebook!

2.9 Billion Monthly Active Users का यह Platform एक बहुत बड़ा Ad Network Provider है। 

ऐसे में इस Platform पर लगभग हर तरह की Niche Audience का मिलना लगभग तय है। 

इसलिए, आप इस Platform पर अपने Ads Run कर सकते हैं और हज़ारों की संख्या में Leads को अपने Landing Page पर भेज सकते हैं।  

Also Read : SMO Vs SMM In Hindi – An Ultimate Comparison Between Social Media Optimization & Marketing

Importance of Social Media Marketing - SMM Benefits

Importance of Social Media Marketing - SMM Benefits

आज के दौर में जहां हर छोटी से बड़ी Company Social Media पर Active हैं, आपको भी इस Opportunity का फायदा उठाना चाहिए। 

क्या आप जानने चाहते हैं कि यह Marketing Strategy किस तरह किसी बिज़नेस को $0 Revenue से Million Dollars Revenue में तब्दील कर सकती है?

इसे समझने के लिए आइये इसकी Importance को जाने (Social Media Marketing Importance) 

1. Drive Traffic To Your Website & Landing Pages 

जैसा कि हमने आपको हमारी Digital Marketing Classes में बताया है, ये सभी Digital Marketing Strategies आपके Online Platforms पर Relevant Traffic भेजने का काम करती है। 

यदि आप भी Live Classes के माध्यम से ये सब सीखना चाहते हैं तो जुड़िये हमारे साथ और Learn Digital Marketing In Hindi

आपके Social Media पर Posted Content की वजह से लोग आपके अन्य Online Platforms पर भी जाते हैं और अपने Query का जवाब ढूंढते हैं। 

ऐसे में, यदि आपका कोई Product उनकी Query को हल कर सकता है तो उसे ज़रूर अपने Landing Page पर Share कीजिये ताकि लोग उसे खरीदकर अपनी Problem Solve कर सकें।  

2. Increase Brand Awareness 

क्योंकि अधिकतर लोगोंं को Visuals के माध्यम से चीज़ें ज़्यादा समझ आती है, SMM से ऐसे लोगोंं को लगातार Engage करके रखा जा सकता है। 

ये Business की Visual Identity को एक Large Audience के सामने बनाकर रखती है जिससे Brand Awareness बढ़ती है। 

Brand Awareness बढ़ने से आपकी Brand को लाखों लोग जानने लगते हैं और आप अधिक Customer बना सकते हो। 

73% Marketers तो ये कहते हैं कि Social Media Marketing ने उनके Efforts को “Somewhat Effective” or “Very Effective” बनाने में मदद की है। 

3. Targeted Reach

Social Media Marketing के तहत जब आप अपने Campaigns Run करते हैं तो उन्हें अपनी Target Audience की Age, Gender, Geographical Location, आदि के हिसाब से Customize करते हैं। 

इस तरह से Strategically Campaigns Run करने से आप केवल उन्हीं लोगोंं को अपने Advertisement दिखाते हैं जो आपकी Niche Audience है। 

Niche Audience को टारगेट करने से आपको Quick & Fast Results मिलते हैं।

4. Better Customer Satisfaction 

यदि आपका Business Social Media पर है और उसके माध्यम से लोगोंं को फ़ायदा हुआ है, तो लगभग 70% लोग ऐसे होते हैं जो आपके Business को उनके Networks में Recommend करते हैं। 

साथ ही, एक ग्राहक भी अपनी संतुष्टि के लिए किसी Product या Service को अच्छे से देखता है, समझता है, और फिर जाकर कहीं उसे खरीदता है। 

ऐसे में जब आप SMM के तहत उनके सामने अपने Product की Images, Videos, and Infographics Show करते हैं तो उनके लिए Decision लेना काफी आसान हो जाता है।

इससे वो आपके Posts पर Interaction करते हैं और आप एक उनके साथ एक बेहतर Relation Establish कर पाते हैं।   

5. Direct Selling

Facebook & Instagram जैसे Social Media Platforms ने अपने-अपने Marketplace Launch किये हुए हैं। 

ऐसे में आप अपने Products सीधे Customers को अपने Instagram & Facebook handle से बेच सकते हैं। 

आपको किसी अन्य व्यक्ति या Mediator को कमीशन देने की ज़रूरत नहीं होती।

ये सभी Social Media Marketing Benefits आपके Business को एक Unknown To Known Business बनाने के लिए काफी कारगर होते हैं। 

यदि आपकी SMM में रुचि है और आप Social Media Marketing Meaning In Hindi, SMM Benefits, Social Media Marketing Types, SMM Strategies इत्यादि के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तो पढ़ें हमारा Blog – Social Media Marketing – 2024 के लिए Best Marketing Strategy 

Best Social Media Marketing Platforms

जैसे-जैसे Social Media Marketing का विस्तार हो रहा है, मार्केट में नए-नए Trends आ रहें हैं, और कई सारे नए Social Media Platforms ने भी जन्म ले लिया है। 

लेकिन, ऐसा ज़रूरी नहीं है कि आपकी Target Audience उन सभी Platforms पर Engage रहती हो। 

हालांकि, ऐसे कुछ Common & Mostly Used Platforms हैं जिन पर Social Media Marketing को Implement किया जाता है। 

आइये, जानते हैं कुछ ऐसे ही Platforms के बारे में। 

  1. Facebook

वर्ष 2004 में Establish होने के बाद से ही Facebook एक Brand Awareness & Advertising  Platform बनकर उभरा है।

इसके हर महीने Active Users की संख्या 2.9 Billion है जो अपने आप में ही इसकी लोकप्रियता को दर्शाता है। 

यह B2C Business के लिए एक बेहतरीन टूल है जहां Business अपने Products Directly Customers को बेच सकते हैं। 

2. Instagram

Instagram, New Brands & Businesses के बीच काफी Popular Platform है।

हर महीने लगभग 2 Billion Active Users को Handle करने वाला यह टूल B2C Industry के लिए बेस्ट है। 

Hootsuite की एक रिसर्च के मुताबिक, 81% लोग Products & Services की Research के लिए Instagram का उपयोग करते हैं। 

यहां New Businesses Or Startups अपने Products के High Quality Images, Videos और अन्य Content के माध्यम से अपने Products को लिस्ट कर सकते हैं और इसके Marketplace पर Sell कर सकते हैं।

3. Twitter

Twitter B2B & B2C Industries के लिए एक बेहतरीन Platform बनकर उभरा है। 

200 Million से ज़्यादा Daily Active Users वाला यह टूल Public Relations, Community Building, and Brand Reach के लिए Best है। 

यहां Tweets के माध्यम से आप अपने Target Audience तक पहुँच सकते हैं और उन्हें लगातार Nurture करके अपनी Website पर भेज सकते हैं।

4. LinkedIn

LinkedIn Working Professionals का एक बहुत बड़ा Platform है जहां B2B Industry के Professionals की तादाद काफी अधिक है। 

लगभग 800 Million Daily Active Users वाला यह प्लेटफार्म Business Development, Social Selling, इत्यादि के लिए एक बेहतरीन मौका प्रदान करता है। 

यहां क्योंकि एक Defined Audience है, Business Mission & Vision को Words, Videos या Infographics के माध्यम से Convey करना आसान हो जाता है।  

5. YouTube

Videos देखना किसे पसंद नहीं है? 

किसी भी चीज़ के बारे में Visuals के माध्यम से समझाना जितना आसान है उतना शायद किसी और तरीके में नहीं है। 

यही कारण है कि YouTube, Google के बाद दूसरा सबसे बड़ा Search Engine बनकर उभरा है। 

आज के समय में किसी भी Business की Presence YouTube पर होनी बेहद ज़रूरी है। 

यह B2B and B2C Industries के लिए Favourable Platform है जो Brand Awareness & Reach को बढ़ाने का काम करता है। 

लेकिन, YouTube पर सिर्फ Videos Upload कर देने भर से ही काम नहीं चलने वाला, आपको चाहिए कि आपकी Videos Rank हो और YouTube Search Results में सबसे ऊपर आये। 

इसके लिए आपको ज़रूरत होती है YouTube SEO की। 

YouTube SEO के बारे में जानिये हमारे इस Blog में – YouTube SEO Checklist – Your Ultimate Guide To Getting Your Videos Ranked On YouTube

6. Pinterest

Pinterest एक ऐसा Marketing Platform है जहां Images के ज़रिये Content Produce किया जाता है।

यह B2C Industry से जुड़े Businesses के लिए उपयुक्त है जो अपने Products & Services को Market करने के लिए Pinterest का उपयोग करते हैं। 

इसे एक Visual Discovery Engine भी कहा जाता है जहां हर दिन Pinners कई नए Brands & Products की Discovery करते हैं। 

इसकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि हर महीने इसके Active Users की संख्या 400 Million से भी अधिक रहती है।    

7. Tik-Tok 

यह एक Short Form Video Producing Platform है जहां Videos की Form में Content Produce किया जाता है। 

Tik-Tok ने पिछले 2-3 सालों में ही अपनी लोकप्रियता को काफी बढ़ा लिया है। 

साथ ही इसके Global Active Users की संख्या भी 1 Billion को पार कर चुकी है। 

हालांकि, भारत में ये Platform Banned है, लेकिन फिर भी इस तरह के Platforms का भारत जैसे देश में बहुत स्कोप है। 

साथ ही, ऐसे Platform, Social Media Marketing को और अधिक मजबूत बनाने में मदद करते हैं। 

यदि आप भी चाहते हैं कि आपको भी Social Media Marketing Benefits का लाभ मिले, तो आपको इन सभी SMM Platforms में से Applicable Platforms पर अपना Account Create करके काम शुरू कर देना चाहिए।

अगर आपको नहीं पता कि इसे कैसे शुरू किया जाये, तो जुड़िये मेरे साथ और हिस्सा बनिए मेरी Digital Marketing Community का। (Learn Digital Marketing In Hindi)   

आइये अब बात करते हैं एक ऐसे Topic के बारे में जो किसी भी Business का First Step होता है। 

इस Topic का नाम है – Niche Selection!

