संदीप भंसाली - डिजिटल आज़ादी

क्या सच में वेबसाइट इतनी ज़रूरी है?

क्या सच में वेबसाइट इतनी ज़रूरी है?
Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest

क्या आप एक ऐसा मार्केटिंग प्लैटफ़ार्म चाहते हैं जो आपके लिए 365 दिन और 24/7 मार्केटिंग और प्रमोशन करे? 

हम आपको बता दें की “वेबसाइट” के अलावा इस दुनिया में कोई दूसरा माध्यम नहीं है जो इतना समय आपकी मार्केटिंग में देता हो। एक वेबसाइट की मदद से यह सब कुछ संभव है जो आपकी पहुँच को दुनिया के किसी भी शहर तक पहुंचा सकती हैं।

क्या सच में वेबसाइट इतनी ज़रूरी है?

वेबसाइट आपके और आपके कस्टमर के बीच बिज़नस और Interaction का एक माध्यम होता है। एक वेबसाइट पर आप अपने प्रॉडक्ट और सर्विसेस, कांटैक्ट डिटेल्स, पोर्टफोलियो, इत्यादि लिस्ट कर सकते हैं जो आपको आपके कस्टमर के साथ एक अच्छा संवाद करने में मदद करते है।

Website को एक बेहतरीन Marketing Asset इसलिए भी कहा जाता है क्योंकि एक Website के द्वारा आप अपने बारे में लोगों को काफी कुछ बता सकते हैं। Website Design आपकी मार्केटिंग स्ट्रेटजी का पहले कदम होता है। यदि कोई भी कस्टमर आपके बारे में कुछ जानना चाहता हो तो वह आपकी वेबसाइट पर Visit कर सकता है।

साथ ही अगर आप Digital Marketing में अपना Career बनाने की सोच रहे है तो आपके पास प्रैक्टिस के लिए एक वेबसाइट का होना बहुत ज़रूरी है। जो भी आप Digital Marketing Course में सीखते है उसे अगर आप Practically Implement नहीं करेंगे तो आप कुछ सीख नहीं पाएंगे। 

आज के इस डिजिटल दौर में लोगों तक पहुंचना काफी आसान हो गया है। अगर हम भारत की ही बात करें तो हमारे देश के छोटे व्यवसायी जैसे कि छोटे दुकानदार भाई अपना सामान केवल सीमित लोगों तक ही बेच सकते थे, परंतु आज इंटरनेट ने सब कुछ काफी आसान बना दिया है। 

अब यह लोग एक Ecommerce Website की मदद से अपना सामान भारत के हर एक कोने तक पहुंचा पाने में सक्षम हो गए है। यही नहीं, वेबसाइट की मदद से अब आप अपने प्रोडक्टस और सर्विसेस दुनिया के किसी भी शहर तक बेच सकते हैं। 

वेबसाइट क्या है?

वेबसाइट क्या है?

वेबसाइट एक तरह का Marketing Asset है जो आपकी Brand Identity को दर्शाता है। यह Powerful Marketing Collaterals का एक कलेक्शन होता है जो इस डिजिटल दुनिया में आपकी ऑनलाइन पहुँच को बढ़ाता है।

अगर Technical टर्म्स में बात करें तो वेबसाइट कई सारे वेब पेज का एक कलेक्शन होता है जिसका एक डोमेन नाम होता है और जो कि एक वेब सर्वर पर होस्ट होता है। वेबसाइट डोमेन तक पहुँचने के लिए एक Uniform Resource Locator (URL) का इस्तेमाल किया जाता है।

Visitors Attract करने के अलावा यह आपके Visitors को आपके बारे में जानकारी देने का एक बेहतरीन माध्यम भी है, जिसकी मदद से आपके Visitors कोई Decision ले सकते हैं और आपके प्रोडक्ट और सर्विस को खरीद सकते हैं।

लोग आपकी वेबसाइट को देखकर ही आपके बिज़नस के बारें में जान पाते है और कुछ स्टेप ले पाते हैं। इसलिए यह ज़रूरी है कि आप अपनी वेबसाइट को अच्छे से डिज़ाइन करें तथा Mobile-Friendly And Responsive Website बनाएँ। डिजिटल मार्केटिंग कोर्स के तहत आपको यह सब सिखाया जाता है।