बिना Niche Select किये आप अपने Products को डिज़ाइन नहीं कर सकते, Target Audience नहीं Identify कर सकते, और Business को Grow करने की Strategy नहीं बना सकते। 

साधारण शब्दों में कहें तो बिना Niche Select किये आप अपने Business को आगे Move नहीं कर पाएंगे। 

तो चलिए समझते हैं कि Niche क्या है, Niche Selection Benefits क्या है, और Niche Select कैसे करते हैं?

What is Niche - Niche क्या होता है?

What is Niche - Niche क्या होता है?

Niche, किसी Industry का वो Smaller Part होता है जो किसी Specific Need को पूरा करता है। 

इसे कुछ इस तरह से भी कह सकते हैं कि Niche किसी फील्ड का वो Specific Area होता है जिसमे आपकी Expertise होती है। 

उदाहरण – Cooking, Weight Loss Supplements, Kitchen Appliances, Cryptocurrency, Home Decor, etc. 

एक बार Niche का चयन करने के बाद आप धीरे-धीरे उस Niche के Around Content Create करने लगते हैं और उस Niche के Expert बन जाते हो। 

जब आप एक बहुत बड़ी Niche Market में से अपनी Expertise के हिसाब से एक छोटे Section को टारगेट करते हो, तो आपके लिए Specific Audience के साथ Connect करना, Lead Generate करना और उन्हें Customer में तब्दील करना काफी आसान हो जाता है।

आप अपनी E-Commerce Website बनाकर अपने Products Sell कर सकते हो, और Affiliate Marketing की मदद से किसी अन्य के Products को Sell करके कमीशन के रूप में पैसा कमा सकते हो। 

Also Read : 10 Most Profitable Affiliate Marketing Niches In 2024

Importance of Niche Selection - Why It is Required?

Niche का चयन करना क्यों ज़रूरी है? क्या वाकई इसके कुछ मायने है?

यदि बिना Niche Select किये ही किसी Business की शुरुआत करते हैं तो क्या वो Business Grow नहीं करेगा?

क्यों होगा यदि हम किसी Broad Niche को टारगेट करें?

क्या हम अपनी Expertise से हटकर भी कोई Niche Select कर सकते हैं?

शायद ये सभी सवाल आपके भी मन में आ रहे होंगे… 

तो आइये इन सभी सवालों का जवाब जानने के लिए समझते हैं What is the Importance of Niche Selection?

1. Less Competition

जब आप किसी Broad Niche में और गहराई तक उतर कर किसी Particular Section को पकड़ते हैं तो उसे एक Micro Niche कहा जाता है। 

For Example : Finance Niche में Investing या Tax Tips को Micro Niche पकड़ना, Fitness Niche में Weight Loss या Home Workouts को Micro Niche Consider करना। 

ऐसा ज़रूरी नहीं है कि अन्य लोग भी आपके वाला ही Micro Niche Select कर रहे हों। 

ऐसे में आपके Niche में केवल कुछ ही लोग आ पाते हैं और इस तरह Competition Level काफी हद तक कम हो जाता है। 

2. Improved Quality

Niche Select करने से आपकी एक Specific Target Audience बन जाती है, जिन्हें आपको Serve करना होता है। 

अपनी Target Audience के बारे में रिसर्च करके आप उनके Interest and Likes/Dislikes के बारे में जान पाते हैं। 

इससे आपको अपने Products की Quality को अधिक बेहतर बनाने में मदद मिलती है। 

साथ ही आप Customer Service Quality को बेहतर बना पाते हैं। 

ये सभी चीज़ें Customer के साथ Relationship को बढाने में कारगर है। 

3. Less Expenses & Higher Profit

जब आप कोई Niche Oriented Business Run करते हैं तो Operational Cost काफी कम हो जाती है। 

आपको अलग-अलग Industry के Products को Research करने की ज़रूरत नहीं होती। 

आप सिर्फ अपनी Niche से सम्बंधित Products को Target करते हैं और उन्हें Market करते हैं। 

क्योंकि आप एक Specific Audience को Target करके चलते हैं और आपका उस Niche में एक नाम भी होता है; आप अपने Products पर Higher Profit Earn कर सकते हैं। 

4. Improved Customer Relationship

Customer Relationship को मजबूत बनाने के लिए आपको उनकी Problems को सटीकता से हल करना होगा। 

आपको उनकी Age, Gender, Likes/Dislikes, Interest, Passion, इत्यादि को ध्यान में रख कर Right Products Suggest करने पड़ते हैं।

इसके साथ ही, आपको अपनी Audience का विश्वास जीतने के लिए Quality Content, Better User Interaction, Consistent Posting जैसी तमाम चीज़ों का भी ध्यान रखना पड़ता है।  

साधारण शब्दों में यदि Niche Selection की Importance की बात करें तो यह कहना गलत नहीं होगा कि – एक Niche Select करके आप अपनी Field Expertise की मदद से लोगोंं की मदद करते हैं और उन्हें Solutions Provide करते हैं। 

अब सवाल ये आता है कि Niche Select कैसे करें?

Niche Select करने में कितना समय लगता है?

एक Profitable Niche को Find करने में कौन-कौन से Steps शामिल हैं?

तो आइये, इन सभी सवालों के जवाब ढूंढते हैं और देखते हैं कि – How To Search A Best Niche For the Business?

How To Find a Profitable Niche For Your Business?

How To Find a Profitable Niche For Your Business?

Business को Profitable बनाने के लिए सही Industry या Niche का Selection बेहद ज़रूरी होता है। 

Profitable Niche Find करने से आपका Business भी Profitable बन सकता है। 

ज़रूरत है तो बस Consistency, Dedication, and Hard Work की।

Profitable Niche Find करने में कुछ Steps शामिल होते हैं। 

Step 1 : अपने Passion & Interest को पहचाने 

किसी भी Business को लंबे समय तक रन करने के लिए उसमे Interest & Passion का होना बहुत ज़रूरी है। 

आपको अपने आप से कुछ सवाल पूछने होंगे, जैसे:

आपको क्या पसंद है?

किस Field में आपको Experiments करने पसंद है?

अपनी कौन-सी ऐसी Skill है जो आपके अंदर Natural है?

आप अपना खाली समय किन चीज़ों के साथ बिताते हैं या क्या करना पसंद करते हैं?

इस तरह के सवालों के जवाब जानने के बाद ही आप अपने Interest & Passion को पहचान सकोगे जो Niche Decide करने में मदद करेगा। 

Step 2 : पता करें कि क्या आपका चयनित Niche किसी Problem को Solve कर रहा है 

इस दुनिया में जितनी भी Companies हैं, वो किसी न किसी रूप में लोगोंं की Problems को Solve कर रही हैं। 

यदि आप ऐसी Niche का चयन कर लेंगे जिसमे अन्य लोगोंं का फायदा न होकर केवल आपका फायदा हो रहा होगा, आप Business को शुरू ही नहीं कर पाएंगे। 

इसलिए, ज़रूरी है कि अपने Passion & Interest को लेकर ऐसी Field में उतरा जाये जहां आप अपने Products के Services से लोगोंं की ज़रूरतों को पूरा कर सकें।  

Step 3 : Niche की Profitability & Potential का पता करें

क्या आप अपने Business में पैसा कमाना चाहते हैं?

अरे, ये मैं कैसा सवाल पूछ रहा हूँ… Ofcourse हर कोई व्यक्ति Business में पैसा कमाना चाहता है।

परन्तु, क्या आप अपने Business में लम्बे समय तक पैसा कमाना चाहते हैं?

यदि हाँ, तो आप Niche चयन करने से पहले उसकी Profitability & उसका Potential ज़रूर देखें।

यह रिसर्च करें कि उस Niche में कितने Products Listed हैं, उनकी क्या Price Range है, आप अपने Products की क्या Price Range रखने वाले हैं, Future में सफल होने के कितनी Possibility है, इत्यादि। 

Step 4 : अपने Competition की रिसर्च करें 

Business की शुरुआत करने से पहले आपको Niche में अपने Competitors की रिसर्च करनी होगी। 

आपके पास एक बेहतरीन Product Idea हो सकता है, लेकिन आपको देखना होगा कि आप कितने लोगोंं से Compete करने जा रहे हो। 

क्या आपके Niche में बहुत अधिक Competition है?

आप कैसे अपने Niche में Stand करोगे? 

आपका क्या USP होगा?

क्या आप कुछ Keywords पर Rank कर सकोगे?

आपको इसी तरह के कुछ सवालों के जवाब जानने की कोशिश करनी पड़ेगी। 

आप कुछ Tools & Platforms का भी Use कर सकते हैं, जैसे- Google Trends, Google Keyword Planner, ClickBank, Amazon, etc.  

Step 5 : अपने Products & Service को Test करें 

Niche Selection के सभी स्टेप्स को Follow करने के बाद अब समय है अपने Products & Services को लिस्ट करने का।

इसके लिए आपको अपनी एक Website बनाकर और Landing Page बनाकर Traffic Drive करना पड़ेगा। 

आपको अपने Products की Pre-Sale करनी पड़ेगी और कुछ बेहतरीन Offers देने पड़ेंगे। 

यदि आपके पास Traffic आ रहा हैं लेकिन, अधिक Sale नही हो रही है, तो आपको घबराने की ज़रूरत नहीं है। 

हो सकता है आपकी Strategy उतनी सही न हो या आपको सही Offers नहीं मिल पा रहे हो। 

आपको Strategy में बदलाव करते रहना है और आपको धीरे-धीरे सफलता मिलने लगेगी।    

इस स्टेप्स को ध्यान में रख कर जब आप अपने Niche Selection Process की शुरुआत करते हो, आपको  निश्चय ही सफलता मिलती है। 

आइये अब ऐसी Advanced Marketing Strategy की बात करते हैं जो आज के समय में हर Digital Entrepreneur अपने Business में अपना रहा है।

इस Strategy का नाम है Funnel Designing!

Funnel Designing (Or Funnel Building) एक ऐसी Strategy होती है जिसके तहत आप एक Usual Visitor को विभिन्न Sales & Marketing Steps से गुजारते हुए Customer में Convert करते हैं। 

आइये इस Trending Strategy को विस्तार से समझते हैं और इसकी Importance को जानने का प्रयास करते हैं। 

Funnel Building - An Advanced Marketing Strategy

Niche Selection के बाद बारी आती है अपने Products & Services को मार्केट करने की और उन्हें अपनी Audience तक पहुंचाने की। 

लेकिन, कई बार Traffic आने के बावजूद Prospects To Conversion Ratio बहुत कम होता है। 

ऐसे में आपके ज़रूरत होती है एक ऐसे Funnel की, जो आपके Prospects To Buyer Journey को Define कर सके और फिर आप उसके हिसाब से अपने Steps या Strategies Plan कर सकें।  

इस Complete Process को ही Funnel Building कहा जाता है। 

आइये, इस Advanced Marketing Strategy के बारे में विस्तार से जानते हैं और बात करते हैं कि क्यों Funnel Building ज़रूरी है। 

What is A Marketing Funnel - Marketing Funnel क्या होता है?

What is A Marketing Funnel - Marketing Funnel क्या होता है?

एक Prospect को विभिन्न Steps के Through ले जाते हुए Customer में Convert करने के प्रोसेस को Marketing Funnel कहते हैं। 

Funnel के दो मुख्य Goal होते है – Product या Service को Sell करना और Long-Term Customers Acquire करना। 

Marketing Funnel के तहत आप काफी बड़ी संख्या में Audience को अपने Online Sources पर लेकर आते हैं और फिर Step By Step, विभिन्न Processes से गुजरते हुए एक Small Group of People को अपने Customer में Convert करते हैं। 

चलिए इसे एक उदाहरण के माध्यम से समझते हैं। 

क्या आपने Amazon से सामान खरीदते वक्त कभी अपनी Buying Journey पर गौर फ़रमाया है?

चलिए हम आपको बताते हैं कि कैसे आप Amazon के Marketing Funnel का हिस्सा बनते हैं। 

  • आपने Amazon Sign Up किया 
  • अपने पसंद के Product को Search किया 
  • Amazon ने आपके Filter के हिसाब से आपके सामने Bestseller Products की लिस्ट दिखा दी 
  • आपने विभिन्न Similar Products को Compare किया और Products Description, Reviews इत्यादि को पढ़ा 
  • Amazon ने आपके Product से सम्बंधित कुछ अन्य Products भी Recommend किये 
  • आपने अपना Products और कुछ Recommended Products (जो आपको अच्छे लगे) को Amazon Cart में Add किया 
  • Finally आपने पेमेंट की और सामान खरीद लिया और आप Amazon के Customer बन गए। 


तो इस तरह से आप Amazon Funnel के विभिन्न Steps से होते हुए एक एक Visitor से Buyer तक की Journey को पूरा करते हैं। 

आपकी तरह ही ऐसे बहुत से लोग होते हैं जो Funnel के केवल पहले या दूसरे Step तक आते हैं और फिर किसी अन्य जगह Divert हैं जाते हैं। 

इसलिए, अधिक से अधिक Prospects या Visitors को अपने Customer में Convert करने के लिए आपका Marketing Funnel एकदम सॉलिड होना चाहिए। 

इसी जानकारी को आगे बढ़ाते हुए आइये देखते हैं कि Funnel Building क्या होती है और ये कैसे की जाती है।  

What is Funnel Building - Funnel Building किसे कहते हैं?

Funnel Building एक ऐसा प्रोसेस होता है जिसके तहत आप Buyer Journey को अलग-अलग Steps में Break करके एक ऐसा Optimized Process तैयार किया जाता है जिसमे आप उनसे अपने Objectives को पूरा कराते हैं।

SignUp, Product Selling, से लेकर Form Filling, Webinar Registration तक कई तरह के Objectives हो सकते हैं।    

लेकिन, Funnel Design करने की ज़रूरत ही क्यों है?

आजकल क्यों ये इतना Trend में है?

क्या सिर्फ Digital Marketing Strategies को Implement करने भर से काम नहीं चलेगा?

इसी तरह के सवालों का जवाब जानने के लिए आइये बात करते हैं कि आखिर Funnel Design करना इतना ज़रूरी क्यों है? (Importance of Funnel Design) 

What is the Importance of Funnel Building - Funnel Building Benefits

What is the Importance of Funnel Building - Funnel Building Benefits

बिज़नेस में आगे बढ़ने के लिए हमेशा नई-नई Approaches को Implement करते रहना चाहिए। 

ऐसा करने से आप Market Trends से Updated रहते हैं और अपने Competitors की तुलना में अधिक Grow कर पाते हैं। 

Funnel Building ऐसी ही एक नई Approach है जो आज के समय की सर्वश्रेष्ठ Sales & Marketing को Boost करने वाली Strategies में गिनी जाती है। 

इसके अनेक Benefits हैं, लेकिन उनमे से कुछ महत्वपूर्ण Benefits को जानना ज़रूरी है।  

1. Productivity बढ़ाने में मदद करती है 

Funnel Building के हर स्टेप में आप अपनी Strategies को Measure कर पाते हैं। 

आप यह जान पाते हैं कि क्या हर स्टेप आपके Potential Leads की Life में कुछ Value Add कर रहा है। 

इसके साथ ही Funnel Building आपके Marketing Process को Streamline कर देती है। 

इससे आपका यह फायदा होता है कि आपके कीमती समय की बचत हो जाती है और आप अपना पूरा फोकस Customer Behaviour को और अच्छे से समझने में लगा सकते हैं।  

2. Results Predict करने आसान होते हैं 

हर Funnel में एक Prospect विभिन्न Series of Actions से गुजरता है।

हर अगले Step की Performance पिछले स्टेप की सफलता पर निर्भर करती है।   

उदाहरण के लिए यदि किसी User ने Amazon SignUp किया है तो अब वो अपने पसंद के Products को Search करेगा। 

यहां SignUp Action की वजह से हम ये Predict कर सकते हैं कि अब User क्या करने वाला है। 

Funnel Design करने के बाद जब आप अपनी Performance को Track & Analyse करते हैं तो आपको पता चल जाता है कि अपना Objective पूरा करने के लिए कितने लोगोंं को Funnel के Top Section पर लेकर आना है। 

इस तरह आप Predict कर सकते हैं कि Results क्या आने वाले हैं। 

3. Conversion बढ़ाने के लिए उत्तरदायी है 

अधिकतर Businesses का ये ही Motive होता है कि वो अपनी अधिक से अधिक Leads को अपने Customers में Convert करें। 

लेकिन ये कैसे Possible होगा?

Funnel Build करने से पहले जो आप Lead to Buyer Journey को रिसर्च करते हैं और उनके Behaviour को समझते हैं, वही Understanding आपको अधिक Leads को Convert करने में मदद करती है। 

Leads के Mindset को समझना और ये देखना कि आप कैसे उनकी ज़रूरत को पूरा कर सकते हैं, Conversion में बहुत बड़ी भूमिका निभाती है। 

4. Prospects के साथ Better Relationship बनाने में मदद करती है 

Prospects के साथ Trust Build करना अत्यंत आवश्यक है। 

कोई भी व्यक्ति किसी भी नई Company के Products को पहली बार में नहीं खरीदता। 

आपको एक Company या एक Business Owner होने के नाते Content के माध्यम से लगातार Valuable Knowledge Share करनी होती है। 

Content Creation आपकी Lead Magnet का एक Component होता है। 

इसके अंतर्गत Blogs, Videos, Guides, Instruction Manuals, E-books, इत्यादि के माध्यम से आप Leads को Attract करते हैं। 

Content के माध्यम से आप उनके Problem Areas को टारगेट कर सकते हैं। 

इसके अलावा, शुरुआत में आप अपने Prospects को अपनी Premium Knowledge फ्री में भी दे सकते हैं और उनके साथ Engagement बढ़ा सकते हैं।  

इसे Lead Nurturing कहा जाता है। 

आपका Ultimate Goal होता है Prospects का विश्वास जीत कर उन्हें अपने Landing Page पर लाकर Convert करना।  

5. आपको Competition की रेस में आगे निकालती है 

क्या आप नहीं चाहते कि जो भी Business आप शुरू करें उसमे आपको Competitive Advantage मिले?

Ofcourse, ये हर कोई चाहता है।

परन्तु, Marketers अपनी Funnel Build करते समय इसे नज़रअंदाज कर देते हैं। 

आज के समय में यदि आपके पास अपने Potential Customers का सही डाटा होगा, आपकी भी एक Powerful Funnel बन कर तैयार होगी। 

जो Business Owners इसे Avoid करते हैं, उनसे आप काफी आगे निकल जाओगे। 

In fact, आज के Modern Enterpreneurs और Business Owners अपनी Funnel के लिए Complete डाटा की रिसर्च करते हैं, जिससे वो अपनी Funnel को और अधिक Maximize कर सकें और अपने Profit को बढ़ा सकें। 

How To Build the Best Marketing Funnel?