आइये अब जानते है विभिन्न तरह की वेबसाइट के बारे में (Types Of Websites In Hindi)

विभिन्न प्रकार की वेबसाइट हिन्दी में

वेबसाइट अनेक प्रकार की हो सकती हैं। एक Simple Portfolio Website से लेकर Large Corporate Websites तक डिज़ाइन की जा सकती हैं। 

हालांकि अगर हम बात करें कुछ Basic Fundamental Websites की तो हम इन्हे 3 भागो में Categorize कर सकते हैं। ये तीन भाग है- Static Website, CMS Or Dynamic Website, And Ecommerce Website.

इन तीन तरह की Websites को हम अलग अलग प्रकार की अनेक Websites में बाँट सकते हैं।

आइये इन तीन तरह की Fundamental Websites के बारे में विस्तार से जाने।

Static Website:

Static Website

जैसा की नाम से ही पता चल रहा है Static का मतलब होता है ठ्हरा हुआ। इसी तरह से Static Website उस वेबसाइट को कहा जाता है जिसमे सिर्फ कुछ ही Web Page होते हैं और उसमे बार बार डाटा चेंज करने की ज़रूरत नहीं पड़ती।

Static Website डिज़ाइन करते समय डेवलपर कुछ Fixed Codes का इस्तेमाल करता है जिसकी वजह से वेबसाइट पर डाली गयी Information को हम बार बार Change नहीं कर सकते। 

यह वेबसाइट Computer Programming Languages जैसे की HTML, CSS, And Java का इस्तेमाल करके डिज़ाइन की जाती है।

CMS Or Dynamic Website:

Dynamic Websites से तात्पर्य है एक ऐसी Website जिसमे डाटा और इन्फॉर्मेशन आसानी से बदली जा सकती है। यहाँ Fixed Codes नाम की कोई चीज़ नहीं होती। यहाँ वेबसाइट डाटा को समय समय पर आसानी के साथ अपडेट किया जा सकता है।

Dynamic Websites को कुछ Content Management Systems (CMS) जैसे की WordPress, Joomla, इत्यादि पर डिज़ाइन किया जाता है। 

एक Informative Blog Website इस तरह की Websites का एक अच्छा उदाहरण है जहां पर Regularly कंटैंट अपडेट करना पड़ता है, साथ ही एक News Website भी Dynamic Website का एक अच्छा उदाहरण है।

Ecommerce Websites:

Ecommerce Websites

अगर हम Ecommerce Websites को साधारण शब्दों में समझे तो यह कह सकते हैं की यह दुनिया की विभिन्न मार्केट में लगने वाली दुकानों का एक Updated Digital Version होता है। 

अगर आप अपना एक Online Store चलाना चाहते हैं और ऑनलाइन सामान बेचना चाहते हैं तो आपको एक Ecommerce Website की ज़रूरत पड़ती है। 

Ecommerce Website को आप विभिन्न प्लैटफ़ार्म की मदद से डिज़ाइन कर सकते हैं, इनमे शामिल हैं  – WooCommerce, OpenCart, Magento, इत्यादि। 

यहाँ हमने 3 Basic Fundamental Websites का ज़िक्र किया। लेकिन आप कहंगे कि हमने तो और भी कई Website को देखा है जैसे की Portfolio Website, Event Website, Nonprofit Websites, इत्यादि। 

तो जनाब हम आपको बता दें कि यह सभी Websites Dynamic And Static Websites के ही उदाहरण हैं, बस फर्क है तो सिर्फ इनके नाम में।

*हमारे डिजिटल मार्केटिंग कोर्स के अंतर्गत  Dynamic Websites को डिज़ाइन और क्रिएट करना सिखाया जाता है।

अब यह भी समझ लिया जाए कि हमें Website कि ज़रूरत ही क्यों है और क्या फायदे हैं एक Website होने के।

वेबसाइट का महत्व

Website आपके बिज़नस को Represent करती है, तथा आपके Visitors को आपके बारे में जानने का मौका देती है। इसके साथ ही Website आपके लिए एक Passive Marketing Asset की तरह काम करती है जो आपके लिए 365 दिन और 24/7 आपकी मार्केटिंग में लगी रहती है।