अब आपको समझ आ ही गया होगा कि Funnel की Importance क्या है। 

तो क्यों न अब इसकी Designing को भी समझ लिया जाए?

Best Marketing Funnel Design करने के 6 मुख्य स्टेप्स होते हैं। 

1. अपनी Audience को समझें 

Funnel Building से पहले आपको अपनी Audience की समझ होनी ज़रूरी है।

आपको पता होना चाहिए कि आपकी Audience का Interest क्या है, उनके Likes/Dislikes क्या हैं, उन्हें किस तरह का Content Consume करना पसंद है, उनकी Problems क्या हैं, इत्यादि।   

Audience को समझने के लिए आप अपने Web Analytics का डाटा देख सकते हैं, Social Media की Engagement को चेक कर सकते हैं, अपने Competitors के Online Platforms पर उनके Interaction को Observe कर सकते हैं। 

Audience की समझ होने से और उनके Behaviour को जानने से आपको Buyer Journey का पता लग सकेगा और आप अपने Funnel को बेहतर तरीके से Shape कर पाएंगे।   

2. Funnel के Stages Decide करें 

Buyer Journey का ज्ञान होने के बाद आपको Funnel Stages की संख्या Decide करनी होती है। 

आपको देखना होता है कि आप किस स्टेज पर अपने Prospects को क्या Value Provide करेंगे। 

इसके साथ ही आप ये भी चाहेंगे कि आप अपने हर एक स्टेज तक अधिक से अधिक Leads को लेकर जाएं। 

इससे आपका Convertion Rate बढ़ने की संभावना बढ़ जाती है और आपका Business Profitable बन सकता है।

Generally, आप अपनी Funnel को तीन मुख्य Stages में Devide करते हैं – Top, Middle, and Bottom!

Top Stage या Section में आप अधिक से अधिक Traffic या Leads को अपने Website या Landing Page पर लाने की कोशिश करते हैं और उन्हें अपने Brand, Products & Services से रूबरू कराते हैं।  

Middle Stage के तहत आप Leads को लगातार Value Provide करते हैं और उन्हें अपने साथ जुड़ने के कारण बताते हैं। 

Bottom Stage तक आते-आते आपके पास केवल कुछ ही लोग रह जाते हैं जो आपके साथ जुड़ने में और आपके Customer बनने में Interested होते हैं।   

3. अपना Landing Page बनाएं 

Landing Page आपका आपकी Audience के साथ First Interaction Point होता है। 

आप चाहें Ad  के माध्यम से, Webinar के माध्यम से, E-book के माध्यम से Leads लेकर आएं, आपको हमेशा ही उन्हें अपने किसी Landing Page पर भेजना होगा। 

Landing Page आपकी Brand को और आपकी Offering को सही से Communicate कर रहा होना चाहिए। 

कोशिश करें अपने Landing Page पर कुछ Visual Content जैसे Videos का इस्तेमाल करें, क्योंकि Videos आपके Conversion Rate को 86% तक बढ़ा सकती है। 

आपका जो भी Objective है उसे आप अपने Landing Page पर ज़रुर Mention करें।

साथ ही ये भी कोशिश करें कि आपके Landing Page पर Prospects की Information जैसे Email & Contact Details लेने के लिए कोई Form Embeded हो। 

अंत में एक बेहतरीन Call To Action के माध्यम से अपने Objective को पूरा करें। 

एक Customized Call To Action का Use करें। 

क्योंकि, एक Customized Call To Action आपको 202% अधिक Convert करने में मदद करता है।   

4. Lead Magnet के उपयोग से Traffic Generate करें 

Landing Page बनाने के पश्चात आप Lead Magnet के माध्यम से Traffic Generate करें। 

Lead Magnet एक ऐसा सिस्टम होता है जिसके तहत आप भिन्न भिन्न तरीकों से अपने Prospects या Leads को Information Share करते हो। 

Lead Magnet के तहत आप Blog Posts, E-books, Guides, Videos, Social Media Platforms, Facebook Groups, इत्यादि का उपयोग कर सकते हैं। 

इस तरह से Value Provide करने से उनका आप पर Trust बढ़ता है और वो आपके साथ अपनी Contact Details भी Share कर देते हैं। 

5. Lead Nurturing शुरू करें और लगातार Value Provide करते रहें 

अब तक आप अपने Funnel के Top Section में हज़ारों-लाखों की Leads को ला चुके हैं। 

सभी Leads आपकी Brand के बारे में जान चुके हैं, इसलिए अब आपका काम है उन्हें कुछ और Value Provide करना।  

इस Stage को Lead Nurturing का नाम दिया गया है।  

क्योंकि अब आपके पास अपने Prospects का Email Address & Contact Details हैं, ऐसे में आप कुछ Lead Nurturing Campaigns Run कर सकते हैं। 

इसके लिए आप उन्हें अपने Free Webinar पर ला सकते हैं, Premium Knowledge को फ्री में Share कर सकते हैं, अपनी Premium E-books फ्री में दे सकते हैं, और अपनी Brand, Products या Services से जुड़े कुछ ऐसे तथ्यों को दिखा सकते हैं जिससे उनका आप पर Trust बन जाये।  

इसके अलावा आप Social Proof जैसे Powefull अस्त्र का भी उपयोग कर सकते हैं। 

Optinmonster के मुताबिक, 92% Online Consumers कुछ खरीदने से पहले Online Reviews देखना पसंद करते हैं।  

इसलिए, Social Proof में आप अपने Existing Customers के Testimonials, Reviews, Feedbacks इत्यादि दिखा सकते हैं। 

6. Upsell करें 

यहां तक पहुँचते-पहुँचते Prospects, Decision Stage तक आ चुके होते हैं। 

ऐसे में आपको बड़ी ही सावधानी से उनके साथ डील करना होता है और ऐसी चीज़ें ऑफर करनी होती है जिससे वो Purchasing Direction में चले जाएं। 

यहां आप कुछ Extended Free Trial, Free Product Demo, Special Discount वगैरह ऑफर कर सकते हैं। 

इस तरह आप अपने Objective को पूरा कर सकते हैं और Funnel के माध्यम से अपने Business को Profitable बना सकते हैं।  

Funnel Designing Stage में कुछ प्रोसेस बहुत महत्वपूर्ण होते हैं, जिनमे मुख्यतः शामिल है – Lead Generation & Lead Nurturing!

एक Process के माध्यम से आप अपने Business के लिए Leads Generate करते हैं और दूसरे के माध्यम से Leads को Nurture करते हुए उन्हें Customers में Convert करते हैं। 

आइये इन Processes के बारे में Detail से समझते हैं और देखते हैं कि इनकी Importance क्यों है।  

The Concept of Lead Generation and Lead Nurturing

आपने हमारी Digital Marketing Classes के अंदर Lead Generation and Lead Nurturing का नाम कई बार सुना होगा। 

बल्कि, हमने इस Detailed Digital Marketing Guide में भी इन Terms का बहुत बार उपयोग किया है। 

लेकिन, आपने इनके बारे में कभी गहराई से सोचा है?

क्या आपने कभी जानने की कोशिश की है कि Lead Generation & Lead Nurturing क्यों इतना Famous Concept है?

इन Processes को अपने Online Business में कैसे Implement किया जाता है?

आज कुछ इसी तरह के सवालों का जवाब जानेंगे हम इस Blog में। 

तो आइये इसे शुरू करते हैं और समझते हैं Lead Nurturing & Lead Generation क्या है। 

The Concept of Lead Generation and Lead Nurturing

What is Lead Generation - Lead Generation kya hota hai?

Lead Generation एक ऐसा प्रोसेस होता है जिसके तहत आप ऐसी Audience को टारगेट करते हैं जो आपके Customer बनकर आपके Business को Grow करने में आपकी मदद कर सकते हैं। 

Lead Generation Process का End Goal होता है Leads को Customer में कन्वर्ट करना। 

Customer में कन्वर्ट करने से पहले आपको Leads को Nurture करना होता है और Quality Value Provide करनी होती है। 

Lead Generate करने के लिए विभिन्न तरह के Processes का इस्तेमाल किया जाता है, जैसे – Blog Posts, Forms, Social Media Posts, Webinar, etc. 

ये किसी भी Buyer Journey का पहला स्टेप होता है जो किसी भी बिज़नेस के लिए बहुत ही महत्वूर्ण होता है। 

Statista के अनुसार, 2024 के अंत तक Lead Generation $3.2 Billion को पार कर लेगा। इसे इतना बड़ा बनाने में Marketing Automation का भी बहुत बड़ा रोल है।  

Hubspot की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 76% Companies अपने Business में Automation को Use कर रही हैं। 

Marketing Automation क्या है – जाने इस Blog में !

लेकिन, ये कितना Effective है, इसके क्या-क्या Benefits हैं? आइये समझते हैं अपने अगले सेक्शन में। 

Lead Generation कितना Effective होता है - Lead Generation Benefits

कोई भी ऐसा तरीका जो आपके Business के लिए Customer लेकर आये, हमेशा ही कारगर होता है। 

Lead Generation Process न सिर्फ आपकी Business Website या Online Platform पर Quality Traffic लेकर आता है, बल्कि आपके Business की Market Presence भी बढ़ाता है। 

बल्कि, लगभग 61% Marketers तो यह मानते हैं कि Lead Generation उनके बिज़नेस का सबसे Challenging Process होता है। 

इस Process को Automate करने में और इसे अधिक आसान बनाने में Automation Tools बहुत बड़ा Role Play करते हैं। 

Lead Generation के अन्य कई Benefits भी हैं। आइये उन्हें विस्तार से Discuss करते हैं। 

1. Business Revenue बढ़ता है 

Lead Generation के लिए ज़रूरी है Right Message, Offer, और Content जिससे आपके Prospects आपके बिज़नेस में Interest ले सकें। 

Lead Generation में जब आप Specific Group of People को टारगेट करते हैं और अपने आपको एक Problem Solver के रूप में दिखाते हैं तो उनका आप पर Trust बढ़ता है। 

जब आप उनके Pain Points को पकड़ते हैं तो अपने आप को एक Problem Solver के रूप में दिखाते हैं। 

इससे आपके पास Qualified Leads आती हैं और उन्हें Customer में तब्दील करना आसान हो जाता है। 

Ultimately, इससे आपके Revenue पर ही Positive Impact पड़ता है। 

2. Brand Awareness बढ़ती है 

Brand Awareness से मतलब होता है कि कितने लोग आपकी Brand और आपके Business के बारे में जानते हैं और उससे Familiar हैं। 

Lead Generation करने से आप अपने बिज़नेस को लोगोंं तक पहुंचाते हैं (Inbound) और उनसे Expect करते हैं कि वे आपकी Website पर आएं और आपके Products & Services को Check Out करें। 

लोगोंं को अपने बारे में और अपने बिज़नेस के बारे में Educate & Inform करना, Lead Generation के प्रमुख कार्यों में से एक है। 

3. आप अपने Products & Services को Improve कर पाते हैं 

Leads Generation के तहत जब आप Leads का डाटा एकत्रित कर लेते हैं तो आपको काफी चीज़ें जानने को मिल जाती हैं। 

आप उनके Interest, Likes/Dislikes, Passion, Problems, Needs, इत्यादि को जान पाते हो। 

इस डाटा को आप अपने Content और Products, & Services को Improve करने में Utilise कर सकते हो। 

इस तरह आप अपने Leads को Customized Solution दे पाते हो। 

4. अपने मुख्य Product के अलावा अन्य Products भी Sell कर पाते हैं 

यदि आप अपने मुख्य Products के साथ-साथ अन्य सम्बंधित Products भी Sell करना चाहते हैं तो Lead Generation आपके लिए एक वरदान साबित हो सकता है। 

जब Leads आप तक पहुंचती है, आपके Products को पसंद करती है तो ये काफी हद तक संभव है कि वे आपके अन्य Related Products को भी पसंद करेगी। 

ऐसे में आपके लिए यह एक Profitable Strategy साबित हो सकती है।  

5. आपकी Following बढ़ाती है 

Lead Generation में Quality Content Creation, Interaction, and Engagement मुख्य भूमिका निभाते हैं। 

यदि आप Quality Content Produce करते रहेंगे, लोग आपके पास आते रहेंगे और आपकी Funnel के विभिन्न Stages में Enter करते रहेंगे। 

लोगोंं में Trust Factor बनेगा और आपकी Following भी बढ़ती रहेगी।  

6. Quality Lead Generate करने में मदद करती है 

Content Create कर देने से आपकी Website पर भर-भर के Traffic ज़रूर आ सकता है, लेकिन उनमे से कितने आपके Qualified Leads होते हैं। 

कितने ऐसे लोग होते हैं जिन्हें आपके Business में Interest होता है और जिन्हें लगता है कि आप उनकी Problems को Solve कर सकते हैं?

 बहुत कम !

ऐसे बहुत कम लोग होते हैं जो वाकई में आपके Business, Products & Services के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं। 

ये लोग ही Quality Leads होते हैं जो आपके Conversion & Sales के लिए उत्तरदायी होते हैं।  

Lead Generation Strategies  

Lead Generation Strategies

Lead Generation Strategies को मुख्यतः दो कैटेगरी में बांटा गया है – Inbound and Outbound Lead Generation Strategies

Inbound Lead Generation Strategies 

यह एक ऐसी Strategy होती है जिसके तहत आपके Potential Customer किसी Marketing Channel (Website, Social Media, Blog) के माध्यम से खुद ढूंढते हुए आपके पास आते हैं। 

इसमें आप Lead Magnet के माध्यम से अपने Potential Customer को Attract करते हैं और उनके डाटा को Collect करते हैं। 

इसलिए इसे Organic Lead Generation Process भी कहा जाता है। 

इसमें तीन तरह की Strategies का इस्तेमाल किया जाता है – Content Marketing, Social Media, and Search Engine Optimization!

Content Marketing के तहत आप Blogs, Articles, Guides, E-books, Videos, Infographic Content, Podcasts, इत्यादि के माध्यम से Lead Generation Process को अंजाम दे सकते हैं। 

एक सर्वे के मुताबिक, Content Marketing एक Traditional Marketing की तुलना में तीन गुना अधिक Lead Generate करती है 

Social Media Platforms का उपयोग भी Lead Generation में कारगर होता है। 

आप विभिन्न Platforms पर अपनी Target Audience के हिसाब से अलग-अलग तरह का Content Post कर सकते हैं। 

इसी तरह, SEO का भी उपयोग Lead Generation के लिए किया जाता है। 

आप अपनी Website को On-Page, Off-Page, and Technical SEO के हिसाब से Optimize कर सकते हैं जिससे वह Google के First Page पर रैंक कर सके। 

Outbound Lead Generation Strategies

यह एक Inorganic या Free Lead Generation Strategy होती है जिसके तहत आप खुद अपने Potential Customers तक पहुँचते हैं और उनके साथ Interact करते हैं। 

इस Strategy में Cold Emails, Cold Calls, Paid Ads इत्यादि का उपयोग किया जाता है। 

Paid Ads Strategy के अंतर्गत आप Google और विभिन्न Social Media Platforms पर Ads Run करते हैं। 

आप अपनी Target Audience की Age, Gender, Geographical Location और सबसे महत्वपूर्ण Keywords को Use करके उन्हें टारगेट करते हैं। 

इस Strategy को Implement करते वक्त आपके पास एक Landing Page का होना ज़रूरी है जिस पर आपकी Audience Land कर सके और आपके Call To Action को Follow कर सके।   

वहीं दूसरी तरफ, Cold Outreach को अंजाम देने के लिए आपको पहले Lead Sourcing की ज़रूरत होती है जिसके तहत आप अपने Potential Leads की Contact Details लेते हैं ताकि आप उन्हें बाद में Cold Email या Cold Call करके अपने Business से रूबरू करा सकें। 

Lead Generation Tips

यदि आप अपने Lead Generation Process को और अधिक Improve करना चाहते हैं तो आपको कुछ Tips को Follow करना पड़ेगा।

1. Evergreen Content Create करें 

एक ऐसा Content जो हमेशा ही Trending में रहे Evergreen Content कहलाता है। 

आपको भी कोशिश करनी है कि Lead Generation के लिए कुछ इस तरह से Content Prepare किया जाए कि वो हमेशा ही नए लोगोंं को अपनी ओर Attract सके। 

Evergreen Type का Content Create करने में ज़रुर थोड़ा समय लग सकता है लेकिन वो लंबे समय तक Last करता है और आपको Lead Generate करके देता रहता है। 

2. एक Strong Call To Action का उपयोग करें 

Leads को अपने Landing Page पर पर तो ले आएंगे, परन्तु अपने Objective (E.g Sign Up, Form Filling, Sale, etc.) को कैसे पूरा करेंगे?

इसके लिए आपको ज़रूरत पड़ेगी एक Strong Call To Action की !

एक बेहतरीन CTA आपके Business Goals को पूरा करने में मदद करता है। 

बेहतर CTA देने के लिए आपको अपने Audience के Behaviour को जानना होगा, उनके Interest, Problems को पहचानना होगा। 

3. अपनी Website & Landing Page को Optimize करें 

क्या आप चाहते हैं कि आपकी Website & Landing Page पर आने वाला Traffic अपनी Details दिए बिना ही चला जाये?

ऐसा तभी संभव है जब आपका Landing Page & Website सही से Optimize न हो और Mobile Friendly न हो।  

इसलिए, अगर आप अपना Objective पूरा करना चाहते हैं तो इस बात पर ज़रुर ध्यान दें। 

4. बेहतर Lead Generation Tools का उपयोग करें 

अपनी Leads के डाटा को Organize & Store करने के लिए आपको एक System की ज़रूरत होती है। 

लेकिन, उस System को सही से Manage करने में Lead Generation Software or Tools काफी मदद करते हैं। 

आप अपनी Leads के बारे में क्या जानते हैं?

क्या आपने उनके Email Addresses & Contact Details को स्टोर किया हुआ है?

क्या आप जानते हैं कि आपके Leads कैसे Navigate रहें हैं?

इस तरह का सवालों का जवाब जानने के लिए ही आपको Lead Generation Tools की ज़रूरत पड़ती है। 

5. अपनी Consistency बरकरार रखें 

“Consistency is the Key To Win Any Race”

Consistency की मदद से आप हर रेस जीत सकते हैं। 

अपने Marketing Automation Tools को इस तरह से Utilize कीजिये जिससे Prospects के Action लेते ही उनके पास आपकी तरफ से कुछ Response जाये। 

इस तरह के Actions में और Content Posting में हमेशा Regular & Consistent रहिये।  

अपनी Posting Frequency & Time का हमेशा तालमेल बिठाकर चलिए। ये ही जीत की कुंजी है। 

Lead Generation के बाद अगला स्टेप होता है Lead Nurturing!

यह स्टेप Funnel Design का Mid Section होता है जो Quality Leads को और अधिक Filter करता है। 

आइये इस Strategy के बारे में विस्तार से जानते हैं।  

What is Lead Nurturing - Lead Nurturing kya hota hai?