आइये जानते है ऐसी ही कुछ और खूबियों के बारे में।

Brand Building:

जैसा की हमने देखा की वेबसाइट आपके बिज़नस को एक डिजिटल प्लैटफ़ार्म देने का काम करती है। वेबसाइट के बगैर आप शायद ही अपनी Identity, अपनी सोच, अपना Vision, और अपना Mission लोगों तक पहुंचा पायें।

अब आप ये कहेंगे कि अन्य डिजिटल प्लैटफ़ार्म जैसे की Facebook, Instagram, Twitter, इत्यादि भी तो हैं जिनकी मदद से हम अपनी ब्रांड बिल्ड कर सकते हैं। पर आप शायद 100% सही नहीं है, क्योंकि ये सब Social Media Platforms हैं जो आपकी बात को लोगों तक पहुँचाने में ज़रूर आपकी मदद करते हैं, लेकिन आपको अपना Portfolio, Services, Etc. लिस्ट करने के लिए कोई प्लैटफ़ार्म नहीं Provide करते। 

ऐसे केस में आपको एक Dynamic वेबसाइट की ज़रूरत पड़ती है जो आपका डिजिटल चेहरा बनकर लोगों के सामने आपकी Expertise को रख सके और आपको एक Brand के रूप में स्थापित करने में आपकी मदद कर सके।

Professional Version Of Yourself:

अगर आप Professional World में आना चाहते हैं और अपना Business Establish करना चाहते हैं तो याद रखिएगा कि बिना Professional Website के आपका काम नहीं चलने वाला।

आज आप किसी भी Business को उदाहरण के तौर पर लीजिये, आपको हर एक बिज़नस की अपनी एक Dedicated Website इंटरनेट पर मिल जाएगी जो उस बिज़नस के साथ साथ उस कंपनी के Executive Board Members के बारे में भी काफी कुछ डिटेल्स देती है।

इसलिए अगर आपको अपने Career को अच्छी दिशा में लेकर जाना है तथा एक अच्छा Client Base बनाना है, तो आपको अपने एक Professional Version i.e Website की ज़रूरत पड़ेगी।

Showcase Your Products & Services:

जैसा की हम ऊपर Discuss कर चुके हैं कि कैसे एक वेबसाइट एक ऑफलाइन बिज़नस को ऑनलाइन बिज़नस में कन्वर्ट करने में हेल्प करती है।

इसके माध्यम से आप अपने Physical Products, Digital Products, And Services इत्यादि को ऑनलाइन वेबसाइट पर लिस्ट कर सकते हैं तथा दुनिया के किसी भी कोने में बैठे ज़रूरतमन्द Client की हेल्प कर सकते हैं।

यही नहीं अगर आप एक डिजिटल मार्केटर हैं तो अवशय ही आपको अपनी Premium Services Sell करने के लिए एक Portfolio Website डिज़ाइन करनी होती है जिसके माध्यम से आप India में ही नहीं बल्कि Foreign Clients तक पहुँच पते हैं। 

Enhance Your Reach:

एक वेबसाइट अवशय ही आपकी पहुँच को हज़ारो ओर लाखों लोगों तक पहुँचाने में मदद करती है। इसके माध्यम से लोग आपको जान पाते हैं, आपसे Communicate कर पाते हैं, जिससे आपको अनेक फायदे होते हैं, जैसे कि आपको एक नया Client मिल जाता है, Client के साथ Relation अच्छा बन जाता है, और आपकी मार्केटिंग भी हो जाती है।

इसलिए यह ज़रूरी है कि आप एक अच्छे डेवलपर से ही अपनी वेबसाइट डिज़ाइन करवाएँ और अपनी पहुँच बढ़ाएँ।

Showcase Your Work To The World:

अगर आप कुछ ऐसा बिज़नस कर रहे हैं जिसके तहत आप लोगों की Problems को हल कर रहे हैं तो निश्चित ही लोग आपको देखना, आपके बारे में जानना और आपके काम करने के तरीके को देखना पसंद करेंगे। 