Lead Nurturing एक ऐसा Process होता है जिसके माध्यम से Leads को Valuable Content Provide करते हुए उनके साथ बेहतर Relationship बनाई जाती है। 

एक सफल Lead Nurturing Program में Leads की Problems को Analyse किया जाता है, ज़रूरतों को समझा जाता है और Marketing & Communication की मदद से उनके साथ Connection बनाया जाता है। 

जब Prospects की नज़रों में बिज़नेस को एक Problem Solving Business के रूप में दिखाया जाता है तो Prospects द्वारा उस बिज़नेस के Products और Services के लिए Sign Up करना थोड़ा आसान हो जाता है।  

Lead Nurturing का Ultimate Goal ही Lead To Customer Conversion Rate को बढ़ाना होता है। 

लेकिन, ये क्यों ज़रूरी है?

क्या होगा यदि हम Lead Nurturing Process को Implement नहीं करेंगे?

ये कितनी Effective Strategy है?

ऐसे ही कई सवालों के जवाब जानने के लिए हमें समझना पड़ेगा कि यह कैसे काम करता है। 

आइये, देखते हैं और समझते हैं कि How To Nurture Leads!

What is Lead Nurturing - Lead Nurturing kya hota hai?

How Does Lead Nurturing Work - Lead Nurturing Process

Lead Nurturing Process में पाँच स्टेप्स शामिल होते हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं – Lead Scoring, Finding Ideal Buyer, Initiating Lead Nurturing Program, Retargeting, Tweaking

1. Lead Scoring 

Lead Nurturing Process का सबसे पहला स्टेप है Lead Scoring!

Lead Scoring ये जानने में मदद करता है कि एक Lead, Funnel के किस स्टेज पर है और वो आपके Business में कितनी Value Add कर सकता है।

आप Lead Scoring करते वक्त अपनी Leads को उनके Behaviour, Engagement, Buyer Journey Stage के आधार पर Divide कर सकते हैं। 

इसे Perform करने के बाद आपको अपनी Quality Leads की Information मिल जाती है और आप उनके साथ Interaction करने का एक सॉलिड प्लान बना पाते हैं।   

2. Finding Ideal Buyer 

Lead Scoring के बाद आपको अपने Ideal Buyers की पहचान करनी होती है। 

आपके पास अपने Potential Customer का एक पूरा डेटाबेस इकठ्ठा हो जाता है जिसमे आपको उनके बारे में काफी जानकारी मिल चुकी होती है। 

ऐसे में अब आप इस Information के साथ अपनी Lead Nurturing Strategies पर फोकस कर पाते हैं। 

3. Initiating Lead Nurturing Program 

अब जब आप अपने Ideal Buyer को ढूंढ लेते हैं आपको अपना Lead Nurturing Program शुरू करना होता है। 

इसके तहत आपको देखना होता है कि Content Marketing कैसे करनी है, किस तरह से Emails, Blogs, Website, Videos, Audio, Infographics आदि के माध्यम से अपनी Ideal Customers तक कंटेंट पहुंचाना है और उन्हें Value Add करनी है। 

इस स्टेज पर आपके पास अपना एक Buyer Persona होता है, इसलिए आप Targeted Campaigns भी Run कर सकते हैं। 

4. Retargeting 

कई बार कुछ ऐसी Situations सामने आ जाती हैं जब आपकी Hot Leads भी कुछ Respond नहीं करती और आपके Funnel में आगे नहीं बढ़ती। 

ऐसे में आप उन्हें Retarget करके दोबारा से अपने Business से होने वाले Benefits के बारे में बता सकते हैं। 

आप Email भेज सकते हैं, Messages भेज सकते हैं, या सीधा Call कर सकते हैं और उन्हें कुछ Special Discount या Early Bird Type Offer दे सकते हैं। 

आप एक Retargeting Email Campaign Run कर सकते हैं जिसमे ConvertKit जैसे Email Marketing Tool का उपयोग कर सकते हैं। 

इसके अतिरिक्त आप एक FOMO नाम की Strategy का Use कर सकते हैं। 

FOMO से तात्पर्य है – Fear of Missing Out (किसी चीज़ के खोने या हाथ से निकल जाने का डर)

आप Retargeting Campaign में कुछ इस तरह की Content Strategy बना सकते हैं जिससे Limited Time, Early Bird, Few Hours Left, जैसे Words को Use कर सकते हैं। 

इस तरह के Words लोगोंं को Psychologically सोचने पर मजबूर कर देते हैं और अंत में काफी लोग इसी वजह से Products & Services के लिए SignUp कर देते हैं। 

5. Evaluate Campaign Results and Tweak If Required  

इस स्टेज में आपको होने Campaigns को Analyse करना होता है। 

यदि आपके Campaigns अच्छे चल रहे हों तो देखिये की कितना CTR मिल रहा है, कितना Email Open Rate है, आपके Landing Page पर कितने Visitors जा रहे हैं, आदि। 

इसके अलावा आपको देखना होता है कि एक Lead को अपनी Sales Cycle में लाने में आपको कितना समय लग रहा है, कितने Leads आपके Customers में Convert हो रहे हैं। 

इन सभी चीज़ों को Analyse करते रहिये और यदि आपको अपनी Strategy में कोई गैप नज़र आता है तो उसे सही कीजिये और अपनी Strategy को Tweak कीजिये। 

इस तरह, आप अपना एक सफल Lead Nurturing Process सेटअप कर सकोगे। 

How Effective is Lead Nurturing - Importance of Lead Nurturing

Lead Nurturing आपकी Funnel का वो Mid Section होती है जिसमे आप अपनी Quality Leads को अपने Business के बारे में और अधिक जानकारी देते हैं। 

यदि आप इस Process को नहीं अपनाएंगे, तो केवल आप Lead Generation ही करके रह जायेंगे और आपका Customer Conversion Rate बहुत कम होगा। 

Invespcro के मुताबिक, Lead Nurturing को बेहतरीन तरीके से Implement करने पर 50% से भी ज़्यादा Leads Generate होती हैं और वो भी 33% Lower Cost पर। 

इसके अलावा भी Lead Nurturing के कई Benefits हैं जिन्हें समझना ज़रूरी है। 

1. Leads के साथ Engagement बढ़ती है 

सबसे पहले Lead एक Visitor के तौर पर आपसे Interact करती है। 

लेकिन, जैसे-जैसे वो आपके Funnel में Enter करते जाते हैं, आपका Interaction Rate बढ़ता जाता है। 

इसे ऐसे भी कह सकते हैं कि जिन लोगों के साथ आपने पहले Interact किया था उनमे से कई लोगों के साथ आप दोबारा Engage होते हैं। 

लेकिन, कई बार ये Leads भी आपकी Funnel में रहने के बावजूद, कुछ समय बाद Respond करना बंद कर देते हैं। 

ऐसी Situation में Lead Nurturing के माध्यम से उनके Mindset को जानने की कोशिश की जाती है और Funnel के अन्य Stages में लेकर जाया जाता है।  

2. कम Investment में अधिक Sale हो जाती है 

किसी भी Lead को यदि आपने Customer बनाना है तो उसे कुछ इस तरह की Values या Content Provide करना पड़ेगा जो शायद ही उसे कहीं अन्य जगह मिले। 

ये चीज़ उन्हें आपके Business के साथ जोड़े रखती है जिससे उनमे Trust Factor बनता है। 

लेकिन, वहीं अगर Traditional Marketing की बात करें तो इसमें Interaction & Engagement न के बराबर होती है और केवल एकतरफा होती है। 

ऐसे में Lead Nurturing करने से आप Traditional Marketing की बजाय कम Investment में अधिक Conversion कर सकते हैं। 

3. आप Consistent Communication Maintain कर पाते हैं 

अपने Business से Leads & Customers को जोड़े रखने के लिए Consistent & Relevant Communication बहुत ज़रूरी है। 

Genius.com के अनुसार, 66% Buyers ये मानते हैं कि Consistent & Relevant Communication ही Right Solution Provider को ढूंढने में मदद करता है।  

इसे अपनाने से आप अपने Goal के साथ बंधे रहते हैं और अपनी Brand Awareness Create करते रहते हैं। 

4. Customer Conversion Rate बढ़ने की बहुत अधिक संभावना रहती है 

जब Quality Leads आपके पास होती हैं जिनके बारे में आपको पता होता है कि इनकी Problems क्या-क्या हैं, तो उन्हें Products & Service के रूप में Solution Provide करना चाहिए। 

क्योंकि आप Lead Nurturing तक पहुँचते-पहुँचते उनके साथ Interact कर चुके होते हैं, उन्हें Customer में Convert करने की बहुत अधिक सम्भावना बढ़ जाती है। 

5. Cross-Sell या Upsell Opportunities मिल जाती है 

Lead Nurturing आपके नए Products & Services को आपके पुराने Existing Customers तक पहुँचाने में मदद करती है। 

इस Strategy में आप केवल नए लोगोंं को ही अपना Customer नहीं बनाते, बल्कि, पुराने कस्टमर्स को भी नए Products से रूबरू कराते हो। 

इस तरह आप अपने Products & Services की Awareness बढ़ाते हैं। 

 

इस Blog में हम यहां तक पढ़ चुके हैं कि Digital Marketing क्या होता है, इसके क्या-क्या Components होते हैं, इसकी विभिन्न Strategies क्या होती हैं, उन्हें कैसे Implement किया जाता है, आदि। 

लेकिन, एक बार Digital Marketing सीख लेने के बाद बात आती है इससे पैसे कमाने की। 

जब आप इसे सीखने में अपना कीमती समय और पैसा Invest करते हैं तो ज़ाहिर सी बात है कि कुछ Return On Investment भी मिलना चाहिए। 

इसी चीज़ को समझने के लिए आइये देखते हैं कि Digital Marketing सीख लेने के बाद किस तरह से पैसे कमाए जा सकते हैं और आपके पास क्या-क्या Money Making Opportunities होती हैं। 

Best Money Making Opportunities In Digital Marketing

Best Money Making Opportunities In Digital Marketing

रोटी, कपड़ा, और मकान के साथ-साथ आजकल पैसे की भी बहुत ज़रूरत होती है।

जब पैसा ही नहीं होगा तो आप अपनी ज़रूरतों को पूरा नहीं कर सकोगे। 

इसलिए, जब भी आप कोई नई चीज़ सीखते हैं या कोर्स करते हैं (जैसे हमारा Digital Marketing In Hindi Course), तो आपको उसे सीखने के बाद अलग-अलग Income के रास्तों पर जाना पड़ता है। 

Digital Marketing सीखकर आप कई तरह के कार्यों को कर सकते हैं और कुछ ही समय में Financial Stability को Achieve कर सकते हैं। 

Digital Marketing सीखकर आप खुद अपना कोई कार्य कर सकते हैं या फिर अन्य लोगोंं की मदद करके अच्छा पैसा कमा सकते हैं।  

तो क्या आप जानना चाहते हैं कि Digital Marketing Course करने के बाद आपके पास कौन-कौन सी Money Making Opportunities आ जाती हैं?

यदि हाँ, तो बने रहिये हमारे साथ इस ब्लॉग में।  

  1. Part Time or Full Time Job
  2. Freelancing
  3. Digital Marketing Agency
  4. Start An E-Commerce Business
  5. Grow Your Existing Business
  6. Affiliate Marketing
  7. Blogging
  8. YouTube


चलिए, इनके बारे में Detail में Discuss करते हैं। 

1. Part Time or Full Time Job

Digital Marketing Sector में काफी ज़्यादा Job Opportunities है। 

अधिकतर लोगोंं की सबसे पहली प्राथमिकता भी किसी Startup या किसी बड़ी Company में जॉब करने की होती है। 

हालाकिं, जब आप कोई कोर्स करके निकलते हैं तो आप एक Fresher के रूप में देखे जाते हैं। 

ऐसे में हैं सकता है कि आपको शुरुआत में कुछ कम सैलरी ऑफर की जाए। 

लेकिन, यदि आपको लगता है कि उस कंपनी में आपकी Growth मुमकिन है, तो आपको Salary न देखकर अपनी Growth देखनी चाहिए और कंपनी से जुड़ जाना चाहिए।

आप Practical Experience लेते रहिये, Actual Projects पर काम करते रहिये और धीरे-धीरे आप अपनी Life में Grow करते जायेंगे।   

2. Freelancing

क्या आप जानते हैं दुनिया के टॉप 10 देशों में जहां Freelance Market बहुत तेज़ी से Grow कर रही है, भारत का स्थान कौन-सा है?

भारत 7th Position पर है जहां Freelance Market में 29% की Growth हो रही है। 

सबसे पहले स्थान पर 78% Growth के साथ USA लीड कर रहा है। 

ऐसे में हम यह कह सकते हैं कि अपने देश में अभी भी बहुत Potential है और Freelance Industry के Grow होने की बहुत अधिक सम्भावना है।  

Digital Marketing Course के अंदर जब आप विभिन्न Skills सीखते हैं जैसे – SEO, SMM, Content Marketing, Copywriting, Email Marketing, Affiliate Marketing, etc. तो आप इन सभी Skills का Use करके लगभग सभी तरह के Business को अपनी Freelancing Service Offer कर सकते हैं और Business को Grow करने में मदद कर सकते हैं।  

आपको Freelancing करने के लिए लिए सिर्फ चार चीज़ों की ज़रूरत होती है – High Paying Digital Skill, Computer, Internet, and Clients. 

High Paying Digital Skill आप हम से सीखते हैं, और यदि आपके पास Computer & Internet है तो आपको विभिन्न Freelance Platforms जैसे Fiverr, Upwork, Freelancer.com, Truelancer, इत्यादि पर सही Client को सर्च करना होता है।   

3. Digital Marketing Agency

Digital Marketing Agency खोल कर आप अपने लिए एक बेहतर Income Opportunity Create कर सकते हैं। 

एक Agency खोल कर आप अपनी विभिन्न Services (E.g. Website Design, Email Marketing, Lead Generation, SEO, SMO, etc.) दे सकते हैं और किसी भी देश में बैठे Client को Cater कर सकते हैं। 

Agency खोलने और उसे सही से Run करने के लिए आपको एक टीम की ज़रूरत पड़ेगी। 

शुरुआत में आपको अपनी Digital Marketing Agency को Promote भी करना होगा और धीरे-धीरे Clients भी ढूंढने पड़ेंगे। 

आप कुछ लोगोंं को अपनी टीम में रख सकते हैं ताकि आप उनके साथ मिलकर अपने Clients को बेहतरीन Services Provide कर सकें और Word To Mouth Marketing से आपको अन्य Clients मिल सकें। 

4. Start an E-Commerce Business

E-Commerce Business में आप एक E-Commerce Website के माध्यम से अपने Products Sell करते हैं। 

इसके कुछ उदाहरण हैं – Amazon, Flipkart, Meesho, Mintra, etc. 

Digital Marketing Course में आप E-Commerce Website बनाना सीख कर अपने बिज़नेस को शुरू कर सकते हैं। 

E-Commerce Business की शुरुआत करने से पहले आपको कुछ रिसर्च करनी पड़ेगी और अपने लिए एक Profitable Niche का Selection करना पड़ेगा।

इसके बाद ही आप आगे की रणनीतियां बना पाएंगे और अपने बिज़नेस को आगे बढ़ा पाएंगे।   

5. Grow Your Existing Business

यदि आपके पास कोई Existing Business है जहां आप Offline Products Sell करते हैं (Shopkeeper, Small Businessmen, Restaurant, etc.) या कुछ Services देते हैं (Lawyer, Doctor, CA, Teacher, etc.), आप Digital Marketing की मदद से अपने Business को बढ़ा सकते हैं। 

आप चाहें तो अपने Offline Business पर अधिक Leads या Potential Customers Drive कर सकते हैं या अपने Business को Completely Online शिफ्ट कर सकते हैं। 

दोनों ही तरीको को अपनाने से आपके Business की Visibility बढ़ेगी और आपकी Sales & Profitability बढ़ेगी। 

6. Affiliate Marketing

Affiliate Marketing के बारे में हम काफी कुछ आपको अपने विभिन्न Blogs के माध्यम से बता चुके हैं। 

अगर आप Affiliate Marketing शुरू करना चाहते हैं तो पढ़िए हमारा Blog – Affiliate Marketing शुरू करें 7 Easy Steps में! 

एफिलिएट मार्केटिंग की सबसे ख़ास बात ये होती है कि इसमें आपको अपना कोई Product नहीं Create करना पड़ता। 

कई Merchants & Companies अपने Products को बेचने के लिए अपने कई Affiliate Programs Run करती हैं।  इन Programs के साथ आपको जुड़ना होता है। 

इसे भी पढ़िए : 11 Best Affiliate Marketing Programs To Join In 2024

अब चाहें आप एक Homemaker हैं, एक Student हैं, एक Small Business Owner हैं, Digital Marketing सीख कर आप अपने लिए Affiliate Marketing का एक Side Business शुरू कर सकते हैं। 

जैसे-जैसे आपका Affiliate Marketing का यह Business Grow होता जायेगा, आप यकीन मानिये कि आपको फुर्सत भी नहीं मिलेगी और आप घर बैठे ही लाखों रूपये कमा सकेंगे। 

7. Blogging

आपको किस Field में Interest है?

क्या आपको अलग-अलग Dishes बनाना अच्छा लगता है, क्या आपको Fitness में रुचि है, क्या आप Finance के बारे में पढ़ना पसंद करते हैं?

Blogging शुरू करने से पहले आपको अपना एक Profitable Niche Decide करना पड़ता है जिसके लिए इस तरह के सवालों को आप अपने आप से पूछ सकते हैं।

इसके अलावा आपको Research करनी पड़ती है, Niche के Potential & Profitability को देखना पड़ता है, उन Niche के Best Blogs को देखना पड़ता है और उनके Content & Strategies को समझना पड़ता है। 

जब आप ये सब रिसर्च करके तैयार हो जाते हैं तो आप WordPress पर अपना एक Blog Create करके उस पर Content Post करना शुरू कर सकते हैं। 

अधिक लोगोंं तक पहुंचाने और Blog पर Traffic लाने के लिए आप Organic & Inorganic Digital Marketing Strategies का उपयोग कर सकते हैं। 

8. YouTube Videos

YouTube आजकल बहुत Trending में है। रोजाना हज़ारों लोग इस Platform पर अपने Business को Promote करने और पैसा कमाने के लिए YouTube के साथ जुड़ रहे हैं।  

एक बार YouTube पर जब आप अपनी Unique Identity बना लेते हैं तो आपके लिए Income की तो मानो ढेरों Opportunities खुल जाती हैं। 

आप Google AdSense, Affiliate Marketing, Brand Sponsorship, Paid Promotion, Consultation Service, और यहां तक कि अपने Products Sell करके भी पैसा कमा सकते हैं। 

अब आप यदि इनमे से किसी भी Option को पकड़ लेते हैं और उसमे अपना Career बनाना शुरू कर देते हैं तो आपके पास एक अच्छी Income आने लगती है। 

लेकिन, क्या आप जानते हैं कि Digital Marketing एक ऐसी Field है जहां आप केवल एक नहीं बल्कि Multiple Sources of Income Create कर सकते हैं। 

आइये, देखते हैं कि आप कैसे Digital Marketing के माध्यम से अपने लिए Multiple Sources of Income Create कर पाएंगे। 

How To Create Multiple Sources of Income After Learning Digital Marketing?