Showcase Your Work To The World

इसलिए जब भी आप अपनी मार्केटिंग करके लोगों तक अपनी पहुँच बढ़ाते हैं, तो Actual में आप अपने आप को एक Problem Solver की तरह Showcase करते हैं जिसके तहत आप अपने काम के बारें में बताते हैं, अपने कुछ Successfully Completed Projects का ज़िक्र करते हैं, अपने कुछ बेहतरीन Testimonial Mention करते हैं, इत्यादि। ये सब चीज़े दिखाने से आप अपने Visitors को Leads में कन्वर्ट करने के एक कदम नज़दीक पहुँच जाते हैं।  

An Asset For Future Digital Marketers:

जो लोग डिजिटल मार्केटिंग सीख रहे हैं और जो लोग डिजिटल मार्केटेर्स हैं, उनके लिए वेबसाइट वाकई में एक Asset से कम नहीं हैं। 

एक Learning Marketer के लिए यह सीखने और Implement करने का सबसे बेहतरीन और आवश्यक Source होती है। बिना वेबसाइट के आप बस Theory Part ही समझ सकते हैं लेकिन आपको यह बात समझनी होगी कि जब तक आप Theory को Practically Implement नहीं करेंगे आपको बेस्ट रिज़ल्ट नहीं मिलेगा।

आइये देखते हैं कि डिजिटल मार्केटिंग में एक वेबसाइट का क्या महत्व है (Importance Of A Website In Digital Marketing):

  1. वेबसाइट की मदद से आप Trial & Error Method का इस्तेमाल करके डिजिटल मार्केटिंग के तौर तरीकों को बेहद ही बारीकी से सीख सकते हैं जो आपको एक बेहतरीन मार्केटर बनने में मदद करती है।

  2. SEO के विभिन्न तरीकों जैसे Technical SEO, Local SEO, On-Page SEO, Off-Page SEO, etc. को एक वेबसाइट पर Practice करके ही सीखा जा सकता है।

  3. Google Crawler, Indexing, इत्यादि की जानकारी ले सकते हैं तथा Google Analytics Tool कि मदद से अपनी वेबसाइट पर Visit करने वाले Users के Behavior को Analyze कर सकते हैं और फिर उसके आधार पर अपनी वेबसाइट को Optimize कर सकते हैं।

  4. एक वेबसाइट की मदद से आप अपने कस्टमर के बीच एक Trust And Credibility Build करते हैं जो आपको एक Brand बनाने में कारगर साबित हो सकती है।

वेबसाइट बनाते समय उपयोग किए जाने वाले शब्द

अगर आप एक Learning Digital Marketer हैं तो तैयार हो जाइए क्योंकि आपका निम्न शब्दों से पाला पड़ने वाला है। चलिये आपको इन शब्दों के बारें में थोड़ा बता दें।

HTML, CSS, JavaScript:

HTML, CSS, JavaScript

HTML से तात्पर्य है Hyper Text Multi Language. वेबसाइट का हर एक Web Page HTML Codes पर बना होता है और साथ ही एक Site का Structure Define करता है। 

वहीं दूसरी तरफ CSS का इस्तेमाल वेबसाइट का स्टाइल, डिज़ाइन, फॉन्ट Size,  इत्यादि Define करने के लिए किया जाता है।

जबकि JavaScript एक Programming Language होती है जिसका इस्तेमाल वेब पेज को Interactive बनाने के लिए किया जाता है। साथ ही हम यह भी ख सकते हैं कि JavaScript Language का इस्तेमाल हम User Experience को बेहतर करने के लिए करते हैं।

Responsive Web Design:

इसका मतलब है जब भी आप एक वेबसाइट डिज़ाइन करते हैं तो वह वेबसाइट User Friendly होनी चाहिए जिसका मतलब है यदि User Laptop पर, Tablet पर, या Mobile पर आपकी वेबसाइट ओपन करे तो हमेशा ही आपकी वेबसाइट इन तीनों Devices में आसानी से बिना ज़्यादा लोडिंग समय लिए खुलनी चाहिए। 

CMS & Backend:

Content Management System से तात्पर्य है एक ऐसा प्लैटफ़ार्म जहां आप अपनी वेबसाइट को आसानी से Operate कर सकते हैं, Edit कर सकते है, Update इत्यादि कर सकते है। 

WordPress इसका एक अच्छा उदाहरण है।

वहीं दूसरी तरफ वेबसाइट के Server या Content Management System को ही Backend कहा जाता है। Backend Section में आप अपनी वेबसाइट की Technical चीज़ों को Operate और Update कर सकते हैं और साथ ही अपने सर्वर पर Log In करके वेबसाइट के Pages, Content, इत्यादि को Change कर सकते हैं। 

Frontend:

जब भी आप किसी वेबसाइट पर Visit करते हैं तो जो भी Content, Graphics, इत्यादि आप देखते हैं वह सब Front End Section में ही शामिल होता है। जो भी Webpages पर Graphics आदि आपको दिखते हैं वे सभी Coding की मदद से वहाँ Place किए जाते हैं।

Grid System:

यह आपकी वेबसाइट के Webpages का एक Structure होता है जिसमे कॉलम और लाइन होती है जो आपके वेब पेज Content & Layout को Readable बनाने में मदद करती है।

Domain & Hosting:

 Domain Name आपकी वेबसाइट का एक Unique Name और Web Address होता है जो ज़्यादातर समय .com, .net, .in, आदि से खत्म होता है।

वहीं दूसरी तरफ Webhosting एक प्लैटफ़ार्म होता है जहां पर आप अपनी वेबसाइट को होस्ट करते हो और पब्लिक के लिए Available करते हो। ज़्यादातर केस में आपको तीन तरह की Hosting मिलती है जैसे की Shared Hosting, Managed Hosting, And Dedicated Hosting.

Conversion Rate:

इस से तात्पर्य है कि आपकी वेबसाइट पर कितने लोगों ने Visit किया और कितने Visitors Leads में Convert हुए। जब आप Number Of Visitors को Number Of Leads से Divide करते हो तो आपको अपनी वेबसाइट का Conversion Rate पता चलता है।

Meta Tags:

Meta Tags

यह Tags HTML Code के फॉर्म में आपके Web Page की डिटेल्स बताते हैं। ये डिटेल्स Generally पेज पर नहीं दिखाई जाती लेकिन Web Crawlers And Search Engines इसे आसानी से पढ़ और समझ पाते हैं।

Sitemaps:

Sitemap एक तरह की आपकी वेबसाइट की Outline होती है जिसकी मदद से आप यह पता लगा सकते हैं कि आपकी वेबसाइट का कंटेंट किस तरह से Organize किया जाएगा। इसके माध्यम से आपके Web Pages के बीच की Hierarchy को भी दर्शाया जाता है।

UI/ UX Design:

User Interface (UI) आपके Web Page का एक View होता है जिसे एक Visitor देखता है या यूं कहें जिससे आपका Visitor Interact करता है।

वहीं दूसरी तरफ, User Experience (UX Design) आपकी वेब डिज़ाइन को ज्यादा Prominent बनाने की दिशा में किया गया एक प्रयास होता है। UX Design के माध्यम से आप अपने Visitors के लिए एक रास्ता बनाते हो और उसे आपकी वेबसाइट पर Navigate करने का Option देते हो।

Cookies:

Cookies छोटी Text Files होती हैं जिनमें आपके द्वारा देखी जाने वाली Websites के बारे में बुनियादी जानकारी होती है। Cookies आपकी Preference ज्ञात करने में, आपका Interest जानने में, और आपकी पसंद और नापसंद ज्ञात करने में वेब सर्वर्स की हेल्प करती है।

वेबसाइट की शुरुआत करने के लिए आवश्यक चीज़ें

अगर आपने अपने बिज़नस के लिए एक Dynamic Website डिज़ाइन करने का मन बना ही लिया है तो चलिये हम आपको बताते हैं कि आपको एक बेहतरीन वेबसाइट डिज़ाइन करने के लिए किन चीज़ों कि ज़रूरत पड़ेगी। 