How To Create Multiple Sources of Income After Learning Digital Marketing?

Digital Marketing एक ऐसी Skill है जिसे आप सीखने पर केवल एक नहीं बल्कि अन्य कई High Income Skills साथ-साथ सीख जाते हैं। 

उदाहरण के लिए,

Search Engine Optimization एक High Income Skill है। 

Social Media Marketing एक High Income Skill है। 

Copywriting एक High Income Skill है। 

Website Building एक High Income Skill है। 

Lead Generation एक High Income Skill है। 

Graphic Designing & Video Editing एक High Income Skill है। 

यहां High Income Skill से तात्पर्य है कि आप केवल कुछ ही समय में महीने के Rs. 50,000 – 100,000 तक कमा सकते हैं। 

अब चलिए ये समझते हैं कि Digital Marketing के माध्यम से कैसे आप अपने लिए Multiple Sources of Income Create कर पाएंगे। 

इसे समझने के लिए मान लेते हैं कि आपका Health & Fitness Niche में Interest है। 

अब आपने Digital Marketing को सीखा और उसके बाद अपने Niche (Health & Fitness) में अपनी एक Website बनाई और लोगोंं को Online Personal Training, Diet Routine, Muscle Building इत्यादि के बारे में सीखाना शुरू कर दिया। 

ऐसा करने से आपके पास एक Consistent Income Stream Generate हो जाएगी। 

लेकिन, इस स्टेज पर आकर आप अपने लिए Multiple Sources of Income भी Create कर पाएंगे। 

आइये जानते हैं कि यह कैसे मुमकिन है। 

1. Selling Digital Products

आपको Health & Fitness के बारे में जानकारी है और आपने कई Results भी लेकर दिए हैं। 

तो क्यों न इसे और आगे बढ़ाया जाये और अपने Digital Products Launch किये जाये?

Digital Products के रूप में आप अपना कोई Muscle Building, Fat Loss, Home Workout का Course Launch कर सकते हैं। 

इसके अलावा आप अपनी E-books Create कर सकते हैं, Audiobooks Create कर सकते हैं और उन्हें Sell कर सकते हैं। 

इन सभी Products को Launch करने के लिए आपको सही Audience चाहिए होगी। 

कुछ लोगोंं को तो आप अपने Existing Client Base में से ही टारगेट कर सकते हैं, कुछ के लिए आपको अपनी Website डिज़ाइन करनी होगी और Social Media पर प्रोफाइल बनाकर Valuable Content Provide करके अपने Products को Promote करना होगा। 

2. Content Marketing

Content Marketing से किसी भी बिज़नेस को $0 Revenue से Multi-Million Dollar के Revenue तक लेकर जाया जा सकता है। 

तभी तो 60% Marketers एक दिन में कम से कम One Piece Of Content ज़रूर Produce करते हैं। 

इसके लिए आपको Planning करनी पड़ती है और कुछ Strategies बनानी पड़ती है। 

अगर आप Content Marketing Strategy बनाना सीखना चाहते हैं तो यहां क्लिक कीजिये और हमारा Blog पढ़िए। 

Content Marketing के अंदर आप कई तरीकों से अपनी खुद की पहचान बना सकते हैं। 

इसमें मुख्यतः शामिल है – Blogging, YouTube, Social Media, and Podcast. 

Blogging के माध्यम से आप Knowledge को Unlimited लोगोंं तक Share कर सकते हैं। 

आप Health & Fitness पर अपना Blog बनाकर लोगोंं को सही Diet, Excercise, Healthy Foods के बारे में बता सकते हैं। 

इसी तरह YouTube के माध्यम से लोगोंं को Health के प्रति जागरूक कर सकते हैं और उन्हें Healthy Lifestyle जीना सिखा सकते हैं।

अब यदि आपकी Information Audience को पसंद आएगी तो वो आप साथ जुड़ेंगे, आपको Subscribe करेंगे, आपकी Videos को Like & Share करेंगे। 

कुछ समय के पश्चात आप अपने Channel को Google AdSense के लिए भी Monetise कर सकते हैं

Google AdSense के लिए Monetize कैसे करते हैं, इसे जानने के लिए देखिये हमारी Video – YouTube Monetization कैसे शुरू करें? 

Social Media Platforms पर विभिन्न तरह के Content जैसे कि Carousel Post, Short Videos, Insta Live, Facebook Group, इत्यादि के माध्यम से लोगोंं की Health & Fitness से सम्बंधित परेशानियों को हल कर सकते हैं। 

इस तरह आप Content Marketing के ज़रिये अपनी पहचान बनाकर अपनी Services दे सकते हैं और लोगोंं की मदद कर सकते हैं। 

3. Affiliate Marketing 

Health & Fitness से Related मार्केट में बहुत से Affiliate Marketing Programs उपलब्ध हैं जिनके साथ आप जुड़ सकते हैं। 

इसके अलावा Fat Loss Diet, 15 Minutes Intense Fat Loss Workout, 30 Minutes Mass Gain Workout, Ket Diet, Low Calorie Smoothie, etc, कुछ ऐसे Affiliate Products के उदाहरण हैं जिन्हे आप Promote कर सकते हैं।यदि आपकी Service सही होगी और Existing Customers भी आपसे खुश होंगे तो आप उन्हें आसानी से अपने Affiliate Products Sell कर पाएंगे। 

Affiliate Marketing करने के लिए आप Blogging & YouTube का सहारा ले सकते हैं। 

Blogging & YouTube Videos के माध्यम से आपको पहले अपनी एक Community बनानी होगी और अपने Community Members के साथ एक Fruitful Relationship बनानी होगी। 

जैसे-जैसे आपकी Knowledge से उन्हें Results मिलते जायेंगे, वैसे-वैसे उनका आप पर Trust बनता जायेगा।  

4. Consultation Services 

Consultation Service के अंदर आप अपने Client के साथ One To One Interaction करते हैं और उनकी Problems को Solve करते हैं।

Conultation Service देने के लिए आपको अपने Clients को पहले अपने Existing Clients की Transformation के Results दिखाने होंगे।

Results ही एक ऐसी चीज़ है जो Cosultation Service में बहुत मायने रखती है। 

इसके अलावा यदि आपकी अपनी एक काफी बड़ी Community है और Digital Presence भी है तो वो भी आपके Consultation Business को Grow करने में महत्वूर्ण भूमिका निभा सकता है। 

आप Testimonials, Reviews, Feedbacks इत्यादि दिखाकर नए Clients को अपने साथ जोड़ सकते हैं और उन्हें Personal Training दे सकते हैं। 

यदि आप एक Client को One on One Consult करने के Rs. 5000 Charge करते हैं और ऐसे 10 Clients को Consultation Service देते हैं तो आसानी से आप महीने में Rs. 50,000 तक कमा सकते हैं।   

इस तरह एक बार Digital Marketing सीख लेने के बाद आप अपने Existing काम से अन्य कई काम कर सकते हैं और अपने लिए Multiple Income Opportunities Create कर लेते हैं।

इस नोट के साथ हम अपनी यह Detailed Digital Marketing Guide को समाप्त करते हैं। 

हम जानते हैं कि ये एक Detailed Guide है और आपको पढ़ने में थोड़ा अतिरिक्त समय लगेगा, परन्तु, इसे पढ़ने के बाद आपके Digital Marketing के Concepts ज़रूर Clear हो जायेंगे। 

हालाँकि, यदि आप इन सभी Strategies को Live & Practically मेरे से सीखना चाहते हैं तो आज ही जुड़िये मेरे साथ और अपनी Digital Entreprenuership की Journey का शुभारंभ कीजिये।    

Share this post with your friends

14 Responses

    1. Thank You So Much,
      Keep Learning, Keep Implementing!
      Subscribe To My Blog In Order To Keep Yourself Updated About Digital Marketing

    1. Thank You So Much,
      Keep Learning, Keep Implementing!
      Subscribe To My Blog In Order To Keep Yourself Updated About Digital Marketing

    1. Thank You So Much,
      Keep Learning, Keep Implementing!
      Subscribe To My Blog In Order To Keep Yourself Updated About Digital Marketing

  1. Aap nei bahut acsha gyaan hme apne digital school mei diya hai…us kei liye or aapki mehnat kei liye hum aapke abhaari hai
    Thanku🙏

    1. Thank You So Much,
      Keep Learning, Keep Implementing!
      Subscribe To My Blog In Order To Keep Yourself Updated About Digital Marketing

    1. Thank You So Much,
      Keep Learning, Keep Implementing!
      Subscribe To My Blog In Order To Keep Yourself Updated About Digital Marketing

    1. Thank You So Much,
      Keep Learning, Keep Implementing!
      Subscribe To My Blog In Order To Keep Yourself Updated About Digital Marketing

  2. नमस्कार,

    इतनी अच्छी जानकारी के लिए हार्दिक धन्यवाद।
    अच्छा कार्य, शुभकामनाएं
    Namaste,
    Thanks for this good information.
    Good job, best wishes…..

    1. Thank You So Much,
      Keep Learning, Keep Implementing!
      Subscribe To My Blog In Order To Keep Yourself Updated About Digital Marketing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

निशुल्क हिंदी Webinar के लिए रेजिस्टर कीजिए

Register For Free Webinar

10 of 10 Number(s) left
जल्दी कीजिये, Limited Seats
We will not spam, rent, or sell your information…