**ध्यान रखिएगा यहाँ हम बात करने वाले हैं एक Dynamic Website Design करने के लिए आवश्यक चीज़े और साधन के बारें में।

Domain & Hosting:

जैसा की हम ऊपर ज़िक्र कर चुके हैं, Domain एक तरह का आपकी वेबसाइट का नाम या Address होता है जो आपकी एक पहचान भी बनता है। आपको Domain एक Established Domain Registrar से ही खरीदना चाहिए। इसके अतिरिक्त अगर संभव हो सके तो “.com” Domain ही खरीदें। 

इसी तरह Hosting भी एक वेब सर्वर की तरह काम करता है और आपकी वेबसाइट को होस्ट करने की सुविधा देता है।

CMS (Content Management System):

CMS आपकी वेबसाइट के लिए एक प्लैटफ़ार्म प्रदान करता है जहां आप Log In करके अपनी वेबसाइट को ऑपरेट कर सकते हैं।

Theme:

एक Theme आपके वेबसाइट का आधार होती है या यूं कहे कि Theme आपकी वेबसाइट का एक मुखौटा होती है। जब भी आप किसी वेबसाइट पर Visit करते हैं तो जो भी Information आप वेबसाइट के Header, Footer, Body, इत्यादि पर देखते है वो एक तरह की Theme का हिस्सा होता है। 

इसे हम इस तरह से भी समझ सकते हैं कि एक Theme आपको बताती है की आप अपने Visitors को अपनी वेबसाइट किस रूप में दिखाना चाहते हैं? क्या आप एक Attractive वेबसाइट चाहते हैं, या आप एक सिम्पल & सोबर वेबसाइट चाहते हैं? 

आपको WordPress के अंदर कई सारी Themes देखने को मिल जाती है और यदि आप Coding जानते हैं, तो अपने लिए एक Customized Theme क्रिएट भी कर सकते हैं।

उदाहरण: GeneratePress, Astra Pro, Etc.

Plugins:

ये कुछ Softwares होते हैं जो आपकी वेबसाइट को Optimize करने तथा उसे अच्छी तरह से Operate करने में आपकी मदद करते हैं। यह आपके काम को आसान करने का काम करते हैं जो आपकी वेबसाइट की Overall Performance को Enhance करता है।

उदाहरण: Yoast SEO, Rank Math, WP Rocket, Etc.

Content:

कंटैंट आपकी वेबसाइट की कुछ महत्वपूर्ण ज़रूरतों में से एक होता है कंटेंट के बिना एक वेबसाइट अधूरी होती है। एक अच्छा लिखा गया कंटेंट आपके बारे में लोगों को जानने का मौका देता है और आपकी Credibility को बढाता है।

निष्कर्ष

तो इस Article में हमने जाना कि कैसे एक वेबसाइट किसी बिज़नस में एक Powerful Marketing Asset का काम करती है और बिज़नस को Multiple Folds में Grow करने में मदद करती है।

इसके साथ ही हमने यह भी जाना कि इस डिजिटल दुनिया में आज कई तरह कि Websites Design की जा सकती हैं और साथ ही एक वेबसाइट किस तरह से आपके Business में और Brand Building में एक Important Role निभाती है।

यदि आपको एक अच्छा Digital Marketer बनना है तो आपको वेबसाइट डिज़ाइन में जानकारी होनी ज़रूरी है जिससे कि आप अपनी खुद कि Site Design करके अपनी सर्विसेस के बारे में लोगों को बता सकें, अपना एक बेहतरीन Portfolio Create कर सकें, Clients Testimonials दिखा सकें, और अपनी Contact Details को Add कर सकें।

यह सब चीज़े आपको एक अच्छे डिजिटल मार्केटिंग कोर्स में देखने को मिल जाती है। आजकल भारत में आपको कई डिजिटल मार्केटिंग कोर्स देखने को मिल जाएंगे जो इंग्लिश में आपको डिजिटल मार्केटिंग के बारें में सिखाते हैं। यदि आप हिन्दी में डिजिटल मार्केटिंग के बारे में सीखना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक कीजिये और आज ही मेरे Free Course से डिजिटल मार्केटिंग सीखना शुरू करें।

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on telegram
Share on linkedin

6 Responses

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *